किसी भी देश की GDP उस देश की अंतराष्ट्रीय स्तर पर इकॉनमी को निर्धारित करती है। देश की अर्थव्यवस्था में GDP का बहुत बड़ा योगदान होता है, एक मजबूत GDP वाले देश की अर्थव्यवस्था भी मजबूत होती है। भारत एक विकासशील देश है परन्तु आज के समय में हमारी अर्थव्यवस्था विकसित राष्ट्रों को टक्कर दे रही है। हाल ही में दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं और ताक़तवर देशों के समूह G7 की बैठक वर्ष 2019 में आयोजित की गयी। G7 समिट में भारत को भी मेहमान के रूप में बुलाया गया था।

विशेषज्ञों के अनुसार तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था और एक बेहतरीन GDP वाली इकॉनमी होने के कारण भारत को भी फ्रांस में आयोजित हुई इस समिट में आमंत्रित किया गया था। अर्थव्यवस्था की दर निकालने के लिए GDP के साथ-साथ GNP की भी गणना की जाती है। आज हम आपको हमारी इस पोस्ट के माध्यम से बताएँगे कि जीएनपी तथा जीडीपी क्‍या है और इसके साथ ही GDP Or GNP Me Kya Antar Hai.

GDP Or GNP Kya Hai

GDP Kya Hai

GDP किसी भी देश में उपभोक्ता वस्तुओं और सेवाओं का बाजार मूल्य होता है। यह देश के कुल उत्पादन को मापने का कार्य करता है, और इसके साथ ही यह देश की अर्थव्यवस्था को समझने का सबसे अच्छा तरीका है। इसके अंतर्गत एक साल में एक देश में जितना उत्पादन हुआ है और साथ ही आपके द्वारा सेवा का कितना उपभोग किया गया है, दोनों की गणना की जाती है। GDP की गणना आमतौर पर वार्षिक आधार पर की जाती है परन्तु इसकी गणना तिमाही आधार पर भी की जा सकती है।

GDP Full Form:

GDP Ka Full Form – Gross Domestic Product

GDP Ki Full Form Hindi Mai – सकल घरेलू उत्पाद

सरकार हर तीन महीने और वार्षिक दोनों के लिए GDP का अनुमान जारी करती है। GDP उस क्षेत्र से संबंधित है जिसमें आय उत्पन्न होती है। यह एक वर्ष में एक राष्ट्र में उत्पन्न कुल उत्पादन का बाजार मूल्य है। GDP इस बात पर भी ध्यान देता है कि उत्पादन कहाँ प्राप्त हो रहा है न की इस बात पर ध्यान देता है कि इसे कौन उत्पन्न कर रहा है। GDP सभी घरेलू उत्पादनों का मापन करता है। उत्पादन ईकाइयों की राष्ट्रीयता कोई भी हो, GDP में सभी निजी और सार्वजनिक खपत के साथ निवेश और व्यापार के विदेशी संतुलन भी शामिल होते है।

क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी: GST Kya Hai? GST Bill Kya Hai? – भारत में GST के प्रकार, फायदे-नुकसान व टैक्स रेट से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी!

GDP Kaise Calculate Hota Hai

GDP (सकल घरेलू उत्पाद) = उपभोग (Consumption) + कुल निवेश (Gross Investment) + सरकारी खर्च (Government Spending) + [निर्यात (Imports) – आयात (Exports)]

GDP = C + I + G + (X − M)

उपभोग (Consumption)

अधिकतर घरेलू खर्च उपभोग में घरेलू खर्च शामिल होते है, जैसे- किराया, भोजन, चिकित्सा खर्च आदि उपभोग में नया घर शामिल नहीं किया जाता है।

कुल निवेश (Gross Investment)

यह उपभोक्ता वस्तुओं और सेवाओं पर किया जाना वाला खर्च है, यह देश की घरेलू सीमाओं के भीतर माल और सेवाओं पर सभी संस्थानों द्वारा किये गये कुल खर्च का मापन करता है।

सरकारी खर्च (Government Spending)

इसमें सभी प्रकार के सरकारी खर्च शामिल होते है जैसे- सरकारी कर्मचारियों का वेतन, सेना के लिए हथियार खरीदना और सरकार के द्वारा किया गया निवेश आदि शामिल है।

निर्यात (Imports)

निर्यात में अन्य देशों के लिए उपभोग में तैयार किया गया माल या सेवाओं को गिना जाता है, तथा GDP (सकल घरेलू उत्पाद) में जोड़ा जाता है।

आयात (Exports)

इसमें आयात की गई वस्तुएँ और सेवाएं शामिल होती है, GDP की गणना के लिए आयात को घटाया जाता है।

GDP Of India In Hindi

भारत की अर्थव्यवस्था को विकासशील बाजार अर्थव्यवस्था के रूप में जाना जाता है। नॉमिनल जीडीपी के हिसाब से भारत दुनिया की पाँचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था तथा क्रय शक्ति समानता (पीपीपी) द्वारा भारत तीसरा सबसे बड़ा देश है। IMF के अनुसार, प्रति व्यक्ति आय के आधार पर भारत 2018 में जीडीपी से 142वें और जीडीपी (पीपीपी) प्रति व्यक्ति 119वें स्थान पर है। 21वीं सदी की शुरुआत के बाद से, वार्षिक औसत जीडीपी वृद्धि 6% से 7% हो गई है, और 2014 से 2019 तक, भारत चीन को पीछे छोड़ते हुए दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था है।

GDP Of India 2019 / जीडीपी ऑफ़ इंडिया 2019

वर्तमान समय में इंडिया जीडीपी ग्रोथ रेट पिछले छः साल के सबसे निचले स्तर पर है और देश मंदी का सामना कर रहा है। जीडीपी ग्रोथ रेट के अनुसार पिछले वित्तीय वर्ष के अंत तक जीडीपी रेट 5.8 % थी परन्तु अब भारत की जीडीपी 2019 में केवल 5% रह गयी है।

जरूर पढ़े: EPF Ya EPFO Pension Kya Hai? – ईपीएफओ पेंशन का पैसा कैसे निकालते है व इसके फायदे क्या है!

