हैलो दोस्तों Hindi Sahayta में आपका स्वागत है। आज हम आपको बताने जा रहे है Page Maker Kya Hai यदि आप भी Adobe Page Maker के बारे में जानना चाहते है तो आप बिल्कुल सही पोस्ट पढ़ रहे हैं। इस पोस्ट में हम आपको Adobe Page Maker Kya Hai Hindi Me बताएँगे।

How To Download Adobe Pagemaker 7.0 Free In Hindi भी आज आप इस पोस्ट के माध्यम से जानेंगे। और हम आपको यह बिल्कुल सरल भाषा में समझाएँगे। आशा करते है की आपको हमारी सभी पोस्ट पसंद आ रही होगी। और इसी तरह आप आगे भी हमारे ब्लॉग पर आने वाली सारी पोस्ट पसंद करते रहे।

यदि आप कोई डॉक्यूमेंट बनाना चाहते है तो पेजमेकर पर अपना डॉक्यूमेंट बना सकते है। इस पर आप किसी भी प्रकार की फाइल बना सकते है इसमें आप पब्लिशिंग का काम बहुत ही आसानी से और जल्दी कर सकते है। यह उपयोग करने में भी बहुत ही आसान है।

अगर आपको किसी प्रकार का इन्विटेशन कार्ड बनाना है वो भी अपनी पसंद के कलर के अनुसार तो यह आपके लिए बहुत ही उपयोगी है। इस पर आपको बहुत सी तरह की सुविधाएँ मिलती है। और आज जिस पेजमेकर के बारे में हम आपको बता रहे है वह पेजमेकर का नया एडिशन 7.0 है।

तो चलिए शुरू करते है अब और जानते है Adobe Pagemaker Kaise Download Kare यदि आप भी इसकी जानकारी पूरी तरह से प्राप्त करना चाहते है तो यह पोस्ट How To Learn Page Maker शुरू से अंत तक ज़रुर पढ़े। तभी आप इसकी जानकारी अच्छे से प्राप्त कर पाएँगे।

Page Maker Kya Hai

Page Maker

इस सॉफ्टवेयर का उपयोग हम कई कामों में कर सकते है। जैसे बुक्स की सेटिंग करने के लिए, एडवरटाइजमेंट की सेटिंग करने के लिए, शादी के कार्ड, इन्विटेशन कार्ड बनाने में इसका प्रयोग होता है। तथा पेजमेकर का उपयोग हम बुक्स बनाने, पेम्प्लेट बनाने में और लेटरहैंड्स बनाने में भी इस्तेमाल करते है।

जरूर पढ़े: Adobe Photoshop Kya Hai? Photoshop Kaise Install Kare – जानिए Adobe Photoshop 7.0 Download कैसे करे इन बेहद आसान शब्दों में!

Adobe Pagemaker Kaise Download Kare

यदि आप भी पेजमेकर डाउनलोड करना चाहते है तो नीचे दी गई स्टेप्स को Follow करे:

  • डाउनलोड पेजमेकर – सबसे पहले यहाँ से आप Adobe Page Maker को डाउनलोड करे।
  • इनस्टॉल पेजमेकर – डाउनलोड करके अब इसे इंस्टाल कर ले।
  • ओपन पेजमेकर – अब आप इसे ओपन करके इसका इस्तेमाल कर सकते है।

How To Learn Page Maker

आगे हम पेजमेकर के User Interface के बारे में जानेंगे। पेजमेकर को खोलने पर आपके सामने यह स्क्रीन आती है:

  • टूलबॉक्स

जब पेजमेकर पर काम किया जाता है और जिन टूल्स का प्रयोग किया जाता है वह इस बॉक्स में होते है। यहाँ पर आपको पब्लिकेशन बनाने के लिए 14 प्रकार के टूल्स मिलते है। पेजमेकर में जो फाइल बनाई जाती है उसे पब्लिकेशन कहा जाता है। इसे आप अपनी सुविधानुसार कहीं भी मूव कर सकते है।

पेजमेकर में जब कोई नया पब्लिकेशन बनाया जाता है या पहले बनाये गये पब्लिकेशन को खोला जाता है तभी टूल बॉक्स में जो Icons होते है वो दिखाई देने लगते है।

अगर किसी वजह से टूल बॉक्स दिखाई ना दे तो विंडो मेनू को ओपन करके Show Tools पर क्लिक करके पेजमेकर में पब्लिकेशन के टेक्स्ट तथा ग्राफ़िक्स की एडिटिंग की जा सकती है।

