आज के समय में शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जो इंटरनेट से परिचित ना हो। इंटरनेट के जाल ने पूरी दुनिया को अपनी गिरफ़्त में ले लिया है। दुनिया इंटरनेट पर इतनी निर्भर हो गई है की इसके बिना किसी चीज की कल्पना करना असंभव हो गया है परन्तु इंटरनेट का ज्यादा प्रयोग करने पर आपको इंटरनेट के दुष्प्रभाव भी देखने को मिल सकते है। इंटरनेट से जुड़ी ऐसी कई जानकारी है जो सभी को पता नहीं है तो इसीलिए आज की यह पोस्ट हम आपके लिए लेकर आए है जिसमें आपको इंटरनेट का इतिहास हिंदी में बताया जाएगा।

आधुनिक दुनिया Internet Ki Duniya है जो हमारी जीवनशैली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है। यह तीव्र गति से पूरे विश्व में फैल गया है और विभिन्न तरह की सुविधाएँ प्रदान करके इंटरनेट ने हमारे जीवन को बहुत ही आसान बना दिया है। आज शायद ही कोई ऐसा क्षेत्र होगा जहाँ Internet Ka Upyog नहीं किया जाता है, इंटरनेट ने पूरी दुनिया को आपस में जोड़ रखा है लेकिन फिर भी बहुत कम लोग होते है जिन्हें Internet Ke Baare Mein Jankari पूरी तरह से पता होती है। तो आइए हम आपको बताते है इंटरनेट की जानकारी विस्तार में।

Internet Kya Hai

Internet Kya Hai

इंटरनेट विश्व का सबसे बड़ा नेटवर्क है। जब दो या दो से अधिक कंप्यूटर, सूचनाओं का आदान-प्रदान करने के लिए एक-दूसरे से कनेक्ट होते है तो एक जाल बनता है उसी जाल को इंटरनेट का नाम दिया गया है। हम अपने कंप्यूटर में सूचनाओं या दस्तावेज़ों का आदान-प्रदान इंटरनेट के कारण ही कर पाते है। इंटरनेट आपस में जुड़े बहुत सारे कंप्यूटरों का जाल है, जो राउटर एवं सर्वर के माध्यम से दुनिया के किसी भी कंप्यूटर को आपस में जोड़ता है। सरल भाषा में कहे, तो सूचनाओं के आदान-प्रदान करने के लिए TCP/IP प्रोटोकॉल के माध्यम से दो कंप्यूटरों के बीच स्थापित सम्बन्ध को इंटरनेट कहा जाता हैं।

Internet Full Form:

INTERNET KA FULL FORM – INTERNATIONAL NETWORK होता है ।

Internet Ka Aviskar Kisne Kiya

इंटरनेट का विकास किसी एक व्यक्ति ने नहीं किया था। इंटरनेट को बनाने में कई लोगों का हाथ रहा है और बहुत से व्यक्तियों ने अपना सहयोग दिया है। लेकिन गूगल की रिपोर्ट के अनुसार Vint Cerf और Robert Elliot Kahn को ही इंटरनेट के पिता के नाम से जाना जाता है, क्योंकि सबसे पहले इन्होंने ही TCP/IP प्रोटोकॉल इंटरनेट का निर्माण किया था।

क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी: WWW Kya Hai? – जानिए डब्ल्यू डब्ल्यू डब्ल्यू का पूरा नाम, अविष्कारक और इतिहास!

Internet Ki Shuruaat Kisne Ki

इंटरनेट की शुरुआत कब हुई अगर यह बात करे तो इंटरनेट की शुरुआत 60 के दशक में लगभग 1962 से 1969 के बीच में हुई थी। इसको सबसे पहले US Department Of Defense ने बनाया था। दुनिया के सबसे पहले Internet Ka नाम ARPANET (Advanced Research Project Agency Network) था। Arpanet का इस्तेमाल सर्वप्रथम 1969 में University Of California में एक संदेश भेजने के लिए किया गया था। इसके बाद यह लगभग सन 1972 तक दुनिया के अलग-अलग देशों तक पहुँच चुका था और इसी के साथ इसका नाम बदल कर इंटरनेट कर दिया गया।

उसके बाद इंटरनेट में धीरे-धीरे कई बदलाव आते गए और यह आम लोगो के लिए भी उपलब्ध हो गया। इंटरनेट का सबसे ज्यादा इस्तेमाल तब होने लगा था जब 1989 में टिम बेर्नर ली ने इंटरनेट पर संचार को सरल बनाने के लिए ब्राउज़र, पेज और लिंक का उपयोग करके वर्ल्ड वाइड वेब (WWW) बनाया और 1998 में गूगल के आने के बाद इंटरनेट का चेहरा ही बदल गया जिसे आज हम सब जानते हैं।

