1. Essays

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ पर निबंध, स्लोगन और कविता, हिंदी में।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध और अन्य जानकारी। लेख को अंत तक पढ़ें, निबंध के साथ इस अभियान से जुडी सभी जानकारी से रूबरू हो जाये।

भारत सरकार ने बेटियों के विकास को प्राथमिकता देते हुए बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ नामक अभियान की शुरूवात की। इस योजना द्वारा बेटियो को आत्मनिर्भर बनाने पर जोर दिया गया है। यह योजना मुख्यतौर पर बेटियो के साथ हो रहे भेदभाव व अन्याय को रोकने के उद्देश्य के साथ प्रारम्भ हुई। बेटी बचाओ, बेटी पढाओ योजना के रूप में सरकार का ऐसा महत्वाकांक्षी दृष्टिकोण निश्चित रूप से भारत में महिलाओं की स्थिति में सकारात्मक बदलाव लाएगा।

यह सरकार द्वारा योजनाबद्ध उद्देश्यों, रणनीतियों और कार्य योजना के साथ शुरू किया गया है ताकि इसे वास्तव में प्रभावी बनाया जा सके। यह योजना समाज में लैंगिक भेदभाव के बारे में जागरूकता पैदा करके बालिकाओं के कल्याण में सुधार करता है। बेटी बचाओ, बेटी पढाओ योजना स्थायी विकास के लिए एक बहुत जरूरी हस्तक्षेप थी इसने न केवल बालिकाओं के विकास के लिए एक संपूर्ण दृष्टिकोण की अवधारणा को सामने लाया, बल्कि इसने समान लिंग विकास की चिंताओं को दूर करने पर भी ध्यान केंद्रित किया।

यदि आप बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के बारे में पूरी जानकारी चाहते है तो इस लेख को अंत तक ज़रूर पढ़ें, इसमें हमने बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ पर निबंध के साथ इस अभियान से जुडी सभी जानकारी साझा की है।

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना क्या है?

विषयों की सूची

(Beti Bachao, Beti Padhao Yojana kya hai?)

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान एक सामाजिक आंदोलन है। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का उद्धघाटन माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा 22 जनवरी 2015 को हरियाणा राज्य के पानीपत जिले में किया गया था।
इस योजना द्वारा लड़कियों के महत्व को समाज में प्रकाशित किया गया। ये योजना उन लोगो के लिए एक चेतावनी थी जो बेटियो को जन्म लेने से पहले ही मार देते है । इस योजना द्वारा बेटियो को बेटो के समान मान्यता देने पर जोर दिया गया।

बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना मंत्रालय।

(Beti Bachao, Beti Padhao Yojana Ministry)

यह निम्नलिखित तीन मंत्रालयों का संयुक्त प्रयास है:

  1. महिला एवं बाल विकास
  2. स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण
  3. मानव संसाधन विकास

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के लक्ष्य एवं उद्देश्य।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना बालिकाओ को बेहतर और सुरक्षित वातावरण प्रदान करने के उद्देश्य के साथ ही स्थापित किया गया था। आईये जानते है बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के चुनिंदा उद्देश्य:

  • बाल लिंग अनुपात (CSR) की गिरती प्रवृत्ति के मुद्दे को हल करने के लिए।
  • बालिका सशक्तीकरण के लिए समग्र वातावरण के विकास को बढ़ावा देना।
  • बिना किसी भेदभाव के बालिका शिक्षा को बढ़ावा देना।
  • बाल विवाह और दहेज प्रथा पर रोक लगाना।
  • बालिका के अस्तित्व और सुरक्षा को सुनिश्चित करना और कन्या भ्रूण हत्या जैसी बुराइयों को मिटाना।
  • बालिकाओं के जन्म का जश्न मनाने और हमारे जीवन में उनके योगदान की सराहना करने के लिए।
  • भारतीय समाज के लैंगिक रूढ़ियों को तोड़ने के लिए।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नया नाम क्या है?

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के नाम को बदलने का प्रस्ताव इकोनामिक सर्वे ने 2019 में दिया था। इस विषय पर भारत सरकार की तरफ से कोई पुष्टि नही हुई है। इकोनामिक सर्वे 2019 ने अपने रिपोर्ट में इस अभियान का नया नाम BADLAV बेटी आपा धन लक्ष्मी और विजयलक्ष्मी रखने का प्रस्ताव दिया।

इस विषय पर महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने ट्वीट किया,

बेटी बचाओ अभियान से सीखते हुए, सामाजिक मानदंडों में आवश्यक और अर्थव्यवस्था में महिलाओं के योगदान को बढ़ाने के लिए BADLAV (बेटी आपकी धन लक्ष्मी और विजय-लक्ष्मी) की शुरुआत की गई है। इससे हम इस मुहिम को आगे भी पूरा करने का प्रयास करेंगे। जेंडर समीकरण में बदलाव के साथ ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ से ‘बेटी आपकी धन लक्ष्मी और विजयलक्ष्मी’ तक का सफर।

बेटी बचाओ बेटी पढाओ का नारा किसने दिया था?

(Beti Bachao Beti Padhao Ka Nara Kisne Diya Tha?)

बेटी बचाओ बेटी पढाओ (BBBP) का नारा 22 जनवरी, 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने दिया था ।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने अपने भाषण में कहा,

हमारा मंत्र होना चाहिए: बेटा और बेटी एक समान हैं।” आगे अपनी भाषण में मोदी जी ने यह भी कहा कि “हम बच्चियों के जन्म का जश्न मनाएँ। हमें अपनी बेटियों पर भी उतना ही गर्व होना चाहिए। मैं आपसे पांच पौधों को बोने का आग्रह करता हूं जब आपकी बेटी इस अवसर को मनाने के लिए पैदा होती है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की ब्रांड एंबेस्डर।

(Beti Bachao Beti Padhao Ki Brand Ambassador kaun Hai?)