GDP Calculation In India

भारत में कृषि, उद्योग, और सेवा तीन मुख्य भाग है, जिनमे उत्पादन बढ़ने या घटने के आधार पर GDP तय की जाती है। भारत में GDP की गणना प्रत्येक तिमाही (तीन महीने) में की जाती है।

अगर हम कहते है कि देश की GDP (सकल घरेलू उत्पाद) में प्रत्येक वर्ष तीन फीसदी की बढ़ोतरी की जा रही है तो यह समझना चाहिए कि अर्थव्यवस्था तीन फीसदी की दर से बढ़ रही है।

लेकिन ज्यादातर इस आंकड़े में महँगाई दर को शामिल नहीं किया जाता है, GDP का आंकड़ा अर्थव्यवस्था के प्रमुख उत्पादन क्षेत्रों में उत्पादन की वृद्धि दर पर आधारित होता है।

GNP Kya Hai

GNP देश के निवासियों और व्यवसायों द्वारा बनाई गई सभी वस्तुओं और सेवाओं का मूल्य है। GNP घरेलू व्यवसायों द्वारा निर्मित सभी उत्पादों के मूल्य की गणना करता है। GDP में से यदि वह आय घटा दी जाये, जो उत्पन्न तो देश में ही हुई है लेकिन विदेशों को उपलब्ध है (देश को प्राप्त होने वाली) और इसके साथ ही विदेशों में कमायी हुई आय जोड़ दी जाए तो GNP प्राप्त होता है। GNP विदेशी निवासियों या व्यवसायों द्वारा कमायी हुई किसी भी आय की गणना नहीं करता है।

GNP Full Form:

GNP Ka Full Form – Gross National Product (सकल राष्ट्रीय उत्पाद)

GNP Formula

GNP (सकल राष्ट्रीय उत्पाद) = उपभोग (Consumption) + निवेश (Investment) + सरकारी खर्च (Government Spending) + X [निर्यात (Imports) – आयात (Exports)] + Z (विदेशी निवेश से घरेलू निवासियों द्वारा अर्जित शुद्ध आय – घरेलू निवेश से विदेशी निवासियों द्वारा अर्जित शुद्ध आय)

GNP (Y) = C + I + G + X + Z

GNP Per Capita

GNP Per Capita एक वर्ष में किसी देश की वस्तुओं और सेवाओं के अंतिम उत्पादन का डॉलर मूल्य है, जो कि इसकी आबादी से विभाजित है।

What Is GDP Per Capita

GDP Per Capita भी मध्य-वर्ष की आबादी द्वारा विभाजित है। इस ग्रोथ की गणना स्थानीय मुद्रा में निरंतर मूल्य जीडीपी डाटा से की जाती है।

यह पोस्ट भी पढ़े: FATCA Kya Hai? – FATCA का मुख्य उद्देश्य और इसके क्या फायदे है!

GDP Or GNP Me Antar

GDP और GNP दोनों अर्थव्यवस्था के राष्ट्रीय उत्पादन और आय को दर्शाते है। मुख्य अंतर यह है कि GNP (सकल राष्ट्रीय उत्पाद) विदेश से शुद्ध आय प्राप्तियों को ध्यान में रखता है।

  • GNP में शुद्ध आयात और निर्यात के बजाय शुद्ध विदेशी आय शामिल होती है साधारण तौर पर कहा जाए तो GDP की तुलना में GNP में शुद्ध विदेशी निवेश आय शामिल होती है।
  • GDP सभी घरेलू उत्पादनों का मापन करता है चाहे इसकी उत्पादन ईकाइयों की राष्ट्रीयता कोई भी हो तथा GNP (सकल राष्ट्रीय उत्पाद) एक क्षेत्र की ‘राष्ट्रीयता’ के द्वारा उत्पन्न आउटपुट के मान का मापन करता है।
  • GDP घरेलू उत्पादन के स्तर को संदर्भित करता है, जबकि GNP किसी भी व्यक्ति या किसी देश के निगम के उत्पादन के स्तर को मापता है।

Conclusion:

एक मजबूत अर्थव्यवस्था और बेहतरीन जीडीपी से न सिर्फ सरकार को लाभ होता है बल्कि आम जनता भी इससे बहुत ज्यादा लाभान्वित होती है। जीडीपी को और अधिक बेहतर बनाते हुए भारत सरकार का लक्ष्य अगले कुछ वर्षो में दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनना है। अगर आपको GDP Ki Jankari पसंद आयी है तो इसे शेयर करना न भूले, तथा आपके मन में इससे सम्बन्धित कोई भी सवाल है तो आप हमसे कमेंट में पूछ सकते है जिनके जवाब हम आपको ज़रुर देंगे।

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 4.33 out of 5)
Loading...