Home » Personal Development » Communication Skills In Hindi – कम्युनिकेशन स्किल्स कैसे सुधारें।

Communication Skills In Hindi – कम्युनिकेशन स्किल्स कैसे सुधारें।

Communication एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके द्वारा दो या दो से अधिक व्यक्तियों के बीच सूचनाओं का आदान-प्रदान किया जाता है। हिंदी में कम्युनिकेशन का मतलब संचार या सम्प्रेक्षण होता है। प्रभावी Communication Skill एक व्यक्ति को अपनी बात को एक या अधिक व्यक्तियों के बीच प्रभावी रूप से सामने रखने में मदद करती है। किसी व्यक्ति से आपके बात करने के तरीके को कम्युनिकेशन स्किल्स कहते है। इस लेख में हम Communication Skills in Hindi के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करेंगे।

[toc]

Communication Skills Meaning in Hindi “संचार कौशल” होता है। एक प्रभावी कम्युनिकेशन स्किल किसी भी व्यक्ति को अपनी ओर आकर्षित करने का एक मुख्य माध्यम होता है। यदि आपके पास अच्छी कम्युनिकेशन स्कील्स है तो कोई भी व्यक्ति आपकी ओर आकर्षित होता है और उसे आपसे बात करना अच्छा लगता है साथ ही लोगों की आपसे बात करने में रूचि बढ़ेगी। अपनी बेहतरीन छवि बनाने के लिए आपकी कम्युनिकेशन स्कील्स अच्छी होना चाहिए।

हर क्षेत्र में आपकी कम्युनिकेशन स्कील्स बहुत काम आती है। आप कहीं पर जॉब करते हो, या आपका अपना स्वयं का कोई बिज़नेस हो, एक अच्छी कम्युनिकेशन स्किल्स का हर जगह महत्व होता है। कम्युनिकेशन ही एक ऐसी चीज है जो लोगों को हमसे जोड़ती है। यदि आप भी जीवन में सफल होना चाहते है तो आपको अपनी कम्युनिकेशन स्कील्स को Improve करना होगा। इस आर्टिकल ‘कम्युनिकेशन स्किल्स इन हिंदी’ के माध्यम से हम आपको कम्युनिकेशन स्किल्स क्या है (What Is Communication Skills In Hindi), एवं Communication Skills Kaise Improve Kare की पूरी जानकारी देंगे।

Communication Skills In Hindi

Communication Skills Kya Hai

कम्युनिकेशन का अर्थ होता है किसी प्रकार की सूचना एवं जानकारी का आदान-प्रदान करना। और जो उस सूचना एवं जानकारी को दूसरों को समझने एवं स्वयं को समझने में सक्षम बनाता है उसे ‘Communication Skill‘ कहते है। कम्युनिकेशन स्किल बातचीत या सम्प्रेषण का ही एक हिस्सा होती है जो हर किसी को नहीं आता है। अच्छी कम्युनिकेशन स्कील्स होने से व्यक्ति हमारी ओर आकर्षित होता है और अगर हमारी कम्युनिकेशन स्कील्स अच्छी नहीं है तो कोई भी व्यक्ति हमारी बातों में रूचि नहीं रखता है।

आप किसी इन्सान से बात करते है तो उसके बोलने के तरीके से ही आप उसकी कम्युनिकेशन स्किल का अंदाजा लगा सकते है। आप किस तरह से कम्यूनिकेट या बात करते है यह आपकी कम्युनिकेशन स्किल्स पर निर्भर करता है। बात करने का अच्छा तरीका Communication Skill से ही आता है।

कम्युनिकेशन के प्रकार

  1. मौखिक संचार (Verbal Communication Skills)
  2. लिखित संचार (Written Communication Skills)
  3. अमौखिक संचार (Non-Verbal Communication Skills)

1. मौखिक संचार – मौखिक संचार एक ऐसी संचार प्रणाली है जिसमें दो या दो से अधिक लोगों के बीच में बोलकर जानकारी साझा करते है। ये शब्द मौखिक और लिखित दोनों रूपों में हो सकते है। इसका प्रयोग फोन पर या समूह में अपनी बात को रखने के लिए किया जाता है।

