Home » Technology » Topology in Hindi – नेटवर्क टोपोलॉजी के प्रकार, फायदे, नुकसान।

Topology in Hindi – नेटवर्क टोपोलॉजी के प्रकार, फायदे, नुकसान।

Topology in Hindi: कंप्यूटर नेटवर्क विभिन्न तरह के होते है। इनके द्वारा ही किसी तरह की जानकारी को किसी दूसरे डिवाइस तक पहुँचाया जाता है। जब किसी प्रकार के 2 डिवाइस एक-दूसरे से जुड़ते है और किसी तरह की जानकारी को शेयर करते है तो इसे नेटवर्क कहते है। नेटवर्क का जो पूरा डिज़ाइन होता है उसे कैसे तैयार करना है, किस तरह के उसके प्रकार होते है इसे टोपोलॉजी कहा जाता है। इस लेख में आपको Topology Kya Hai, एवं नेटवर्क टोपोलॉजी क्या है की पूरी जानकारी प्रदान की गयी है।

[toc]

अगर आप किसी ऑफ़िस में कार्य करते है या कुछ इस प्रकार का वर्क करते है जिसमें आपको इन नेटवर्क का और कंप्यूटर का अधिक प्रयोग करना होता है तो ऐसे में आपको टोपोलॉजी की जानकारी आवश्यक रूप से होना चाहिए। इस तरह के कार्यों को करने के लिए टोपोलॉजी, Star Topology, Bus Topology, Network Topology, और Ring Topology समझना ज़रुरी होता है। तो अब हम टोपोलॉजी क्या है (What is Topology In Hindi), Topology Ki Definition के बारे में पूरी तरह से जानेंगे जिससे आप इसका प्रयोग कर पाएँगे।

Topology in Hindi

टोपोलॉजी क्या है?

नेटवर्क के Shape और Layout को टोपोलॉजी कहते है। नेटवर्क में जो नोड होते है वह किस तरह से आपस में एक-दूसरे से जुड़े रहते है और किस तरह से आपस में कम्युनिकेशन रखते है उसे टोपोलॉजी के द्वारा ही निर्धारित किया जाता है। यह दो तरह की होती है फ़िज़िक्स और लॉजिकल। कंप्यूटर को जिस तरह आपस में जोड़ा जाता है उस प्रक्रिया को टोपोलॉजी कहते है।

Network Topology Kya Hai

नेटवर्क टोपोलॉजी वह तरीका होता है जिसमें नेटवर्क के लिंक और नोड्स को एक दूसरे से आपस में जोड़ने के लिए व्यवस्थित किया जाता है। यह विभिन्न नोड्स के मध्य भौतिक संरचना को दर्शाता है जिससे तात्पर्य है, नेटवर्क तारों की तर्कपूर्ण व्यवस्था। अन्य शब्दों के कहे तो, कम्प्यूटर्स के बीच में नेटवर्क के माध्यम से जो डेटा का आदान प्रदान होता है वह नेटवर्क टोपोलॉजी संभव बनाता है।

Network Topology Ki Definition – जब विभिन्न प्रकार के कंप्यूटर आपस में जुड़ते है और किसी तरह की जानकारी को शेयर करते है तो इसे Network कहते है। और कंप्यूटर जिस तरह से आपस में जुड़े रहते है उसे ही नेटवर्क टोपोलॉजी कहते है।

इसी के साथ अब आप समझ चुके होंगे कि नेटवर्क टोपोलॉजी क्या है (Network Topology in Hindi), चलिए अब आपको बताते है कि नेटवर्क टोपोलॉजी कितने प्रकार के होते है।

जरूर पढ़े: Server Kya Hota Hai? – सर्वर कैसे काम करता है!

Network Topology Ke Prakar

नेटवर्क टोपोलॉजी निम्न प्रकार की होती है। नेटवर्क को बनाने के लिए इस तरह की नेटवर्क टोपोलॉजी का प्रयोग किया जाता है। नेटवर्क टोपोलॉजी के प्रकार (Types of Network Topology) निम्नलिखित है –

  1. बस टोपोलॉजी (Bus Topology)
  2. रिंग टोपोलॉजी (Ring Topology)
  3. स्टार टोपोलॉजी (Star Topology)
  4. ट्री टोपोलॉजी (Tree Topology)
  5. हाइब्रिड टोपोलॉजी (Hybrid Topology)

1. Bus Topology In Hindi

इसमें एक तार के द्वारा सारे कंप्यूटरों को जोड़ा जाता है। यह भी नेटवर्क का ही एक प्रकार होता है। इसमें एक ही केबल से प्रत्येक नेटवर्क डिवाइस जुड़े होते है। इस केबल के शुरू तथा अंत के सिरे में एक मुख्य तरह का डिवाइस लगा रहता है जो टर्मिनेटर होता है। यह Signals को कंट्रोल में रखता है। इसमें सारे कंप्यूटर एक ही लाइन में जोड़े जाते है। इसके लिए टर्मिनेटर का प्रयोग किया जाता है। Bus Topology Ki Definition समझने के बाद इससे होने वाले फ़ायदे भी जान लेते है।

