1. Finance

TDS Kya Hai? – जानिए टीडीएस से जुड़ी पूरी जानकारी हिंदी में।

टीडीएस के बारे में जानना और उसके प्रति जागरूक रहना अतिआवश्यक हैं। यह आपको आपके वेतन के विषय में महत्वपूर्ण जानकारी देता हैं। टीडीएस क्या है और TDS की पूरी जानकारी पाने के लिए इस लेख को पूरा पढ़ें।

टीडीएस एक प्रकार का कर हैं जो हमारे द्वारा सरकार को चुकाया जाता हैं। लेकिन हम ये टैक्स कुछ अलग प्रकार से चुकाते हैं। हम अपनी तरफ से कई प्रकार के कर सरकार तक पहुँचाते हैं।

लेकिन ज़्यादातर कर में चोरी की संभावना होती हैं। टीडीएस में ये नहीं है। टीडीएस क्या होता है (What is TDS in Hindi), TDS Full Form, TDS Details in Hindi जानने के लिए आगे पढ़ें।

TDS Kya Hai

टीडीएस क्या है? जब कोई रुपयो का भुगतान करता हैं जैसे – किराया, दलाली, फीस, वेतन, ब्याज आदि तब उस भुगतान में से कुछ प्रतिशत राशि कर के तौर पर काटनी होती हैं, उस कटी हुई राशि को टीडीएस (TDS) कहा जाता हैं। असल में जो रिसीवर होता हैं उसे अपनी कमाई में से इनकम टैक्स/आयकर भरना होता हैं, और स्त्रोत पर कर कटौती प्रावधान यह निश्चित करता हैं कि यह कर भुगतान के दौरान ही काट लिया जाए। और जो रिसीवर होता हैं उसको वही राशि मिलती हैं जिसमें से टीडीएस कट चुका हो। इसलिए ‘स्त्रोत पर कर कटौती’ कहा गया हैं, वह कर जो आवक के स्त्रोत से ही कट जाए। कर का श्रेय रिसीवर को ही मिलता हैं।

TDS Ka Full Form In Hindi

टीडीएस का फूल फॉर्म हैं – “Tax Deducted At Source” एवं TDS Full Form in Hindi यानि टीडीएस को हिन्दी में  “स्त्रोत पर कर कटौती” कहते हैं।

TDS Ki Puri Jankari

आसान भाषा में कहे तो टीडीएस का अर्थ हैं जब आप हर महीने अपना वेतन पाते हैं तो उसमें से कुछ प्रतिशत रकम पहले से ही कट जाती हैं। वह कटी हुई रकम कर के रूप में सरकार तक पहुँचती हैं और उस रकम को ही टीडीएस कहते है। कर जो आपकी आवक के स्त्रोत से ही कट जाता हैं और उस कर का रेकॉर्ड आपके नाम पर होता हैं।

आयकर अधिनियम के अंतर्गत जिन भुगतानो का उल्लेख हैं उन सब में टीडीएस कटता हैं। आपका नियोजक आयकर विभाग के स्लैब रेट्स के हिसाब से टीडीएस काटता हैं। बैंक 10 प्रतिशत तक टीडीएस काटती हैं और पान कार्ड डिटेल्स ना होने पर 20 प्रतिशत। आयकर विभाग ने एक सीमा तय की हैं कि अगर किसी व्यक्ति की कर योग्य आय कर, योग्य कर सीमा से कम हैं तो उस व्यक्ति को कर नहीं भरना होगा।

जो कर स्त्रोत पर कटता हैं वो उस महीने के सातवें दिन तक सरकार को जमा हो जाना चाहिए। केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड टीडीएस को आयकर अधिनियम 1961 के अंतर्गत नियंत्रित करता हैं।

टीडीएस के फायदें

  • सरकार तक धन पहुंचता हैं।
  • टीडीएस भरने से कर कि चोरी रुकने में मदद मिलती हैं।
  • क्योंकि ये कर स्त्रोत से ही कट जाता हैं किसी भी प्रकार के धोखे कि संभावना नहीं रहती।

टीडीएस तब नहीं कटता जब भुगतान कोई सरकारी विभाग को किया जाता हैं। टीडीएस सर्टिफ़िकेट एक प्रमाण-पत्र हैं जो स्त्रोत यानि जो टीडीएस काटता हैं उसके द्वारा दिया जाता हैं जिसमें कितना टीडीएस काटा गया और जमा किया गया उसका उल्लेख होता हैं।

Conclusion

इस प्रकार टीडीएस भर कर आप देश के प्रति अपना योगदान देते हैं। टीडीएस देश के विकास में बड़ी भूमिका निभाता हैं।

हम उम्मीद करते हैं कि आपको यह लेख ज्ञानवर्धक लगा होगा और आपने इसमें जो निम्नलिखित चीज़ें जानी – TDS Full Meaning in Hindi, TDS Kya Hota Hai in Hindi, टीडीएस का मतलब क्या होता है? TDS Ka Matlab Kya Hota Hai, TDS Ki Puri Jankari Hindi me (TDS Full Information in Hindi) उससे आप जागरूक हुए होंगे।

आशा करते है आपको यह लेख मदद रूप साबित हो, यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो हमें कमेंट में ज़रूर बताये।

टीडीएस से जुडी और भी जानकारियां जो आपको ज़रूर पढ़ना चाहिए।

ITR Kya Hai? – जानिए आईटीआर से जुड़ी पूरी जानकारी हिंदी में।

GST Kya Hai? – जानिए जीएसटी से जुड़ी पूरी जानकारी हिंदी में।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ?

Average rating 3.6 / 5. Vote count: 14

अब तक कोई रेटिंग नहीं! इस लेख को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

हिंदी सहायता एप्प को डाउनलोड करें।

Contributor
क्या आपको सिद्धार्थ वायडा के आर्टिकल पसंद आयें? अभी फॉलो करें सोशल मीडिया पर!
पाठकों की प्रतिक्रिया आयी।
कमेंट देखे। कमेंट छिपायें।
Comments to: TDS Kya Hai? – जानिए टीडीएस से जुड़ी पूरी जानकारी हिंदी में।
  • Avatar
    August 19, 2020

    Very good thanks

    Reply
Write a response

Your email address will not be published. Required fields are marked *