एप्पल कंपनी के सीईओ टीम कुक ने एप्पल द्वारा Cryptocurrency लॉन्च किये जाने की अफ़वाहों पर विराम लगाते हुए कहा कि, कंपनियों को प्रतिस्पर्धी मुद्राओं की स्थापना करके सत्ता हासिल करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए। एप्पल चीफ का यह बयान उस समय आया है जब फेसबुक जैसी बड़ी टेक कंपनी ने अपनी Cryptocurrency को लॉन्च करने की आधिकारिक घोषणा की है। फेसबुक के इस कदम ने सभी विश्लेषकों को दूसरी टेक कंपनियों से भी यही फैसले की उम्मीद करने पर मजबूर किया है।

कुछ ही समय पहले फेसबुक ने लिब्रा एसोसिएशन के अन्य सदस्यों के साथ साझेदारी में खुद की Cryptocurrency जून 2020 तक लॉन्च करने की घोषणा की थी, इसी के बारे में पूछे जाने पर Les Echos Daily Newspaper को दिए साक्षात्कार में टीम कुक ने कहा “नहीं, मुझे वास्तव में लगता है कि एक मुद्रा को देशों के हाथों में रहना चाहिए। मैं एक प्रतिस्पर्धात्मक मुद्रा स्थापित करने वाले निजी समूह के विचार के साथ सहमत नहीं हूं” इसके अलावा टीम कुक ने यह भी कहा कि “एक निजी कंपनी को इस तरह से सत्ता हासिल नहीं करनी चाहिए”।

फेसबुक के Cryptocurrency को मुख्यधारा में लाने के इस प्रयास ने उसे वैश्विक स्तर पर राजनैतिक संदेह के घेरे में खड़ा किया है, क्योंकि फ्रांस और जर्मनी जैसे बड़े देश पहले से ही Cryptocurrency को यूरोप में प्रतिबंधित करने का निश्चय कर चुके है। एप्पल के बारे में भी ऐसे ही कयास लगाए जाने के पीछे सितम्बर माह में एप्पल एग्जीक्यूटिव द्वारा दिए गए बयान “एप्पल भी Cryptocurrency की और सावधानी से देख रहा है” को माना जा रहा है।

लेकिन इन सभी अफ़वाहों को गलत बताते हुए टीम कुक ने गुरुवार को दिए अपने साक्षात्कार में कहा – “मुद्रा, जैसे रक्षा, को देशों के हाथों में रहने की जरूरत है, यही उनके मिशन का एक बहुत ही अहम हिस्सा है”। इसके अतिरिक्त टीम कुक का यह भी कहना है कि – “हम अपने प्रतिनिधियों का चुनाव इसलिए करते है ताकि वे अपनी सरकारी जिम्मेदारियों को सही ढंग से संभाल सके। कंपनियों को इस कार्य के लिए किसी ने नहीं चुना है और उन्हें इस दिशा में नहीं जाना चाहिए”

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here