आइए दोस्तों एक रोचक बात जानते हैं कि इस मुहिम की, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की ब्रांड एंबेसडर कौन है?
दोस्तों बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की ब्रांड एंबेस्डर हमारे देश की रियो ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने वाली साक्षी मलिक को बनाया गया है।

बेटी बचाओ, बेटी पढाओ योजना का लाभ।

(Beti Bachao Beti Padhao Ke Labh)

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के लाभ कुछ इस प्रकार से हम जान सकते हैं:

  • यह योजना बालिकाओं को बचाने, और उनके माता-पिता को उन्हें शिक्षित करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए मजबूत प्रयास कर रही है।
  • यह लैंगिक समानता को बढ़ावा देने, बालिका सुरक्षा और लड़कियों को चिकित्सा सहायता प्रदान करने पर केंद्रित है।
  • बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के तहत, सुकन्या समृद्धि खाता नामक एक बचत योजना शुरू की गई है। यह खाता बालिकाओं के लिए विशिष्ट है, जहाँ बच्चे के माता-पिता या अभिभावक अपनी बेटियों के लिए धन बचा सकते हैं, जिसका उपयोग बालिका की शिक्षा या विवाह के लिए किया जा सकता है। इस खाते से कोई कर कटौती नहीं होगी।
  • सरकारी स्कूलों में लड़कियों की कोई स्कूल फीस नहीं है। कुछ निजी स्कूल बालिकाओं को छूट भी प्रदान करते हैं।
  • मुद्रा ऋण योजना के तहत ऋण प्राप्त करने में महिलाओं को प्राथमिकता दी गई है।
  • हाउसिंग फॉर ऑल स्कीम के तहत सब्सिडी लेने के लिए आपके पास एक महिला सदस्य होनी चाहिए।
  • महिलाओं को उज्ज्वला योजना के तहत मुफ्त एलपीजी गैस कनेक्शन दिया जा रहा है ।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर कविता।

(Beti Bachao Beti Padhao Per Kavita)

#1
#2
#3
#4
#5

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के स्लोगन।

(Beti Bachao Beti Padhao Slogan in Hindi)

#1
#2
#3
#4
#5
#6
#7
#8

#10

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के निबंध।

(Beti Bachao Beti Padhao Essay)

बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना (BBBP) महिला और बाल विकास मंत्रालय, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और मानव संसाधन विकास मंत्रालय का एक संयुक्त प्रयास है। इस योजना का उद्धघाटन माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा 22 जनवरी 2015 को हरियाणा राज्य के पानीपत जिले में किया गया था।
ये योजना हरियाणा राज्य से शुरू करने का मुख्य कारण था, प्रति 1000 लड़कों पर केवल 775 लड़कियां यानी लड़कियों और लड़को के लिंगानुपात में अंतर। यह योजना शुरू में देश भर के 100 जिलों में लागू की गई थी, जहां लिंगानुपात प्रभावी रूप से सबसे खराब था और आने वाले वर्षों में इसे पूरे देश में लागू करने की योजना है।

बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के उद्देश्य:

● बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के तहत सामाजिक व्यवस्था में बेटियों के प्रति रूढ़िवादी मानसिकता को बदलना।
● लड़कियों की शिक्षा को आगे बढ़ाने के लिए।
● लिंग भेदभाव की प्रक्रिया को समाप्त करके गांव के अस्तित्व और सुरक्षा को सुनिश्चित करना।
● हर घर में लड़कियों की शिक्षा सुनिश्चित करना।
● लिंग आधारित भ्रूण हत्या की रोकथाम।
● लड़कियों की शिक्षा और भागीदारी सुनिश्चित करना।

बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान की आवश्यकता क्यों थी?

● हमारा भारत हमारी पौराणिक संस्कृति है, इसे धर्म और कर्म और स्नेह और प्रेम का देश माना जाता है। लेकिन जब से भारतीयों ने प्रगति करना शुरू किया है और नई तकनीकें विकसित हुई हैं, भारतीय लोगों की मानसिकता में बड़ा बदलाव आया है।
इस बदलाव के कारण जनसंख्या के मामले में भारी उथल-पुथल हुई है। लोगों की मानसिकता इतनी बिगड़ चुकी है कि उन्होंने बेटे और बेटियों में भेदभाव करना शुरू कर दिया है। उन्होंने बेटियों को एक वस्तु के रूप में मानना शुरू कर दिया है। ऐसे लोग बेटे के जन्म पर बहुत खुशियाँ मनाते हैं और पूरे गाँव में मिठाइयाँ बाँटते हैं, अगर बेटी पैदा होती है तो पूरा घर सन्नाटे में होता है जैसे कोई आपदा या विपदा आई हो।
● वह बेटी को पराया धन मानते हैं क्योंकि एक दिन बेटियों की शादी करनी होती है और दूसरे घर जाना होता है। इसीलिए गिरी हुई मानसिकता वाले लोग सोचते हैं कि किसी भी तरह की बेटियों पर खर्च करना बेकार है। यही कारण है कि वे बेटियों को पढ़ाते नहीं हैं और न ही उनकी परवरिश ठीक से करते हैं। उन्हें अपनी मर्जी का कोई भी काम करने की आजादी नहीं है।
कुछ जगहों पर, बेटियों को घर से बाहर निकलने की भी अनुमति नहीं है। इसके विपरीत, बेटों को उनकी शिक्षा के लिए बहुत प्यार और विदेश भेजा जाता है। बेटों को सभी प्रकार की छूट दी जाती है। ऐसे लोगों का मानना है कि बेटे हमारे बुढ़ापे की लाठी बनेंगे और हमारी सेवा करेंगे, लेकिन आजकल सब कुछ इसके विपरीत हो रहा है।
● लड़कियों की इतनी कम आबादी होना किसी आपदा से कम नहीं है। यह बच्चे के लिंग चयन और लड़कियों के प्रति जन्मपूर्व भेदभाव द्वारा जन्मपूर्व भेदभाव को दर्शाता है। दिनोंदिन बढ़ती इस मानसिकता के कारण बेटियों की आबादी कम होने लगी है क्योंकि बेटियों को गर्भ में ही मार दिया जा रहा है। यूनिसेफ की एक रिपोर्ट के अनुसार, “भारत में लगभग 5 करोड़ लड़कियों की कमी है।”
● इस पर संज्ञान लेते हुए संयुक्त राष्ट्र ने भारत को चेतावनी दी कि अगर जल्द ही लड़कियों की सुरक्षा के लिए कुछ नहीं किया गया तो भारत में जनसंख्या में बदलाव के साथ कई अन्य आपदाएं भी हो सकती हैं। इसलिए, हमारे देश के माननीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने, बेटियों की सुरक्षा और बेटियों की शिक्षा के लिए एक नई योजना शुरू की, जिसे बेटी बचाओ बेटी पढाओ कहा जाता है।