Bus Topology Diagram

Bus Topology Kya Hai

Bus Topology Ke Fayde

इसके कुछ महत्वपूर्ण फायदे भी होते है जो आपको आगे बताये गए है। चलिए जानते है Bus Topology के क्या फायदे है।

  • यह बहुत ही सस्ती टोपोलॉजी होती है।
  • Bus Topology के नेटवर्क को क्रिएट करना बहुत ही सरल होता है।
  • इस टोपोलॉजी में कम केबल का प्रयोग किया जाता है।

Bus Topology Ke Nuksan

जिस तरह इस Topology के कुछ फायदे होते है उसी तरह इसके कुछ नुकसान भी होते है जो आपको नीचे बताये गए है।

  • यह टोपोलॉजी थोड़ा धीरे काम करती है।
  • अगर कोई एक कंप्यूटर फैल भी हो जाता है तो इसका सारा नेटवर्क फैल हो जाता है।
  • इसमें केबल की लम्बाई सीमित होती है।

2. Ring Topology In Hindi

यह नेटवर्क एक प्रकार से रिंग बनाने का काम करता है। यह नेटवर्क आख़िरी कंप्यूटर को सबसे पहले कंप्यूटर से जोड़ता है। इसमें डिवाइस अपने पास के दो डिवाइस से जुड़ी होती है। प्रत्येक डिवाइस में दो NIC (Network Interface Card) लगे रहते है। इस प्रकार से नेटवर्क का एक Circle बनता है जिससे डाटा एक ही दिशा में Flow होता है।

Ring Topology Diagram –

Ring Topology Kya Hai

Ring Topology Ke Fayde

रिंग टोपोलॉजी नेटवर्क से कुछ फायदे होते है यह आपको आगे बताये गए है।

  • इसके नेटवर्क की गति काफी अच्छी होती है।
  • इसको इंस्टाल करने में ख़र्चा भी कम होता है।
  • इस टोपोलॉजी को मैनेज करना भी आसान होता है।
  • इसमें किसी तरह के सेंट्रल डिवाइस की जरुरत नहीं होती है।

Ring Topology Ke Nuksan

इस टोपोलॉजी से कुछ नुकसान होते है। जो नीचे दिए गए है जानते है इससे क्या नुकसान होते है।

  • इसमें अगर कोई एक कंप्यूटर खराब होता है तो इस वजह से पूरा नेटवर्क खराब हो जाता है।
  • अगर कंप्यूटर में किसी चीज को Add या Remove करना होता है तो इस नेटवर्क को एक्सेस करने में परेशानी होती है।
  • इस नेटवर्क में कंप्यूटर एक-दूसरे पर निर्भर होते है।
  • Ring Topology में ट्रबलशूटिंग करना बहुत कठिन होता है।

3. Star Topology In Hindi

इस टोपोलॉजी में सारे कंप्यूटर एक हब से या सिर्फ एक केबल के द्वारा जुड़े रहते है। यदि आप Network Hub के बारे में नही जानते है तो इसके लिए आप हमारी इस पोस्ट Network Hub Kya Hai और Network Hub Kaise Kaam Karta Hai की सहायता ले सकते है। स्टार टोपोलॉजी सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जाती है। इसमें सेंट्रल नेटवर्क डिवाइस एक सर्वर के रूप में अपना काम करता है और बाकी के सारे कंप्यूटर क्लाइंट के रूप में अपना काम करते है।

इस टोपोलॉजी में यदि हब या स्विच में किसी तरह की परेशानी आती है तो पूरा नेटवर्क फैल हो जाता है लेकिन यदि किसी लोकल कंप्यूटर सिस्टम में कोई परेशानी आती है तो इसके नेटवर्क पर किसी तरह का कोई असर नहीं होता है।

Ring Topology Diagram –

Star Topology Kya Hai

Star Topology Ke Fayde

स्टार टोपोलॉजी से भी कुछ फायदे होते है जो आगे बताये गए है। जानते है इससे क्या फायदे होते है।

  • इसके माध्यम से नेटवर्क को सरलता से बड़ा कर सकते है।
  • जब कंप्यूटर या नेटवर्क केबल फैल हो जाता है तो इससे पूरे नेटवर्क पर कोई प्रभाव नहीं आता है।
  • इसको इंस्टाल करना भी बहुत आसान होता है।
  • यह सबसे ज्यादा प्रयोग की जाने वाली टोपोलॉजी है इसका इस्तेमाल अधिकतर ऑफ़िस या शॉप में किया जाता है।

