Home » Finance » ITR Kya Hota Hai – ITR Full Form, व इससे जुड़ी पूरी जानकारी।

ITR Kya Hota Hai – ITR Full Form, व इससे जुड़ी पूरी जानकारी।

ITR Full Form ‘Income Tax Return’ है। ITR एक ऐसा फॉर्म होता है जिसे एक व्यक्ति को भारत के इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को जमा करना होता है। इसमें उस व्यक्ति द्वारा वित्तीय वर्ष के दौरान किये गए कर भुगतान के बारे में जानकारी होती है। जो ITR फाइल करते है उन्हें ITR Kya Hota Hai है, ITR Meaning In Hindi क्या है के बारे में पता होगा। हालाँकि बहुत से लोग ऐसे भी है जिन्हे ITR क्या है (What Is ITR In Hindi) एवं ITR Ka Full Form क्या होता है? इस बारे में शायद ही पता हो।

[toc]

आई.टी.आर. का फुल फॉर्म हिंदी में आयकर रिटर्न है। मतलब आपकी आमदनी पर केंद्र सरकार जो कर (Tax) वसूलती है, उसे ITR कहते है। जो लोग इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने के दायरे में आते है उन्हें साल में एक बार आईटीआर फाइल करना होता है। इसमें आपको एक आईटीआर फॉर्म में सरकार को अपनी आमदनी, खर्च, निवेश और टैक्स देनदारी के बारे में बताना होता है।

बहुत से लोग यह जानना चाहते हैं आखिरकार ITR Kya Hai, आपकी जानकारी के लिये बता दें आयकर रिटर्न को इनकम टैक्स रिटर्न कहते हैं इसमें आयकर से होने वाली कमाई को सरकार अपनी गतिविधियों और जनता को सुविधा और सेवाएं देने के लिए इस्तेमाल करती है। हालांकि बहुत से लोग आरटीआर क्या है या ITR क्या होता है में फॉर्म व पात्रता को लेकर कन्फूजन में रहते है, इसलिए यहां आपको ITR से जुड़ी लगभग सभी महत्वपूर्ण बातों के बारे में बताया गया है।

ITR Kya Hota Hai

ITR Full Form In Hindi

आईटीआर (ITR) का Full Form ‘Income Tax Return या आय कर रिटर्न‘ होता है। आयकर रिटर्न एक वित्तीय वर्ष के अंत में आयकर  विभाग को कर रिटर्न दाखिल करने की प्रक्रिया है। हमारी आमदनी का एक भाग सरकार के द्वारा आयकर के रूप में देश के विकास और व्यवस्थापन व सेवा शुल्क के रूप में लिया जाता है। इसे ‘Income Tax’ यानि ‘आयकर’ कहते है।

ITR Ka Full Form In Hindi व इससे जुड़ी पूरी जानकारी रखना जरुरी है अगर आप इसकी सही जानकारी नहीं रखेंगे तो आपको असुविधा हो सकती है।

इनकम टैक्स भरने के लिए आयकर विभाग ने 7 प्रकार के ITR फॉर्म निर्धारित किए है – ITR-1, ITR-2, ITR-3, ITR-4, ITR-5, ITR-6, ITR-7 और फॉर्म की प्रयोज्यता (Applicability) करदाता के प्रकार, प्रकृति और आय पर निर्भर करेगी।

ITR Kya Hota Hai

आईटीआर (ITR) यानि ‘Income Tax Return’ सरकार को अपने पिछले वित्तीय वर्ष का ब्यौरा देने के लिए भरा जाने वाला एक फॉर्म है। ITR का मतलब एक ऐसे कानूनी दस्तावेज़ से है, जिसमे नागरिक अपनी आमदनी का पूरा विवरण सरकार को देता है कि, उसने किन स्रोतों से पैसे कमाए, कितना निवेश किया, कितनी बचत की और कितना कर चुकाया।

करदाता (Income Tax Payer) अब आयकर विभाग की आधिकारिक वेबसाइट से अपने रिटर्न दाखिल करने की प्रक्रिया को पूरा कर सकता है। इसमें सात विभिन्न प्रकार के फॉर्म निर्धारित किये गए है जो कि, आईटीआर 1, आईटीआर 2, आईटीआर 3, आईटीआर 4, आईटीआर 5, आईटीआर 6 और आईटीआर 7 आदि है।

नीचे आपको सबसे अधिक लागू होने वाले ITR फॉर्मों की सूची दी गई है:

विवरणप्रयोज्यता
ITR-1 (जिसे सहज भी कहा जाता है)ITR निम्नलिखित स्रोतों से प्राप्त ₹ 50 लाख तक की कुल आय वाले निवासी व्यक्तियों द्वारा दायर किया जाना है:
1. वेतन
2. एक घर की संपत्ति
3. जिन्हें लॉटरी, घुड़दौड़, व अन्य कानूनी गैम्बलिंग आदि से आय होती है।
4. कृषि आय एक फाइनेंसियल वर्ष में ₹ 5,000 से अधिक है।
ITR-2यह ऐसे व्यक्तियों और HUFs द्वारा दाखिल किया जाना है जो आईटीआर-1 फॉर्म भरने की योग्यता नहीं रखते है तथा जिन्हें व्यवसाय या प्रोफेशन से हुए प्रॉफिट से आय नहीं है।
ITR-3 यह फॉर्म ऐसे व्यक्तियों एवं HUFs द्वारा दाखिल किया जाना है जिन्हे व्यवसाय या पेशे से हुए लाभ से आय होती है तथा जो ITR 4 के लिए पात्र नहीं है।
ITR-4 (जिसे सुगम भी कहा जाता है)यह फॉर्म भारत के निवासी व्यक्तियों, HUFs और पार्टनरशिप फर्मों (LLP के अलावा) के द्वारा दायर किया जाता है। जिनकी भारत के निवासी के तौर पर कुल आय ₹ 50 लाख तक है तथा जो आयकर विभाग की धारा 44AD, 44ADA या 44AE के तहत कंप्यूटेड है।

जैसे ITR होता है वैसे ही RTR भी होता है, जानते हैं  RTR Full Form In Banking In Hindi, आर टी आर क्या है, RTR यानि कि पुनर्भुगतान ट्रैक रिकॉर्ड, जिसका मतलब है प्रत्येक महीने के लिए ब्याज, और बाकी टैक्स का एक विवरण रखना।

ITR क्या होता है या ITR Filling क्या है?

आईटीआर (ITR) फॉर्म करदाता द्वारा आयकर रिटर्न दाखिल करने के लिए उपयोग किया जाने वाला एक फॉर्म है। ITR फॉर्म जमा करने की प्रक्रिया Income टैक्स फाइलिंग के रूप में जानी जाती है जो Income टैक्स डिपार्टमेंट में जमा की जाती है।

Income Tax के साथ-साथ प्रत्येक नागरिक पर ITR Form भरना भी ज़रूरी है। अगर आप टैक्स भरने वालों में नहीं आते तब भी आपको ये फॉर्म भरना चाहिए क्योंकि इसके कोई भी नुक़सान नहीं, बल्कि अनेक फायदे है जिनका लाभ आप ITR से पाते है।

ITR Kaise Banta Hai

आईटीआर आप ऑनलाइन (ई-फाइलिंग) माध्यम से आय कर रिटर्न दाखिल कर सकते हैं। अगर आप चाहें तो ऑफलाइन भी आईटीआर फाइल कर सकते हैं।

Income Tax Act के अनुसार, जिनकी आयु 60 साल से कम और आय 2.5 लाख से ज़्यादा है, Senior Citizen जिनकी आयु 60-80 साल और आय 3 लाख से ज़्यादा है, उन्हें ITR फॉर्म भरना अनिवार्य है।

ITR एक Statement है, जो सरकार को बताता है कि किसी देश के नागरिक अपने बिज़नेस या नौकरी से कितनी रकम कमाते है और उस पर कितना टैक्स देते है।

यहाॅं पर हमने जानकारी प्राप्त कि ITR Kya Hai अब बात करते हैं कि ITR को आप कैसे फाइल कर सकते हैं व इसके लिए आपको किन-किन दस्तावेजों की आवश्यकता होगी।

आईटीआर भरने के लिए आवश्यक दस्तावेज

ITR (इनकम टैक्स रिटर्न) ऑनलाइन दाखिल करने के लिए, निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता है:

  • पैन कार्ड
  • फॉर्म 26AS
  • फॉर्म 16ए, 16बी, 16सी
  • सैलरी पे स्लिप
  • बैंक डिटेल्स
  • इंटरेस्ट सर्टिफिकेट्स
  • TDS सर्टिफिकेट
  • कर बचत निवेश का प्रमाण