बेटियों की दुर्दशा के कारण:

जब से भारत में नई तकनीकों का विकास हुआ है, जब से लोगों ने अपने स्वार्थ को पूरा करने के लिए जीना शुरू किया है, हमारे देश में बेटियों की स्थिति बहुत दयनीय हो गई है। उनकी ऐसी हालत के जिम्मेदार कोई और नही बल्कि कुछ ऐसे लोग है जो बेटे और बेटियों में भेदभाव करते हैं। कई राज्यों में हालात इतने खराब हो गए हैं कि वहां के युवाओं की शादी भी नहीं हो रही है।
आइए जानते हैं कि वे कौन से कारण हैं जिनकी वजह से आज हमारे देश की बेटियों की हालत बहुत दयनीय हो गई है।
लैंगिग भेदभाव। 
लैंगिग भेदभाव का मतलब है कि लोग अब बेटियों के जन्म को नहीं चाहते हैं। वे केवल अपने घरों में पैदा होने वाले बेटों को चाहते हैं। लेकिन उन लोगों को यह नहीं पता है कि अगर लड़कियां पैदा नहीं हुई तो बहू , बहन, और माँ कहा से आएगी।
कन्या भ्रूण हत्या। 
बढ़ते लैंगिक भेदभाव के कारण लोगों की मानसिकता इतनी खराब हो गई है कि वे बेटियों को गर्भ में ही मार देते हैं। एक बेटे के लिए उनकी इच्छा इतनी बढ़ गई है कि वह दुनिया में आने से पहले अपनी ही बेटी को मार देते है। जिसके कारण लड़कियों की आबादी में भारी गिरावट आई है और एक नई आपदा सामने आई है। जिस पर न तो लोग कोई कार्रवाई कर रहे हैं और न ही सरकार इस पर कुछ कर रही है। जिसके कारण हर दिन लड़कियों का शोषण हो रहा है।
शिक्षा का अभाव। 
शिक्षा की कमी के कारण, लोग अभी भी बेटियों को सम्मान नही देते जिसके कारण भारत जैसे देशों में जहां माताओं की पूजा की जाती है। उसी देश में बेटियों का शोषण होता है। बेटियों के माता-पिता की शिक्षा की कमी के कारण, वे दुसरो का सुनते हैं और बेटियों के साथ भेदभाव करने लगते हैं। उन्हें ये नहीं पता कि अगर बेटियों को सही अवसर दिया जाए, तो भी वे बेटों की तुलना में अधिक कर दिखा सकती हैं।
भ्रष्ट मानसिकता।
भारत में लोगों की मानसिकता का पता इस तथ्य से लगाया जा सकता है कि उन्होंने बेटियों को एक ऐसी वस्तु के रूप में मानना शुरू कर दिया है जिसका वे उपयोग कर सकते हैं और फेंक सकते हैं। लोग बेटियों को पराया धन मानते हैं और उन्हें एक खर्च के रूप में मानते हैं, जिसके कारण देश में लड़कियों की स्थिति चिंताजनक हो गई है।
भ्रष्ट मानसिकता वाले लोग मानते हैं कि बेटे ही सब कुछ हैं, वे अपने बुढ़ापे की लाठी बनेंगे और उनकी सेवा करेंगे। यही कारण है कि वे यह भी नहीं चाहते कि बेटियों को घर पर ही मार दिया जाए। इसलिए लोगों को अपनी मानसिकता बदलने की कोशिश करनी चाहिए।
दहेज प्रथा। 
दहेज हमारे देश में एक बहुत ही गंभीर समस्या है जिसके कारण बेटियों की स्थिति चिंताजनक हो गई है। इस प्रथा के कारण लोग अब नहीं चाहते कि बेटियां उनके परिवार में पैदा हों, क्योंकि जब बेटियों की शादी होती है, तो उन्हें बहुत दहेज देना पड़ता है। जिसके कारण लोग बेटियों को बहुत बड़ा खर्च मान रहे हैं और बेटों और बेटियों में भेदभाव कर रहे हैं। वर्तमान में, बेटियों को घर पर मार दिया जाता है, ताकि लोगों को अपनी शादी पर दहेज न देना पड़े, इसलिए इस प्रथा को समाप्त करना बहुत जरूरी है।

बेटियों की दुर्दशा के साइड इफेक्ट:

यह हम सभी को अच्छी तरह से पता है कि किसी भी चीज की अधिकता या कमी किसी न किसी आपदा का कारण बनती है। क्योंकि वर्तमान समय में, बेटों और बेटियों में बहुत भेदभाव है। जिसके कारण लड़कियों की संख्या में कमी आई है और उनकी शिक्षा दीक्षा में भी उल्लेखनीय कमी आई है। आईये इसके दुष्प्रभाव पर गौर करते है:
जनसंख्या वृद्धि।
लड़का चाहने वालों को तब तक बच्चे होते रहेंगे जब तक उनके घर में लड़का पैदा न हो जाए, जिसके कारण बड़ी संख्या में आबादी का विस्तार होगा। यह हमारे देश के विकास की गति को धीमा कर देगा, जिसके कारण लोगों को उचित रोजगार और उचित भोजन नहीं मिलेगा।
इसी तरह, हमारा देश बहुत पिछड़ा हुआ है और अगर जनसंख्या वृद्धि इसी दर से जारी रही तो हमारा देश कभी भी विकास नहीं कर पाएगा। इसलिए, लोगों को इस पर चर्चा करनी चाहिए और इसके खिलाफ कुछ ठोस कदम उठाने चाहिए।
लड़कियों की जन्म दर में कमी।
अगर लोग इसी तरह से लड़कियों के साथ भेदभाव करते रहे, तो लड़कियों की जन्म दर में भारी गिरावट आ सकती है, जबकि भारत के कई राज्यों में, लड़कियों की आबादी वर्तमान में बहुत कम है, जो कि 1981 में 0 से 6 के आंकड़े के अनुसार है। इस वर्ष लड़कियों का लिंगानुपात 962 से घटाकर 945 कर दिया गया और वर्ष 2001 में यह संख्या घटकर 927 हो गई। 2011 तक, स्थिति बिगड़ चुकी थी क्योंकि 1000 लड़कों में से लड़कियों की संख्या केवल 914 थी, जो बन गई है गंभीर समस्या।
बलात्कार और शोषण की बढ़ती घटना। 
लड़कियों की आबादी में कमी के कारण, आपने एक बार समाचारों में देखा होगा कि हमारे देश में बलात्कार जैसी घटनाएँ बहुत तेजी से बढ़ रही हैं। इसका एक कारण यह है कि लड़कियों की जन्म दर में कमी आई है। पुरुष प्रधान समाज के कारण, जहाँ लड़कियों की आबादी कम है, पुरुष अपना प्रभुत्व दिखाते हैं और लड़कियों का शोषण उन्हें रोक नहीं पाता है।
देश का धीमा विकास। 
अगर लड़कियों के साथ भेदभाव किया जाता है, तो देश के विकास की गति धीमी हो जाएगी क्योंकि आज भी हमारे देश की आधी आबादी महिलाओं की है, अगर उन्हें उचित शिक्षा और सुरक्षा नहीं मिलती है, तो हमारे देश के विकास की गति धीमी हो जाएगी और यह कहा जाता है कि पहली शिक्षक माँ है, अगर वह शिक्षित नहीं है, तो वह अपने बच्चों को कैसे पढ़ाएगी। इसलिए बेटियों को पढ़ाना बहुत जरूरी है।

