Trademark Kya Hai? Trademark Registration Kaise Kare - Hindi Sahayta
Dharmendra Sher Education

हैलो दोस्तों Hindi Sahayta में आपका स्वागत है आज हम आपको Trademark Kya Hota Hai के बारे में बताने जा रहे है जिसमे आपको Trademark Registration Documents के बारे में जानने को मिलेगा हमे उम्मीद है की आपको हमारी पोस्ट को पसंद ज़रुर पसंद आयेगी।

सभी लोगों किसी ना किसी Company का Product Purchase करते होंगे और उसे Use भी करते है उस Product को Purchase करने से पहले हम उस Product की Identity के लिए उसके ट्रेडमार्क को Check करते है क्योंकि बहुत सी ऐसी Company है जो हमे निकली Product दे देती है।

Trademark किसी Business का व्यापारिक चिन्ह होता है जिसे उस Business द्वारा Registered करवाया जाता है हम आपको हमारी पोस्ट में Trademark के बारे में पूरी जानकारी देंगे इसके लिए आपको बस हमारी पोस्ट Trademark In Hindi को शुरू से लेकर अंत तक पढना होगा जिसमे आपको आपके सारे सवालों के जवाब ज़रुर मिलेंगे।

Contents

हर Company का अपना अलग ब्रांड और Logo होता है Trademark ऐसे चिन्ह है जिसे Product पर छापा जाता है जिससे उस Company के Product को Market में आसानी से पहचाना जा सके जिससे कोई और Company इसके ब्रांड और नाम का उपयोग नही कर सकती।

Trademark Kya Hota Hai

Trademark किसी Company के Product की सुरक्षा में लिए बनाया गया एक चिन्ह होता है Trademark का Use इसलिए किया जाता है ताकि हम जान सके की किस Company का Product किसने बनाया है|

Trademark

जैसे- हम Market से कोई मोबाइल Purchase करते है और वह मोबाइल किस Company ने बनाया है यह Represent करने के लिए हम Trademark का Use करते है|

क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी: IPS Kaise Bane? – IPS Ka Full Form, IPS Exam Me Kya Hota Hai, IPS Ki Puri Jaankari!

Trademark की Validity 10 साल की रहती है और उसके बाद इसे Renewal कराया जाता है किसी भी Company का एक बार Trademark करवाने के बाद कोई भी Company उस Company के नाम का प्रयोग व्यापारिक लाभ कमाने के लिए नही कर सकती|

जैसे- Apple, Nike, Mercedes-benz, Dell, Honda आदि Company ने अपने नाम का Trademark करवा रखा है जिसे कोई भी Company व्यापारिक लाभ कमाने के लिए इसका इस्तेमाल नही कर सकती।

Patent Kya Hai

Patent

पेटेंट एक Idea होता है जिस पर अधिकार पाने के लिए उसका पेटेंट करवाया जाता है ताकि और व्यक्ति आपके Idea को Copy ना कर ले पेटेंट करवाने से अगर कोई व्यक्ति या संस्था आपके पेटेंट का Copy करती है तो यह क़ानूनी रूप से अमान्य माना जायेगा जिस व्यक्ति या संस्था ने आपके पेटेंट को Copy की तो आप उस पर कार्यवाही कर सकते है|

अगर आप कोई Product Copy करना चाहते है तो इसके लिए आपको पेटेंट धारक से अनुमति लेनी होगी पेटेंट धारक अपने पेटेंट को किसी दूसरे व्यक्ति या संस्था को बेच भी सकता है किसी Product या वस्तु के पेटेंट करवाने की अधिकतम सीमा 20 वर्ष होती है।

Patent Ke Prakar

क्या आप पेटेंट के प्रकार के बारे में जानते है अगर नही जानते तो कोई बात नही चलिए हम आपको इसके बारे में बताते है पेटेंट तीन प्रकार के होते है।

  • Utility Patent

यह उपयोगी प्रोसेस, मशीन, Product का कच्चा माल, किसी चीज का कम्पोजीशन इन सभी को सुरक्षा प्रदान करता है जैसे- फाइबर ऑप्टिक्स, कंप्यूटर हार्डवेयर, Medicines आदि।