Bharat Me Internet Kab Shuru Hua Tha

भारत में इंटरनेट की शुरुआत 15 अगस्त 1995 में “VSNL” (Videsh Sanchar Nigam Limited) के द्वारा की गयी थी। 1995 से पहले भारत में इंटरनेट कही भी नही था इसके बाद से ही बड़ी कंपनियों ने बाज़ार में अपना नाम बनाया और कई सारी कंपनियों ने अपनी शुरुआत की। तब से ही भारत में इंटरनेट का विस्तार बढ़ता चला गया और आज हमारा देश इंटरनेट इस्तेमाल करने में पूरी दुनिया में दूसरे नंबर पर है।

जरूर पढ़े: Ethernet Kya Hai? Ethernet Kaise Kaam Karta Hai? – जानिए Difference Between Internet And Ethernet In Hindi!

Internet Ke Fayde

Internet Ki Upyogita इतनी बढ़ गई है की किसी भी कार्य को आसान बनाने के लिए सबसे पहले दिमाग में इंटरनेट का ही ख्याल आता है क्योंकि Internet Ke Labh ही इतने सारे होते है तो आइये जानते है इंटरनेट के फायदे क्या है:

  • किसी भी तरह की जानकारी प्राप्त करने के लिए हम इंटरनेट की मदद ले सकते है इंटरनेट पर सभी विषयों से जुड़ी जानकारी प्राप्त की जा सकती है।
  • बस, ट्रेन, एयरप्लेन की टिकट इंटरनेट के द्वारा ऑनलाइन ही घर बैठे बुक कर सकते है।
  • हम अपनी पढ़ाई से संबंधित सभी जानकारी जैसे टाइम टेबल या रिजल्ट घर बैठे देख सकते है। हम ऑनलाइन किसी भी विषय के बारे में पढ़ाई भी कर सकते है।
  • ऑनलाइन ऐसी बहुत सी सुविधाएँ है जिससे इंटरनेट पर ही काम करके बहुत सारा पैसा भी आप कमा सकते है, आज इंटरनेट के माध्यम से बहुत सी कंपनी काम करके पैसा कमा रही है जैसे- फेसबुक और गूगल
  • किसी दूर बैठे व्यक्ति से आप ऑनलाइन बातचीत कर सकते है जैसे- वीडियो कॉल।

Internet Ke Nuksan In Hindi

जिस प्रकार इंटरनेट के लाभ है ठीक उसी प्रकार ज्यादा प्रयोग करने पर Internet Ke Hani भी है। आईये जानते है उनके बारे में:

  • इंटरनेट के जरिये हमारे कंप्यूटर और मोबाइल में वायरस और मैलवेयर आने की सम्भावना होती है।
  • इंटरनेट पर कोई भी व्यक्ति कुछ भी शेयर कर सकता है इंटरनेट के दुरुपयोग से अफवाहें तेजी से फैलती है।
  • यदि यह कहे की इंटरनेट का इस्तेमाल हमारा समय तो बचाता है तो यह कहना गलत नहीं होगा लेकिन कभी-कभी इसकी लत लगने के कारण यह कई गुना ज्यादा हमारा समय भी बर्बाद कर देता है।
  • इंटरनेट की लत भी शराब की लत की तरह ही होती है। जिससे दूर जाना बहुत मुश्किल होता है। स्वास्थ्य पर बहुत से तरह के Internet Ke Dushparinam देखने को मिलते है जैसे- वजन बढ़ना, मानसिक तनाव, शरीर में दर्द, मानसिक बुद्धि कम होना, आँखें दर्द होना आदि।

यह पोस्ट भी पढ़े: IOT Kya Hai? How IOT Works? Applications Of IOT – जानिए Internet Of Things Examples In Hindi!

Conclusion:

Internet Kaise Bana इसकी पूरी जानकारी आपको विस्तार में जानने को मिली। एक दिन भी यदि Net Speed धीमी हो जाए या नेट बंद हो जाए तो हम कितने परेशान हो जाते है तो अब आप समझ गए होंगे की आज के समय में इंटरनेट कितना महत्वपूर्ण हो गया है तो दोस्तों यदि आपको आज की पोस्ट पसंद आयी हो तो लाइक और शेयर ज़रुर करे साथ ही आपके कोई सुझाव है तो कमेंट करके बताए आगे भी इसी तरह की जानकारी प्राप्त करने के लिए जुड़े रहे हमारे साथ हिंदी सहायता पर धन्यवाद!

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...