ITR Ko Kaise File Kare

आईटीआर को फाइल करने के लिये नीचे दिए गये स्टेप्स को फॅालो करें।

  • इनकम टैक्स की ई-फाइलिंग पोर्टल https://www.incometaxindia.gov.in पर जाएं।
  • आईटी रिटर्न प्रिपरेशन पर क्लिक करें और उसके बाद मेन्यू में जाकर डाउनलोड पर क्लिक करें।
  • आईटीआर फॉर्म को भरें, आईटीआर फॉर्म में भरी गई सभी जानकारी को वैलिडेट करें और टैक्स की गणना करें।
  • एक्सएमएल को जेनेरेट कर सेव करें।

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट आपकी Income को Analyse करता है और कोई गलती पाए जाने पर आयकर विभाग जवाबदेही भी कर सकता है। इसके जमा करने पर हमे Income टैक्स प्रूफ मिल जाता है, जिसकी आवश्यकता हमें कई Important कार्य जैसे लोन लेना या क्रेडिट कार्ड बनवाने में पड़ती है।

NOTE: इनकम टैक्स एक्ट, 1961 की धारा 139 (1) के अनुसार, कोई भी व्यक्ति जिसकी कुल कमाई वित्तीय वर्ष में टैक्स के दायरे में आती है (जो कि वित्तीय वर्ष 19 के लिए 2.5 लाख से अधिक है) उसे ITR फाइल करना होता है।

Conclusion

तो दोस्तों, ये थी आई टी आर क्या है in Hindi से जुड़ी जानकारी, उम्मीद करते है कि इस लेख ‘ITR Kya Hota Hai in Hindi’ के माध्यम से आप समझ गए होंगे Full Form of ITR क्या है, आईटीआर फाइल क्यों किया जाता है। यदि निर्धारित तारीख तक रिटर्न दाखिल (File) नहीं किया जाता है, तो करदाता पर भारी जुर्माना लगाया जाता है। इसलिए अगर आप इनकम टैक्स के दायरे में आते है तो समय पर अपना टैक्स भरे और देश का जिम्मेदार नागरिक होने का अपना फर्ज पूरा करें।

इस लेख में हमने जाना कि ITR File Kya Hota Hai (Income Tax Return Kya Hota Hai), ITR File Full Form क्या होता है और आईटीआर कैसे फाइल करें। आपको ITR Kya Hota H in Hindi के बारे में जानकारी कैसी लगी हमे कमेंट कर के ज़रूर बताएं। अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे शेयर करना न भूले।

ITR से जुड़े FAQs

  • क्या मैं स्वयं अपना ITR फाइल कर सकता हूं?

हाँ, कोई भी व्यक्ति आयकर विभाग की ऑफिसियल वेबसाइट के माध्यम से आईटीआर दाखिल कर सकता है।

  • ITR कौन दाखिल कर सकता है?

जो भी व्यक्ति सरकार द्वारा प्रदान किये गए टैक्स ब्रैकेट के अंतर्गत आता है उन्हें आईटीआर दाखिल करना अनिवार्य है।

  • ITR फॉर्म कितने प्रकार के होते हैं?

करदाताओं के लिए सात प्रकार के आईटीआर फॉर्म प्रदान किये जाते है; आईटीआर 1, आईटीआर 2, आईटीआर 3, आईटीआर 4, आईटीआर 5, आईटीआर 6 और आईटीआर 7 आदि।

  • क्या मैं Due Date के बाद ITR दाखिल कर सकता हूं?

हां, आप Due Date के बाद अपना ITR फाइल कर सकते है। हालांकि, नियत तारीख के बाद आईटीआर दाखिल करने पर आपको पेनल्टी भरना पड़ेगी।

इनकम टैक्स से जुड़ी यह पोस्ट भी पढ़े:

Income Tax Officer Kaise Bane? – क्वालिफिकेशन, परीक्षा, सैलरी।

GST Kya Hai? – जानिए जीएसटी से जुड़ी पूरी जानकारी हिंदी में।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ?

Average rating 4.6 / 5. Vote count: 191

अब तक कोई रेटिंग नहीं! इस लेख को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

एडिटोरियल टीम

एडिटोरियल टीम, हिंदी सहायता में कुछ व्यक्तियों का एक समूह है, जो विभिन्न विषयो पर लेख लिखते हैं। भारत के लाखों उपयोगकर्ताओं द्वारा भरोसा किया गया।Email के द्वारा संपर्क करें - [email protected]

2 thoughts on “ITR Kya Hota Hai – ITR Full Form, व इससे जुड़ी पूरी जानकारी।”

Leave a Comment