लड़कियों की दुर्दशा को सुधारने के उपाय:

देश में बिगड़ती लड़कियों की दुर्दशा के लिए आप और हम भी ज़िम्मेदार हैं क्योंकि जब भी लड़कियों के साथ भेदभाव किया जाता है या उनका शोषण किया जाता है, हम बस देखते रहते हैं और उनका विरोध भी नहीं करते हैं। जिसके कारण आज हम इस स्थिति को देख रहे हैं।
अगर लड़कियों के साथ किसी तरह का भेदभाव होता है और अगर हम ऐसा होते हुए देखते हैं तो हम भेदभाव के लिए समान रूप से जिम्मेदार हैं, इसलिए हमें लड़कियों के खिलाफ पूरी नीति के खिलाफ आवाज उठानी चाहिए। वरना एक दिन ऐसा आएगा कि हमारे देश में लड़कियां नहीं रहेंगी।
सरकार भी लड़कियों के उत्थान के लिए नई योजनाएं लाती है जैसे बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना, महिला सशक्तीकरण योजना, लेकिन आम आदमी की रुचि की कमी के कारण इन सभी योजनाओं को ताक पर रख दिया जाता है।
आइए देखते हैं कि लड़कियों की दुर्दशा को सुधारने के लिए हम क्या उपाय कर सकते हैं –
लिंग जांच रोकना। 
वर्तमान में, नई तकनीकों के विकास के कारण, यह पता चला है कि गर्भ में बच्चा लड़का होगा या लड़की, लोग इसका लाभ उठाते हैं और पहले ही पता लगा लेते हैं कि क्या उन्हें लड़का या लड़की पैदा होगी अगर उन्हें पता चल जाता है की बेटी होगी तो लड़की को गर्भ में ही मार दिया जाता है, जिसके कारण लड़कियों का लिंग अनुपात लगातार घट रहा है।
भारत में लिंग परीक्षण मशीनें आसानी से उपलब्ध हैं, हमें इन मशीनों को तुरंत बंद कर देना चाहिए। हालाँकि भारत सरकार ने इस पर एक सख्त कानून लाया है, लेकिन कुछ लालची डॉक्टरों के कारण, लिंग परीक्षण अभी भी किया जाता है और लड़कियों की गर्भ में हत्या कर दी जाती है।
महिला शिक्षा को बढ़ावा देना। 
हमें महिला शिक्षा को बढ़ावा देना चाहिए, अगर समाज में शिक्षित महिलाएं हैं, तो यह उन बेटियों को कभी मरने नहीं देगी जो बेटिया जन्म लेने से पहले उनके गर्भ में मार दी जाती है ,ऐसा करना इसलिए भी आसान है क्योंकि महिलाये अशिक्षित है ,उन्हें पुरानी रूढ़ियों में फंसा कर उनके परिवार वाले गर्भ में ही बेटी की हत्या कर देते है। जितनी अधिक महिलाये शिक्षित होगी , लड़कियों का लिंग अनुपात उतना ही अधिक होगा।
लड़कियों के खिलाफ भेदभाव बंद करो। 
हमारे 21 वीं सदी के भारत में, जहां कल्पना चावला जैसी महिलाएं अंतरिक्ष में जा रही हैं, वहीं दूसरी ओर, हमारे समाज के लोग लड़कियों के साथ भेदभाव कर रहे हैं।
लिंग चयन के आधार पर लड़कियों के साथ भेदभाव किया जाता है और यदि उनका जन्म भी होता है, तो भी उन्हें उचित शिक्षा नहीं दी जाती है। इस भेदभाव की नीति के कारण, लड़कियां ठीक से विकसित नहीं हो पाती हैं और पिछड़ी रहती हैं, जिसके कारण वे लड़कों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलने में असमर्थ होती हैं। हालाँकि, वर्तमान में, शहरों में लड़कियों की स्थिति में कुछ बदलाव आया है। लेकिन ज्यादा बदलाव नहीं आया है, जहां लड़कियों के साथ भेदभाव नहीं किया जा रहा है।
लोगों की मानसिकता बदलना। 
हमारे 21 वीं सदी के भारत में, एक और लोग सभ्य होने का दावा करते हैं और दूसरी तरफ वे महिलाओं का शोषण करते हैं, उनसे छेड़छाड़ करते हैं और बलात्कार जैसी घटनाओं को अंजाम देते हैं। ये लोग और कोई नहीं बल्कि हम ही हैं। हममें से कुछ लोग हैं जिनकी मानसिकता इतनी खराब हो गई है कि वे महिलाओं को एक सुख की वस्तु मानते हैं।
ऐसे लोगों को समाज से बाहर निकाल देना चाहिए, ये लोग न केवल समाज के लिए बल्कि पूरी दुनिया के लिए बहुत खतरनाक हैं। इसलिए, सोच वाले लोगों की मानसिकता को बदलना बहुत महत्वपूर्ण हो गया है, क्योंकि ऐसे लोगों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है, जिसके परिणाम आप हर दिन अखबारों और समाचारों में देखते हैं।
लड़कियों की सुरक्षा के लिए सख्त कानूनों का गठन। 
भारत सरकार को लड़कियों की सुरक्षा के लिए सख्त कानून बनाने चाहिए ताकि कोई भी लड़कियों के साथ अन्याय और भेदभाव करने की हिम्मत न करे। हालाँकि सरकार ने कुछ ऐसे कानून बनाए हैं जो महिलाओं की सुरक्षा करते हैं, लेकिन इन कानूनों में कुछ कमियों के कारण लोग इसका फायदा उठाते हैं और बलात्कार जैसी घटनाओं को अंजाम देते हैं।
हाल ही में, सरकार ने एक नया कानून पेश किया है जिसकी सराहना की जा सकती है जिसमें 12 साल तक की लड़कियों का बलात्कार करने वालों को दंडित किया जाएगा। अगर इस तरह के सख्त कानून बनाए जाते रहे तो कोई भी लड़कियों की तरफ आँख उठाने की हिम्मत नहीं करेगा।

