1. Bussiness
  2. Entrepreneurship

Startup क्या है? कैसे शुरू करें और Funding कहा से लाये? (हिंदी में)

Startup के लिए Step By Step गाइड। ब्लॉग को अंत तक पढ़ें और स्टार्टअप के हर स्टेज से रूबरू हो जाये। Idea, Prototype या Funding, सभी जानकारी यहाँ पाएं।
0
(0)
0
(0)

Startup के लिए Step By Step गाइड। ब्लॉग को अंत तक पढ़ें और स्टार्टअप के हर स्टेज से रूबरू हो जाये। Idea, Prototype या Funding, सभी जानकारी यहाँ पाएं।

आपने बड़ी बड़ी Companies के बारे में सुना होगा लेकिन क्या आप Startup business के बारे में जानते है?

Startup, नाम से ही समझ में आता है की यह किसी चीज़ की शुरुआत की बात है। और जब आप इसे Business के सन्दर्भ में देखते है तो यह Startup Business कहलाता है। आज दुनिया नए-नए Product Innovation में लगी है, हर जगह होड़ मची है Consumers को कुछ यूनिक देने की पर यह Innovation बहुत सारी Research पर आधारित होती है।

सरल भाषा में समझे तो मार्केट में किसी मौजूदा प्रॉब्लम को उठाना और उसके लिए रिसर्च द्वारा Solution लेकर आना जिससे Consumers की ज़िन्दगी आसान होजाए।

कुछ लोग इसमें Success पाते है और कई लोग इसमें Fail हो जाते है। तो अगर आप Startup से जुडी पूरी जानकारी जानना चाहते है तो इसे अंत तक ज़रूर पढ़ें।

Startup क्या है? (Startup Definition)

Startup Company यानि ऐसी Company जो अपने संचालन के Initial स्टेज पर है। अमूमन एक से ज़्यादा लोग मिलकर इसकी नीव रखते है जिन्हे हम Entrepreneur कहते है। यहाँ लोग अपनी अपनी Skills और Specialisation लेकर एक साथ आते है, और किसी Startup Idea पर काम करते है, ताकि Consumers को एक Unique Product या Service दे पाए।

Startup ऐसे Product या Service डेवेलोप करते है जिसमे उन्हें अच्छा मार्केट Potential दिख रहा हो। अब आप यहाँ आपकी पसंदीदा वेबसाइट Hindi Sahayta का उदाहरण ही ले लीजिए जो की Hiigher नाम के Startup का हिस्सा है।

यहाँ हमने जाना की स्टार्टअप क्या है। अगर आप Startup में रूचि रखते है और इससे जुड़े हर पहलु से वाकिफ होना चाहते है तो अपनी कुर्सी की पेटी बाँध लें और आगे पढ़ते जाये।

स्टार्टअप कैसे शुरू करें (8 Steps)

स्टार्टअप शुरू करने के लिए बहुत सारे Dedication की ज़रूरत है, इसमें आपको अपनी पूरी ताकत डालनी पड़ेगी। अगर आप पूरी मेहनत के साथ स्टार्टअप करने का मन बना चुके है तो निचे दिए गए Steps ज़रूर पढ़ें।

Step 1) Problem

लोग प्रोडक्ट नहीं खरीदते, वे किसी प्रॉब्लम का सलूशन खरीदते है। सबसे पहले आपको प्रॉब्लम को पहचानना पड़ेगा और इस प्रॉब्लम के बारे में आपको पर्सनल एक्सपीरियंस से भी आभास हो सकता है।

नीरज जीवनानी जोकि हिंदी सहायता के फाउंडर है, उन्होंने एक दिन Observe किया की उनकी माँ इंटरनेट पर कुछ सर्च कर रही है। माँ ने नेट पर Hinglish में लिखकर सर्च किया तो सर्च रिजल्ट में कुछ नहीं मिला। गूगल की इतनी विशाल डेटा रिपॉजिटरी से एक जवाब तक नहीं आया।
यह बात नीरज को बहुत आश्चर्यजनक लगी और वो इसकी रिसर्च में लग गए। रिसर्च करने पर पता चला की भारत में करोडो लोग इसी तरह अपने सवालों के जवाब इंटरनेट पर ढूंढ़ते है, फिर चाहे वो किसी डॉक्यूमेंट के लिए अप्लाई करना हों या किसी योजना की जानकारी जाननी हो।
यहाँ नीरज ने इस प्रॉब्लम को Identify किया और इसी तरह हिंदी सहायता मंच का निर्माण हुआ।

