in

Swami Vivekananda Quotes in Hindi – स्वामी विवेकानंद के अनमोल विचार।

स्वामी विवेकानंद जिनकी गिनती भारत के महापुरुषों में की जाती है। ऐसे आध्यात्मिक गुरु के अनमोल कोट्स हिंदी में पढ़ें, यह आपके लिए प्रेरणा का उत्तम स्त्रोत साबित होंगे। ।
विज्ञापन
लेख़ इसके बाद शुरु होगा।
हैलो दोस्तों, स्वामी विवेकानंद जिनकी गिनती भारत के महापुरुषों में की जाती है। एक ऐसे आध्यात्मिक गुरु और समाज सुधारक जिन्हें आज भी यह दुनिया याद करती है। 21वीं सदी के युवाओं के लिए भी स्वामी विवेकानंद प्रेरणास्त्रोत हैं।
इसीलिए यदि आप भी स्वामी विवेकानंद के अनमोल विचारों, Swami Vivekananda Quotes for Students, Swami Vivekananda Quotes in Hindi for Youth की तलाश कर रहे हैं तो आप सही जगह पर हैं। आज हम आपके लिए इस पोस्ट के माध्यम से Swami Vivekananda Quotes in Hindi लेकर आएं हैं। जिसके माध्यम से आपको स्वामी विवेकानंद के विचारों को और गहराई से जानने का मौका मिलेगा। हमारे इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें और स्वामी विवेकानंद के विचारों से रूबरू हो जाए।

Swami Vivekananda Quotes in Hindi on Life

(स्वामी विवेकानंद कोट्स)

विज्ञापन
लेख़ इसके बाद शुरु होगा।
स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी, 1863 में कोलकाता के कायस्थ परिवार में हुआ था। भारत माता की गोद में एक ऐसे लाल ने जन्म लिया जिसने सिर्फ भारत के लोगों को ही नहीं अपितु पूरी मानवता का गौरव बढ़ाया। आइए Swami Vivekananda Quotes in Hindi on Life के माध्यम से जानते हैं कैसे थे इस लाल के विचार।
#1
#2
#3
#4
#5
#6
#7
#8
#9
#10
#11
#12
#13
#14
#15

Swami Vivekananda Quotes in Hindi on Education

(स्वामी विवेकानंद Quotes)

स्वामी विवेकानंद का बचपन का नाम नरेंद्र था। सन 1871 में 8 वर्ष की उम्र में नरेंद्र ने ईश्वर चंद्र विद्यासागर स्कूल के मेट्रोपॉलिटन संस्थान में पढ़ाई करने हेतु एडमिशन लिया। नरेंद्र पढ़ने में बहुत होशियार थे और वह एक ऐसे छात्र थे जिन्होंने प्रेसीडेंसी कॉलेज प्रवेश परीक्षा ने प्रथम स्थान प्राप्त करके सभी को गौरवान्वित महसूस करवाया। तो आइए Swami Vivekananda Quotes in Hindi on Education के माध्यम से Swami Vivekananda के कुछ Anmol Vichar को जानते हैं।

#1
#2
#3
#4
#5
#6
#7
#8
#9
#10
#11
#12
#13
#14
#15

Swami Vivekananda Quotes in Hindi for Students

(स्वामी विवेकानंद कोट्स फॉर स्टूडेंट्स)

नरेंद्र को सामाजिक विज्ञान, इतिहास, साहित्य, दर्शन, धर्म, और कला जैसे सभी विषयों में विशेष रूचि थी। हिंदू शास्त्रों को भी वह बहुत उत्सुकता के साथ पढ़ते थे।
एक दिन यह नन्हा नरेंद्र, रामकृष्ण परमहंस से इतना प्रभावित हुआ कि उन्हें अपना गुरु मान लिया। अब नरेंद्र अपने गुरु की देखभाल और सेवा करता था। रामकृष्ण परमहंस भी नरेंद्र से इतना प्रभावित हुए कि उन्होंने नरेंद्र को विवेकानंद बना दिया। तो आइए Swami Vivekananda Quotes in Hindi for Students के माध्यम से जानते हैं नरेंद्र से विवेकानंद बने इस महापुरुष के कुछ Anmol Vachan

