विज्ञापन
विज्ञापन
in

पेड़ बचाओ पर निबंध – Save Trees Essay in Hindi

पेड़ बचाओ पर अनेक निबंध, स्लोगन और भाषण। जानिये, क्यों है पेड़ बचाना ज़रूरी, क्या है इसके तरीके और कैसे पेड़ों के साथ हम पर्यावरण को भी बचा सकते है।
विज्ञापन
विज्ञापन

आज हम इस पोस्ट में आपको पेड़ बचाओ के बारे में बताएंगे हम बचनपन से यही सुनते आ रहे है कि Ped Lagao Paryavaran Bachao, vriksh lagao paryavaran bachao, पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ। पेड़ जीवन संचलन में बहुत ही अहम भूमिका निभाते है। हमें जीने के लिए oxygen की जरूरत पड़ती है, और वह oxygen हमें पेड़ों के द्वारा ही मिलती है। अगर हम जिन्दा है तो सिर्फ पेड़ों की वजह से ही क्योंकि पेड़ ही एक मात्र माध्यम जिसके द्वारा हमें oxygen मिलती है। पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ, वृक्ष लगाओ पर्यावरण बचाओ, पेड़ पौधे लगाओ पर्यावरण बचाओ इस तरह की बाते हम अक्सर सुनते रहते है।

विज्ञापन
विज्ञापन

आज हमें जिस प्राकृतिक के अनमोल संसाधन को हमें बचाने की सक्त जरूरत है, परन्तु हम उसे ही बर्बाद करते जा रहे है, या उसे ख़त्म कर रहे है। हमारा आज का निबंध भी इसी विषय पर है – पेड़ बचाओ SAVE TREES। साथ ही, हमने पेड़ लगाओ पेड़ बचाओ निबंध हिंदी, वृक्ष लगाओ पर्यावरण बचाओ पर निबंध है। Ped lagao paryavaran bachao essay in hindi.

पेड़ बचाओ

तो दोस्तों, अगर आप पेड़ बचाओ या SAVE TREES के बारे में जानना चाहते है, पेड़ के महत्व के बारे में जानना चाहते है, या पेड़ बचाओ आंदोलनों के बारे में जानना चाहते है, तो आप बिल्कुल भी परेशान मत हो । ये सारी जानकारी हम आपको देंगें। तो अगर आप पेड़ और पेड़ को बचाने के लिए ज़रूरी जानकारी से रूबरू होना चाहते है, तो इस लेख को अंत तक ज़रूर पढ़िए।

पेड़ बचाओ निबंध हिंदी में।

पेड़, हमें भगवान और पृथ्वी के द्वारा दिया गया, एक अनमोल उपहार है। जिसे हमें संजोकर रखने की ज़रूरत है। पेड़ है तो हम यही हमारा जीवन जीने का मंत्र  होना चाहिए। हम मनुष्यों के साथ ही कई और जानवर भी जो Oxygen के कारण ही जीवित है, वो हमें पेड़ों से ही मिलती है। हम जो ऑक्सीजन लेते उसके बदले में हम हमारे शरीर से जो गैस छोडते है, उसे हम Carbon Dioxide कहते है। यह गैस हमारे पर्यावरण को प्रदूषित कर सकती है, परन्तु पेड़ उसे अपने अन्दर ले लेता है और हमें और इस प्रकृति दोनों को बचाता है।

इस तरह पेड़ Oxygen के उत्पादन का और साथ ही Carbon Dioxide के उपभोग का एक महत्वपूर्ण स्त्रोत है। अगर इस दुनिया में पेड़ ना होते तो, पृथ्वी पर मनुष्यों या जानवरों का जीवन जीना मुश्किल होता। क्योंकि कि पेड़ के कारण ही हमें ऑक्सीजन मिलती है। पेड़ बचाओ, पेड़ बचाओ आंदोलन यह सबके बारे हमे स्कूलों बताया जाता है।

हमें खुद को जीवित रखने के लिए पेड़ों को सुरक्षित रखना पड़ेगा। औद्योगीकरण की वजह से कितने पेड़ों को काटा जा रहा है, जंगलो को साफ़ कर, वहां इमारतें बनायीं जा रही है। ये सब हमें रोकना होगा। इसी तरह अगर पेड़ काटकर इमारते बनती गयी, तो पृथ्वी पर कोई पेड़ ही नहीं बचेगा।

