विज्ञापन
विज्ञापन

DSP Kaise Bane – DSP बनने की पूरी जानकारी।

विज्ञापन
विज्ञापन

DSP (Deputy Superintendent of Police) यानी पुलिस उपाधीक्षक पुलिस डिपार्टमेंट में उच्च रैंक का एक शक्तिशाली अधिकारी होता है। DSP बनने के लिए आपको UPSC और SPSC (राज्य लोक सेवा आयोग) द्वारा आयोजित एग्जाम देनी होती है। अगर आप DSP बनना चाहते हैं तो इसके लिए आपको DSP Kaise Bane की पूरी जानकारी होनी चाहिए। इसलिए इस लेख में मैं आपको DSP से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी जैसे- DSP Police कैसे बने, DSP के लिए योग्यता, चयन प्रक्रिया, आदि प्रदान करने वाली हूँ।

डीएसपी पुलिस विभाग में एक प्रतिष्ठित रैंक होती है। DSP को सरकार द्वारा अच्छा वेतन तथा सुविधाएँ दी जाती है। एक DSP अधिकारी का काम राज्य में कानून व्यवस्था बनाये रखना और अपराध को कम करना होता है। यह कार्य काफी चुनौतीपूर्ण होता है इसलिए DSP बनने के लिए हर उम्मीदवार को कड़ी मेहनत करनी पड़ती है।

विज्ञापन
विज्ञापन

DSP बनने के लिए दो तरीके होते है। आप प्रमोशन के ज़रिये सब इंस्पेक्टर (SI) या इंस्पेक्टर से DSP बन सकते है या फिर संघ या राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित परीक्षा देकर डायरेक्ट DSP बन सकते हैं। DSP पद की भर्ती के लिए हर साल राज्य सरकार द्वारा परीक्षा का आयोजन किया जाता है। इसलिए अगर आप जानना चाहते है कि Direct DSP Kaise Bane तो इस लेख में आपको DSP भर्ती से सम्बंधित हर जानकारी मिल जाएगी।

DSP Kaise Bane

DSP क्या होता है?

डीएसपी (DSP) राज्य स्तर पुलिस विभाग की एक सर्वोच्च रैंक होती है। DSP को पुलिस विभाग में सबसे महत्वपूर्ण और प्रमुख सरकारी नौकरियों में से एक माना जाता है। यह राज्य स्तर के पुलिस अधिकारी होते है जो राज्य के सुधार और उन्नति के लिए कार्य करते है, और चुनौतीपूर्ण ज़िम्मेदारी संभालते है जैसे- कानून व्यवस्था बनाये रखना और क्राइम रोकने के लिए कार्य करना। DSP के पास Assistant Commissioner of Police (ACP) के समान पॉवर होती है। एक DSP का प्रमोशन IPS (India Police Service) पद पर भी हो सकता है।

DSP Full Form In Hindi

डीएसपी का पूरा नाम या DSP Ka Full Form ‘Deputy Superintendent of Police‘ होता है। इसको हिंदी में (DSP Ka Full Form In Hindi) पुलिस उपाधीक्षक कहा जाता है। DSP अपने राज्य की पुलिस का प्रतिनिधित्व करता है और उन्हें लोगों के अधिकारों को बनाये रखने के लिए निर्देश देता है।

ये तो बात हुई DSP क्या है और DSP का फुल फॉर्म क्या होती है (DSP Full Form In Police), चलिए अब आगे बढ़ते है और जानते है DSP Officer Kaise Bane की पूरी प्रक्रिया के बारे में।

क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी: IAS Kaise Bane – आईएएस की तैयारी से जुड़ी पूरी जानकारी.

