विज्ञापन
विज्ञापन
in

ESR Test in Hindi | ईएसआर बढ़ने के कारण और उपचार।

जानिए ESR Test in Hindi तथा ESR Full Form in Hindi और ईएसआर परीक्षण कैसे और क्यों किया जाता है, के बारे में विस्तार से!
विज्ञापन
विज्ञापन

ESR Test in Hindi: ESR को एरिथ्रोसाइट सेडीमेटेंशन रेट (Erethrocyte Sedimentation Rate) कहते है। ESR Test के जरिए लाल रक्त कोशिकाओं (Red Blood Cells) की जांच की जाती है और उनमें पायी जाने वाली खराबी (Sediment) का पता लगाया जाता है। यह सामान्य ब्लड टेस्ट की तरह ही टेस्ट है जिसमें डॉक्टर आपके शरीर में होने वाली समस्याओं जैसे- सूजन या किसी भी प्रकार के संक्रमण को पता लगा पाते है। पर बहुत से लोगों को ईएसआर ब्लड टेस्ट क्या होता है एवं ईएसआर परीक्षण क्यों किया जाता है के बारे पता नहीं होता।

विज्ञापन
विज्ञापन

अगर आपको अपने शरीर में किसी भी बीमारी के लक्षण दिखाई देते है तो आप उसकी पुष्टि करने के लिए उसकी जांच करवाते है, ताकि डॉक्टर आपकी बीमारी को पकड़ सके। हम आपको बताना चाहेंगे कि ESR Test कराने का मकसद किसी विशेष बीमारी को पकड़ना नहीं होता है और ना ही इस टेस्ट से किसी बीमारी को पकड़ा जा सकता है। ESR टेस्ट से बस आपके शरीर का ESR लेवल चेक किया जाता है, जिससे डॉक्टर को आपके शरीर में होने वाली कुछ समस्या की जानकारी प्राप्त हो जाती है और किसी बीमारी की स्थिति में यह टेस्ट डॉक्टर को उस बीमारी के कारण का पता लगाने में मदद करता है।

ESR Test In Hindi

अगर आप जानना चाहते हैं, कि ESR Test Kya Hai और महिला में खून में ईएसआर में वृद्धि के कारण क्या हैं, तो चलिए अब ये सभी महत्वपूर्ण जानकारी हम आपको विस्तार से समझाते हैं, कि ESR Full Form in Hindi क्या होता है, ESR बढ़ने से क्या होता है और इसके साथ ही ईएसआर 40 खतरनाक है या नहीं? जानने के लिए हमारी यह पोस्ट शुरू से अंत तक जरुर पढ़ें।

ESR Test In Hindi

ई.एस.आर. टेस्ट एक प्रकार का ब्लड टेस्ट (Blood Test) होता है, जिसमें एक पतली ट्यूब में लाल रक्त कोशिकाओं (Red Blood Cells) की जांच की जाती है और यह पता लगाया जाता है कि लाल रक्त कोशिकाएँ कितनी जल्दी टेस्ट ट्यूब के निचले हिस्से में बैठ रही है। इस ट्यूब में कई घंटों के बाद जो लाल रक्त कोशिकाएं निचे आती है उन्हें मापा जाता है। यह लाल रक्त कणिकाएँ एक घंटे में जितनी निचे बैठती है, सेडीमेंटेशन रेट उतनी ही अधिक होता है।

ईएसआर टेस्ट के जरिए आपके शरीर की समस्या को पकड़ा जाता है, जैसे सूजन और जलन महसूस होना, किसी संक्रमण का पता लगाना। किसी बीमारी की स्थिति में ESR Test को बाकी टेस्ट के साथ ही करवा लिया जाता है, जिससे डॉक्टर को आपकी बीमारी पकड़ने में बहुत मदद मिलती है।

