विज्ञापन
विज्ञापन

HTML Kya Hai – HTML कैसे लिखे है इससे जुड़ी पूरी जानकारी।

विज्ञापन
विज्ञापन

HTML (Hypertext Markup Language) एक कंप्यूटर लैंग्वेज होती है, जिसे Website बनाने में उपयोग किया जाता है। HTML कई तरह के Tags से मिलकर बना है। यह लैंग्वेज अन्य Programming Language जैसे- C, C++, Java, Java Script इत्यादि से ज्यादा सरल है, इसे आप आसानी से सीख एवं इस्तेमाल कर सकते है। Tim Berners-lee को एचटीएमएल का आविष्कारक कहा जाता है। इस लेख में आपको HTML Kya Hai? यह किस लिए इस्तेमाल की जाती है, HTML के प्रकार आदि के बारे में जानकारी प्रदान की गयी है।

क्या आपको पता है कि इंटरनेट पर उपलब्ध सारा डेटा वेब डॉक्युमेंट्स के रूप में सेव रहता है। इन डॉक्युमेंट्स को कम्प्यूटर सर्वर पर सेव कर दिया जाता है जिसे URL के जरिए कोई भी एक्सेस कर सकता है। और ये वेब डॉक्युमेंट्स जिस लैंग्वेज में लिखे जाते है उन्हें HTML Language कहते है जो कि एक मार्कअप लैंग्वेज है। चलिए अब आगे विस्तार में जानते है कि HTML Kya Hota Hai (What is HTML in Computer) और HTML Codes कैसे लिखते है।

विज्ञापन
विज्ञापन

HTML Kya Hai

HTML Kya Hai

एचटीएमएल (HTML – Hypertext Markup Language) एक Computer की Language होती है, जिसे Website बनाने में इस्तेमाल किया जाता है। यह कई तरह के Tags से मिलकर बना है। HTML प्रोग्रामिंग लैंग्वेज नहीं है बल्कि यह यह मार्कअप लैंग्वेज है जो वेब ब्राउजर को बताता है कि वेबपेज पर टेक्स्ट, इमेज और मल्टीमीडिया के अन्य रूपों को कैसे प्रदर्शित किया जाए।

जब इंटरनेट की शुरुआत हुई थी तब एक पूरी Website HTML से ही बनाई जाती थी, लेकिन अब टेक्नोलॉजी का जमाना है और आज के समय में बहुत सारी Computer Language है जिन्हें Use करके आप आसानी से Website, Blog बना सकते हो। HTML से Website बन जाने के बाद कोई भी व्यक्ति इंटरनेट के जरिये उस Website को देख सकता है।

यदि आप भी अपनी कोई वेबसाइट या ब्लॉग बनाना चाहते है, तो इसके लिए आपको पहले एचटीएमएल भाषा सीखना होगी, इसके लिए आप HTML Tutorial की Help भी ले सकते है।

HTML का अविष्कार किसने किया था?

Tim Berners Lee ने सन 1980 में जेनेवा में HTML की खोज की थी। बर्नर्स ली ने 1989 में WWW (World Wide Web) का आविष्कार किया था। उनकी इस उपलब्धि के लिए उन्हें टाइम मैगज़ीन के 20th Century के 100 सबसे Most Important लोगों में से एक नामित किया गया था।अभी के समय में HTML के विकास की रिस्पांसिबिलिटी “World Wide Web Consortium” के पास है। बर्नर्स ली के Browser Editor को 1991-92 में डेवलप किया गया था।

Tim Berners-lee

एचटीएमएल का पहला संस्करण True Browser Editor था जो कि एक नेक्स्ट वर्कस्टेशन पर रन करता था। HTML का First Version जून 1993 में Formally Published हुआ था। वर्ष 1991 में इंटरनेट पर पहली बार एचटीएमएल के बारे में HTML Tags नाम का एक डॉक्यूमेंट जारी किया जिसमे लगभग 18 HTML Elements के बारे में बताया गया था।

HTML के अब तक 5 वर्जन रिलीज़ किये जा चुके है। वर्ष 2014 में रिलीज़ किया गया 5वां वर्जन वर्तमान में चल रहा है जिसके कई सारे HTML Tags को शामिल किया गया है।