DSP Kaise Bane

अगर आप DSP बनना चाहते है तो इसके लिए आपको SPSC या UPSC द्वारा आयोजित Exam को पास करना होता है, जिसके लिए न्यूनतम एजुकेशन क्वॉलिटफिकेशन किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन डिग्री है। इस एग्जाम को पास करने के बाद आपको ट्रेनिंग दी जाती है जिसके बाद आप भारत में DSP बन सकते है।

हालांकि DSP अधिकारी बनने या राज्य लोक सेवा आयोग एवं संघ लोक सेवा आयोग परीक्षा में शामिल होने के लिए आपका कुछ योग्यताओं को पूरा करना भी आवश्यक होता है जैसे- शैक्षणिक योग्यता, शारीरिक योग्यता, आयु सीमा, आदि। इनके बारे में आगे हमने आपको विस्तार से बताया है।

DSP बनने के लिए योग्यता

  • शैक्षणिक योग्यता (Educational Qualifications)

उम्मीदवार का किसी भी मान्यता प्राप्त कॉलेज या यूनिवर्सिटी से किसी भी स्ट्रीम में ग्रेजुएट होना अनिवार्य है।

  • आयु सीमा

DSP में भर्ती के लिए विभिन्न वर्गों में आयु सीमा अलग है। इसमें जनरल कैंडिडेट के लिए आवेदन की न्यूनतम आयु 21 वर्ष और अधिकतम आयु 30 वर्ष है। वहीं SC/ST कैंडिडेट की आयु सीमा 21 वर्ष से 35 वर्ष तक और OBC कैंडिडेट के लिए आयु सीमा 21 वर्ष से 33 वर्ष तक है।

  • शारीरिक योग्यता (Physical Eligibility)

DSP में भर्ती के लिए शारीरिक योग्यताओं को पूरा करना आवश्यक होता है। इसमें महिला और पुरुष उम्मीदवारों के लिए अलग-अलग शारीरिक योग्यता निर्धारित की गयी है, जो कुछ इस इस प्रकार है।

  • हाइट – पुरुष उम्मीदवार की हाइट 168 सेमी यानी 5 फुट 6 इंच और महिला उम्मीदवार की हाइट 155 सेमी यानी 5 फुट 1 इंच होनी चाहिए।
  • चेस्ट – पुरुष उम्मीदवार की छाती कम से कम 84 सेमी होनी चाहिए और फुलाने पर यह 5 सेमी से अधिक होना चाहिए। महिलाओं को इसमें छूट होती है।
  • नेत्र दृष्टि (Eye Sight) – इसमें 6/6 या 6/9 विजन अच्छा माना जाता है।

इसे भी जरूर पढ़े: BDO Kaise Bane? बीडीओ ऑफिसर कैसे बने पूरी जानकारी

DSP Selection Process

जो उम्मीदवार DSP बनना चाहते है उनका स्टेट पब्लिक सर्विस कमीशन (SPSC) या यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (UPSC) द्वारा आयोजित परीक्षा में भाग लेना जरूरी होता है। इसमें से किसी एक परीक्षा को पास करने के बाद उन्हें DSP पद पर पोस्टिंग से पहले ट्रेनिंग दी जाती है।

DSP बनने का तरीका

आप 2 तरीके से DSP बन सकते है-

  1. UPSC Exam
  2. SPSC Exam

आइये अब एक-एक करके विस्तार से जानते है इनका DSP सिलेबस, एग्जाम पैटर्न, सिलेक्शन प्रोसेस, आदि।

1. UPSC Exam

UPSC परीक्षा के द्वारा DSP बनने के लिए, उम्मीदवार को UPSC CSE (यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन-सिविल सर्विस एग्जाम) पास करके IPS बनना होता है। UPSC एक राष्ट्रिय स्तर की एजेंसी है जो CSE (Civil Service Exam) परीक्षा आयोजित करवाती है DCP या IPS ऑफिसर के पद पर भर्ती के लिए। संघ लोक सेवा आयोग यानि यूपीएससी द्वारा DSP भर्ती के लिए चयन प्रक्रिया को मुख्य रूप से 3 भागों में बाँटा गया है-

  • प्रारम्भिक और मुख्य परीक्षा (Preliminary or Main Exam)
  • शारीरिक दक्षता परीक्षा (Physical Efficiency Test)
  • इंटरव्यू (Medical test and Interview)

1. प्रारम्भिक परीक्षा

DSP बनने के लिए सबसे पहले आपको प्रारम्भिक परीक्षा पास करनी होती है। इस परीक्षा में सामान्य ज्ञान से सम्बंधित प्रश्न पूछे जाते है, यह परीक्षा 2 भागों में बांटी गयी है, यानी इसमें 2 पेपर होते है। इस परीक्षा की अवधि 2 घंटे की होती है।