ESR Full Form in Hindi

ई.एस.आर. का पूरा नाम या ESR Full Form – “Erythrocytes Sedimentation Rate” होता है। ESR Ka Full Form In Hindi – “एरिथ्रोसाइट्स सेडीमेन्टेशन रेट” होता है।

विज्ञापन
विज्ञापन

ESR Kya Hota Hai ये आपने अभी जाना अब आगे हम आपको Erythrocyte Sedimentation Rate in Hindi से जुड़ी अन्य जानकारी जैसे ईएसआर बढ़ने से क्या होता है बतलायेंगे।

यह भी पढ़े: BP Kaise Check Kare? Blood Pressure Napne Ke Tarike क्या होते है?

विज्ञापन

ईएसआर के बढ़ने के कारण

ESR लेवल कई कारणों से बढ़ सकता है जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए, चलिए आपको बताते है कि यह किन कारणों से बढ़ता है।

  • प्रेगनेंसी की अवस्था में
  • बुढ़ापे की स्थिति में
  • खून की कमी होने के कारण
  • थाइराइट की समस्या होने पर
  • लिंफोमा की वजह से
  • गठिया की समस्या होने पर
  • शरीर की माशपेसियां और जोड़ों में दर्द होना
  • रूमेटिक बुख़ार में

ESR बढ़ने से क्या होता है

ई.एस.आर. रेट हाई होने या ईएसआर बढ़ने से क्या होता है –

  • एनिमिया (Anemia)
  • हाई कोलेस्ट्राल (High Cholestrol)
  • किडनी बीमारी (Kidney disease)
  • थॉयराइड बीमारी (Thyroid disease)

ESR घटने से क्या होता है

ईएसआर रेट लो होने पर आपको यह समस्या हो सकती है –

  • कन्जेस्टिव हार्ट फ्लोयर (Congestive Hear Failure – CHF)
  • क्रोनिक फैटिग्यू सिन्ड्रोम (Chronic Fatigue Syndrome)
  • लॉ प्लाज्मा प्रोटीन (Low Plasma Protein)
  • सिक्कल सेल एनिमिया (Sickle Cell Anemia)

ESR Rate बढ़ने के लक्षण

  • बुखार
  • सिर दर्द
  • डायरिया
  • बुखार
  • जोड़ों में दर्द
  • गर्दन और कन्धों में दर्द
  • शरीर में जकडन
  • मॉल में खून आना
  • अचानक पेट दर्द
  • हड्डियों में संक्रमण
  • शरीर में संक्रमण और सूजन का आना
  • बेचैनी

High-Esr-level

ESR Test In Hindi Kitna Hona Chahiye

ESR टेस्ट की नार्मल वैल्यू व्यक्ति की उम्र और लिंग के आधार पर निर्धारित की जाती है तथा जिसे प्राप्त करने के लिए Mm/Hr का उपयोग किया जाता है। ईएसआर परीक्षण नार्मल रेंज (ESR Normal Range in Hindi) के कुछ उदाहरण हम आपको नीचे बता रहे है।

  • जन्म के उपरांत एक बच्चे की नार्मल ईएसआर रेंज 2 Mm/Hr के आस-पास होना चाहिए।
  • जो बच्चे युवा अवस्था में प्रवेश करने वाले होते है उनकी नार्मल ईएसआर रेंज 2 से लेकर 13 Mm/Hr के अंदर होना चाहिए।
  • अगर किसी महिला की आयु 50 वर्ष से कम है तो उसका ESR 20 Mm/Hr तक होना चाहिए।
  • किसी महिला की उम्र 50 वर्ष से ज़्यादा हो चुकी है तो उसका ईएसआर परीक्षण नार्मल रेंज ESR 30 Mm/Hr तक होना चाहिए।
  • एक पुरूष की उम्र 50 वर्ष से कम होने की स्थिति में उसका ESR 15 Mm/Hr के आस-पास होना चाहिए।
  • किसी पुरूष की उम्र 50 वर्ष से अधिक हो जाती है तो उसका ईएसआर परीक्षण नार्मल रेंज 20 Mm/Hr के आस-पास होना चाहिए।

जरूर पढ़े: DNA Kya Hai? – डीएनए के कार्य, खोजकर्ता व इसके बारे में महत्वपूर्ण तथ्य!