  • Design Patent

यह Product के नये, Original, और Design के ग़ैरकानूनी इस्तेमाल को रोकने का काम करता है जैसे- किसी एथलेटिक्स का Design किया गया शूज, किसी कार्टून का कैरेक्टर, बाइक का Design इन सभी Design को पेटेंट से सुरक्षित रखा जाता है।

  • Plant Patent

इसमे नये तरीके से तैयार किये गये पेड-पौधे की किस्मों को सुरक्षा प्रदान की जाती है इसमे हब्रिड गुलाब, सिल्वर क्वीन भुट्टा और बेटर बाय टमाटर आदि प्रकार की किस्मों को सुरक्षा दी जाती है।

Trademark Registration In Hindi

आप ऑनलाइन और Offline दोनों तरह से Trademark के लिए Registration करवा सकते है Registration के लिए सबसे पहले Trademark Search करे या आप भारत सरकार की Official Website Ipi के द्वारा भी आवेदन कर सकते है

आवेदन फॉर्म भरकर इसे Registrar Of Trademark के Office में जमा करवा दे बाद में स्वीकृति मिलने के बाद आप अपनी Company या Product के लिए ® Symbol का Use कर सकते अगर Trademark Examinar को आपके आवेदन में कोई गलती लगती है तो वह आपका Trademark Objection Raised कर देगा|

जरूर पढ़े: IBPS Kya Hai? IBPS Exam Ki Taiyari Kaise Kare? IBPS से जुडी सभी Details जानिए हिंदी में

और किसी प्रकार की कोई गलती ना आने पर Trademark Journal में Advertise दिया जाता है ताकि किसी व्यक्ति को Apply किये गये Trademark पर कोई आपत्ति होती है तो वह शुल्क और फॉर्म Tm-5 भरकर Opposition File करवा सकता है चलिए अब हम आपको Trademark Registration की Process के बारे में बताते है।

  • Trademark Search

सबसे पहले आपको Trademark को Search करना है की कह़ी वो Already Registered तो नही है अगर ऐसा होता है तो आपको अपना कोई और Trademark सोचना होगा|

Trademark Search करने के लिए आप Ministry Of Commerce And Industry के अधीन Department Of Industrial Policy And Promotion, Controller Genral Of Patient Design And Trade Mark की Intellectual Property India की Website पर Search कर सकते है वही आप इनके कार्यालय जाकर Offline भी Search कर सकते है।

  • Trademark Application तैयार करना

Trademark Application आप ऑनलाइन और Offline भी कर सकते है इसके लिए आप किसी Trademark Attorney या Trademark Agent से इसके लिए विचार विमर्श कर ले उसके बाद ही Application Form Fill करने के बारे में सोचे भरे गये Application Form को Registrar Of Trademark के कार्यालय में जमा करवाये।

Trademark Registration Documents

  • Logo, ब्रांड और नाम की Copy जिसे व्यक्ति या Company अपना Trademark बनाने जा रही है
  • यदि कोई Company आवेदन करती है Incorporation Certificate की Copy और अगर कोई व्यक्ति आवेदन करता है उस व्यक्ति की Identity और Address की Detail
  • जिस Product या Service का आप Trademark Register करने जा रहे है उसकी Description
  • आवेदनकर्ता द्वारा Signature किया हुआ Power Of Attorney की Copy

Trademark Registration Ke Fayde

  • Legally Owner

Trademark का Registration करने के बाद आप उस Trademark के Legally Owner बन जाते है कोई और व्यक्ति या Company आपके Trademark का आपकी अनुमति के बिना Use नही कर सकता अगर कोई Trademark Registered नही है तो वह किसी भी दूसरी Company के खिलाफ करवाई नही कर सकता।

  • Create Company Identity

यह आपकी Company की Identity को बनाने में आपकी मदद करती है इससे कोई और Company आपकी अनुमति के बिना Trademark का इस्तेमाल करके सामान या वस्तुएँ बेच नही सकती।

  • Identity In Customer

Trademark के माध्यम से Company अपने Customer के बीच अच्छी पहचान बना पाती है इससे Customer को Product Search करने में ज्यादा Problem नही आती।

