1. Education

Trademark Kya Hai? Trademark Registration के लिए कैसे Apply करे!

आजकल बहुत सी ऐसी फ़र्ज़ी Company है जो नकली Products बेचती है और बहुत से लोग इन नकली Products को ख़रीद भी लेते है क्योंकि वह असली और नकली में फर्क नहीं कर पाते। इन्हीं फ़र्ज़ी Company के नकली Products के शिकार से बचने के लिए Trademark Law को लागू किया गया।

तो आइये जानते है Trademark Definition Detail में।

Trademark Kya Hai – Trademark Meaning

क्या आप भी किसी Product को लेकर Company खोलना चाह रहे है? अगर हाँ तो इसके लिए आपको अपने Product और Brand का Trademark करवाना होगा।

Trademark Registration करवाने से पहले आपको यह पता होना चाहिए की ट्रेडमार्क क्‍या है क्योंकि बहुत ही कम लोगों को इसके बारे में जानकारी होती है की Trademark Kya Hota Hai

trademark

Trademark किसी Company के Product की सुरक्षा के लिए बनाया गया एक चिन्ह होता है, जिसे उस Company द्वारा Registered करवाया जाता है। Trademark का Use इसलिए किया जाता है ताकि हम जान सके की किस Company का Product किसने बनाया है|

हर Company का अपना अलग Brand और Logo होता है। Trademark ऐसे चिन्ह है जिसे Product पर Print किया जाता है जिससे उस Company के Product को Market में आसानी से पहचाना जा सके। कोई और Company इसके Brand और Name का Use नही कर सकती।

Trademark Examples जैसे- हमने अगर Market से कोई Mobile Purchase किया है और उस Mobile को जिस Company ने बनाया है उस Company के Name को Represent करने के लिए हम Trademark का Use करते है|

दोस्तों Trademark की Validity 10 साल की रहती है। उसके बाद इसे Renewal कराया जाता है। किसी भी Company का एक बार Trademark करवाने के बाद कोई भी दूसरी Company उस Company के नाम का प्रयोग व्यापारिक लाभ कमाने के लिए नही कर सकती है।

जैसे- Apple, Nike, Mercedes-benz, Dell, Honda आदि Company ने अपने नाम का Trademark करवा रखा है। इसे कोई और दूसरी Company अपने व्यापारिक लाभ के लिए Use नही कर सकती।

तो यह थी ट्रेडमार्क परिभाषा जो आज आपको यहाँ पता चली।

दोस्तों Trademark Registration करने के लिए कुछ Rules भी होते जो आपको Follow करने होंगे।

Registered Trademark Rules

ट्रेडमार्क नियम

6 मार्च 2017 में जो प्रभाव सामने आया उससे Registered Trademark के नए Rules बनाये गए है। जिसमें पूरी Trademark Registration Process को Easy बनाने और इस Process में आने वाली परेशानियों को दूर कर Process को ऐसा बनाया गया की इसमें ज्यादा समय ना लगे।

tm rules

  • Trademark Rules 2017 में Applicant को 2 Category में Divide किया गया है Individual/ Start-ups/ Small Enterprises और अन्य Start-ups और Small Enterprises को Definition Clause के तहत Define किया गया है।
  • E-filing को Promote किया जाता है।
  • Application की Quick Processing
  • Video Conferencing के द्वारा सुनवाई।

Trademark Registration करवाने के लिए आपको कुछ आवश्यक Documents की जरूरत पड़ेगी।

Trademark Registration Documents

Trademark में अलग-अलग Company के Ownership के अनुसार अलग-अलग Documents लगते है।

Logo, Brand और Name की Copy जिसे कोई व्यक्ति या Company अपना Trademark बनाने जा रही है।

tm doc 1

Individual Trademark के लिए Documents

अगर आप Trademark Registration को Individually Register कर रहे है तो आपको इन Documents की जरूरत होगी।

  • Trademark Questionnaire
  • Pan Card
  • Aadhar Card
  • Passport
  • Applicant द्वारा Signature किया हुआ Power Of Attorney की Copy

Private Limited Company के लिए –

  • Power Of Attorney
  • Trademark Questionnaire
  • Board Resolution

इसके अलावा और भी Documents जिनकी आपको आवश्यकता हो सकती है।

  • जिस Product या Service का आप Trademark Register करने जा रहे है उसकी Description.
  • Legally Owner
  • Logo अगर Applicable हो तो।
  • Address Proof
  • यदि कोई Company Apply करती है तो Incorporation Certificate की Copy.
  • अगर कोई व्यक्ति Apply करता है तो उस व्यक्ति की Identity और Address की Detail.