इसी के साथ अब आप जान गए होंगे कि HTML Kya Hai in Hindi एवं इसका अविष्कार किसने किया था, चलिए अब आगे बढ़ते है और जानते है कि HTML कोडिंग कैसे करते है।

HTML Ki Coding Kaise Kare

सबसे पहले आपको Xampp Software को डाउनलोड करना होगा। Xampp एक Apache, Mysql और Php Package है। इसे PC पर इनस्टॉल करना आसान है। इस पर बहुत से Developers Local Testing करना पसंद करते है। आईये जानते है, इसका Use कैसे करना है।

स्टेप 1. Windows Taskbar में जाए

सबसे पहले Windows Taskbar में Start पर जाए और Search Box में Xampp Type करे। यहाँ पर Xampp Control Panel को सिलेक्ट करके Enter की दबाये। अब Xampp Control Panel से Apache Start करें। आपको यहाँ Green Colour में “Running” Highlighted दिखेगा, इसका मतलब है की Apache इस्तेमाल करने के लिए तैयार है।

स्टेप 2. Go To Start पर क्लिक करें

Start पर जाए और Computer को ओपन करे। Xampp Folder में Navigate करे जो कि, सामान्यतः आपके कंप्यूटर की Hard Drive के टॉप लेवल के फोल्डर में होता है। Htdocs Folder को ओपन करे।

स्टेप 3. Computer के ऑप्शन में जाए

अब फिर से Computer के ऑप्शन में जाए और उस Folder को Navigate करे, जहाँ पर आप अपनी HTML File Save करके रखते है। अगर आपके पास पहले बनायी गई कोई HTML File नहीं है तो एक HTML File बनाए और उसे Xampp Folder में Htdocs Folder में Save करे। अगर आपको एक भी HTML File मिल जाती है तो उसे Htdocs Folder में Copy और Paste करे।

स्टेप 4. Web Browser शुरू करें

अपना Web Browser Start करे और Address Bar में “Localhost/Filename.Html” Type करे। अब Enter Press करे और Web Page के रूप में HTML File Load को देखे। Xampp के साथ आपका जो Apache Server आया था, वह आपके Web Pages की Serving कर रहा है।

HTML के बारे में अब आपने इतना कुछ जान लिया, लेकिन जो सबसे जरुरी बात है वो है की Html Coding का Use कहाँ पर किया जाता है।

HTML Coding Kaha Use Hoti Hai

एचटीएमएल HTML का यूज़ वेब पेज बनाने में, Web Application बनाने और Electronic Document बनाने के लिए किया जाता है। इसके साथ ही HTML Ki Coding को Graphics बनाने में और Website बनाने में भी Use किया जाता है। इन सबके अलावा HTML के और भी कई बेहतरीन उपयोग है। HTML सीखने के लिए सबसे पहले आपको एक Simple Text Editor और Internet की ज़रूरत होती है। तो इस तरह आप HTML Coding कर सकते है।

HTML Example : –

<!DOCTYPE html>
<html>
<head>
<title>First Hello world!</title>
</head>

<body>
<h1>Hello, world!</h1>
<p>This is a first testing code. I Love HTML</p>
</body>

</html>

HTML Tags कैसा होता है?

HTML Tags Definition – HTML Tags Web Page के Head Area, Content Area और Footer Area को बनाने के लिए Use किये जाते है। Tim Berners-lee ने जब Browser और Server Software को बनाया था, तो इन्हें बनाने के दौरान इन Browser और Software के कार्य करने के लिए कुछ विशेष कोड्स बनाए जिसकी मदद से ब्राउज़र को विशेष Command दी जा सकती है। इन्हीं Tags को HTML Tags कहते है।

html tags

HTML Tags And Attributes इस प्रकार है –

विज्ञापन
विज्ञापन
  • HTML Tag – <html></html>

यह HTML का सबसे Main Tag है। इसके द्वारा HTML Document को Define किया जाता है। एक HTML Document को इसी Tag से बनाना शुरू किया जाता है। बाकी के सारे HTML Element’s इस Tag के बीच में लिखे जाते है।