  • Secure Company Brand

Trademark का सबसे बड़ा फायदा यह है की इसमे Company का ब्रांड और नाम सुरक्षित रहता है यदि कोई Company द्वारा Trademark Registered करवाया गया है तो किसी अन्य Traders द्वारा उसका उपयोग करने पर आप उसके खिलाफ कार्यवाही कर सकते है।

Conclusion

हाँ तो दोस्तों ये थी हमारी आज की पोस्ट Trademark Kya Hai जिसके बारे में हमने पूरी तरह विस्तार से इसके बारे में जानकारी दी हमे उम्मीद है की हमने आपको इस पोस्ट के बारे में अच्छी तरह से समझाया होगा और आपको हमारी पोस्ट अच्छे से समझ में आयी होगी।

अगर आपको Trademark Definition In Hindi के बारे में कोई भी परेशानी हो तो हमे Comment करके बता सकते है हम आपकी परेशानी को हल करने का पूरा प्रयास करेंगे आप हमारी पोस्ट को Like और Share ज़रूर करे जिससे और लोग भी इसके बारे में जानकारी प्राप्त कर सके।

यह पोस्ट भी जरूर पढ़े: SBI PO Exam Kya Hai? सरकारी बैंक में PO कैसे बने ? तथा Bank PO से जुड़ी सारी जानकारी हिंदी में!

हम आशा करते है की आपको Meaning Of Patent In Hindi जानकारी अच्छी लगी होगी जिसमे साथ ही आपको Trademark Registration Ke Fayde के बारे में भी सीखने को मिला आप हमारी पोस्ट को अपने दोस्तों और Social Media पर भी शेयर कर सकते है जिससे और लोग इस पोस्ट के बारे में जाने।

हमारी Hindi Sahayta की Website के Notification को ज़रूर Subscribe करे जिससे आपको हमारी New Article के बारे में Latest Update मिलते रहेंगे तो दोस्तों आज के लिए बस इतना ही फिर मिलेंगे कुछ और Interesting पोस्ट के साथ तब तक के लिए अलविदा आपका दिन शुभ रहें।

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

हिंदी सहायता क्या है?







हिंदी सहायता एक वेबसाइट है जिस पर अनेक प्रकार की जानकारियों को लेखों के माध्यम से पाठकों तक पहुँचाया जाता है। जिन्हें हिंदी भाषा में लिखकर सरल रूप में समझाया जाता है।

हिंदी सहायता की शुरुआत किसने की?







हिंदी सहायता 15 अगस्त 2017 को नीरज जीवनानी के द्वारा शुरू की गई थी।

हिंदी सहायता का उद्देश्य क्या है?







हमारी वेबसाइट हिंदी सहायता का सबसे मुख्य उद्देश्य लोगों तक इंटरनेट और आधुनिक तकनीकों से जुड़ी सभी प्रकार की जानकारियों को प्रदान करना है। इसके साथ ही देश की मातृभाषा हिंदी के महत्व को बनाये रखना भी है। जो भारत देश की सबसे प्रिय भाषा है।

हिंदी सहायता पर किस प्रकार के लेख मौजूद है ?







हिंदी सहायता पर कई तरह के लेख है जिनके बारे में जानना आपके जीवन के लिए आवश्यक है जैसे – शिक्षा संबंधी लेख, तकनीकी संबंधी लेख, स्वास्थ्य संबंधी लेख, ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए तथा और भी विभिन्न प्रकार के लेख मौजूद है। जिनसे आपको बहुत कुछ सीखने को भी मिलता है और आपका काम भी आसान हो जाता है।

हिंदी सहायता अन्य वेबसाइट से क्यों बेहतर है ?







इस वेबसाइट पर आपको बहुत ही सरल भाषा में जानकारी दी जाती है लेख इस प्रकार से लिखे गए होते है जो आसानी से समझ में आ सके शब्दों को बिल्कुल सामान्य रूप में अभिव्यक्त किया जाता है

क्या हिंदी सहायता पर मेरे सवालों का उत्तर दिया जाएगा ?







हाँ आपके सभी सवालों के जवाब दिए जाएँगे आपको किसी लेख में कोई परेशानी आती है तो आप हमसे जरुर पूछे लेखों से जुड़ी परेशानी को दूर करने में हम आपकी मदद करेंगे

अपना बहुमूल्य सुझाव दे |