Trademark Registration Fees

ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन फ़ीस

Trademark की Registration Process को पूरा करने के लिए अलग-अलग Fees निर्धारित की गई है।

tm fees

  • Trademark Registration के लिए Apply करने के लिए विभिन्न तरह के Form – Tm-1, Tm-2, Tm-3, Tm-8, Tm-51 इन्हें नए Trademark Registration के लिए बनाया गया है जिसके लिए ट्रेडमार्क शुल्क 4,000 रुपये रखा गया है।
  • अगर Entrepreneur का Trademark Remove हो जाता है तो Restoration के लिए Form Tm-13 भरकर 5,000 रुपए शुल्क चुकाना होगा।
  • रजिस्टर्ड ट्रेडमार्क को Renew करने के लिए Form Tm-12 को भरना होता है जिसके लिए 5,000 रुपये शुल्क भरना पड़ता है।
  • अगर आप Renewal Date के बाद Form Renew करवा रहे है तो उसके लिए 3,000 रुपए का Surcharge और Form Tm-10 भी भरना होगा।
  • Opposition Raise करने के लिए Form Tm-5 को भरना होता है जिसके लिए भारत सरकार ने 2500 रुपए निर्धारित किये है।
  • Registered Trademark में सुधार के लिए Form Tm-26 भरकर 3,000 रुपए शुल्क भरना होगा।

तो इस तरह से आपको Trademark Registration करवाने के लिए शुल्क भरना होगा।

Trademark Registration Kaise Kare – Trademark Registration In Hindi

Trademark Registration Online और Offline दोनों तरीके से किया जा सकता है। Trademark Registration Online करने के लिए सबसे पहले Trademark Search करे या आप भारत सरकार की Official Website Ipi के द्वारा भी Apply कर सकते है।

tm registration

Trademark Search : सबसे पहले आपको Trademark Search करना है की आपने जो Trademark सोचा है कह़ी वो Already Registered तो नही है अगर यह Trademark Already Registered है तो आप इसे Registered नहीं कर सकते है आपको कोई दूसरा Trademark सोचना होगा।

Trademark Search करने के लिए आप Ipindiaonline.Gov.In की Website पर Trademark Login Search कर सकते है। वही आप इनके Office जाकर Offline भी Search कर सकते है।

Trademark Application तैयार करना : Trademark Search करने के बाद अब अपने Business का Name, Logo और Brand के लिए Trademark Application के लिए Apply करना होगा। Trademark Application आप Online और Offline भी कर सकते है। Application Form को Registrar Of Trademark के Office में जमा करवाये।

Trademark Registration करना : Trademark Registration के लिए निर्धारित फ़ीस भरनी होगी जो 4,500 रुपए हो सकती है। Trademark का Registration करने के बाद आप उस Trademark के Legally Owner बन जाते है जिसके बाद कोई दूसरा व्यक्ति या Company आपके Trademark का आपकी Permission के बिना Use नही कर सकता। अगर कोई Trademark Registered नही है तो वह किसी भी दूसरी Company के खिलाफ Action नहीं ले सकता।

Create Company Identity : यह आपकी Company की Identity को बनाने में आपकी मदद करती है इससे कोई और Company आपकी अनुमति के बिना Trademark का इस्तेमाल करके सामान या वस्तुएँ बेच नही सकती।

Identity In Customer : Trademark के माध्यम से Company अपने Customer के बीच अच्छी पहचान बना पाती है इससे Customer को Product Search करने में ज्यादा Problem नहीं आती।

Secure Company Brand : Trademark का सबसे बड़ा फायदा यह है की इसमे Company का ब्रांड और नाम सुरक्षित रहता है यदि कोई Company द्वारा Trademark Registered करवाया गया है तो किसी अन्य Traders द्वारा उसका उपयोग करने पर आप उसके खिलाफ कार्यवाही कर सकते है।

तो यह थी Trademark Registration Process इस तरह आपने जाना ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन कैसे करे

क्या आपने भी Trademark Registration करवा लिया है और अब आप इसका Status Check करना चाहते है ?