  • स्टैंडर्ड टूल बार

पेजमेकर के मेनू बार के नीचे स्टैंडर्ड टूल बार दिया होता है। इसमें प्रयोग किये जाने वाली कमांड जैसे न्यू, ओपन, सेव, प्रिंट, फाइंड आदि Icons के रूप में दिए होते है। जिन्हें आप पब्लिकेशन में काम करते समय प्रयोग में ला सकते है।

  • रूलर गाइड्स

पेज की लम्बाई-चौड़ाई बताने के लिए रूलर गाइड्स का प्रयोग करते है। जरुरत होने पर इसे भी मूव किया जा सकता है। रूलर गाइड्स पब्लिकेशन के लेफ्ट और टॉप में होती है।

  • कण्ट्रोल पैलेट

इसमें फ़ॉन्ट, फ़ॉन्ट साइज़, बोल्ड, इटैलिक, अंडर लाइन, लाइन स्पेसिंग, आदि ऑप्शन दिए गए होते है। जो पब्लिकेशन पर काम करते समय किसी प्रकार की एडिटिंग करने में प्रयोग किये जाते है।

  • पेज बॉर्डर

इससे आप पेज की बार्डर सिलेक्ट कर सकते है। आपको कितनी बार्डर रखनी है अगर आपने कुछ टाइप किया है और वह पेज की बार्डर से बाहर चला जाता है तो वह प्रिंट निकालते समय प्रिंट नहीं होता है।

  • मार्जिन गाइड्स

पेज के अंदर टाइपिंग की जगह को निर्धारित करने के लिए इस ऑप्शन का प्रयोग किया जाता है। पेज पर यह नीले रंग की एक पतली रेखा के रूप में दिखाई देती है।

How To Use Pagemaker In Hindi

पेजमेकर क्या होता है यह तो आप जान गये, लेकिन इसका इस्तेमाल किस तरह से किया जाता है यह आप आगे जानेंगे:

  • Starting A New Publication

सबसे पहले डॉक्यूमेंट सेटअप का डायलॉग बॉक्स ओपन करे। इस डायलॉग बॉक्स में आपके डॉक्यूमेंट को प्रारम्भ करने का सेटअप किया जाता है। जिसके अनुसार New Document को ओपन किया जाता है।

क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी: Animation Kya Hai? Animation Kaise Banaye – जानिए What Is Animation Course In Hindi!

यह डायलॉग बॉक्स आप फाइल मेनू में डॉक्यूमेंट सेटअप से तथा शिफ्ट और कंट्रोल के साथ P बटन (Shift+Ctrl+P) दबाकर भी खोल सकते है। इस डायलॉग बॉक्स में नीचे दी गई सूचनाएं पहले से ही सेट होती है। जिन्हें आप अपनी जरुरत के अनुसार बदल सकते है।

  • Page Size

इसमें डॉक्यूमेंट के पेज की साइज़ सेट की जाती है। आप इसमें अपने अनुसार पेज की लम्बाई-चौड़ाई सेट कर सकते है। यह पेज आयाम (Page Dimensions) इंचो में दिए होते है। लेकिन आप अपने अनुसार भी इसकी साइज़ चुन सकते है।

  • Orientation

डॉक्यूमेंट का ओरिएंटेशन लंबा होता है। जिसे पोर्ट्रेट भी कहते है। इसमें चौड़ाई कम और ऊंचाई ज्यादा होती है। आपके द्वारा चुने गए Page Dimensions के अनुसार पेजमेकर इनमें से कोई ओरिएंटेशन खुद ही चुन लेता है। अगर आप चाहे तो उसे बदल भी सकते है।

  • Number Of Pages

इसमें आप यह सिलेक्ट कर सकते है की डॉक्यूमेंट में कितने पेज होंगे। शुरू में उतने ही पेजों का डॉक्यूमेंट खोला जाता है। बाद में आप अपनी जरुरत के अनुसार पेज की संख्या बढ़ा भी सकते है घटा भी सकते है।

  • Starting Page Number

इसमें यह बताया जाता है की पेज नंबर किस संख्या से शुरू किया जाएगा। अगर आप चाहते है की डॉक्यूमेंट के पहले पेज का नंबर 10 हो और दूसरे पेज का 9 तो आपको इसके बॉक्स में 10 इंटर करना चाहिए।