DSP प्रीलिमिनरी एग्जाम सिलेबस

विज्ञापन
विज्ञापन

Preliminary Exam में 200-200 अंक के ऑब्जेक्टिव टाइप दो पेपर होते है। यह एग्जाम मुख्य परीक्षा के लिए क्वालीफाइंग पेपर होता है। लेकिन इसमें नेगेटिव मार्किंग भी होती है, हर गलत जवाब पर आपके ⅓ अंक काटे जाते है।

प्रारम्भिक परीक्षा पेपर-1 प्रारम्भिक परीक्षा पेपर-2
भारतीय इतिहास संचार कौशल
सामान्य विज्ञान पारस्परिक कौशल
भारतीय राजनीति अंग्रेज़ी का कौशल
वर्तमान घटनाएं इंग्लिश कॉम्प्रिहेंशन
सामान्य मुद्दे भाषा कौशल (उम्मीदवार द्वारा चुनी गयी भाषा)
भारतीय भूगोल निर्णय लेने का कौशल
विश्व का भूगोल समस्या सुलझाने की क्षमता
सामाजिक विकास मानसिक क्षमता
आर्थिक विकास मूल संख्या

2. मुख्य परीक्षा

प्रारंभिक परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद आपको मुख्य परीक्षा देनी होती है। इसमें कुल मिलाकर 9 पेपर होते है जिसमें से 2 परीक्षाओं को आपको पास करना होता है, बाकी के 7 पेपर मेरिट में जोड़े जाते है। इस परीक्षा की अवधि 3 घंटे होती है।

DSP मेन एग्जाम सिलेबस

मेन एग्जाम पेपर सिलेबस
निबंध लेखन (Essay) किसी भी विषय पर निबंध लिखना होता है।
सामान्य अध्ययन (General Studies) 1 भारतीय विरासत, संस्कृति, भूगोल
सामान्य अध्ययन 2 संविधान, शासन, सामाजिक न्याय
सामान्य अध्ययन 3 प्रौद्योगिकी, पर्यावरण, आपदा प्रबंधन
सामान्य अध्ययन 4 नैतिकता, ईमानदारी (Integrity) और योग्यता (Aptitude)
वैकल्पिक विषय 1 उम्मीदवार द्वारा चुने गये विषय की परीक्षा
वैकल्पिक विषय 2 उम्मीदवार द्वारा चुने गये विषय की परीक्षा
पेपर 1 भारतीय भाषा (भारतीय भाषा में से चुनी गयी किसी भाषा की परीक्षा)
पेपर 2 अंग्रेजी भाषा

3. इंटरव्यू

सभी राउंड को सफलतापूर्वक पास करने वाले उम्मीदवारों को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। इंटरव्यू में आपकी मानसिक और तार्किक योग्यता को एक पेनल द्वारा जाँचा जाता है। इसमें प्राप्त होने वाले अंक भी आपकी मेरिट में जोड़े जाते है।

4. शारीरिक दक्षता परीक्षा (Physical Efficiency Test)

आपकी शारीरिक क्षमता को जाँचने के उद्देश्य से इस परीक्षा का आयोजन किया जाता है। इसमें विभिन्न तरह की परीक्षाएं होती है जैसे- दौड़, लंबी कूद, आदि।

  • 100 मीटर दौड़ 15 सेकंड में
  • 800 मीटर दौड़ 170 सेकंड में
  • शॉट पुट (7.2 किलो) 5.60 मीटर
  • लंबी कूद 3.80 मीटर
  • ऊंची कूद 1.20 मीटर

DSP चयन प्रक्रिया के सभी राउंड पूरे होने के बाद सम्बंधित विभाग द्वारा मेरिट लिस्ट जारी की जाती है, जिसमें अंकों के आधार पर उम्मीदवारों को रैंक दी जाती है। इस रैंक के आधार पर उम्मीदवार का चयन किया जाता है।

