एजेंट स्मिथ मैलवेयर ने विश्व स्तर पर 25 मिलियन एंड्राइड डिवाइसेस को प्रभावित किया!

एजेंट स्मिथ मैलवेयर ने विश्व स्तर पर 25 मिलियन एंड्राइड डिवाइसेस को प्रभावित किया!

शोधकर्ताओं ने एक ऐसे नए मैलवेयर की खोज की है, जिससे एंड्राइड स्मार्टफोन काफी प्रभावित हुए है। इस मैलवेयर का नाम “एजेंट स्मिथ” दिया गया है। यह अपने कोड के साथ एप्लीकेशन के कुछ हिस्सों को बदल देता है। इस मैलवेयर ने विश्व स्तर पर 25 मिलियन एंड्राइड डिवाइसेस को प्रभावित किया है, जिनमें से 15 मिलियन डिवाइसेस अकेले भारत में ही प्रभावित हुए है। जबकि यूएस में 300,000 डिवाइसेस प्रभावित हुए है।

एजेंट स्मिथ मैलवेयर को शोधकर्ताओं द्वारा सिक्योरिटी फर्म चेक पॉइंट पर खोजा गया था। जिसमें उन्होंने पाया कि, यह उपयोगकर्ताओं के हस्तक्षेप के बिना दुर्भावनापूर्ण वर्जन्स के साथ डिवाइस पर वैध रूप से इनस्टॉल किये गए ऍप्लिकेशन को बदलने के लिए एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम में मालूम कमजोरियों को काम में लेता है। जानकारी के लिए आपको बता देते है कि मैलवेयर आपके डाटा को चोरी नहीं करता है यह केवल हैक किये गए एप्लीकेशन को अधिक एड्स (विज्ञापन) दिखाने करने के लिए मजबूर करता है और उन विज्ञापनों का श्रेय लेता है जो एप्प पहले से दिख रहे होते है, ताकि मैलवेयर ऑपरेटर धोखेबाज़ व्यूज से लाभ उठा सके।

देखे आज की ताज़ा ख़बर ...

चेकपॉइंट के अनुसार, मैलवेयर स्मार्टफोन पर ऐसे ज्ञात एप्लीकेशन जैसे- व्हाट्सएप्प, फ्लिपकार्ट, ओपेरा मिनी आदि की तलाश करता है और उनके कोड के कुछ हिस्सों को बदल देता है और फिर उन्हें अपडेट होने से रोकता है। मैलवेयर होने का पता थर्ड पार्टी एप्प 9 एप्प पर लगाया था। यह किसी भी एप्प्स जैसे- गेम्स, फोटोज, या सेक्स से संबंधित एप्प्स में भी हो सकता है जो संबंधित एप्प में गूगल अपडेटर के नाम से भेस बदलकर डिवाइस पर वैध एप्प्स पर कोड बदलने की प्रक्रिया शुरू करता है।

शोधकर्ताओं ने भारत में स्मार्टफोन ब्रांड के वितरण में भी मैलवेयर होने की बात कही है जिनमे से सैमसंग के 26 प्रतिशत फोन देश में सबसे अधिक प्रभावित हुए है, इसके अलावा 6.1 प्रतिशत फोन शाओमी, 5.5 प्रतिशत विवो फोन, और 5 प्रतिशत माइक्रोमैक्स फोन भी प्रभावित हुए। रिपोर्ट के अनुसार एजेंट स्मिथ मैलवेयर ने अपने प्लेटफार्म पर 11 एप्प के साथ गूगल प्ले स्टोर पर भी अपना रास्ता बनाया, हालाँकि अब गूगल ने खोजे गए सभी दुर्भावनापूर्ण एप्प्स को हटा दिया है।

नमस्ते, मेरा नाम नीरज जीवनानी है, मैं हिंदी सहायता का संस्थापक हूँ। मैं उम्मीद करता हूँ आपको हमारा काम इस वेबसाइट पर पसंद आ रहा होगा। हम दिन रात मेहनत करके पूरी टीम के सहयोग से यह साइट को चलाते है और आप तक बेहतरीन, एक से बढ़कर एक आर्टिकल्स पहुंचाने का प्रयास करते है। हिंदी सहायता को एक नयी ऊंचाई पर ले जाने के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए, हमने अभी हिंदी सहायता का एक मोबाइल एप्प लॉन्च किया है, इस एप्लीकेशन को आप यहां से डाउनलोड कर सकते है।यहाँ पर आप सभी महत्वपूर्ण जानकारियाँ सबसे पहले हासिल कर पाएंगे तो कृपया आप हमारा एप्प इनस्टॉल करके हमारा साथ ज़रूर दे ताकि हम आप तक हमेशा सभी महत्वपूर्ण आर्टिकल्स पहुँचाते रहे।

नीरज जीवनानी
संस्थापक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here