Beti Bachao Beti Padhao Nibandh

कन्या भ्रूण हत्या, बलात्कार, सामूहिक बलात्कार जैसे भयानक अपराधों का ग्राफ समाज में लगातार बढ़ रहा है। ऐसे अपराधों की खबर टीवी पर देखी जाती है या अखबार में पढ़ी जाती है, जो भारतीय संस्कृति और गरिमा पर एक काला निशान लगा रही है, जो भारतीय परंपरा के महत्व को भी कम करती है।

भारत में मोदी सरकार ने 22 जनवरी 2015 को हरियाणा के पानीपत जिले में लड़कियों की तुच्छ मानसिकता को सुधारने और उन्हें शिक्षित करके समाज में एक सम्मान जनक स्थान दिलाने की योजना शुरू की। समाज में अधिक से अधिक लोग बेटियों की शिक्षा और सुरक्षा पर ध्यान देंगे, तभी भारतीय समाज एक सभ्य और शिक्षित समाज बनेगा।

जब बेटियों को एक अच्छी शिक्षा दी जाती है, तो यह न केवल उनके लिए एक अच्छा भविष्य बनाता है, बल्कि पूरे परिवार पर भी इसका प्रभाव पड़ता है, क्योंकि हर परिवार में महिला की बागडोर होती है। दूसरी ओर, यदि एक शिक्षित गृहिणी परिवार की देखभाल करती है, तो उस परिवार के नियम बहुत अलग होते हैं, इसके साथ ही एक शिक्षित महिला परिवार को बड़ी समझदारी और बुद्धिमत्ता से संभालती है, और वह अपने परिवार की आर्थिक रूप से मजबूत बनने में भी मदद करती है।

एक ही समय में, समाज कई परिवारों को मिलाकर बनता है, इस प्रकार लड़कियों की शिक्षा एक सभ्य और शिक्षित समाज का निर्माण करती है। महिलाएं भी आधी आबादी हैं, जिसका मतलब है कि देश की आधी आबादी महिलाएं हैं, लेकिन शर्मिंदगी की बात यह है कि आज भी 21 वीं सदी में जब हमारा देश तकनीकी और आर्थिक रूप से मजबूत है, लेकिन फिर भी भारत में लड़कियों की स्थिति बहुत खराब है।

समाज में कई संकीर्ण सोच वाले लोग जन्म से पहले बेटियों को मार देते हैं, फिर कई अंधविश्वास बेटियों को जिंदा जला देते हैं या लड़कियों को कंटीली झाड़ियों में फेंक दिया जाता है। वहीं, अगर पिछले कुछ सालों के आंकड़ों पर गौर करें, तो कन्या भ्रूण हत्याओं की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है, जबकि सरकार द्वारा इस अपराध को रोकने के लिए कई नियम-कानून पारित किए गए हैं।

यूनिसेफ द्वारा 2012 में बेटियों के लिंगानुपात पर एक रिपोर्ट प्रस्तुत की गई थी जिसमें भारत 195 देशों में 41 वें स्थान पर था। इस वजह से लोगों को जागरूक करने के लिए बेटी बचाओ, बेटी पढाओ योजना शुरू की गई थी।

आपको बता दें कि हमारे भारत में कई राज्य हैं, जहाँ बेटियों की संख्या बहुत कम है, कई ग्रामीण इलाकों में आज भी बेटियाँ केवल रसोई तक ही सीमित हैं, उन्हें चार दीवारों में कैद करके रखा जाता है और ‘बाहर निकलना की अनुमति नहीं है इसलिए, इस बारे में जागरूकता फैलाने के इरादे से, मोदी सरकार ने बेटी बचाओ, बेटी पढाओ अभियान शुरू किया। क्योंकि अगर समाज इसके बारे में नहीं जानता है, तो वह दिन दूर नहीं जब समाज में बेटियों की संख्या कम और कम होती जाएगी।

वर्तमान में, समाज में बेटी बचाओ, बेटी पढाओ योजना के माध्यम से भी कई बदलाव देखे गए हैं। देश के ग्रामीण क्षेत्रों के लोग भी अपनी बेटियों को शिक्षित करने के लिए आगे बढ़ रहे हैं और समाज में भी बेटियों के प्रति सकारात्मक सोच विकसित हो रही है। इसके साथ, लड़कियों के जीवन स्तर में भी काफी हद तक सुधार हुआ है।