  • Doctype Tag – <!Doctype>

यह Tag Browser को बताता है की Document को किस तरह से लिखा गया है इसके द्वारा Browser को यह भी पता चल जाता है की Document HTML से Create किया गया है।

  • Body Tag – <Body></Body>

इस HTML Basics Tag को Document में एक बार में ही Use में लाया जा सकता है। इसका Use Web Page के Constant Area को Create करने में किया जाता है।

  • Heading Tag – <H1></H1>

इस Tag को Document की Heading लिखने में Use करते है। Heading Tag H1 से H6 तक होती है।

  • Title Tag – <Title>/Title>

किसी Web Page का Title देने के लिए इस Tag का Use करते है। इस Tag को Head Tag के अंदर लिखते है। इसके द्वारा Browser को यह पता लग जाता है की Web Page किस बारे में बनाया गया है।

  • Paragraph Tag – <P></P>

इस Tag को Paragraph लिखने के लिए Use करते है। जिससे की आप अपने Document में जितने Paragraph Use करना चाहे कर सकते है।

  • Head Tag – <Head></Head>

यह एचटीएमएल टैग Web Page के Header Area को Create करने के लिए Use किया जाता है साथ ही यह एक Web Page की Important Information देने के लिए Use किया जाता है जैसे – <Style>, <Script>, <Title>, <Link>, <Meta> इसमें सभी Tags को Head Tag के अंदर ही लिखते है।

  • Link Tag – <Link>

यह Tag एक Document और External Resource के बीच एक Link को Define करता है। External Style Sheet से Link करने के लिए Link Tag का Use किया जाता है।

  • Image Tag – <Img>

एचटीएमएल दस्तावेज़ में किसी तरह की Link Add करने के लिए इस Tag का Use करते है। तो यह थे HTML Ke Tag जो किसी Web Page और Document के लिए Use किये जाते है।

HTML Kaise Kaam Karta Hai

एचटीएमएल (HTML) बहुत से Tag प्रदान करता है जो Colors, Font Size, और Graphics के उपयोग से आपकी वेबसाइट को ज्यादा Attractive बनाता है। HTML Tag Browser को यह बताता है कि उस Tags में लिखे गये Elements को वेबसाइट पर कैसे और कहाँ दिखाया जाये।HTML से सिर्फ एक Web Page Design किया जाता है। इसमें वेब पेज का पूरा स्ट्रक्चर बनाया जाता है।

HTML Codes लिखने के बाद File को .Html या .Htm File Extension से Save किया जाता है। किसी भी File को .html या .htm File Extension से Save करते है उसके बाद उसे कंप्यूटर या वेब सर्वर पर अपलोड करके ब्राउज़र पर देख सकते है। Browser उस File में लिखे गये HTML Code को Read करके HTML Page पर दिखा देगा।

HTML Ke Types

HTML को 3 Types में बाँटा जाता है। इसका का नया Version HTML 5 भी Launch कर दिया गया है।

types of html

  • Transitional : यह HTML का सबसे Common प्रकार है। इसमें एक Flexible Syntax, Grammar और Spelling Component है। Browser Tag पढ़ने के लिए एक Best Efforts को Approach करते है।
  • Strict : HTML के Strict Type का मतलब है कि यह Rules को Return करने और इसे ज्यादा Reliable बनाने में है। उदाहरण के लिए- Strict Type को सभी Opened Tags के लिए सभी Closing Tags की जरुरत होती है। HTML का यह Type फोन के लिए सबसे महत्वपूर्ण होता है।
  • Frameset : एक Frameset Developers को HTML Documents की Mosaic Create करने के लिए Allow करता है। जहाँ पर Multiple Documents को एक Single Screen में कनेक्ट किया जा सकता है। इस Technique का Use Menu System बनाने के लिए किया जाता है।

तो दोस्तों यह थे HTML के प्रकार जो आपको यहाँ पता चले। यह HTML के 3 मुख्य प्रकार है।