  • Margins

इन टेक्स्ट बॉक्स में नए डाक्यूमेंट्स के चारों तरफ की मार्जिन सेट की जाती है। आप इन्हें अपने अनुसार बदल भी सकते है।

  • Options

इसमें डाक्यूमेंट्स के बारे में दूसरे ऑप्शन्स को सेट कर सकते है। जैसे डॉक्यूमेंट को काग़ज़ के दोनों तरफ प्रिंट किया जाएगा या एक तरफ।

  • Printer

इसमें आप अपने डॉक्यूमेंट के लिए उस प्रिंटर का नाम चुनते है जिस पर डॉक्यूमेंट को प्रिंट किया जाता है। यह प्रिंटर आपके कंप्यूटर में होना चाहिए। अगर आपके पास प्रिंटर नहीं है तो इस बॉक्स में Display On None शब्द दिखाई देगा।

Features Of Pagemaker In Hindi

पेजमेकर का सबसे नया एडिशन 7.0 है। इस एडिशन में Adobe ने बहुत से नए तरह के बदलाव किये है। और इसमें नए इनोवेटिव Features डाले है। तो जानते है इसके Features के बारे में:

  • इसमें टेम्पलेट को ऐड किया गया है। जिसके द्वारा विभिन्न प्रकार के पेजों की डिज़ाइन पहले से ही निर्धारित होती है। और आप उनका उपयोग करके अपने काम को जल्दी कर सकते है।
  • इस एडिशन में पहली बार टूलबार को जोड़ा गया। जिसके द्वारा काम करने की स्पीड में वृद्धि हुई है। इस टूलबार की मदद से आप फाइल को प्रिंट, सेव, फॉर्मेटिंग, स्पेलिंग चेक एक ही क्लिक से कर सकते है।
  • इसमें कलर मैनेजमेंट का प्रयोग भी किया गया है। इसके द्वारा आप डॉक्यूमेंट में रंगों का निर्धारण अपनी पसंद के अनुसार कर सकते है।
  • क्लिप आर्ट के प्रयोग से आप चित्र और आइकॉन का उपयोग पब्लिशिंग में आसानी से कर सकते है।
  • आधुनिक तथा एडवांस प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी के माध्यम से आप दोनों तरफ प्रिंटिंग, डुप्लेक्स प्रिंटिंग, बाइंडिंग प्रिंटिंग आदि आसानी से कर सकते है।
  • फ़ोटोशॉप के द्वारा फ़ोटो को डायरेक्टली इम्पोर्ट करके उपयोग में ले सकते है।

Conclusion

आज की पोस्ट के माध्यम से आपने जाना की Page Maker Kya Hai और साथ ही आपने यह भी जाना की Adobe Pagemaker Kaise Download Kare आशा करते है की हमारे द्वारा बतायी गई जानकारी आपके लिए उपयोगी होगी।

How To Use Pagemaker In Hindi अगर आप भी जानना चाहते है तो आप हमारी इस पोस्ट की मदद ले सकते है। Features Of Pagemaker In Hindi आज की पोस्ट के माध्यम से आप जान गये होंगे। और आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट करके बताये।

यह पोस्ट भी जरूर पढ़े: PDF File Kya Hoti Hai? PDF File Kaise Banate Hai – जानिए PDF File बनाने के तरीके हिंदी मे!

इस पोस्ट की जानकारी आप अपने फ्रेंड्स को भी दे। तथा सोशल मीडिया पर भी What Is Pagemaker In Hindi ज़रुर शेयर करे। जिससे और भी ज्यादा लोगों के पास यह जानकारी पहुँच सके। हमारी पोस्ट What Is Pagemaker Explain In Hindi में आपको कोई परेशानी है या आपका कोई सवाल है इस पोस्ट मदद ज़रुर करेगी।

यदि आप हमारी वेबसाइट के Latest Update पाना चाहते है, तो आपको हमारी Hindi Sahayta की वेबसाइट को सब्सक्राइब करना होगा। फिर मिलेंगे आपसे ऐसे ही आवश्यक जानकारी लेकर तब तक के लिए अलविदा दोस्तों हमारी पोस्ट पढ़ने के लिए धन्यवाद, आपका दिन शुभ हो।

Page Maker Kya Hai? How To Learn Page Maker – जानिए How To Use Pagemaker In Hindi!
5 (100%) 1 vote

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here