1. Tutorial

Income Tax Slabs FY 2019-20 India – जानिए Income Tax Slabs और Rates हिंदी में!

जनता को अपनी कमाई का एक भाग टैक्स के रूप में सरकार को जमा करना होता है चाहे व्यक्ति नौकरी करता हो या व्यवसाय। आप जो Income Tax भरते है उसे Income Tax Slab के अनुसार ही तय किया जाता है।

यदि आप भी अब Income Tax जमा करना शुरू कर रहे है तो इस पोस्ट Income Tax Return Kaise Bhare की सहायता जरूर ले। इनकम टैक्स भरने से पहले आपको इनकम टैक्स स्लैब के बारे में पता होना चाहिए। इसलिए आज हम आपको Income Tax Slab Ki Jankari विस्तार में देंगे।

सरकार इस Income Tax के पैसों का इस्तेमाल आम जनता को दी जाने वाली सुविधा और प्रशासन के कामों को सुचारु रूप से चलाने के लिए करती है। सरकार ने 1 फरवरी 2019 को इस वर्ष का बजट पेश कर दिया है और Income Tax Slab में कोई परिवर्तन नहीं किया है। आइये जानते है Income Tax Slab 2019-20 India की कुछ ज़रुरी बाते जिसमें आपको बजट के अनुसार Income Tax Ka Slab पता चलेगा।

Income Tax Slab Kya Hai

सरकार सभी से एक जैसा Tax नहीं लेती है। बल्कि उनकी कमाई के आधार पर सरकार द्वारा Tax लिया जाता है और सभी का इनकम टैक्स रेट अलग होता है। यदि आपकी कमाई बढ़ेगी तो Tax Rate भी बढ़ता जाएगा। आपकी कुल कमाई कितनी है उससे Tax का Rate तय किया जाता है जिसे Income Tax Ka Slab कहते है।

Income Tax Slab 2019-20 India

इनकम टैक्स स्लैब २०१९-२० में किसी तरह का बदलाव नहीं किया गया है। लेकिन Income Tax छूट की सीमा को 2 गुना कर दिया गया है।

60 वर्ष से कम उम्र के करदाताओं के लिए इनकम टैक्स स्लैब:

देशअमेरिका
मुख्यालय (Headquarter)वाशिंगटन डी सी (Washington, D।C)
स्थापनाJuly 29, 1958
संस्थापकड्वाइट डेविड आइज़नहावर (Dwight D Eisenhower)
मालिकड्वाइट डेविड आइज़नहावर (Dwight D Eisenhower)
अध्यक्षजिम ब्रिडेंस्टाइन (Jim Bridenstine)

टैक्स रिबेट

Tax की गणना Tax Slab के अनुसार होती है और Tax Calculation के बाद सिर्फ भारतीय नागरिकों को 12,500 रुपये टैक्स रिबेट के रूप में मिलते है लेकिन नागरिकों की वार्षिक आय 5 लाख रूपए तक ही होना चाहिए। इनकम टैक्स स्लैब अंतरिम बजट में रिबेट को बढ़ा दिया गया है।

सरचार्ज

  • यदि वार्षिक आय 50 लाख से 1 करोड़ रुपए है तो कुल टैक्स ऋण का 10% सरचार्ज भी देना होगा।
  • अगर वार्षिक आय 1 करोड़ रुपए से ज्यादा है तो कुल टैक्स ऋण का 15% सरचार्ज  देना होगा।

एजुकेशनल सेस

कुल टैक्स ऋण और सरचार्ज के कुल पर 4% एजुकेशनल सेस देना होगा और जितने भी आयवर्ग के व्यक्ति उन सभी को इसे चुकाना होता है।
सबसे पहले Tax Slab के हिसाब से Tax Calculation किया जाता है। इसमें से Tax Rebate की राशि 12,500 रूपए निकाल देने के बाद जो Tax शेष रह जाता है उस Tax पर 4% एजुकेशनल सेस लगता है।

Income Tax Slab Senior Citizen (60-80 वर्ष)

