1. Health

ESR Test Kya Hota Hai? – ESR Test in Hindi जाने ESR Full Form, ईएसआर परीक्षण कैसे और क्यों किया जाता है के बारे में विस्तार से!

जानिए ESR Test in Hindi तथा ESR Full Form in Hindi के बारे में विस्तार से!
विज्ञापन
लेख़ इसके बाद शुरु होगा।

ESR Test in Hindi: अगर आपको अपने शरीर में किसी भी बीमारी के लक्षण दिखाई देते है तो आप उसकी पुष्टि करने के लिए उसकी जांच करवाते है, ताकि डॉक्टर आपकी बीमारी को पकड़ सके।

आज हम भी आपके लिए एक टेस्ट ESR Test Kya Hai की जानकारी लाए है, जिससे डॉक्टर आपके शरीर में होने वाली समस्या को पकड़ पाता है। बहुत से लोग जानना चाहते हैं कि ESR Kya Hota Hai, What Is ESR in Hindi, हम उन्हें बताना चाहते हैं कि ESR Test यानि ईएसआर परीक्षण कराने का मकसद किसी विशेष बीमारी को पकड़ना नहीं होता है और ना ही इस टेस्ट से किसी बीमारी को पकड़ा जा सकता है।

ESR टेस्ट से बस आपके शरीर का ESR लेवल चेक किया जाता है। जिससे डॉक्टर को आपके शरीर में होने वाली कुछ समस्या की जानकारी प्राप्त हो जाती है और किसी बीमारी की स्थिति में यह टेस्ट डॉक्टर को उस बीमारी के कारण का पता लगाने में मदद करता है।

अगर आप ESR Meaning in Hindi जानना चाहते हैं तो चलिए अच्छे से जान लेते है कि ESR Test Kya Hota Hai तथा साथ ही ESR Full Form in Hindi क्या है…

ESR Test Kya Hai

ESR Test यानि ईएसआर परीक्षण का मतलब कोई बड़ी बीमारी की पहचान करना नहीं होता है। इसका मकसद बस इतना होता है की इसके जरिए आपके शरीर की समस्या को पकड़ा जाता है, जैसे सूजन और जलन महसूस होना। किसी बीमारी की स्थिति में ESR Test को बाकी टेस्ट के साथ ही करवा लिया जाता है, जिससे डॉक्टर को आपकी बीमारी पकड़ने में बहुत मदद मिलती है।

ESR Full Form (ईएसआर फुल फॉर्म)

ESR Ka Full Form – “Erythrocytes Sedimentation Rate” होता है।

विज्ञापन

ESR Full Form In Hindi

ESR Test Full Form In Hindi – “एरिथ्रोसाइट्स सेडीमेन्टेशन रेट” हिंदी में पूरा नाम होता है।

ईएसआर ब्लड टेस्ट क्या होता है? (What is ESR Blood Test in Hindi?)

ईएसआर परीक्षण करने के लिए आपके शरीर से खून का एक सैंपल ESR Test kit के द्वारा लिया जाता है और फिर उस Sample को जांच के लिए लेबोरेटरी भेजा जाता है। जहाँ पर उस खून के सैंपल को एक पतली और लंबी कांच की ट्यूब में रखा जाता है और फिर एक घंटे तक खून के नीचे गिरने की स्थिति को मापा जाता है।

अगर आपके शरीर में कही सूजन है तो असामान्य प्रोटीन लाल रक्त कोशिकाओं के गुछे बना देगा, जिससे लाल रक्त कोशिकाओं का वजन बढ़ जाएगा और वह जल्दी नीचे गिरने लगेगा। इसे Mm/Hr (मिलीमीटर प्रति घंटा) में मापा जाता है, इस स्थिति से डॉक्टर को पता चल जाता है की आपको कोई समस्या है, की नहीं।

विज्ञापन

क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी: BP Kaise Check Kare? Blood Pressure Napne Ke Tarike क्या होते है? – जानिए High BP Me Kya Khaye और क्या नही से संबंधित पूरी जानकारी!

