विज्ञापन
विज्ञापन
in

Internet Kya Hai? – इंटरनेट की पूरी जानकारी हिंदी में।

आप हमारे इस पेज पर इंटरनेट की वजह से पहुंचे हैं। जानिए कैसे लाया इंटरनेट आपको यहाँ। इस लेख में आपको इंटरनेट की जानकारी (Information) हिंदी में दी गई हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन

जब आपको किसी भी नई चीज़, कोई बड़ी हस्ती, कोई अहम जानकारी, कोई तस्वीर ढूंढनी हो, प्रिय अभिनेता के बारे में जानना हो, मनपसंद गाना सुनना हो तो बेशक आप अपने कम्प्युटर या मोबाइल पे इंटरनेट खोलेंगे और जो भी जानना या हो आप उसमे से जान लेंगे।

विज्ञापन
विज्ञापन

पर यह जानने के लिए कि यह इंटरनेट जिसमें आप जो चाहो जान सकते हो, देख सकते हो असल में हैं क्या, वो काम कैसे करता हैं, उसके इतिहास, भारत में कब लाया गया, इस “What is Internet in Hindi” लेख को पूरा पढे।

Internet Kya Hai?

इंटरनेट क्या है? इसका अर्थ है इंटरकनेकटेड यानि परस्पर जुड़े हुए नेटवर्क। आसान भाषा में समझना हो तो इंटरनेट की सरल परिभाषा हैं वैश्विक तौर पर अरबों कम्प्युटर यानि कि संगणक और दूसरे एलेक्ट्रोनिक उपकरणो का नेटवर्क। एक बार आप अपने उपकरण से इंटरनेट से जुड़ जाते हैं तो आप किसी भी वैबसाइट पर वेब ब्राउज़र का उपयोग करके जा सकते हैं। वेब ब्राउज़र खुद इंटरनेट नहीं है, वो केवल सारी वैबसाइट को दर्शाता है जो पहले से ही इंटरनेट में संग्रहीत हैं।

Internet Ka Full Form

इंटरनेट का फूल फॉर्म क्या हैं? इंटरनेट ‘इंटर-नेटवर्क’ का छोटा किया गया शब्द हैं।

Internet Kaise Kaam Karta Hai?

इंटरनेट कैसे काम करता हैं? इंटरनेट भौतिक केबलॉ का वैश्विक नेटवर्क हैं। इसमे कॉपर के टेलीफोन वायर, टीवी केबल, और फ़ाइबर ओप्टिक केबल सम्मिलित हैं। वायरलेस कन्नेकशंस जैसे 3G/4G और वाईफाई भी इन्हीं भौतिक नेटवर्क पर इंटरनेट अभिगम के लिए निर्भर हैं।

जब आप किसी भी वैबसाइट पर जाते हैं, तब आपका कम्प्युटर इन्हीं वायर की मदद से एक सर्वर को निवेदन भेजता हैं। सर्वर एक ऐसी जगह हैं जहां सारी वैबसाइट संग्रहीत है। ये एक कम्प्युटर की हार्ड ड्राइव की तरह काम करता हैं। जैसे ही निवेदन पहुंचता हैं, सर्वर वैबसाइट को रिट्रीव यानि की पुनः प्राप्त करता हैं और सही डेटा यानि जानकारी अथवा आपकी इंटरनेट को की हुई मांग आपके कम्प्युटर तक पहुंचाता हैं। और आप अपने कम्प्युटर में उसका परिणाम देख पाते हैं। मज़ेदार बात यह है कि इतना सबकुछ पलक झपकते ही हो जाता हैं।

Uses of Internet in Hindi

इंटरनेट के उपयोग में दुनिया की कोई भी जानकारी पा सकते हैं। जैसे अभी आप इंटरनेट के द्वारा इंटरनेट के बारे में ही जान रहे हैं। आप दुनिया के किसी भी कोने से किसी के भी साथ बात कर सकते हैं। E-mail संचार इंटरनेट से जानकारी के आदान प्रदान करने के सबसे पुराने तरीको में से एक हैं।