विज्ञापन
विज्ञापन

वृक्ष संरक्षण पर निबंध

मनुष्य कुछ देर तक भूखा प्यासा तो रह सकता परन्तु ऑक्सीजन के बिना नही रह सकता है। पेड़ हमारे Ecosystem का एक बहुत ही महत्वपूर्ण अंग है। पेड़ हमारे पर्यावरण में संतुलन बनाये रखने का काम करता है, और साथ ही हमें औषधि भी प्रदान करता है। पेड़ बचाओ केवल एक नारा नहीं है, ये हम सब की एक अहम ज़िम्मेदारी है। जिसे धरती पर रहने वाले हरेक इंसान को समझना और मानना चाहिये। मानव, जानवर सहित, कई जीव जंतु अपने भोजन और आश्रय के लिए पेड़ों पर निर्भर करते है। ये पेड़ ही है, जो इस पर्यावरण को नियंत्रित करता है।

पेड़ हमें Oxygen देने के अलावा भी कई महत्व कार्य करता है, जिसे हम अनदेखा कर देते है। पर हमें पेड़ का महत्व जानने की ज़रूरत है। पेड़ के कुछ महत्व इस प्रकार है:

  • पेड़ों से हमें कई प्रकार की लकड़ीयाँ के प्राप्त होती है, जो कि फर्नीचर बनाने के काम आती है।
  • पेड़ कई तरह की प्रदूषणों से हमें और हमारे पर्यावरण दोनों को बचाता है।
  • पेड़ हमारे आस-पास की हवा को, उसे साफ़ करने में मदद करता है।
  • पेड़ की जड़े मिटटी के कटाव को रोकती है।
  • पेड़ बाढ़ होने से भी रोकने में सहायक है।
  • हमें पेड़ से कई प्रकार की महत्वपूर्ण दवाइयाँ भी मिलती  है।
  • पेड़ से हमें कई खाने के पदार्थ भी उपलब्ध होते है, जैसे फल, कॉफ़ी, चाय, तेल, और कई प्रकार के बादाम भी।

तो अब आप समझ गए होंगे की पेड़ हमारे कितने ही ज़रूरतमंद चीज़ो का एक महत्वपूर्ण स्त्रोत है। अब जब आप ये जान गए है कि ये महत्वपूर्ण है, तो अब ये भी जान लीजिये की इसे बचाना कैसे है। पेड़ कैसे बचाये, ये जानने के लिए हमारा अगला निबंध ज़रूर पढ़ें।

पेड़ कैसे बचाये 10 Points हिंदी में?

How to save trees 10 points in hindi इसमें हम आपको कुछ बहुत ही अहम जानकारी देंगे.

पेड़ बचाओ

आज की आधुनिक दुनिया में पेड़ों को बचाना बहुत ही ज़रुरी है, जहाँ शहरीकरण, औद्योगिकीकरण और ग्लोबल वार्मिंग बहुत तेजी से बढ़ रहा है। हम इस तरह से पेड़ो की कटाई नही कर सकते है। क्योंकि इससे हमारा ही नुकसान है, अगर पेड़ ही नही बचेंगे तो जिएंगे कैसे।

इसलिए इस बात को समझते हुए, हमें कम से कम पेड़ काटना चाहिए और इसे बचाने के लिए इसका बहुत सोच समझकर उपयोग करना चाहिए। पेड़ों को कैसे बचाये? ये एक बहुत ही महत्वपूर्ण सवाल है, जिसका जवाब बहुत आसान है। पेड़ों को बचाने के कुछ आसान तरीके इस प्रकार है:

  • ज़्यादा पेड़ लगाओ – हम जितना पेड़ लगाएंगे, उतना ही हम हमारे पर्यावरण को सम्रद्ध बनाएँगे।
  • जैविक खादों का प्रयोग करें – रसायनिक कीटनाशकों व खादों से पेड़ों को बहुत हानि पहुँचती है। इसलिए हमें केवल जैविक खादों का उपयोग करना चाहिए। इससे मिटटी को भी गुणवता बरकार रहेगी और पेड़ों पर जो फल आएँगे वे भी गुणवता वाले होंगे।
  • पेड़ों की कटाई को रोकें – आजकल औद्योगीकरण, आवासीकरण एवं रोड बनाने के कारण पेड़ों की बड़ी संख्या में कटाई की जा रही है। इस कारण पर्यावरण को बहुत हानि पहुंच रही है और पेड़ दिनों दिन ख़त्म होते जा रहे है। पर्यावरण के लिए इसे रोकना बहुत अनिवार्य है।
  • मृदा प्रदूषण कम करें – हमें पेड़ों को बचाने के लिए सबसे पहले मिटटी को बचाना पड़ेगा। पेड़ अपना पोषण मिटटी से ही लेते है। अगर हम मिटटी को प्रदूषित कर देंगे, तो पेड़ को ही नुक्सान होगा।
  • कागज का संरक्षण करें, पेड़ों का संरक्षण करें – हम अपने रोज की ज़िन्दगी में कागज का इस्तेमाल बहुत ज्यादा करते है, और कागज पेड़ों के द्वारा ही बनता है। कागज बचाने के लिए हमें इसका समझदारी से इस्तेमाल करना चाहिए, इसे पुन:उपयोग करना चाहिए, कागज़ के दोनों तरफ लिखना चाहिए। ये कुछ छोटी छोटी बातें है, जिसका हमें ध्यान रखना पड़ेगा, जिससे हम पेड़ों को बचा सकें।
  • पेपर रुमाल और पेपर प्लेट्स का उपयोग न करें – जब भी हम बाहर जाए तो हम कागज़ की प्लेट की जगह स्टील की प्लेट का इस्तेमाल करे। पेपर रुमाल की जगह पर कपड़े के रुमाल इस्तेमाल करे।
  • दूसरों को पर्यावरण के महत्व के बारे में सिखाएं – हमें लोगों को पेड़ों के महत्व के बारे में बताना चाहिए कि वे किस तरह से हमारे जीवन में उपयोगी है। पेड़ो के द्वारा हमें oxgyen मिलती और हमें फल भी मिलते है। जो कि हमारे जीवन के लिए बहुत उपयोगी है।
  • लकड़ी का प्रयोग कम करे – हम लकड़ी का प्रयोग बहुत से कामों में करते है। इसे हमें कम करना होगा। जब कभी हम कोई फर्नीचर खरीदनें जाए, तो लकड़ी का कोई विकल्प ही ख़रीदे। इस तरह से हम कई पेड़ों और जंगलो को कटने से बचा सकते है।
  • Recycled Paper का जितना संभव इस्तेमाल – हमें Recycled Paper का इस्तेमाल करना चाहिए। इससे कई हज़ारो पेड़ों को काटने से बचाया जा सकता है। ये पर्यावरण के लिए भी सुरक्षित है। इससे Methane Gas और CO₂ का उत्सर्जन 20% तक कम हो जाता है।
  • Eco-Friendly चीज़ो का इस्तेमाल करें – हमें कागज़ से बनी हुई चीजों का उपयोग कम से कम करना चाहिए। इसके बदले में हमें इको फ्रेंडली चीजों का उपयोग ज्यादा करना चाहिए।

पेड़ों को कैसे बचाये 10 Points? या How To Save Trees 10 Points? इन सवालों का जवाब आपको यहाँ मिल गया होगा। Save trees essay in hindi में आपने यह जाना कि पेड़ों का कितना महत्व होता है।

पेड़ लगाओ पेड़ बचाओ पृथ्वी बचाओ निबंध।

Ped lagao ped bachao पेड़ हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग है। ये न सिर्फ हमारे जीवन जीने का माध्यम है, बल्कि हमारे भोजन का भी माध्यम है। इसके और भी कई अनगिनत फ़ायदे हैं। आज की तारीख में जंगलो को काटकर के उस जगह पर बड़े-बड़े कारखाने का निर्माण किया जा रहा है। पेड़ों को काटकर उन लकड़ियों से घरों का निर्माण हो रहा है, इमारतों का निर्माण हो रहा है।

पेड़ काटना ये सरा-सर गलत है और हमारे पर्यावरण के भी विपरीत है। ऐसा होने से हम बहुत मुश्किल में पड़ जायेंगे। हम अपने आने वाली पीड़ी के भविष्य को खतरे में डाल सकते है। इसलिए हमें पेड़ों को नष्ट नही करना है, बल्कि उसे बचाने के बारे में सोचना है। यदि हम अपने किसी काम के लिए पेड़ों को काट रहे है, तो उसके बदले हमें दो और पेड़ लगाना भी चाहिए, ताकि पर्यावरण का संतुलन बना रहे। अगर हर व्यक्ति 1-1 पेड़ भी लगता है, तो लाखो पेड़ों का रोपण हो जायेगा। इसलिए हमें पेड़ लगाना चाहिए, ताकि हम उसे अपने लिए ही इस्तेमाल कर सके।

ऐसा करने से हम पेड़ बचा भी लेंगे और उसका उपयोग भी कर सकेंगे। वो कहते है ना – “ Save Trees Save Life  ”.

पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ जीवन बचाओ निबंध।

Ped bachao पेड़ हमारे पृथ्वी की अमूल्य सम्पदा है। पेड़ ही के कारण धरती पर हरियाली रहती है। पेड़ से हमें कई चीजे प्राप्त होती है,जैसे कि हवा हो, भोजन हो, दवा हो पेड़ हमें सब कुछ देता है। पेड़ सिर्फ देना जानता है और बदले में हम कुछ भी नही देते है। कैसे अपने फायदे के लिए हमने हज़ारो लाखो पेड़ों को काट दिया और उसकी जगह मकानों को खड़ा कर दिया।

हम कैसे भूल जाते है कि अगर पेड़ नहीं होगा, तो हम भी नहीं होंगे। पेड़ से ही तो पर्यावरण है और पर्यावरण से ही तो जीवन है। Global Warming की वजह से आज हमारे पृथ्वी को कितनी क्षति पहुंच रही है। बर्फ पिघलती जा रही है और इस वजह से समुद्र के स्तर में काफ़ी वृद्धि हुई है। जिस जैव विविधता पर हमें नाज़ है, वो धीरे धीरे बर्बादी की ओर बढ़ रहा है।

पेड़ों को काटने से पृथ्वी के जीवन चक्र में बहुत सारे बदलाव देखने को मिल रहे है, जो कि हमारी धरती के लिए अच्छे संकेत नही है। पेड़ काटने से कितने ही छोटे छोटे जीव-जंतुओं मरते जा रहे है। कितने ही जानवर भोजन ना मिल पाने के कारण भूख से मर रहे है, और इसका कारण है – पेड़ों का कटना। इन जानवरो के मरने से Food Chain में भी काफी बदलाव आ रहे है, जो मानव के लिए या प्रकृति के लिए सही नहीं है।

तो इसलिए, हमें पेड़ों को बचाने की ज़रूरत है, और ऐसा हम और अधिक से अधिक पेड़ लगा कर कर सकते है। हम जितना पेड़ लगाएंगे, उतना ही पर्यावरण को लाभ होगा।

ये कथन यहाँ बिल्कुल ठीक बैठता है: “पेड़ लगाओ, पर्यावरण बचाओ, जीवन बचाओ।”

पेड़ बचाओ आंदोलन।

Ped bachao ped lagao आज के समय में हम इसके के महत्व को भूलते जा रहे है, क्योंकि हमारी ज़रूरतें बढ़ती जा रही है। हमारे पुराणों में लिखा है कि पेड़ देवतुल्य होते है, इनकी रक्षा करना हमारा कर्त्तव्य होता है।

आज से कई सालों पहले, पेड़ को बचाने के लिए कई ग्रामवासी सामने आये थे और अपनी जान तक दे कर, पेड़ों को कटने से बचाया था। तब से ले कर अभी तक, कई पेड़ बचाओ आंदोलन हो चुके है, पेड़ों की रक्षा करने के उद्देश्य से।

भारत के कुछ महत्वपूर्ण पेड़ बचाओ आंदोलन इस प्रकार है:

बिश्नोई आंदोलन: ये आंदोलन साल 1730 में राजस्थान में हुआ था। इस आंदोलन का नेतृत्व अमृता देवी ने किया था, जिसमे करीब 363 बिश्नोई ग्रामवासियों ने अपने वनों की रक्षा के लिए अपने प्राणो की आहुति दे दी।

अमृता देवी जो की बिश्नोई गांव की रहने वाली थी, अपने आँखों के सामने अपने विश्वास और गाँव के पवित्र पेड़ों का विनाश होते हुए नहीं देख सकीं और जा कर पेड़ों को गले लगा लिया और सभी को ये करने के लिए प्रेरित किया।