2. लिखित संचार – एक ‘लिखित संचार’ से तात्पर्य उस प्रणाली से है जिसमें व्यक्ति अपनी बात को लिखित रूप में एक या अनेक व्यक्तियों के बीच रखने के लिए करता है। उदाहरण के लिए पत्र, मैनुअल, रिपोर्ट, टेलीग्राम, कार्यालय ज्ञापन, बुलेटिन आदि के माध्यम से लिखित रूप में संदेश, आदेश या निर्देश भेजना।

3. अमौखिक संचार – अमौखिक संचार, जिसे मैनुअल भाषा भी कहा जाता है। जिसमें आप बिना बोले या लिखत शब्दों के प्रयोग बातचीत कर रहे होते है। इसमें आप अपनी बॉडी लैंग्वेज, चेहरे के भाव, आँखों के झपकाने आदि का प्रयोग करते है।

How To Improve Communication Skills in Hindi

अपने कम्युनिकेशन स्कील्स या संचार कौशल को बेहतर बनाने के लिए कुछ विशिष्ट कदम उठाए जा सकते है। इनमें से कुछ तरीकों को नीचे सूचीबद्ध किया गया है।

  • बॉडी लैंग्वेज सही रखे
  • बाते ध्यान से सुने
  • कॉंफिडेंट और सकारात्मक रहे
  • आई कांटेक्ट रखे
  • पॉइंट टू पॉइंट बात करे
  • सही शब्दों का प्रयोग करे
  • व्यक्ति को समझे
  • रोज प्रैक्टिस करे
  • रिस्पेक्ट दे
  • बात पूरी करे

1. बॉडी लैंग्वेज सही रखे।

Communication में सबसे ज़्यादा बॉडी लैंग्वेज की भूमिका होती है। जब आप किसी से बात करते है तो वह आपकी बॉडी से भी दिखाई देती है। ऐसा न हो कि आप बोल कुछ और रहे है और आपकी बॉडी लैंग्वेज कुछ और बोल रही हो। यह फर्स्ट इम्प्रैशन होता है किसी से कम्यूनिकेट करने का। इसलिए अपनी बॉडी लैंग्वेज पर कंट्रोल होना बहुत ज़रुरी है।

2. बाते ध्यान से सुने।

आप जब भी किसी से बाते करते है तो सामने वाले की बातों को भी ध्यान से सुनना चाहिए। क्योंकि अच्छी Communication के लिए बोलना जितना ज़रुरी है उससे ज्यादा ज़रुरी है सामने वाले की बातों को ध्यान से सुनना। अगर आप सामने वाले की बात ध्यान से सुनते है तो ही आप उनकी बातों का जवाब सही से दे पाएँगे।

3. कॉंफिडेंट और सकारात्मक रहे।

जब आप किसी के सामने अपनी बात रखते है तो उसे प्रेजेंट करने में विश्वास बनाकर रखे और अपनी बात कहे। इसके लिए पहले थोड़ा सोचे उसके बाद ही अपनी बात कहे। अगर आप कॉंफिडेंट दिखते है तो आप अपनी बात को सही साबित कर सकते है।

4. आई कांटेक्ट रखे।

आप जब किसी से बात करते है तो उनसे आई कांटेक्ट करके बात करे। अगर आप बात करते समय व्यक्ति की आँखों में देख कर बात करते है तो इससे आपका आत्मविश्वास भी बढ़ता है और सामने वाला व्यक्ति आपको सुनने और आपसे बोलने में भी रूचि रखता है। यदि आप ऐसा नहीं करते है तो सामने वाले को लगता है की आपको उनकी बातों में रूचि नहीं है और आप उनसे बोर हो रहे है।

5. पॉइंट टू पॉइंट बात करे।

हम अपनी बातों को तभी समझा पाते है जब हम पॉइंट टू पॉइंट बात करते है। बहुत से लोग ऐसा करते है कि किसी बात को एक ही बार में एक साथ बोल देते है जिससे सामने वाले व्यक्ति को कुछ भी समझ में नहीं आता है। इसके लिए अपनी बातों को पॉइंट टू पॉइंट रखे जिससे सुनने वाले को आपकी सभी बाते अच्छे से समझ में आये।