2. SPSC Exam

SPSC परीक्षा के माध्यम से DSP बनने के लिए उम्मीदवार को राज्य का PSC Exam (पब्लिक सर्विस कमीशन परीक्षा) पास करना होता है। SPSC एग्जाम एक राज्य स्तर की परीक्षा होती है जो DSP पद की भर्ती के लिए भारत के हर राज्य के लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित की जाती है।

उदाहरण के लिए, मध्य प्रदेश में DSP के लिए MPPSC Exam, बिहार में BPSC एग्जाम, और महाराष्ट्र में MPSC एग्जाम, आदि हर राज्य में होती है।

इस परीक्षा का सिलेबस और एग्जाम पैटर्न UPSC परीक्षा के एग्जाम पैटर्न के समान ही होता है। बस इसके सिलेबस में ‘राज्य का इतिहास’ एक विषय है जो जुड़ जाता है। इसके साथ ही इसमें पेपर की संख्या भी UPSC एग्जाम से कम होती है।

MPPSC DSP Exam Pattern

MPPSC DSP एग्जाम में सबसे पहला चरण ऑनलाइन परीक्षा का होता है। इसके दो भाग होते है- Part A और Part B. इनमें भारत, मध्य प्रदेश और अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों से सम्बंधित सामान्य ज्ञान के प्रश्न और इंजिनियर स्ट्रीम के प्रश्न पूछे जाते है।

इस राउंड को पास करने वाले उम्मीदवारों को इंटरव्यू और डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन प्रोसेस के लिए बुलाया जाता है। सभी राउंड को पास करने वाले उम्मीदवारों को 2 साल की ट्रेनिंग दी जाती है, जिसके बाद उनके अच्छे प्रदर्शन के चलते उन्हें परमानेंट कर दिया जाता है।

इस परीक्षा की कुल अवधि 3 घंटे होती है। इसके कुल प्रश्न 150 और कुल अंक 450 होते है।

भाग विषय कुल प्रश्न कुल अंक
भाग 1 मध्य प्रदेश का सामान्य ज्ञान 35 105
भारत सामान्य ज्ञान 10 30
अंतर्राष्ट्रीय सामान्य ज्ञान 5 15
भाग 2 संबंधित इंजीनियरिंग स्ट्रीम 100 300

हर राज्य में DSP पुलिस अधिकारी की भर्ती प्रक्रिया लगभग एक समान ही होती है। इसलिए अब यहाँ आपको अपने सवाल BPSC Se DSP Kaise Bane, UP Police Me DSP Kaise Bane या MP DSP Kaise Bane का जवाब मिल गया होगा।

एक नज़र इस पर भी: NDA Kya Hai? – एनडीए कैसे जॉइन करें की पूरी जानकारी।

DSP की तैयारी कैसे करें

DSP पुलिस विभाग के सर्वोच्च पदों में से एक है। इसमें भर्ती के लिए आपको बहुत मेहनत करनी पड़ेगी। इसलिए आगे हमने आपको कुछ ऐसे तरीके बताएं है जिनसे आपको DSP परीक्षा में सफल होने में सहायता मिलेगी।

1. सिलेबस को समझें

DSP की परीक्षा की तैयारी करने के लिए सबसे पहले आपको इसके सिलेबस को समझना होगा, जिससे आप सही डायरेक्शन में पढ़ाई कर पाएंगे।

2. टाइम टेबल बनायें

परीक्षा की तैयारी के लिए एक टाइम टेबल होना बहुत ज़रूरी होता है। इसके ज़रिये आप अपने सभी विषयों को ज़रूरत के अनुसार समय दे सकते है, जैसे उन विषयों को ज्यादा समय दे सकते है जिनमें आपको ज्यादा प्रैक्टिस की ज़रूरत है।

3. लक्ष्य को निर्धारित करें

DSP बनना चाहते है तो इसके लिए अपना लक्ष्य ज़रूर निर्धारित करें, और उस लक्ष्य पर प्रतिदिन मेहनत करें।

4. पिछले साल के क्वेश्चन पेपर को हल करें

पिछले सालों के DSP परीक्षा के पेपर हल करने का प्रयास करें। इससे आपको एग्जाम पैटर्न को अच्छी तरह से समझने में सहायता मिलेगी और आपकी लिखने और सोचने की स्पीड भी बढ़ेगी।

