ESR Test Kya Hota Hai? - जाने ईएसआर टेस्ट कैसे और क्यों किया जाता है!
Avatar Health
दोस्तों अगर आपको अपने शरीर में किसी भी बीमारी के लक्षण दीखते है तो आप उसकी पुष्टि करने के लिए उसकी जांच करवाते है और कराना भी चाहिए। जिससे डॉक्टर आपकी बीमारी को पकड़ सके। आज हम भी आपके लिए एक टेस्ट की जानकारी लाए है, जिससे डॉक्टर आपके शरीर में होने वाली समस्या को पकड़ पाता है। तो चलिए अच्छे से जानते है कि ESR Test Kya Hota Hai
ESR Test कराने का मकसद किसी विशेष बीमारी को पकड़ना नहीं होता है और ना ही इस टेस्ट से किसी बीमारी को पकड़ा जा सकता है। इस टेस्ट से बस आपके शरीर का ESR लेवल चेक किया जाता है। जिससे डॉक्टर को आपके शरीर में होने वाली कुछ समस्या की जानकारी प्राप्त हो जाती है और किसी बीमारी की स्थिति में यह टेस्ट डॉक्टर को उस बीमारी के कारण का पता लगाने में मदद करता है।

ESR Test Kyu Kiya Jata Hai

ESR Test Ka Matlab कोई बड़ी बीमारी की पहचान करना नहीं होता है। इसका मकसद बस इतना होता है की इसके जरिए आपके शरीर की समस्या को पकड़ा जाता है, जैसे सूजन और जलन महसूस होना। किसी बीमारी की स्थिति में ESR Test को बाकी टेस्ट के साथ ही करवा लिया जाता है, जिससे डॉक्टर को आपकी बीमारी पकड़ने में बहुत मदद मिलती है।

ESR Full Form

ESR का फूल फॉर्म होता है। – Erythrocytes Sedimentation Rate

ESR Full Form In Hindi

ESR का हिंदी में पूरा नाम होता है। – एरिथ्रोसाइट्स सेडीमेन्टेशन रेट

ESR Test Kaise Karte Hai

ESR Test करने के लिए आपके शरीर से खून का एक सैंपल लिया जाता है। और फिर उस Sample को जांच के लिए लेबोरेटरी भेजा जाता है। जहाँ पर उस खून के सैंपल को एक पतली और लंबी कांच की ट्यूब में रखा जाता है और फिर एक घंटे तक खून के नीचे गिरने की स्थिति को मापा जाता है। अगर आपके शरीर में कही सूजन है तो असामान्य प्रोटीन लाल रक्त कोशिकाओं के गुछे बना देगा, जिससे लाल रक्त कोशिकाओं का वजन बढ़ जाएगा और वह जल्दी नीचे गिरने लगेगा। इसे Mm/Hr (मिलीमीटर प्रति घंटा) में मापा जाता है, इस स्थिति से डॉक्टर को पता चल जाता है की आपको कोई समस्या है, की नहीं।
क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी: BP Kaise Check Kare? Blood Pressure Napne Ke Tarike क्या होते है? – जानिए High BP Me Kya Khaye और क्या नही से संबंधित पूरी जानकारी!

ESR Ki Normal Value

ESR Ka Normal Range प्राप्त करने के लिए Mm/Hr का उपयोग किया जाता है जिसके कुछ उदाहरण हम आपको नीचे बता रहे है।

  • जन्म के उपरांत एक बच्चे का ESR 2 Mm/Hr के आस-पास होना चाहिए।
  • जो बच्चे युवा अवस्था में प्रवेश करने वाले होते है उनका ESR 2 से लेकर 13 Mm/Hr के अंदर होना चाहिए।
  • अगर किसी महिला की आयु 50 वर्ष से कम है तो उसका ESR 20 Mm/Hr तक होना चाहिए।
  • किसी महिला की उम्र 50 वर्ष से ज़्यादा हो चुकी है तो उसका ESR 30 Mm/Hr तक होना चाहिए।
  • एक पुरूष की उम्र 50 वर्ष से कम होने की स्थिति में उसका ESR 15 Mm/Hr के आस-पास होना चाहिए।
  • किसी पुरूष की उम्र 50 वर्ष से अधिक हो जाती है तो उसका ESR 20 Mm/Hr के आस-पास होना चाहिए।

ESR Test Price

इस टेस्ट की कीमत शहर के हर हॉस्पिटल के हिसाब से अलग-अलग हो सकती है। फिर भी हम आपके लिए कुछ आँकड़े लाए है जैसे- ESR Blood Test के लिए आपको अधिकतर जगह पर 100 रुपए से लेकर 500 रूपए तक देना होंगे।
जरूर पढ़े: DNA Kya Hai? – डीएनए के कार्य, खोजकर्ता व इसके बारे में महत्वपूर्ण तथ्य!

ESR Kyo Badta Hai

ESR लेवल कई कारणों से बढ़ सकता है जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए, चलिए आपको बताते है कि यह किन कारणों से बढ़ता है।

  • प्रेगनेंसी की अवस्था में
  • बुढ़ापे की स्थिति में
  • खून की कमी होने के कारण
  • थाइराइट की समस्या होने पर
  • लिंफोमा की वजह से
  • गठिया की समस्या होने पर
  • शरीर की माशपेसियां और जोड़ों में दर्द होना
  • रूमेटिक बुख़ार में

ESR Ko Kaise Kam Kare

ESR लेवल के बढ़ जाने की स्थिति में उसको कम करने के लिए आपको सबसे पहले उस समस्या का पता लगाना होगा। जिसके कारण आपका ESR लेवल बढ़ा है। यह पता चल जाने के बाद डॉक्टर समस्या का अच्छे से इलाज कर देगा। जैसे ही वह समस्या खत्म हो जाएगी वैसे ही धीरे-धीरे आपका ESR लेवल अपने आप ही वापस नॉर्मल हो जाएगा।
यह पोस्ट भी जरूर पढ़े: Piles Kaise Hota Hai? – पाइल्स या बवासीर होने के लक्षण, कारण तथा बचने के घरेलु उपाय!

Conclusion:

तो दोस्तों मनुष्य शरीर में होने वाली कुछ समस्या की जांच के लिए कई टेस्ट कराए जाते है जिनमे से एक ESR Test है और आज हमने आपको ESR Test Kya Hai की पूरी जानकारी प्रदान की है। यह टेस्ट आपके शरीर में बिना किसी कारण के आए सूजन और जलन के बारे में पता करने के लिए किया जाता है। डॉक्टर अकेले इस टेस्ट को करने की सलाह बहुत कम देते है, लेकिन किसी बीमारी की जांच करने वाले टेस्ट के साथ इस टेस्ट को भी बहुत बार कराया जाता है। जिससे डॉक्टर को बीमारी होने का कारण पता करने में मदद मिलती है। तो अगर अब आपको हमारे द्वारा दी गई इस टेस्ट की जानकारी उपयोगी लगी हो तो हमारे आज के लेख ESR Test Kya Hota Hai In Hindi को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें ताकि उन्हें भी इसके बारे में पता चले।

Leave a comment