इसी तरह आप भी अपने पर्सनल एक्सपीरियंस से किसी प्रॉब्लम को Identify कर सकते है और जैसी ही आपको Problem मिले, अपने आप से यह सवाल ज़रूर पूछें:

  • क्या यह प्रॉब्लम ऐसी है जिसका सबको सामना करना पड़ता है?
  • क्या इस प्रॉब्लम का सलूशन लाने पर बहुत लोगो की ज़िन्दगी आसान होगी?
  • ऐसी प्रॉब्लम लोगो को कब और कितनी बार होती है?
  • किस वर्ग के लोगो को यह प्रोबलम होती है?

Step 2) Ideation और Solution

यहाँ आप प्रॉब्लम के सलूशन पर काम करते है और यही सलूशन बनता है आपका Business Idea

जैसे ही आपको सलूशन मिले, आप उन्हें लोगो से शेयर करें और उनकी प्रतिक्रिया जानें।

  • क्या वह इस Idea/Solution से खुश है?
  • क्या इस आईडिया से एक बड़े वर्ग को फायदा होगा?

इस तरह थोड़ी मार्केट रिसर्च से आप अपने Idea को Validate कर सकते है।

Step 3) Dream Team की तलाश

यदि आपने अपने Idea को Startup का रूप देने की ठान ली है तो आपको अपनी Dream Team की तलाश करनी होगी। सबसे पहले आप अपनी Skills को टटोले, इसके अलावा आपके Startup में किन लोगो की ज़रूरत पड़ेगी उस पर काम करें।

एक अच्छा Startup निम्नलिखित Specialized लोगों से बना होता है:

  • चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर (CEO) – यह पुरे Startup को लीड करता है और सबको कंपनी के Vision – Mission की तरफ काम करने के लिए प्रेरित करता है।
  • चीफ ग्रोथ ऑफिसर (CGO) – यह कंपनी में सही बिज़नेस प्लान द्वारा Growth की दिशा में काम करते है।
  • चीफ मार्केटिंग ऑफिसर (CMO) – कंपनी में मार्केटिंग से जुड़ा काम काज इनके ज़िम्मे होता है।
  • चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर (CTO) – टेक्नोलॉजी सम्बन्धी ज़िम्मेदारी इनकी है।
  • चीफ डिज़ाइन ऑफिसर (CDO) – डिज़ाइन से जुडी सभी ज़िम्मेदारी।
  • चीफ फिनांशल ऑफिसर (CFO) – Startup में फाइनेंस से जुडी सभी ज़िम्मेदारी।

एक अच्छी टीम बेहद जरूरी है। उन लोगों की तलाश करें, जिनके साथ आप काम करने में आनंद लें, खासकर शुरुआती स्टेज पर।

Step 4) Customer Persona

अपना Idea कस्टमर्स तक पहुंचाने के लिए आपको पहले Customer Persona डिफाइन करना होगा। यह मार्केट रिसर्च द्वारा बनाया गया आपके सही Consumer वर्ग का एक स्वरुप है। इसमें आप Consumer की जानकारी जैसे Age Group, Educational Background, Language वगैरह जैसे पहलु सुनिश्चित करते है।

अपने Consumer की सही जानकारी और उनकी ज़रूरतों को समझने के लिए आप उनका सर्वे द्वारा Interview ज़रूर करें।

Step 5) Prototype बनाए

अपने Idea का Potential समझने के लिए आपको एक Prototype करना होगा। यहाँ आप अपने Product की प्रणाली तैयार करते है। Prototype के 2 स्टेज है:

  1. पहले पेपर पे बनाए
  2. फिर डिजिटल डिज़ाइन का रूप दें

उदहारण के तौर पर: यदि आपका प्रोडक्ट एक डिजिटल सलूशन है तो पहले पेपर पर उसकी एक प्रक्रिया बनाये जैसे