5. सामान्य ज्ञान को स्ट्रोंग बनायें

किसी भी प्रतियोगी परीक्षा में उत्तीर्ण होने के लिए आपका सामान्य ज्ञान (General Knowledge) मज़बूत होना बहुत ज़रूरी होता है। DSP परीक्षा में तो सामान्य ज्ञान की जानकारी होना सबसे अधिक महत्वपूर्ण है इसलिए इस पर काम करें। इसके लिए अखबार, मैगज़ीन और इंटरनेट की सहायता ले सकते है।

6. फिजिकल फिटनेस पर ध्यान दें

DSP पद पर भर्ती के लिए आपका शारीरिक रूप से फिट होना बहुत ज़रूरी ह। इसके लिए आप प्रतिदिन व्यायाम, दौड़, योग, आदि कर सकते है। इससे आपका दिमाग भी फ्रेश और शरीर स्वस्थ रहता है।

DSP Salary

एक DSP की औसत सैलरी ₹56,100 से लेकर ₹96,000 तक होती है। इसके साथ ही DSP officer को अन्य सुविधाएँ भी प्राप्त होती है जैसे- स्टाफ क्वार्टर, गाड़ी और ड्राइवर, घरेलु सहायक जैसे- माली, कुक, सिक्यूरिटी गार्ड, आदि।

Conclusion

इस प्रकार जो लोग UPSC के ज़रिये DSP नहीं बनना चाहते है वह SPSC परीक्षा के द्वारा DSP ऑफिसर बन सकते है और IPS Officer के समान सुविधाओं का लाभ उठा सकते है। राज्य में शान्ति बनाये रखने के लिए डिप्टी सुप्रिडेंट ऑफ पुलिस की मुख्य भूमिका होती है। DSP अपने राज्य में अपराधों की संख्या को कम करने पर काम करता है। डीएसपी अधिकारी बनने का एक फायदा यह भी है कि राज्य सरकार द्वारा उसका प्रमोशन उच्च पदों पर भी किया जा सकता है।

तो ये थी DSP Police Kaise Bane की पूरी जानकारी। आशा करते है इस लेख DSP Kaise Bane In Hindi से आपको अपने सवाल 12वी के बाद SP DSP Kaise Bane या Full Form Of DSP In Hindi का जवाब मिल गया होगा। फिर भी, यदि इस लेख से जुड़े आपके कोई सुझाव या सुधार है तो वो आप मुझे नीचे कमेंट करके बता सकते है।

FAQs

  • क्या मैं सीधे DSP बन सकता हूँ?

हाँ जी, हर साल पुलिस फ़ोर्स में सीधे DSP पद की भर्ती के लिए राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा परीक्षा आयोजित की जाती है। इसके अतिरिक्त आप इंस्पेक्टर पद से प्रमोशन के ज़रिये भी DSP बन सकते है।

  • क्या DSP एक अच्छी पोस्ट है?

जी हाँ, DSP राज्य सरकार द्वारा पुलिस डिपार्टमेंट में सर्वोच्च रैंक होती है। DSP ऑफिसर को अच्छी वेतन, सुविधाएँ और समाज में सम्मान मिलता है। इस जॉब में सर्विस के दौरान प्रमोशन की संभावनाएँ भी अधिक होती है।

  • DSP में भर्ती के लिए प्रयासों की कुल संख्या कितनी होती है?

DSP परीक्षा में प्रयासों की कोई सीमा निर्धारित नहीं होती है। उम्मीदवार अपनी आयु सीमा के आधार पर DSP परीक्षा के लिए कितनी भी बार आवेदन कर सकते है।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ?

Average rating 4.8 / 5. Vote count: 67

अब तक कोई रेटिंग नहीं! इस लेख को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

Default image
एडिटोरियल टीम

एडिटोरियल टीम, हिंदी सहायता में कुछ व्यक्तियों का एक समूह है, जो विभिन्न विषयो पर लेख लिखते हैं। भारत के लाखों उपयोगकर्ताओं द्वारा भरोसा किया गया।

Email के द्वारा संपर्क करें - [email protected]

Articles: 213

Leave a Reply