विज्ञापन
विज्ञापन

सोशियल मीडिया जो कि इंटरनेट से चलता हैं लोगों को अलग-अलग तरीके से जुडने में मदद करता हैं। इंटरनेट पे आप दुनिया भर के समाचार कहीं से भी पा सकते है। अब तो आप Online Shopping भी इंटरनेट से कर सकते है, और तो और आप अपने घर के कोई भी बिल की भरपाई कर सकते है।

अपने बैंक खाते का भी आप इंटरनेट से संचालन कर सकते हैं। नए लोगों से मिल सकते हैं। टीवी देख सकते है। नई चीज़ें सीख सकते हैं। आपके जीवन में कोई भी समस्या हो उसका हल आपको इंटरनेट पे मिल जाएगा। अगर आप काम ढूंढ रहे हैं तो वो भी आप इसमें से पा सकते हैं। अगर आप अपना मनपसंद गाना ढूंढ रहे हैं, तो वो भी आप इसमें सुन सकते हैं। अपनी पसंदगी की फिल्में देख सकते हैं। आप ऑनलाइन लगभग कुछ भी सीख और कर सकते हैं।

History of Internet in Hindi

इतना सबकुछ जानने के बाद आपके मन में ये सवाल ज़रूर आया होगा कि ऐसे इंटरनेट की इतिहास क्या है? इसकी खोज किसने की? तो इंटरनेट का जनक है ‘विंटन ग्रे सेरफ़’। हालांकि इसका थोड़ा श्रेय ‘बॉब कोहों’ को भी जाता हैं जो TCP/IP के कॉ-डेवलपर थे।

सबसे पहली बार इंटरनेट की खोज 1969 में ARPANET नाम के एक नेटवर्क से हुई थी जिसमें एक समय में बहुत सारे कम्प्युटर को एक नेटवर्क पे क्म्युनिकेट करवाया था। बहुत सालो के विकास के बाद 1991 में पहला वेबपेज बना। नवंबर 1992 में इंटरनेट कि पहली वैबसाइट ‘स्नेप्शोट ऑफ द CERN द वर्ल्ड वाइड वेब प्रोजेक्ट’ की घोषणा की गई।

Bharat Mein Internet Kab Aaya?

15 अगस्त 1995 में पहली बार विदेश संचार निगम लिमिटेड के द्वारा भारत में इंटरनेट सेवाए शुरू की गई। और नवंबर 1998 में सरकार ने ये क्षेत्र प्राइवेट ओपरेटरों के लिए भी खोला।

*****

आशा करते हैं कि आपको इंटरनेट की जानकारी हिन्दी में प्राप्त हुई होगी और आप जो जानना चाहते थे वो जाना होगा। और ज़रूर कुछ सीख कर विदा ले रहे होंगे।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ?

Average rating 4 / 5. Vote count: 11

अब तक कोई रेटिंग नहीं! इस लेख को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

हिंदी सहायता एप्प को डाउनलोड करें।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा?

आपको क्या जानकारी नहीं मिली हमें ज़रूर बताएं

हम सभी जानकारियां आपको जल्द उपलब्ध कराएँगे

सिद्धार्थ वायडा

Written by सिद्धार्थ वायडा

हम रचनात्मक प्राणी हैं, और वही मैं खोजता हूँ 'रचनात्मकता'।

4 Comments

Leave a Reply
  1. Very good information. Very few people provide such information on the. I’m hoping to check out the same high-grade content from you later on as well.

  2. I can not even imagine how much research you must have done in order to provide this much great information handy to the world. I really appreciate your work boy. Well done. Keep it up! ??

Leave a Reply

Avatar

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Surdas Ke Dohe – सूरदासजी के दिलचस्प दोहे हिंदी अर्थ सहित।

PAN Card Kya Hai? – जानिए पैन कार्ड की संपूर्ण जानकारी हिंदी में।