जब सैनिको ने पेड़ों को काटने के लिए कुल्हाड़ी चलानी चाही, तब भी इन लोगों ने पेड़ों को नहीं छोड़ा और अपनी जान गवा दी।

चिपको आंदोलन: ये आंदोलन साल 1973 में उत्तराखंड में हुआ था। इस आंदोलन का नेतृत्व सुंदरलाल बहुगुणा ने किया था, जिसका उद्देश्य था पेड़ों की सुरक्षा और संरक्षण करना।

ये आंदोलन मुख्य रूप से इसलिए याद किया जाता है क्योंकि इस आंदोलन में महिलाओं की भूमिका बहुत ही महत्वपूर्ण थी। इस आंदोलन में महिलाओं ने पेड़ के चारो ओर एक पवित्र धागा बांध दिया और उसे गले से लगा लिया।

इस आंदोलन का मुख्य कारण ये था कि औद्योगिक कारणों से, पेड़ काटने के कारण उस इलाके में बहुत व्यापक बाढ़ आ गयी थी, जिससे ग्रामीणों को बहुत नुक्सान हुआ था।

एक और कारण जिससे ग्रामीण नाराज़ हो गए थे, वो ये थी कि सरकार ग्रामीणों को वनों को ईंधन और चारे के लिए काटने की अनुमति नहीं दे रही थी, वही एक खेल निर्माण कंपनी को इसकी अनुमति बड़े पैमाने पर मिल गयी थी।

इन पेड़ बचाओ आंदोलनों के अलावा भी कई आंदोलन हुए थे, जिसमें पेड़ों को बचाने की पूरी कोशिश की गयी थी, जैसे की – सेव साइलेंट वैली आंदोलन, जंगल बचाओ आंदोलन।

हमें भी इन आंदोलनों से शिक्षा लेनी चाहिए और अपने पेड़ों को बचाने के लिए आगे आना चाहिए।

पेड़ बचाओ स्लोगन हिंदी में।

हमारे पेड़ों का संरक्षण, हमारे भविष्य का संरक्षण।

तभी साँस ले पाओगे, जब पेड़ों को बचाओगे।

पेड़ है प्रकृति के रक्षक, काट के न तुम बनो भक्षक।

धरती माता करे पुकार, कम हो बच्चे पेड़ हो हजार।

मानव की होगी तभी सुरक्षा, वन्य जीवन की जब करोगे रक्षा।

Conclusion:

तो दोस्तों, उम्मीद है आपको पोस्ट पसंद आई होगी, पेड़ बचाओ और आपने इन निबंधों से कुछ सीखा भी ज़रूर होगा। और आप यह भी जान गए होंगे कि ped lagao par nibandh पर कैसे लिखे, save tree essay in hindi का मतलब भी जान गए होंगे। और इसके साथ ही आप पेड लगाओ पर्यावरण बचाओ, वृक्ष लगाओ धरती बचाओ पर निबंध इसका महत्व समझ गए होंगे। अगर आपको हमारा ये लेख पसंद आया, तो इसे अपने दोस्तों के साथ Share ज़रूर कीजिये और अगर आपके पास कोई सवाल हो तो उसे Comment में ज़रूर लिखे।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ?

Average rating 4 / 5. Vote count: 6

अब तक कोई रेटिंग नहीं! इस लेख को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

हिंदी सहायता एप्प को डाउनलोड करें।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा?

आपको क्या जानकारी नहीं मिली हमें ज़रूर बताएं

हम सभी जानकारियां आपको जल्द उपलब्ध कराएँगे

एडिटोरियल टीम

Written by एडिटोरियल टीम

एडिटोरियल टीम, हिंदी सहायता में कुछ व्यक्तियों का एक समूह है, जो विभिन्न विषयो पर लेख लिखते हैं। भारत के लाखों उपयोगकर्ताओं द्वारा भरोसा किया गया।

Email के द्वारा संपर्क करें - [email protected]

One Comment

Leave a Reply

Leave a Reply

Avatar

Your email address will not be published. Required fields are marked *

MS DOS Kya Hai? – जरूर पढ़े DOS System Files in Hindi, Features व कार्य।

cache

Cache Memory Kya Hai? – जानिए Cache Memory In Hindi की पूरी जानकारी!