ईएसआर ब्लड टेस्ट कैसे होता है?

ईएसआर परीक्षण करने के लिए आपके शरीर से खून का एक सैंपल ESR Test Kit के द्वारा लिया जाता है और फिर उस Blood Sample को जांच के लिए लेबोरेटरी भेजा जाता है। जहाँ पर उस खून के सैंपल को एक पतली और लंबी कांच की ट्यूब में रखा जाता है और फिर एक घंटे तक खून के नीचे गिरने की स्थिति को मापा जाता है।

अगर आपके शरीर में कही सूजन है तो असामान्य प्रोटीन लाल रक्त कोशिकाओं के गुछे बना देगा, जिससे लाल रक्त कोशिकाओं का वजन बढ़ जाएगा और वह जल्दी नीचे गिरने लगेगा। इसे Mm/Hr (मिलीमीटर प्रति घंटा) में मापा जाता है, इस स्थिति से डॉक्टर को पता चल जाता है की आपको कोई समस्या है, की नहीं।

ईएसआर रेट बढ़ने से बचने के घरेलू उपाय

ESR लेवल के बढ़ जाने की स्थिति में उसको कम करने के लिए आपको सबसे पहले उस समस्या का पता लगाना होगा। जिसके कारण आपका ESR लेवल बढ़ा है। किसी भी बीमारी से बचे रहने का सबसे आसान उपाय है अपनी जीवनशैली में संतुलन बनाए रखना। इसके लिए आप अपने खान-पान यानि डाइट में बदलाव करके अपनी जीवनशैली में सुधार करके ESR बढने से रोक सकते है –

1. व्यायाम

ESR लेवल को बढने से रोकने के लिए आपको रोज कम से कम आधे घंटे व्यायाम करना चाहिए जैसे टहलना, एरोबिक या स्विमिंग करना आदि ये शरीर की सूजन कम करने में काफी मदद करते है।

2. योगा

योगा हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में काफी मददगार होता है, ESR लेवल को कम करने के लिए आप नियमित योगाभ्यास करें।

3. तेल, मिर्च, मसाले और मीठे खाद्य पदार्थों से परहेज करें

ज्यादा तेल, मिर्च-मसाले और मीठे खाद्य पदार्थों का सेवन न करें। क्योंकि इनसे कोलेस्ट्रॉल बढ़ता है, जिससे शरीर में सूजन आती है, और आपका ESR लेवल बढ़ सकता है।

4. ज्यादा पानी पियें और हरे पत्तेदार सब्जियों का सेवन करें

पानी पीने से हमारा शरीर हाइड्रेट रहता है, जिससे हमारी मांसपेशियां और हड्डियाँ स्वस्थ रहती है, और शरीर की सूजन भी कम होती है। इसलिए आप रोजाना 1-2 लीटर पानी पियें, साथ में हरे पत्तेदार सब्जियों का सेवन करें और सोयाबीन तेल की जगह ओलिव आयल का इस्तेमाल करें।

तो ये थे कुछ उपाय जिनका इस्तेमाल करके आप ESR Level को बढने से रोका जा सकता है। बीमारी की स्थिति में ESR Test को बाकी टेस्ट के साथ ही करवाया जाता है, जिससे डॉक्टर को बीमारी पकड़ने में बहुत मदद मिलती है।

क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी: Viral Fever Kyu Hota Hai? – जानिए वायरल फीवर के लक्षण