Beti Bachao Beti Padhao Ke Upar Nibandh

“जहां महिलाओं का सम्मान किया जाता है, भगवान वहीं रहते हैं। ” लेकिन वर्तमान में, यह विपरीत दिशा में हो रहा है। माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 22 जनवरी, 2015 को हरियाणा के पानीपत में “बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान” नामक बेटियों को समर्पित एक अभियान शुरू किया।
हरियाणा में लिंगानुपात की 2011 की जनगणना के अनुसार, 1000 लड़कों पर 879 लड़कियाँ हैं, जो बेटियों की दयनीय स्थिति को दर्शाती है। यह अभियान हरियाणा राज्य से शुरू किया गया था।
हमारे देश में पुरुषों की तुलना में महिलाओं की संख्या कम हो रही है। 0-6 वर्ष की आयु के बीच, 1961 से 1000 लड़कों के राशन में लड़कियों की संख्या लगातार घट रही है। लड़कियों की संख्या वर्ष 1991 है और 2001 में यह घटकर 927 हो गई और 2011 में यह 918 हो गई।
यह अभियान कम लिंगानुपात वाले 100 जिलों में शुरू किया गया है। इस अभियान के मुख्य उद्देश्यों में कन्या भ्रूण हत्या का उन्मूलन, बालिका साक्षरता का स्तर बढ़ाना, लैंगिक भेदभाव और जागरूकता अभियान के पूर्वाग्रह पर अंकुश लगाना, बालिका पोषण और स्वास्थ्य स्तर में सुधार, लड़कियों को आगे बढ़ने के अवसर प्रदान करना और एक सुरक्षित वातावरण प्रदान करना शामिल है आदि।
अगर देश की बेटियां सुरक्षित और शिक्षित नहीं होंगी, तो देश और समाज की हालत नहीं बदलेगी। यह सिर्फ एक सरकारी योजना नहीं है बल्कि देश के प्रत्येक नागरिक की सामूहिक जिम्मेदारी है। यदि हम आज सतर्क नहीं हुए तो हम न केवल अपनी पीढ़ी के लिए, बल्कि आने वाली पीढ़ी के लिए भी भयानक संकट को आमंत्रित करेंगे।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ बारे में निबंध।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बेटी बचाओ बेटी पढाओ नामक लड़कियों के लिए एक योजना का उद्घाटन किया है। यह योजना पूरे भारत में बालिकाओं को बचाने और बालिकाओं को शिक्षित करने पर जोर देती है। कार्यक्रम 22 जनवरी, 2015 को पानीपत में शुरू किया गया था। 
यह योजना पहले विशेष रूप से हरियाणा में शुरू की गई थी क्योंकि इस राज्य में पूरे देश में बहुत कम महिला लिंग अनुपात 775/1000 है। इसे देश भर के सौ जिलों में प्रभावी रूप से लागू किया गया है।
निम्नलिखित मंत्रालयों की पहल है:
  • महिला बाल विकास
  • स्वास्थ्य और परिवार कल्याण
  • मानव संसाधन विकास

बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना का उद्देश्य।

बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना का उद्देश्य बालिका लिंगानुपात में गिरावट को रोकना है। इसलिए, यह देश में महिलाओं की स्थिति में सुधार के लिए महिला सशक्तिकरण को प्रोत्साहित करेगा। ‘बेटी बचाओ बेटी पढाओ’ भारत सरकार की एक सहयोगात्मक पहल है।
महिला और बाल विकास मंत्रालय, मानव संसाधन विकास मंत्रालय और स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने इस योजना को शुरू किया। इसमें सभी भारतीय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश शामिल हैं।

योजना के तीन प्राथमिक उद्देश्य हैं।

  • कन्या भ्रूण हत्या को रोकें।
  • नई योजनाएं विकसित करें और यह सुनिश्चित करने के लिए सहयोग करें कि प्रत्येक बालिका सुरक्षित और सुरक्षित है।
  • सुनिश्चित करें कि हर बालिका को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मिले।

बेटी बचाओ बेटी पढाओ को लागू करने में कठिनाइयाँ।

  • बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना को गति प्राप्त करने में कठिनाई हो रही है। यह निम्नलिखित तथ्यों के कारण है।
  • कन्या भ्रूण हत्या, सती प्रथा, बाल विवाह और घरेलू शोषण जैसी सामाजिक गालियां और रूढ़िवादी संस्कार इस योजना के उचित निष्पादन में बाधा डालते हैं।
  • लोगों के बीच जागरूकता फैलाने वाले कई अभियानों के अलावा लोगों की मानसिकता रूढ़िवादी है।
  • योजना के उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए योजना को नागरिक निकाय के समर्थन की आवश्यकता है।
  • दहेज प्रथा बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के सफल कार्यान्वयन और प्रभाव में मुख्य बाधा है।

बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना का प्रभाव।

यह लाभ देखना महत्वपूर्ण है कि ‘बेटी बचाओ, बेटी पढाओ’ भारत का सबसे उच्च प्रोफ़ाइल अभियान है। यह देश में बालिकाओं को सशक्त बनाना है।
कुछ प्रमुख प्रभाव है:
  • संतुलन सेक्स अनुपात
  • बालिका अधिकारों को ध्यान में लाना
  • शिक्षा प्राप्त करने के लिए बालिकाओं की पहुंच

निष्कर्ष: बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना भारत सरकार द्वारा भारत में बालिकाओं से संबंधित मुद्दों को दूर करने के लिए एक पहल है। इस योजना के तहत लोगों में जागरूकता का स्तर बढ़ रहा है। इस योजना की सफलता से देश की आर्थिक वृद्धि में जबरदस्त इजाफा होगा।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध।