Features Of HTML

जैसा कि हम सभी तो जानते ही है कि टेक्नोलॉजी दिन पर दिन बदलती रहती है। टेक्नोलॉजी की इसी Requirement को पूरा करने के लिए बहुत से Improvement के साथ HTML 5 Launch किया गया। जिसकी विशेषताएँ इस प्रकार है –

Clear Syntax : HTML के Syntax Clear होते है, जिसे की Modify भी किया जा सकता है।

Graphics : HTML 5 में Graphics का काफी इस्तेमाल किया गया है। जहाँ SVG (Scalable Vector Graphics) या Canvas का उपयोग कर Vector Graphics बना सकते है।

Geo Location : HTML 4 में Website Visit करने वाले Visitors की Geo Location को पता करना कठिन होता है, लेकिन जब से Html 5 Launch हुआ है, इसमें Geo Location को Add किया गया है।

New Format : एचटीएमएल 5 में कुछ New Format Add किए गये है जैसे- Date, Time, Calendar इत्यादि।

Effective Presentation : HTML के साथ Effective Presentation बना सकते है क्योंकि इसमें बहुत सारे Formatting Tag है।

Link Adding : HTML प्रोग्रामर को वेब पेजेस पर HTML Anchor Tag द्वारा Link Add करने की सुविधा देता है, इसलिए यह Browsing में उपयोगकर्ता की रूचि को बढ़ा देता है।

Add Video Or Sound : HTML प्रोग्रामर को वेब पेज पर Graphic, Video और Sound Add करने के लिए सुविधा देता है, जो इसे और ज्यादा Interesting बनाता है।

तो यह थे HTML के 5वे संस्करण के फीचर्स जो इतनी अच्छी सुविधाएँ प्रदान करते है।

HTML से जुड़ी और भी महत्वपूर्ण जानकारी।

एचटीएमएल कोड से जुड़ी और महत्वपूर्ण जानकारी आपको आगे दी गयी है –

  • HTML Color Codes  –  HTML Color Codes से आप वेब पेज पर कलर चेंज कर सकते है जिससे की वेब पेज के Background, Table और Text के Color को बदला जा सकता है।

Html Color Codes

  • HTML Formatter – HTML Formatter Online HTML Data को Beautify और Formatting करने के साथ ही HTML Data को Edit करने, View करने और Analysis करने में Help करता है। यह बहुत ही Easy तरीका है HTML Data को Edit करने का।

html formatter

  • HTML Fonts – HTML में आप कई तरह के Fonts इस्तेमाल कर सकते है, जिसका उपयोग आप अपनी वेबसाइट के लिए कर सकते है।

html font

  • HTML Table – HTML Table, Web Author को Text, Images, Links और अन्य दूसरी Table आदि Data को Rows और Column के Cells में Arrange करने के लिए Allow करता है।

html table

  • HTML Elements – HTML Ke Elements, Document और Web Page का एक Individual Component है। HTML Nodes Tree से Compose किया गया है जैसे- Text Nodes, Node में Other Nodes और Text Content हो सकते है। बहुत से HTML Nodes, Meaning या Semantic को Represent करते है।

html elements

Conclusion

इसी के साथ आपने यहां HTML क्या है समझाइये (HTML Se Aap Kya Samajhte Hain) इस प्रश्न का उत्तर प्राप्त किया। उम्मीद करते है कि दी गयी जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित हुई होगी और आपके अपने सभी सवालों के जवाब इस लेख में मिल गए होंगे। इस पोस्ट HTML Definition in Hindi एवं HTML Meaning in Hindi से संबंधित आपके कोई सवाल या सुझाव हो तो आप हमे कमेंट करके बता सकते है हमे आपकी सहायता करके बहुत खुशी होगी।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ?

Average rating 4.7 / 5. Vote count: 104

अब तक कोई रेटिंग नहीं! इस लेख को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

Default image
एडिटोरियल टीम

एडिटोरियल टीम, हिंदी सहायता में कुछ व्यक्तियों का एक समूह है, जो विभिन्न विषयो पर लेख लिखते हैं। भारत के लाखों उपयोगकर्ताओं द्वारा भरोसा किया गया।

Email के द्वारा संपर्क करें - [email protected]

Articles: 264

2 Comments

Leave a Reply