ईएसआर रेट कम करने के घरेलू उपाय

आईये अब हम आपको ESR Rate कम करने के घरेलू उपाय के बारे में बताते है –

  • नीम शरीर के संक्रमण को दूर कर खून को साफ़ करती है, यह ESR रेट को सामान्य करने में मदद करती है। इसके लिए आप नीम का जूस बनाकर पी सकते है।
  • हल्दी में एंटी बायोटिक गुण पाए जाते है, जो न केवल इम्युनिटी को बढ़ते है बल्कि बॉडी के इन्फेक्शन को दूर करने में और सूजन कम करने में मदद करता है। आप एक छोटा चम्मच हल्दी को दूध के साथ मिलाकर ले सकते है।
  • मेथी शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में बहुत कारगर है, इसके सेवन से शरीर की सूजन के साथ इन्फेक्शन भी दूर हो जाता है। आप इसके लिए 1 चम्मच मैथी के बीजों को पानी में उबालकर ठंडा कर उसे रोज पी सकते है।

ESR Test Price

इस टेस्ट की कीमत शहर के हर हॉस्पिटल के हिसाब से अलग-अलग हो सकती है। फिर भी हम आपके लिए कुछ आँकड़े लाए है जैसे– ESR Blood Test के लिए आपको अधिकतर जगह पर 100 रुपए से लेकर 500 रूपए तक देना होंगे।

ESR Test In Hindi – FAQ’s

प्रश्न 1: ईएसआर 70 खतरनाक है?

उत्तर – 100 मिमी/घंटा से अधिक ईएसआर का स्तर संक्रमण, हृदय रोग या कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का संकेत दे सकता है।

प्रश्न 2: ईएसआर कितना होना चाहिए?

उत्तर – आयु                पुरुष            महिला

  • 50 से कम        0-15 मिमी    0-20 मिमी
  • 50 से अधिक    0-20 मिमी     0-30 मिमी
  • बच्चों का ESR 10mm से कम होना चाहिए।
  • कम ईएसआर लेवल सामान्य होता है और इसके कोई लक्षण नहीं होते है।

Conclusion

तो दोस्तों मनुष्य शरीर में होने वाली कुछ समस्या की जांच के लिए कई टेस्ट कराए जाते है जिनमे से एक ESR Test है और आज हमने आपको ESR Test Kya Hai की पूरी जानकारी प्रदान की है। यह टेस्ट आपके शरीर में बिना किसी कारण के आए सूजन और जलन के बारे में पता करने के लिए किया जाता है। डॉक्टर अकेले इसमें बिना किसी कारण के आए सूजन और जलन के बारे में पता लगाने के लिए किया जाता है।

ईएसआर टेस्ट को अन्य जाँच के साथ ही करवा लिया जाता है जिससे डॉक्टर को बीमारी होने का कारण पता करने में मदद मिलती है। अगर अब आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी उपयोगी लगी हो तो ESR Test Kya Hota Hai In Hindi को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें, ताकि उन्हें भी इसके बारे में पता चले।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ?

Average rating 4.5 / 5. Vote count: 124

अब तक कोई रेटिंग नहीं! इस लेख को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

हिंदी सहायता एप्प को डाउनलोड करें।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा?

आपको क्या जानकारी नहीं मिली हमें ज़रूर बताएं

हम सभी जानकारियां आपको जल्द उपलब्ध कराएँगे

एडिटोरियल टीम

Written by एडिटोरियल टीम

एडिटोरियल टीम, हिंदी सहायता में कुछ व्यक्तियों का एक समूह है, जो विभिन्न विषयो पर लेख लिखते हैं। भारत के लाखों उपयोगकर्ताओं द्वारा भरोसा किया गया।

Email के द्वारा संपर्क करें - [email protected]

One Comment

Leave a Reply

Leave a Reply

Avatar

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Income Certificate Kaise Banwaye

आय प्रमाण पत्र कैसे बनाएं – Income Certificate In Hindi!

Call Recording Kaise Karen

Call Recording Kaise Karen? फोन की कॉल रिकॉर्डिंग कैसे निकाले