  • Consumer आपकी वेबसाइट पर आया।
  • वहां उसे सबसे पहले क्या जानकारी दिखनी चाहिए।
  • वेबसाइट पर क्या-क्या ऑप्शन्स मौजूद होने चाहिए। 
  • Consumer की ज़रूरत किस स्टेज पर पूरी होगी।
  • क्या चीज़ है जो Consumer को Purchase/Subscribe करने के लिए मोटीवेट करेगी।

आपको यहाँ थोड़ा क्रिएटिव होना पड़ेगा, कलर मार्कर और कलर लेबल्स द्वारा अपना Prototype तैयार करके सबसे पहले आप इसे अपने नज़दीकी लोगो को दिखाए और उनके रिएक्शन पर ध्यान दें। इससे आपको Consumer के लिए एक बेहतर User Interface बनाने में मदद मिलेगी।

अब आप अपना Digital Prototype तैयार कर सकते है। अगर आपको Coding की नॉलेज नहीं है तो बिलकुल फ़िक्र ना करें, निचे दिए गए टूल्स पर आप अपना Digital Prototype बना सकते है।

  • Adobe XD
  • Marvel App
  • Material.io
  • Moqups.com

Prototype तैयार होने के बाद एक बार फिर इसे लोगो से टेस्ट करवाए और Feedback अनुसार प्रोडक्ट में बदलाव करें। अब आपका Idea सिर्फ Idea नहीं रहा, आप एक कदम आगे बढ़ चुके है, और अपने Marketing Plan की तरफ काम करना शुरू करें।

Step 6) Marketing Plan

अब जबकि आपका Prototype तैयार हो चूका है, अब बारी है दुनिया के सामने जाने की। अपना Short और Long Term Goal सुनिश्चित कर लें क्यों की एक असल Startup में Marketing Plan की बहुत बड़ी भूमिका है।

आप क्या मैसेज देना चाहते है? आपके प्रोडक्ट में Unique क्या है? Marketing Plan में इन सब के जवाब की ज़रूरत होगी। यहाँ आपको ये भी तय करना है की आप किन Channels का उपयोग करेंगे। Online Channels या Offline Channels या फिर दोनों, ये आप अपने Customer Persona के अनुसार निर्णय ले सकते है।

Marketing Plan का एक अहम् हिस्सा है Landing Page जहा आप अपने Consumers को Campaign द्वारा Redirect करते है। ध्यान रखें, Landing Page पर Consumer की ज़रूरतों के अनुसार सारी जानकारी होनी चाहिए तब जाकर यह Consumer आपके Customer बनते हैं।

Step 7) Business और Revenue Model

कोई भी कंपनी बीना Revenue के नहीं चल सकती। Revenue होगा तभी तो आप उस Business/Startup में आगे बढ़ पाएंगे।

किसी भी Startup में Revenue सबसे मुश्किल और अहम् हिस्सा है। खुद Startup के अस्तित्व के लिए Business और Revenue Model होना ज़रूरी है। इसे हम इस तरह देख सकते है।

  • Business Model बताता है कि कंपनी अपने ग्राहकों के लिए क्या Value प्रदान कर रही है, और Revenue Model खुद इसमें शामिल है। एक कंपनी वास्तव में एक ही समय में कई Business Model संचालित कर सकती है।
  • Revenue Model यह सुनिश्चित करता है की Company अपना Revenue कैसे बनाएगी।

इस स्टेज पर आप अपने Startup की कमाई से जुड़े प्लान और सेल्स प्रोसेस पर दिमाग लगाते है। यहाँ आप लागत का पता लगाएंगे यानि आपके Product के साथ-साथ लॉजिस्टिक्स और ऑपरेशंस की प्रति-यूनिट लागत।

Step 8) Startup Funding (स्टार्टअप फंडिंग)

यह आपके Startup की शुरुआत का आखरी कदम और Business को बढ़ाने की तरफ पहला कदम है। यदि आप अपने Startup के लिए खुद Fund नहीं करना चाहते तो आप अन्य तरीकों से Startup Funding ला सकते है।

Funding कहा से लाये?

