ISRO Kya Hai? ISRO Ka Mukhyalay Kaha Hai जानिए - Hindi Sahayta
Akansha Panwar Education
हैलो दोस्तों Hindi Sahayta में आपका स्वागत है आज हम आपको बताएँगे की ISRO Kya Hai अगर आप भी ISRO के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते है। तो आप बिल्कुल सही पोस्ट पढ़ रहे है। इस पोस्ट के जरिये आपको हम इसकी पूरी जानकारी देंगे।

ISRO Ki Jankari Hindi Me आज आपको इस पोस्ट के जरिये जानने को मिलेगी। और आपको हम यह बिल्कुल आसान भाषा में समझाएँगे। आशा करते है की आपको हमारी सभी पोस्ट पसंद आ रही होगी। और हमें उम्मीद है की आप आगे भी हमारे ब्लॉग पर आने वाली सारी पोस्ट पसंद करते रहे।

पिछले कुछ सालों से ISRO ने कई उपलब्धियां प्राप्त की है। तथा विज्ञान के क्षेत्र में बहुत कामयाबी पायी है। अगर आप भी ISRO के बारे में जानने की इच्छा रखते है तो आज आपको इस पोस्ट के माध्यम से ISRO के बारे में जानकारी मिलेगी।

अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में ISRO ने भारत का नाम बहुत ऊँचा किया है। जिससे भारत आज एक गौरवशाली देश बनकर सामने आया है। इसी प्रकार की सभी जानकारी आज हम इस पोस्ट में आपके लिए लाये है। जिसमें आपको ISRO Ka Full Form भी जानने को मिलेगा।

तो आइये अब जानते है ISRO Ki Jankari Hindi Me अगर आप इसकी पूरी जानकारी प्राप्त करना चाहते है। तो इसके लिए हमारी यह पोस्ट What Is ISRO In Hindi शुरू से अंत तक ज़रुर पढ़े।

ISRO Kya Hai

ISRO का प्रमुख काम भारत को अंतरिक्ष से सम्बन्धित तकनीक को उपलब्ध करवाना है, ISRO द्वारा किये गए कार्यो में Launch Vehicles तथा Rockets का विकास करना शामिल है।
ISRO
रॉकेट उस यान को कहते है जिससे उपग्रह को छोड़ते है, ISRO के पास 2 मुख्य रॉकेट्स है PSLV (Polar Satellite Launch Vehicle) और GSLV (Geosynchronous Satellite Launch Vehicle)

इसमें से PSLV का प्रयोग छोटे तथा हल्के रॉकेट को छोड़ने के लिए किया जाता है। PSLV के द्वारा 70 से भी ज्यादा उपग्रह अब तक छोड़े गए है। GSLV का प्रयोग भारी उपग्रहों को छोड़ने के लिए किया जाता है।

जो पृथ्वी से 36 हजार किलोमीटर की ऊँचाई पर होते है। भारत में ISRO के 40 से अधिक केंद्र है। इसमें 17 हजार वैज्ञानिक काम करते है।

चंद्रयान – 1 अभियान के अंतर्गत ISRO ने मानवरहित यान को रिसर्च करने के लिए चाँद पर भेजा था। लेकिन चंद्रयान – 1 ने सिर्फ 10 महीने तक ही काम किया। और इन 10 महीनों में ही चंद्रयान- 1 ने अपना काम पूरा कर लिया था।

चंद्रयान – 1 की वजह से ही भारत ने चाँद पर पानी की खोज की। और भारत चाँद पर पानी खोजने वाला पहला देश बन गया। चंद्रयान – 1 की सफलता के बाद 2018 में ISRO की एक और योजना है, चाँद पर एक और मिशन भेजने की।

क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी: IAS Ki Taiyari Kaise Kare? आईएएस से जुडी पूरी जानकारी हिंदी में |

ISRO Full Form

Indian Space Research Organization

ISRO Full Form In Hindi

भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन

ISRO Ka Mukhyalay Kaha Hai

ISRO (भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन) का मुख्यालय बेंगलुरु कर्नाटक में स्थित है।

ISRO Ki Sthapna Kab Hui Thi

ISRO की स्थापना 15 अगस्त 1969 को की गई थी।

ISRO Ki Sthapna Kisne Ki Thi

ISRO की स्थापना डॉक्टर विक्रम साराभाई द्वारा 1969 में की गई थी।

ISRO के वर्तमान अध्यक्ष कौन है

के सीवान को सरकार ने भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन का अध्यक्ष नियुक्त किया है। जिनकी नियुक्ति 12 जनवरी 2015 को की गई थी। वर्तमान में के सीवान भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन के अध्यक्ष है।

यह पोस्ट भी जरूर पढ़े: English Bolna Aur Padhna Kaise Sikhe? – 5 सरल और आसान तरीको से केवल कुछ दिनों में अंग्रेजी बोलना सीखिए!