तो जानिए…

Trademark Registration Status

यदि आपने Trademark Registration कर लिया है और अब आप इसका Status Check करना चाहते है की आपके ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन की स्थिति क्या है तो आप इसे Check भी कर सकते है।

इसके लिए आगे बताई गई Steps को Follow करे।

Visit Website : सबसे पहले आपको Trademark की Official Website पर जाना होगा। Ipindia Trademark Status Page पर जाना है।

tm website

Click Trademark Application/Registration Mark : जैसे ही आप इस Page पर जाते है यहाँ आपको 4 Options मिलेंगे इसमें आपको Trademark Application/Registration Mark Button पर Click करना है।first option (1)

Click National/ Irdi Number : अब आपके सामने 2 Option आएँगे इसमें से National/ Irdi Number पर Click करना है।

irdi number 2

Trademark Application Number : यहाँ आपको Trademark Application Number डालना है और Captcha डालकर View पर Click करना है।

tm number

View Trademark Application Information : जैसे ही आप Captcha Code डालते है तो आपके सामने Trademark Application के साथ Field सभी Documents की List के साथ Trademark Application की Information सबसे ऊपर आ जाएगी।

इस तरह आपको आपके Trademark Registration Status के बारे में पता चल जाएगा।

क्या आपके मन में भी यही सवाल आ रहा है की Trademark के कितने प्रकार होते है तो जानते है इसका जवाब।

Types Of Trademark In Hindi

ट्रेडमार्क के प्रकार

  • Generic Marks : यह ऐसा Trademark है जो Common और Daily Terms को Use करते। इन Terms को कोई भी Use कर सकता है। एक Generic Trademark उस Particular Class और Variety को Describe करेगा जैसे – Automobile के लिए Car शब्द का Use करने का प्रयास करना Generic होगा। Automobile की बिक्री के लिए किसी को Car का Trademark Allow करवाना गलत ही होगा।
  • Descriptive Marks : Descriptive Marks उन Terms का Use करते है जो सिर्फ Goods Or Service को Describe करते है। यह Mark किसी Goods और Service के Color, Smell, और Ingredients का Use करते है। Descriptive Mark को जब तक Registered नहीं किया जा सकता है जब तक की वह Specialty प्राप्त ना कर ले।
  • Suggestive Marks : यह Marks Goods और Service के गुणों और Qualities को Suggest करते है। यह Marks, Descriptive Marks से अलग होते है यह Reality में उस Product को Describe नहीं करते है लेकिन एक Quality को Suggest करते है जिससे की यह पता लगाया जा सकता है की Consumer के उस पर क्या विचार है।
  • Arbitrary Or Fanciful Marks : Arbitrary और Fanciful Marks से बनाए गए Words या Real Words है जो Goods और Service Supplied से Related नहीं है। यह Mark का सबसे Strong प्रकार है क्योंकि यह अधिकतर Arbitrary Words होते है इसलिए इसकी कम सम्भावना होती है की कोई और इसका Use आपके Goods और Service को Describe करने के लिए कर रहा है।

यह तो हमने बात की Trademark के बारे में अब हम Patent के बारे में जानेंगे।

Patent Kya Hai

पेटेंट परिभाषा

Patent Ka Matlab एक Idea होता है जिस पर अधिकार पाने के लिए उसका पेटेंट करवाया जाता है, ताकि और व्यक्ति आपके Idea को Copy ना कर ले पेटेंट करवाने से अगर कोई व्यक्ति या संस्था आपके पेटेंट को Copy करती है तो यह क़ानूनी रूप से अमान्य माना जायेगा। जिस व्यक्ति या संस्था ने आपके पेटेंट को Copy की तो आप उस पर कार्यवाही कर सकते है।patent 2अगर आप कोई Product Copy करना चाहते है तो इसके लिए आपको पेटेंट धारक से अनुमति लेनी होगी। पेटेंट धारक अपने पेटेंट को किसी दूसरे व्यक्ति या संस्था को बेच भी सकता है। किसी Product या वस्तु के पेटेंट करवाने की अधिकतम सीमा 20 वर्ष होती है।

दोस्तों यह था Patent Meaning जो आपने सरल भाषा में समझा।

चलिए अब आगे जानते है …

Types Of Patent – Patent Ke Prakar

क्या आप पेटेंट के प्रकार के बारे में जानते है अगर नही जानते तो कोई बात नही चलिए हम आपको इसके बारे में बताते है पेटेंट तीन प्रकार के होते है।

patent types

Utility Patent : यह उपयोगी प्रोसेस, मशीन, Product का कच्चा माल, किसी चीज का कम्पोजीशन इन सभी को सुरक्षा प्रदान करता है जैसे- फाइबर ऑप्टिक्स, कंप्यूटर हार्डवेयर, Medicines आदि।