21 वीं सदी में, जहाँ आज हमारा देश आर्थिक और तकनीकी रूप से विकसित हो रहा है और लगातार नई ऊँचाइयों को छू रहा है, वहीं दूसरी ओर, देश में लड़कियों का लिंगानुपात लगातार घट रहा है और बेटियों पर बलात्कार, सामूहिक बलात्कार जैसे जघन्य अपराध बढ़ रहे हैं। आज भी स्थिति यह है कि लड़कियां असहज और असुरक्षित महसूस करने लगी हैं। इसे गंभीरता से लेते हुए, मोदी सरकार ने 22 जनवरी, 2015 को भारत में बेटी बचाओ, बेटी पढाओ योजना शुरू की।
कन्या भ्रूण हत्या को सीमित करने के मुख्य उद्देश्य के साथ, समाज में बेटियों की स्थिति में सुधार करना और उन्हें समाज में शिक्षित करना। साथ ही बेटियों को उचित दर्जा दिया जाना, बेटी और बेटे के बीच समाज में असमानता को दूर करना, लड़कियों की सुरक्षा सुनिश्चित करना, बेटियों को आत्मविश्वासी और आत्म निर्भर बनाना, उनके जीवन की गुणवत्ता में सुधार करना इसी उद्देश्यो के साथ ये योजना आयी।
इस योजना के तहत, बेटियों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के अलावा, विभिन्न सुविधाएं भी प्रदान की गई हैं ताकि बेटियां समाज में सशक्त बन सकें, उन्हें पुरुषों के समान दर्जा मिल सके और वे आत्मनिर्भर बन सकें। बेटी बचाओ, बेटी पढाओ अभियान के तहत, बेटियों को उनकी शिक्षा पूरी होने तक वित्तीय सहायता प्रदान की जा रही है, इसके अलावा बेटियों की शादियों के लिए वित्तीय सहायता भी प्रदान की जा रही है।
इसके अलावा बेटियों को छात्रवृत्ति देने का भी प्रावधान किया गया है। बेटी बचाओ, बेटी पढाओ योजना देश के बड़े शहरों से लेकर छोटे गाँवों, कस्बों और तहसीलों और पंचायत स्तरों तक शुरू की गई है, ताकि अधिक से अधिक लोग बेटियों की सुरक्षा और शिक्षा के प्रति जागरूक हो सकें।
इस योजना की खास बात यह है कि राज्य सरकारें भी अपना योगदान देकर इस राज्य को अपना योगदान दे रही हैं, ताकि बेटियों के प्रति समाज की संकीर्ण सोच को बदला जा सके। वहीं, 2011 में आई एक रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले कुछ सालों में 0 से 6 साल के बीच की लड़कियों की संख्या में लगातार गिरावट दर्ज की गई है।
आपको बता दें कि वर्ष 2001 में प्रति 1 हजार लड़कों पर लड़कियों की संख्या 927 थी जबकि 2011 में प्रति हजार लड़कों पर केवल 919 लड़कियां थीं। वहीं, लड़कियों के लिंगानुपात के मामले में भारत का हरियाणा जिला बहुत पीछे था, यहाँ केवल 1 हजार लड़कों में से 775 लड़कियाँ इसका मुख्य कारण कन्या भ्रूण हत्या, बढ़ती जनसंख्या, दहेज प्रथा, शिक्षा की कमी और सामाजिक असुरक्षा है।
मोदी सरकार ने इस योजना की शुरुआत 2015 में हरियाणा जिले से की थी। आपको बता दें कि शुरुआत में इस योजना को देश के 100 जिलों में प्रभावी रूप से लागू किया गया था, फिर धीरे-धीरे इस योजना को सभी राज्यों में लागू किया गया, भारत के कई पिछड़े राज्यों में, जहाँ महिलाओं के लिए स्थिति बहुत खराब थी, उन जिलों में मोदी सरकार की योजना के बाद बहुत सुधार हुआ।
कई राज्यों में लोग बेटियों को शिक्षित करने के लिए भी आगे आए हैं। इस अभियान ने समाज में बालिकाओं को बचाने और उनकी शिक्षा के बारे में काफी हद तक जागरूकता फैलाई। समाज में बेटी-बेटे के प्रति संघर्ष की भावना का परिणाम है कि कन्या भ्रूण हत्या, बलात्कार जैसे जघन्य अपराध बढ़ रहे हैं। इसलिए लोग बेटी के जन्म को उन पर बोझ समझते हैं, कई लोग जन्म से पहले ही उन्हें मार डालते हैं, कई लोग बेटियों को कंटीली झाड़ियों में फेंक देते हैं जब वे पैदा होते हैं या अंधविश्वास के कारण उन्हें जिंदा जला देते हैं। वर्षों से बेटियों की संख्या में काफी गिरावट आई है, इस वजह से भारत में मोदी सरकार ने बेटी बचाओ, बेटी पढाओ अभियान शुरू किया।

बेटी बचाओ, बेटी पढाओ योजना क्या है?

बेटियों की सुरक्षा और शिक्षा के लिए देश में लगातार घट रही बेटियों के लिंगानुपात को दूर करने के लिए, 22 जनवरी 2015 को मोदी सरकार ने हरियाणा के पानीपत में इस योजना की शुरुआत की। यह योजना शुरू में देश के 100 जिलों में शुरू की गई थी, बाद में इसे देश के सभी राज्यों में शुरू किया गया था।
शुरुआत में, यह योजना उन जिलों में शुरू की गई थी जहाँ बेटियों की संख्या बहुत कम थी और उनकी स्थिति बहुत खराब थी। ताकि बेटियों की स्थिति में सुधार हो सके और बेटियों के प्रति लोगों की संकीर्ण सोच को बदला जा सके। विश्व बालिका दिवस के अवसर पर देश की बालिकाओं को बचाने और उन्हें समाज में उचित दर्जा दिलाने का संकल्प लिया गया।

बेटी बचाओ, बेटी पढाओ योजना का उद्देश्य।

समाज में बेटियों की स्थिति में सुधार लाने के लिए, बेटियों के घटते लिंगानुपात को दूर करने और उन्हें शिक्षित करने और उन्हें समाज में उचित दर्जा दिलाने के लिए, इस योजना को देश की बेटियों के लिए एक बेहतर भविष्य बनाने के लिए शुरू किया गया था।
हम आपको इस योजना के सभी उद्देश्यों के बारे में बता रहे हैं जो इस प्रकार है –
  • कन्या भ्रूण हत्या पर नियंत्रण।
  • समाज में बेटियों की स्थिति में सुधार।
  • समाज में बेटी और बेटे के बीच व्याप्त असमानता को दूर करना।
  • बेटियों की सुरक्षा सुनिश्चित करना।
  • बेटियों की शिक्षा को बढ़ावा देना।
  • लड़कियों को आत्मनिर्भर बनाना।
  • बेटियों के जीवन स्तर में सुधार।

बेटी पढाओ योजना क्यों शुरू की गई?