#1
#2
#3
#4
#5
#6
#7
#8
#9
#10
#11
#12
#13
#14
#15

Swami Vivekananda Quotes in Hindi for Youth

सन 1886 में अपने गुरु रामकृष्ण परमहंस की निधन के बाद 24 वर्ष की अवस्था में विवेकानंद गेरुआ वस्त्र धारण कर पैदल ही विश्व भ्रमण पर निकल पड़े। शिकागो में अपनी विश्व भ्रमण की यात्रा समाप्त कर स्वामी विवेकानंद विश्व धर्म परिषद में भारत के प्रतिनिधि के रूप में शामिल हुए। वह एक ऐसा दौर था जब अमेरिका और यूरोप के लोगों के बीच भारतीयों को बुरी नजर से देखा जाता था। ऐसी परिस्थितियों में स्वामी जी को बड़ी मशक्कत के बाद परिषद में बोलने का मौका दिया गया और जैसे ही स्वामी विवेकानंद ने भाषण देना शुरू किया सभी अमेरिकावासी बहुत खुश हुए और स्वामी विवेकानंद को इज्जत देने लगे। तो आइए Swami Vivekananda Quotes in Hindi for Youth के माध्यम से जानते हैं Swami Vivekananda ke Vichar जिसका सभी लोग सम्मान करते हैं।

#1
#2
#3
#4
#5
#6
#7
#8
#9
#10
#11
#12
#13
#14
#15

Swami Vivekananda ke Anmol Vichar

(Swami Vivekananda ke Samajik Vichar)

लगभग 4 वर्षों तक विदेशों में धर्म का प्रचार करने के बाद जब विवेकानंद भारत लौटे तो उनका भव्य स्वागत किया गया. भारत लौटकर उन्होंने लोगों से कहा कि “वास्तविक शिव की पूजा निर्धन और दरिद्र की पूजा में है, रोगी और दुर्लभ सेवा में है।” उन्होंने भारतीय अध्यात्मवाद के प्रचार प्रसार के लिए रामकृष्ण मिशन की स्थापना की। ऐसे थे मानवता के प्रति स्वामी विवेकानंद के Swami Vivekananda ke Anmol Vichar। आइए स्वामी विवेकानंद के ऐसे ही कुछ अनमोल विचार और जानते हैं।
#1
#2
#3
#4
#5
#6
#7
#8
#9
#10
#11
#12
#13
#14
#15

Swami Vivekananda ke Updesh

रामकृष्ण मिशन की स्थापना के बाद उसे सफल बनाने के लिए भी विवेकानंद ने लगातार श्रम किया। स्वास्थ्य बिगड़ जाने के बाद भी वह रुके नहीं। अपने जीवन के अंतिम समय में स्वामी जी ने अपने ध्यान करने की दिनचर्या को भी नहीं बदला और लगातार ध्यान करते रहे।इसी ध्यानावस्था में उन्होंने अपने शरीर का त्याग कर दिया और परमात्मा में लीन हो गए लेकिन Swami Vivekananda ke Updesh हमारे बीच हमेशा अमर रहेंगे।
#1
#2
#3
#4
#5
#6
#7
#8
#9
#10
#11
#12
#13
#14
#15

आज के हमारे इस पोस्ट में बस इतना ही। Swami Vivekananda Quotes in Hindi और स्वामी विवेकानंद के इन तमाम अनमोल वचनों को अधिक से अधिक लोगों तक शेयर जरूर करें। जिससे दुनिया भर के लोग स्वामी विवेकानंद के विचारों को गहराई से समझ सकें।
आपको हमारा यह पोस्ट कैसा लगा हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं साथ ही यदि आप हमारी वेबसाइट हिंदी सहायता या इस पोस्ट से संबंधित कोई जानकारी हमारे साथ साझा करना चाहते हैं तो वह भी आप कमेंट बॉक्स में हमें जरूर बताएं।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ?

Average rating 5 / 5. Vote count: 2

अब तक कोई रेटिंग नहीं! इस लेख को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

हिंदी सहायता एप्प को डाउनलोड करें।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा?

आपको क्या जानकारी नहीं मिली हमें ज़रूर बताएं

हम सभी जानकारियां आपको जल्द उपलब्ध कराएँगे

पूजा जांगिड़

Written by पूजा जांगिड़

पूजा जांगिड़, पत्रकारिता और हिंदी लेखन में विशेष रुचि रखती है। सरल हिंदी भाषा में लेखन की अपनी इस कला को हिंदी सहायता के पाठकों तक पहुंचाने में गर्व महसूस करती है।

Leave a Reply

Avatar

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Thoughts of The Day In Hindi – बेस्ट हिंदी थॉट्स ऑफ़ द डे।

100+ Anmol Vachan in Hindi – जो सकारात्मक ऊर्जा का संचार कर देंगे।