6. सही शब्दों का प्रयोग करे।

जब आप किसी से बात करते है तो गलत शब्दों का प्रयोग ना करे। सही शब्दों का चयन करे, कभी भी काम चलाऊ जैसे शब्दों का प्रयोग ना करे। जब आप अच्छे और आकर्षित शब्दों का प्रयोग करते है तो लोग आपसे आकर्षित होते है। और आपकी बात ध्यान से सुनते है तथा आपको एक अच्छा व्यक्ति समझते है।

7. व्यक्ति को समझे।

सभी इंसानों से बात करने का तरीका अलग होता है। तो जब भी आप किसी से बात करे तो उसकी उम्र और उसके प्रोफेशन का ध्यान रखे। जैसे अगर आप किसी छोटे बच्चे से बात करते है तो उसका तरीका अलग होता है और जब आप किसी ज्यादा उम्र के व्यक्ति से बात करते है तो उसका तरीका अलग होता है और जब आप ऑफ़िस में रहते है तो वहां पर बात करने का तरीका अलग होता है। इसी तरह सभी व्यक्तियों से बात करने का तरीका अलग होता है।

8. रोज प्रैक्टिस करे।

वो कहावत तो आपने जरूर सुनी होगी कि “प्रैक्टिस मेक मेन परफेक्ट” मतलब “अभ्यास मनुष्य को परिपूर्ण बनाता है”। इसलिए अपनी कम्युनिकेशन स्किल्स को बेहतर करने के लिए रोज अभ्यास करें। इसकी शुरुआत एक छोटे से इंटरेक्शन से ही होती है।

9. रिस्पेक्ट दे।

यदि आप सामने वाले की बातों को रिस्पेक्ट देते है तो वह आपसे आगे और बात करने में रूचि रखते है। इसलिए सामने वाले की बातों का ध्यान रखे और उनकी बातों को रिस्पेक्ट दे नहीं तो कन्वर्सेशन बोर लगने लगेगी।

10. बात पूरी करे।

कभी भी अपनी बातों को अधूरा ना छोड़े बात को पूरा करे और सामने वाले की बात को भी पूरा होने दे। उनकी बातों को भी ना काटे, नहीं तो सामने वाले व्यक्ति को लगेगा की आपको उनकी बातों में रूचि नहीं है। एक टीम या समूह में, दूसरों को बिना किसी रुकावट के बोलने की अनुमति देना एक आवश्यक संचार कौशल के रूप में देखा जाता है।

तो ये सभी एक अच्छे कम्युनिकेशन (Good Communication Skills Meaning in Hindi) मुख्य बाते है। अगर आप इन सभी बातों का ध्यान रखते है तो आपकी Communication Skills बेहतर होती है और आप हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त कर सकते है।

Conclusion

तो दोस्तों ये थी Communication Skill Kya Hai (Communication Skill in Hindi) और Communication Skills Kaise Sudhare से जुड़ी जानकारी। उम्मीद करते है की इस लेख के माध्यम से आपको अपनी कम्युनिकेशन स्किल सुधारने में मदद मिलेगी। हमने आपको कम्युनिकेशन स्किल्स को इम्प्रूव करने के जो प्रभावी तरिके बताये वह आपके लिए जरूर उपयोगी साबित होंगे।

Communication Skill Meaning in Hindi क्या होता है की जानकारी आप अपने दोस्तों को भी दे तथा सोशल मीडिया पर भी यह पोस्ट अवश्य शेयर करे, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों के पास यह जानकारी पहुँच सके। हमारी पोस्ट Tips For Communication Skills In Hindi में आपको कोई परेशानी है या आपका कोई सवाल है तो आप कमेंट में अपने सवाल ज़रूर पूछे, हमारी टीम आपकी मदद ज़रुर करेगी।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ?

Average rating 4.1 / 5. Vote count: 165

अब तक कोई रेटिंग नहीं! इस लेख को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

एडिटोरियल टीम

एडिटोरियल टीम, हिंदी सहायता में कुछ व्यक्तियों का एक समूह है, जो विभिन्न विषयो पर लेख लिखते हैं। भारत के लाखों उपयोगकर्ताओं द्वारा भरोसा किया गया।Email के द्वारा संपर्क करें - [email protected]

Leave a Comment