प्रारम्भिक परीक्षा पेपर-1 (General Studies)प्रारम्भिक परीक्षा पेपर-2 (CSAT General Studies)
वर्तमान देश-विदेश की घटनाएँComprehension
भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन का इतिहासपारस्परिक और संचार कौशल
भारतीय और विश्व भूगोलतार्किक और विश्लेषात्मक कौशल (Logical and Analytical Skills)
आर्थिक और सामाजिक विकाससामान्य मानसिक क्षमता
राज-व्यवस्था और शासननिर्णय शक्ति और समस्या सुलझाने की क्षमता
पर्यावरण की वर्तमान गतिविधियाँसामान्य गणित (दसवीं कक्षा तक का)

Senior Citizen के स्लैब में सरचार्ज, एजुकेशनल सेस और रिबेट के जो नियम है वह सामान्य Taxpayers के हिसाब से वैसे ही रहते है।

सुपर सीनियर सिटिज़न के लिए इनकम टैक्स स्लैब

प्रारम्भिक परीक्षा पेपर-1 (General Studies)प्रारम्भिक परीक्षा पेपर-2 (CSAT General Studies)
वर्तमान देश-विदेश की घटनाएँComprehension
भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन का इतिहासपारस्परिक और संचार कौशल
भारतीय और विश्व भूगोलतार्किक और विश्लेषात्मक कौशल (Logical and Analytical Skills)
आर्थिक और सामाजिक विकाससामान्य मानसिक क्षमता
राज-व्यवस्था और शासननिर्णय शक्ति और समस्या सुलझाने की क्षमता
पर्यावरण की वर्तमान गतिविधियाँसामान्य गणित (दसवीं कक्षा तक का)

सुपर सीनियर सिटिज़न के स्लैब में भी सरचार्ज, एजुकेशनल सेस के जो नियम है वह सामान्य Taxpayers के हिसाब से वैसे ही रहते है। सुपर सीनियर सिटिज़न के स्लैब में Tax Rebate नहीं बनता है क्योंकि सुपर सीनियर सिटिज़न पर 5 लाख रूपए तक की इनकम पर किसी तरह का Tax नहीं लगता है और रिबेट का लाभ उन्हीं को मिलता है जिनकी 5 लाख रूपए तक की इनकम हो।

Income Tax Slab For Women

ऊपर आपको जो Income Tax Ka Slab बताया गया है वह महिलाओं पर भी लागू होता है। इस इनकम टैक्स स्लैब के द्वारा आप अपने Tax की जानकारी देख सकते है।

टैक्स पर छूट

2019 में Tax Rebate को 5 गुना बढ़ा दिया गया है और सरकार द्वारा इनकम टैक्स पर 12,500 रूपए की छूट दी जा रही है और यह उन्हें दी जा रही जिन व्यक्तियों की 5 लाख रूपए से कम टैक्सेबल इनकम है। इसके पहले यह छूट 2500 रूपए थी। यह उन्हें मिलती थी जिनकी इनकम 3.5 लाख रुपये से कम होती थी।

स्टैण्डर्ड डिडक्शन

सरकार ने स्टैण्डर्ड डिडक्शन को 10 हजार रूपए तक बढ़ा दिया है। जैसे यदि आपकी  Salary 7 लाख रूपए है तो इसमें से 50 हजार रूपए घटा दे और अब जो Salary बची है 6 लाख 50 हजार रूपए इसमें से ही आपके Income Tax को Calculate किया जाएगा।

Conclusion:

इस तरह से आप बड़ी ही आसानी से Income Tax Slab को जान सकते है और इसका सबसे अच्छा फ़ायदा 5 लाख रुपए तक कमाने वाले व्यक्तियों को होगा। तो अब आपको Income Tax Slabs In India 2019 के बारे में अच्छे से समझ में आ गया होगा। दोस्तों इस पोस्ट को अपने फ्रैंड्स के साथ भी Share करे जिससे की उन्हें भी Income Tax  Slab को समझने में आसानी हो। आपको यह पोस्ट पसंद आयी हो तो पोस्ट को Like ज़रुर करे और नए अपडेट पाने के लिए जुड़े रहे हमारे साथ। हमारी पोस्ट पढने के लिए आपका धन्यवाद!

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ?

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

अब तक कोई रेटिंग नहीं! इस लेख को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

हिंदी सहायता एप्प को डाउनलोड करें।

क्या आपको एडिटोरियल टीम के आर्टिकल पसंद आयें? अभी फॉलो करें सोशल मीडिया पर!
Comments to: Income Tax Slabs FY 2019-20 India – जानिए Income Tax Slabs और Rates हिंदी में!

Your email address will not be published. Required fields are marked *