  • अपने दोस्तों से या परिवार से : यह एक सरल तरीका है Fund जुटाने का, और इससे आपको पता भी चल जाएगा की आपके नज़दीकी लोग आपके Startup Idea पे कितना भरोसा कर रहे है।
  • Venture Capitalist से Funding : यह एक Professional Investors का समूह होता हैं, जो Startup Funding में माहिर होता है। अगर आपका Startup Idea और Startup Plan एकदम सटीक है तो Venture Capitalist आपके Startup पर Funds की बारिश कर देंगे।
  • Crowd Funding : यहाँ आप Crowd Funding Campaign के ज़रिये लोगो की बिच जाते है। जिन्हे आपका Idea पसंद आएगा वो आपकी Funding में योगदान देंगे।
  • Startup Loan के ज़रिये : Startup Loan भी आपके लिए उपलब्ध है। यदि आप Startup Loan के द्वारा Funding पाना चाहते है तो आपकी Credit History के आधार पर आपको Startup Loan दिया जाता है, और इसके लिए आपके पास अपने Startup Idea का सही और Detailed Business Plan होना ज़रूरी है। Startup Loan In India से जुड़े कई ऑप्शंस मौजूद है, आप इसका फायदा भी उठा सकते है।

आगे पढ़िये, क्या है Startup Business के फायदे और कैसे आप कम समय में ज़्यादा पैसा बना सकते है।

Startup के फ़ायदे

Traditional Business और Startup Company का काम करने का अंदाज़ बहुत अलग है। Startups शुरू से ही ऊंची उड़ान भरने की कोशिश में रहते है इसीलिए वह अपनी कंपनी से जुड़े सभी लोगो को अनेक Facility और Flexibility देते है। अगर आप कभी किसी Startup का हिस्सा नहीं रहे तो आगे ज़रूर पढ़ें।

  • Growth Culture — Employee केवल वेतन से प्रेरित नहीं होते हैं। वे अक्सर सीखने, बढ़ने और चुनौतियों से प्रेरित होते हैं। Startup Company अपने कर्मचारियों को ऐसे रखते है जहाँ वे सफल हो सकें, नए Skills सीखें और वो काम कर सकें, जो उन्हें कहीं और करने का अवसर न मिले।
  • Flexible Culture — Startups अपने Employees को सभी तरह की Flexibility देने में विश्वास रखते है जिससे Employee जहा और जैसे काम करना चाहे वो Comfortably काम कर सकते है। इससे काम में Productivity बढ़ती है और ये सीधे तौर पर Company को ही फायदेमंद साबित होता है।
  • Stock Options — Startups अपने Employees को सिर्फ सैलरी नहीं देते बल्कि उन्हें कंपनी में Stocks के ज़रिये हिस्सेदार बनाते है। इससे Employee कंपनी को अपनी समझ कर पुरे Dedication के साथ काम करते है और ये Company की सफलता में बड़ा योगदान साबित होता है।
  • Fast Paced Environment — Startups में आप आम तौर पर Fast Paced Environment पाएंगे। यहाँ CEO से मिलने के लिए अपॉइंटमेंट या परमिशन की ज़रूरत नहीं, जब चाहे तब उनसे मिलो। इससे Decision Making Process तेज़ी से होता है और Employees नये प्रोजेक्ट्स पर बिना किसी रुकावट काम कर सकते है।
  • Valuation Game — अगर आपका Startup मर्केट में सही मायनो में सफल हो रहा है तो आपके यहां Investors की लाइन लग सकती है और इस तरह आपके Startup की Valuation बढ़ती है और कम समय में आप बहुत अच्छा पैसा बना सकते है।

हमें आशा है हमारे इस लेख ने आपको प्रेरित किया होगा, आपको हमारा ये लेख कैसा लगा और स्टार्टअप से आप क्या समझते हैं ये हमें Comment में ज़रूर बताये।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ?

स्टार पर क्लिक कर के अपनी प्रतिक्रिया दे।

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

अब तक कोई रेटिंग नहीं! इस लेख को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

हमे सोशल मीडिया पर शेयर करे।

हमें खेद है कि यह लेख आपके लिए उपयोगी नहीं थी!

हमें इस लेख में सुधार करने दें!

हमें बताएं कि हम इस लेख को कैसे सुधार सकते हैं?

Contributor
Do you like एडिटोरियल टीम's articles? Follow on social!
कोई कमेंट नहीं।
अभी कमेंट करें। Cancel
Comments to: Startup क्या है? कैसे शुरू करें और Funding कहा से लाये? (हिंदी में)

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Attach images - Only PNG, JPG, JPEG and GIF are supported.