बेटियों के घटते लिंगानुपात के कारण, मोदी सरकार ने इस योजना को शुरू किया क्योंकि बेटियों की संख्या में लगातार कमी एक बड़ी चिंता का विषय है। दुनिया के लिए भी एक बड़ा संकट गहराया जा सकता है, जिस तरह से लोग बेटियों को पैदा होने से पहले ही मार रहे हैं। उस वजह से बेटी बचाओ, बेटी पढाओ योजना शुरू की गई, ताकि अधिक से अधिक लोग बालिकाओं को बचाने, बेटियों के महत्व और बेटियों की सुरक्षा और शिक्षा के बारे में जागरूक हो सकें।
इसके साथ ही, समाज में बेटी और बेटे के बीच समानता की भावना पैदा करने के लिए, जिला स्तर और पंचायत स्तर पर जागरूकता अभियान चलाए जा रहे हैं, जिसमें लोग बड़ी संख्या में भाग ले रहे हैं।

बेटी बचाओ, बेटी पढाओ योजना के लाभ।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बेटी बचाओ, बेटी पढाओ अभियान के माध्यम से बेटियों को सशक्त बनाने का प्रयास किया है, जबकि बेटियों के जीवन स्तर में काफी हद तक सुधार हुआ है।
  • बेटियां हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं, चाहे वह राजनीति के क्षेत्र में हो, चिकित्सा क्षेत्र हो, इंजीनियर क्षेत्र हो या कोई अन्य क्षेत्र।
  • इस योजना के तहत, देश की कई बेटियों की शादी में आर्थिक मदद की जा रही है।
  • यह कन्या भ्रूण हत्या को रोकने में मदद कर रहा है।
  • लड़कियां आत्मनिर्भर बन रही हैं।

क्यों बेटी बचाओ बेटी पढाओ महत्वपूर्ण है?

यह कार्यक्रम महत्वपूर्ण है क्योंकि इसका उद्देश्य लड़कियों की शिक्षा को बढ़ावा देना और लड़कियों के लिए कल्याणकारी सेवाओं की दक्षता में सुधार करना है।

बेटी बचाओ बेटी पढाओ परियोजना क्यों शुरू की गई?

भारतीय समाज में बालिका के साथ लैंगिक समानता और भेदभाव को दूर करने के लिए बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना शुरू की।

बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के उद्देश्य क्या हैं?

इस योजना का उद्देश्य सेक्स-चयनात्मक उन्मूलन को रोकना है, साथ ही बालिकाओं के अस्तित्व और सुरक्षा को सुनिश्चित करना है।
निष्कर्ष: मोदी सरकार द्वारा शुरू की गई बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना महिलाओं के खिलाफ जघन्य अपराधों को रोकने के लिए एक सराहनीय पहल है।
लोग इस योजना द्वारा बेटियों की सुरक्षा और शिक्षा के लिए जागरूक हो रहे हैं। दूसरी ओर, यह देश में शिक्षा के स्तर में भी सुधार करेगा और एक सभ्य और शिक्षित समाज के निर्माण में मदद करेगा। इसके साथ ही यह देश के आर्थिक विकास में भी मदद करेगा। बेटी बचाओ, बेटी पढाओ योजना के तहत बेटियों को उनके अधिकारों की रक्षा करने में मदद मिल रही है, अधिक से अधिक महिलाएं आत्मनिर्भरता की भावना विकसित कर रही हैं।
बेटी बचाओ, बेटी पढाओ योजना के बारे में खास बात यह है कि सरकार ने बेटियों की शिक्षा के साथ-साथ उनकी शादी के लिए भी आर्थिक रूप से सहयोग किया है, जिससे देश की कई बेटियों का जीवन बेहतर हो रहा है और उनका बेहतर भविष्य भी बन रहा है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ निष्कर्ष।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना आज के समय की तत्काल आवश्यकता थी क्योंकि महिलाये देश की आधी आबादी को कवर करती हैं इसलिए वे देश की आधी शक्ति हैं। इसलिए उन्हें भारत के विकास में योगदान करने के लिए समान अधिकारों, सुविधाओं और अवसरों की आवश्यकता है।
इस अभियान का समर्थन करने के लिए, भारत सरकार ने सुकन्या समृद्धि योजना के रूप में एक और कार्यक्रम शुरू किया है। इस योजना के अनुसार, माता-पिता को मासिक आधार पर कुछ धन बैंक में जमा करना होता है, जिसके लिए उन्हें भविष्य में अपनी बालिका की छोटी उम्र में लाभ मिलेगा चाहे वह शिक्षा के लिए हो या विवाह के लिए।
बेटी बचाओ, बेटी पढाओ योजना द्वारा बालिकाओं के प्रति लोगों के व्यवहार संबंधी रवैये में महत्वपूर्ण बदलाव आया है। हालाँकि, मात्रात्मक सुधार इतना आकर्षक नहीं रहा है लेकिन अगर भारतीय समाज बेटियो को जीने के लिए बेहतर माहौल प्रदान करने के प्रति समान दृढ़ता बनाए रखता है, तो यह निश्चित रूप से संतुलित लिंग वृद्धि का देश बन जाएगा।
तो दोस्तों, ये थी हमारी कोशिश Beti Bachao, Beti Padhao Abhiyan (बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान) से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण जानकारियाँ आप तक पहुंचाने की। आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर ज़रूर करें और उन्हें इस योजना अथवा स्कीम से लाभान्वित करें।
उम्मीद है कि इस पोस्ट के माध्यम से शेयर किए गए जानकारियाँ आपको अच्छे लगे होंगे। हमारी पूरी कोशिश है इस पोस्ट के द्वारा आप बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ जैसे अहम योजना के तथ्यों के बारे में जान पाए तथा साथ इस पोस्ट में लिखे कविताएं , निबंध तथा स्लोगन द्वारा दूसरों को जागरूक भी कर पाए। आपको हमारा पोस्ट कैसा लगा हमें कॉमेंट बॉक्स में ज़रुर बताए साथ ही आप अपने सुझाव भी हमारे साथ शेयर कर सकते हैं।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ?

Average rating 4.3 / 5. Vote count: 39

अब तक कोई रेटिंग नहीं! इस लेख को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

हिंदी सहायता एप्प को डाउनलोड करें।

Contributor
क्या आपको ऐना राय चौधरी के आर्टिकल पसंद आयें? अभी फॉलो करें सोशल मीडिया पर!
कोई कमेंट नहीं।
अभी कमेंट करें। Cancel
Comments to: बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ पर निबंध, स्लोगन और कविता, हिंदी में।

Your email address will not be published. Required fields are marked *