ISRO Ka Itihas

ISRO की स्थापना विक्रम साराभाई ने की। इसलिए इन्हें ISRO का जनक भी कहा जाता है। ISRO को अंतरिक्ष विभाग के द्वारा नियंत्रित किया जाता है। ISRO ने पहला उपग्रह 19 अप्रैल 1975 को Launch किया था। जिसका नाम आर्यभट्ट था। सन 1979 तक ISRO अपने पूर्ण स्वदेशी सैटेलाइट बनाने में तो कामयाब रहा।

पर अभी भी उसे अंतरिक्ष में सैटेलाइट Launch करने के लिए अन्य देशों से मदद लेनी पड़ती थी। लेकिन 1980 में अपना खुद का सैटेलाइट बनाकर इसे स्पेस में सफलतम प्रयास के साथ Launch कर दिया गया। मंगलयान की शुरुआत अंतरिक्ष के इतिहास में भारत के लिए सबसे गौरवशाली रहा है।

मंगलयान के पहले ही प्रयास में ISRO सफल रहा था। और पहले प्रयास में ही मंगल तक पहुँचने वाला पहला देश भारत है। 5 नवंबर 2013 को मंगलयान Launch किया गया था। जो 6660 लाख किलोमीटर की यात्रा करके 24 सितम्बर 2014 को सफलता के साथ मंगल गृह में प्रवेश कर गया था।

भारत ने अपना खुद का Gps System स्थापित करने के लिए अप्रैल 2016 में सफलता के साथ अपने Gps Satellite NAVIC (Navigation With Indian Constellation) Launch किया|

ISRO ने 15 फरवरी 2017 को PSLV-C37 के द्वारा 104 सैटेलाइट को पृथ्वी की कक्षा में स्थापित किया। और सबसे ज्यादा सैटेलाइट Launch करने का World Record बना दिया और भारत का नाम ऊँचा किया है।

जरूर पढ़े: Hindi Me Type Kaise Kare? English Keyboard Se Hindi Typing Kaise Kare? – Hindi Me Kaise Likhe जानिए हिंदी मे!

Conclusion:

आज की पोस्ट के माध्यम से आपको ISRO Ki Jankari Hindi Me प्राप्त हुई। और आपको इस पोस्ट के द्वारा ISRO Ka Full Form भी जानने को मिला। उम्मीद है दोस्तों आपको इसकी जानकारी हमने अच्छे से दी।

ISRO History In Hindi की जानकारी आपको कैसी लगी हमें ज़रुर बताये। ISRO Ka Mukhyalay Kaha Hai यह भी आपको आज की इस पोस्ट जरिये पता चला। हम आशा करते है की आपने ISRO के बारे में जानकारी अच्छे से प्राप्त की होगी।

ISRO History In Hindi में आपको ISRO के इतिहास के बारे में बहुत कुछ जानने को मिला। इस पोस्ट में आपको ISRO Ki Sthapna Kisne Ki Thi यह भी पता चला। और आज की पोस्ट की जानकारी आप अपने Friends को भी दे। तथा Social Media पर भी यह पोस्ट ISRO Kya Hai ज़रुर Share करे। जिससे और भी लोगों को इसके बारे में जानकारी प्राप्त हो।

हमारी पोस्ट What Is ISRO In Hindi में आपको कोई परेशानी है या आप इस पोस्ट के बारे में और कोई जानकारी चाहते है, तो Comment Box में Comment करके हमसे पूछ सकते है, हमारी Team आपकी Help ज़रुर करेगी।

अगर आप हमारी Website के Latest Update पाना चाहते है, तो आपको हमारी Hindi Sahayta की Website को Subscribe करना होगा। फिर मिलेंगे आपसे कुछ ऐसे ही New Article के साथ तब तक के लिए अलविदा दोस्तों आपका दिन शुभ हो।

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 2.00 out of 5)
Loading...

1 Comment

  • Avatar
    Neelesh
    Posted July 4, 2018 1:56 pm 0Likes

    Thanks for sharing this valuebal information

Leave a comment