Star Topology Ke Nuksan

इस टोपोलॉजी के कुछ नुकसान भी होते है जो नीचे दिए गए है।

  • यह टोपोलॉजी इस्तेमाल करने में महंगी होती है।
  • इस टोपोलॉजी को इंस्टाल करने की कीमत भी ज्यादा होती है।
  • यदि इसमें हब खराब हो जाता है तो इसका सारा नेटवर्क रुक जाता है और जितनी भी नोड होती है वह हब के कारण ही ठीक तरह से काम करती है।

4. Tree Topology In Hindi

ट्री टोपोलॉजी एक पेड़ की तरह होता है। इस टोपोलॉजी को स्टार टोपोलॉजी या बस टोपोलॉजी की तरह ही माना जाता है। जिस तरह स्टार टोपोलॉजी में एक मुख्य कंप्यूटर होता है उसी तरह इसमें भी एक मुख्य कंप्यूटर होता है और जिस तरह बस टोपोलॉजी में सभी कंप्यूटर एक तार से कनेक्ट होते है ट्री टोपोलॉजी में भी ऐसा ही होता है।

Tree Topology Diagram –

Tree Topology Kya Hai

Tree Topology Ke Fayde

  • इसमें डिवाइस का Point To Point Connection होता है।
  • ट्री टोपोलॉजी में नेटवर्क को बढ़ाना सरल होता है।
  • इंस्टाल करने में भी यह काफी सरल होता है।

Tree Topology Ke Nuksan

  • इसके रखरखाव में परेशानी आती है।
  • इसमें बड़ी केबल की जरुरत होती है।
  • यह टोपोलॉजी महंगी भी होती है।
  • अगर एक कंप्यूटर या नोड खराब हो जाता है तो सारे चाइल्ड नोड के नेटवर्क भी काम नहीं कर पाते है।

5. Hybrid Topology In Hindi

जब दो या दो से ज्यादा टोपोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है नेटवर्क को बनाने के लिए तो इसे हाइब्रिड टोपोलॉजी कहते है जैसे अगर एक टोपोलॉजी को दूसरी टोपोलॉजी के साथ जोड़ा जाएगा और उसके बाद जो टोपोलॉजी बनेगी उसे हाइब्रिड टोपोलॉजी कहेंगे।

Hybrid Topology Diagram –

Hybrid Topology Kya Hai

Hybrid Topology Ke Fayde

इस टोपोलॉजी के क्या फायदे है यह आपको नीचे दिए गए है।

  • अगर नेटवर्क में किसी तरह की कोई ख़राबी आती है तो उसके फाल्ट डिवाइस को खोजना सरल होता है।
  • बड़े ऑफ़िस के नेटवर्क के लिए हाइब्रिड टोपोलॉजी अच्छी होती है।

Hybrid Topology Ke Nuksan

इससे होने वाले नुकसान नीचे दिए गए है।

  • इस टोपोलॉजी को इंस्टाल करना बहुत कठिन होता है।
  • यह टोपोलॉजी बहुत ही महंगी होती है।

क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी: Ethernet Kya Hai? – Ethernet कैसे काम करता है!

Conclusion

Topology Kya Hai यह तकनीकी जानकारी हमने आपको बिल्कुल सरल रूप में समझाने की कोशिश की। अब जब भी आप इसका प्रयोग करेंगे तो प्रत्येक टोपोलॉजी का इस्तेमाल करने में आपको बहुत ही आसानी होगी। यदि आपके पास टोपोलॉजी से जुड़े अन्य कोई सवाल या सुझाव हो तो आप कमेंट करके बता सकते है हम आपसे जरूर संपर्क करें।

FAQs

  • नेटवर्क टोपोलॉजी कितने प्रकार है?
  1. बस टोपोलॉजी (Bus Topology) –
  2. रिंग टोपोलॉजी (Ring Topology) –
  3. स्टार टोपोलॉजी (star Topology)
  4. ट्री टोपोलॉजी (Tree Topology)
  5. हाइब्रिड टोपोलॉजी (Hybrid Topology)
  • सबसे सस्ती टोपोलॉजी कौन सी होती है?

सभी टोपोलॉजी में बस टोपोलॉजी सबसे सस्ती टोपोलॉजी होती है।

  • किस टोपोलॉजी में डेटा सबसे तेजी से ट्रांसफर होता है?

स्टार टोपोलॉजी में डाटा सबसे तेज़ी से ट्रांसफर होता है।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ?

Average rating 4.7 / 5. Vote count: 117

अब तक कोई रेटिंग नहीं! इस लेख को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

एडिटोरियल टीम

एडिटोरियल टीम, हिंदी सहायता में कुछ व्यक्तियों का एक समूह है, जो विभिन्न विषयो पर लेख लिखते हैं। भारत के लाखों उपयोगकर्ताओं द्वारा भरोसा किया गया।Email के द्वारा संपर्क करें - [email protected]

1 thought on “Topology in Hindi – नेटवर्क टोपोलॉजी के प्रकार, फायदे, नुकसान।”

Leave a Comment