ईएसआर बढ़ने और घटने के संकेत (ESR Value Means in Hindi)

ESR Ka Normal Range प्राप्त करने के लिए Mm/Hr का उपयोग किया जाता है, ईएसआर परीक्षण नार्मल रेंज के कुछ उदाहरण हम आपको नीचे बता रहे है। 

  • ESR Normal Range in Hindi: जन्म के उपरांत एक बच्चे का ESR 2 Mm/Hr के आस-पास होना चाहिए।
  • ईएसआर परीक्षण नार्मल रेंज: जो बच्चे युवा अवस्था में प्रवेश करने वाले होते है उनका ESR 2 से लेकर 13 Mm/Hr के अंदर होना चाहिए।
  • अगर किसी महिला की आयु 50 वर्ष से कम है तो उसका ESR 20 Mm/Hr तक होना चाहिए।
  • किसी महिला की उम्र 50 वर्ष से ज़्यादा हो चुकी है तो उसका ईएसआर परीक्षण नार्मल रेंज ESR 30 Mm/Hr तक होना चाहिए।
  • एक पुरूष की उम्र 50 वर्ष से कम होने की स्थिति में उसका ESR 15 Mm/Hr के आस-पास होना चाहिए।
  • किसी पुरूष की उम्र 50 वर्ष से अधिक हो जाती है तो उसका ईएसआर परीक्षण नार्मल रेंज 20 Mm/Hr के आस-पास होना चाहिए।

ESR Test Price

इस टेस्ट की कीमत शहर के हर हॉस्पिटल के हिसाब से अलग-अलग हो सकती है। फिर भी हम आपके लिए कुछ आँकड़े लाए है जैसे – ESR Blood Test के लिए आपको अधिकतर जगह पर 100 रुपए से लेकर 500 रूपए तक देना होंगे।

जरूर पढ़े: DNA Kya Hai? – डीएनए के कार्य, खोजकर्ता व इसके बारे में महत्वपूर्ण तथ्य!

ईएसआर के बढ़ने के कारण (Reasons for High ESR in Hindi)

ESR लेवल कई कारणों से बढ़ सकता है जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए, चलिए आपको बताते है कि यह किन कारणों से बढ़ता है।

  • प्रेगनेंसी की अवस्था में
  • बुढ़ापे की स्थिति में
  • खून की कमी होने के कारण
  • थाइराइट की समस्या होने पर
  • लिंफोमा की वजह से
  • गठिया की समस्या होने पर
  • शरीर की माशपेसियां और जोड़ों में दर्द होना
  • रूमेटिक बुख़ार में

ईएसआर रेट बढ़ने से बचने के घरेलू उपाय (How to Prevent High ESR in Hindi)

ESR लेवल के बढ़ जाने की स्थिति में उसको कम करने के लिए आपको सबसे पहले उस समस्या का पता लगाना होगा। जिसके कारण आपका ESR लेवल बढ़ा है। यह पता चल जाने के बाद डॉक्टर समस्या का अच्छे से इलाज कर देगा। जैसे ही वह समस्या खत्म हो जाएगी वैसे ही धीरे-धीरे आपका ESR लेवल अपने आप ही वापस नॉर्मल हो जाएगा।

यह पोस्ट भी जरूर पढ़े: Piles Kaise Hota Hai? – पाइल्स या बवासीर होने के लक्षण, कारण तथा बचने के घरेलु उपाय!

Conclusion

तो दोस्तों मनुष्य शरीर में होने वाली कुछ समस्या की जांच के लिए कई टेस्ट कराए जाते है जिनमे से एक ESR Test है और आज हमने आपको ESR Test Kya Hai की पूरी जानकारी प्रदान की है। यह टेस्ट आपके शरीर में बिना किसी कारण के आए सूजन और जलन के बारे में पता करने के लिए किया जाता है। डॉक्टर अकेले इस टेस्ट को करने की सलाह बहुत कम देते है, लेकिन किसी बीमारी की जांच करने वाले टेस्ट के साथ इस टेस्ट को भी बहुत बार कराया जाता है। जिससे डॉक्टर को बीमारी होने का कारण पता करने में मदद मिलती है। तो अगर अब आपको हमारे द्वारा दी गई इस टेस्ट की जानकारी उपयोगी लगी हो तो हमारे आज के लेख ESR Test Kya Hota Hai In Hindi को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें ताकि उन्हें भी इसके बारे में पता चले।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ?

Average rating 3.7 / 5. Vote count: 46

अब तक कोई रेटिंग नहीं! इस लेख को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

हिंदी सहायता एप्प को डाउनलोड करें।

Contributor
क्या आपको एडिटोरियल टीम के आर्टिकल पसंद आयें? अभी फॉलो करें सोशल मीडिया पर!
पाठकों की प्रतिक्रिया आयी। कमेंट देखे। कमेंट छिपायें।
Comments to: ESR Test Kya Hota Hai? – ESR Test in Hindi जाने ESR Full Form, ईएसआर परीक्षण कैसे और क्यों किया जाता है के बारे में विस्तार से!
  • Avatar
    August 5, 2020

    Too much impressed Sir Ji, very very well explained it.

    Reply
Write a response

Your email address will not be published. Required fields are marked *