Design Patent : यह Product के नये, Original, और Design के ग़ैरक़ानूनी इस्तेमाल को रोकने का काम करता है जैसे- किसी एथलेटिक्स का Design किया गया शूज, किसी कार्टून का कैरेक्टर, बाइक का Design इन सभी Design को पेटेंट से सुरक्षित रखा जाता है।

Plant Patent : इसमे नये तरीके से तैयार किये गये पेड-पौधे की किस्मों को सुरक्षा प्रदान की जाती है इसमे हब्रिड गुलाब, सिल्वर क्वीन भुट्टा और बेटर बाय टमाटर आदि प्रकार की किस्मों को सुरक्षा दी जाती है।

तो अपने Patent के बारे में अच्छे से जानकारी प्राप्त कर ली है।

लेकिन क्या आपने कभी सोचा है की Patent और Trademark में क्या अंतर होता है।

Patent Vs Trademark

इन दोनों में जो अंतर होते है उसे हम आगे बता रहे है इसके साथ ही इन दोनों में भी अंतर होता है।

  • World Trade Organization द्वारा Patent की अवधि 20 साल निर्धारित की गयी है। Patent प्राप्त करने वाले व्यक्ति को यह अधिकार प्राप्त हैं कि वो अपने इस अधिकार को बेच सके या Transfer कर सके।
  • Trademark अन्य Competitors के द्वारा Use किये जाने वाले Phrase, Word, Design या Symbol द्वारा उस Party और उसके सामान की पहचान कर उसे अलग करता है।
  • Patent में कोई और व्यक्ति उस Product को Sell या Invention नहीं कर सकता है।
  • Trademark हमेशा के लिए Register कराया जा सकता है और यह तब तक Valid रहता है जब तक आप Business के लिए इसका इस्तेमाल करते रहे।
  • Patent एक Inventions जैसे – Machines, Manufactures, Process Or Improvements को किसी के द्वारा Patent किये जाने पर कोई और इसका Use नहीं कर सकता है

तो यह है Trademark और Patent में अंतर जो आपने जाने।

Conclusion

तो दोस्तों इस तरह आपने Trademark और Patent के बारे में जाना। यहाँ आपको Trademark और Patent की जानकारी Detail में मिली।

अब आपको भी अपने Product का Trademark और अपने Idea को Patent करवाने में आसानी होगी। इस Post में आपको इन दोनों के बारे में बहुत सी जानकारी मिली जिसमें आपने जाना …

  • Trademark क्या है Registered Trademark के Rules क्या होते है।
  • Trademark Registration के लिए Documents और Fees क्या है ।
  • Trademark Registration कैसे करे।
  • Trademark Registration का Status कैसे Check करे।
  • Trademark के कितने प्रकार होते है।
  • Patent क्या है Patent के प्रकार क्या होते है।
  • Trademark और Patent में क्या अंतर है।

तो कैसी लगी दोस्तों आपको यह Post Comment Box में Comment करके ज़रुर बताए और आपके पास इस Post के बारे में कोई और सुझाव है तो वो भी Comment करे।

इस Post को अपने दोस्तों के साथ भी Share करे जिसके लिए आप Social Media का Use कर सकते है जैसे- Instagram, Whatsapp, Facebook आदि।

Thank You.

Contributor
Do you like एडिटोरियल टीम's articles? Follow on social!
People reacted to this story.
Show comments Hide comments
Comments to: Trademark Kya Hai? Trademark Registration के लिए कैसे Apply करे!
  • Avatar
    June 1, 2019

    क्या कोई कॉम्पोनी already ट्रेड मार्क पर registered है तो पता कैसे चलेगा

    Reply
    • Avatar
      June 3, 2019

      इसके लिए आपको ipindia.nic.in की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना है, यहां पर आपको Trade Marks के ऑप्शन पर क्लिक करना, अब अगले पेज पर आपको Public Search का ऑप्शन मिलेगा उस पर क्लिक करना है। अब यहां पर आपको जिस भी कंपनी का ट्रेड मार्क सर्च करना है वह सर्च कर सकते है!

      Reply
Write a response

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Attach images - Only PNG, JPG, JPEG and GIF are supported.