हमारा व्यक्तित्व ही हमारी छवि को लोगों के बीच प्रदर्शित करता है तथा कोई भी व्यक्ति जन्म से ही अच्छी पर्सनालिटी वाला नहीं होता है, पर्सनालिटी को विकसित किया जाता है और यदि आप अपने व्यक्तित्व पर ध्यान नहीं देते है तो यह खुद ही आपके आस-पास के माहौल के अनुसार परिवर्तित हो जाती है। बहुत बार हमने देखा है उच्च सोसाइटी में रहने वाले लोग निम्न सोसाइटी वालो से अधिक आकर्षित होते है क्योंकि उनके आस-पास का माहौल बहुत अच्छा होता है।

यदि आप स्वयं के व्यक्तित्व पर ध्यान दे और एक अच्छा इंसान बनने की कोशिश करे तो फिर आपके व्यक्तित्व को आस-पास के माहौल से कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता है। बहुत से लोग पर्सनालिटी विकसित तो करना चाहते है परन्तु वो इसी उलझन मे खोए रह जाते है कि Apni Personality Development Kaise Kare इसलिए आज हम आपको हमारी इस पोस्ट के माध्यम से बताएँगे की Personality Development Kaise Karte Hain अगर आप अपनी पर्सनालिटी को विकसित कर समाज में एक अच्छी छवि बनाना चाहते है तो पढ़े हमारी इस पोस्ट को अंत तक।

Personality Development Kaise Kare

Personality Development In Hindi

पर्सनालिटी डेवलपमेन्ट को हिंदी में व्यक्तित्व विकास कहा जाता है। यह हमारी भावना, विचार और व्यवहार का एक स्थायी रूप होता है जो हमें अन्य लोगों से अलग बनाता है। पर्सनालिटी साइकोलॉजी (व्यक्तित्व मनोविज्ञान) के अनुसार हमारा व्यक्तित्व बहुत तेजी से उभरता है और यह जिंदगी भर सार्थक रूप से परिवर्तित होता रहता है।

Personality Development Tips

जैसा हम आपको ऊपर बता चुके है कि पर्सनालिटी डवलपमेंट हमारे जीवन का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है। नीचे कुछ बेहतरीन Personality Development Karne Ke Tarike बताए गए है, जिनकी सहायता से आप Personality Development Ke Upay पता कर सकते है:

पढ़ना शुरू करें

किताबें ज्ञान का भंडार होती है, और ज्ञानवान व्यक्ति की समाज में बहुत इज़्ज़त होती है। व्यक्तित्व विकास के निर्माण में किताबें महत्वपूर्ण स्थान रखती है। पढ़ने के लिए ज़रुरी नहीं है कि आप किसी पुस्तकालय में जाएं और फिर किताबें पढ़ना शुरू करें। आप इंटरनेट पर भी आर्टिकल, मैगज़ीन, पुस्तकें आदि ज्ञानवर्धक सामग्री पढ़ कर कही भी अपनी बातों का लोहा मनवा सकते है। क्योंकि जब आपके पास ज्ञान होगा तभी तो आप अपनी बात को सबसे अच्छे तरीके से रख पाएंगे।

 

विनम्र बने

विनम्रता अच्छाई की मूर्ति होती है। विनम्र रहने से हर व्यक्ति आपसे बात करना पसंद करता है। यदि आप स्वयं का ही उदाहरण लेकर देखे कि कोई व्यक्ति आपसे हमेशा कठोर आवाज़ में और चेहरे पर गंभीर स्वभाव लिए बात करे तो क्या आप उसे पसंद करेंगे। इसलिए हमेशा विनम्र रहे और सदैव चेहरे पर एक हल्की सी मुस्कान रखे। यदि आप जीवन में दूसरों से कुछ चाहते है तो पहले स्वयं को बदले और कभी भी गुस्सा न करे, यह आपके व्यक्तित्व को अलग पहचान दिलाता है।

माफ़ी मांगना और माफ़ करना सीखें

जैसा हमने आपको ऊपर बताया कि व्यक्तित्व विकास के लिए विनम्रता कितनी ज्यादा ज़रुरी है। माफ़ी मांगने से आपकी विनम्रता में और अधिक निखार आता है, माफ़ी मांगने का अर्थ यह नहीं है कि किसी भी व्यक्ति के सामने हम रोना या गिड़गिड़ाना शुरू कर दे। माफ़ी मांगने का मतलब है जब आप किसी भी व्यक्ति से तनाव होने के बावजूद फिर से बात करके मामले को सुलझाएं ठीक इसी प्रकार अगर कोई आपसे माफ़ी मांगे तो उसे माफ़ कर दे तथा बीती बातों को छोड़कर आगे बढ़े।

अपने फोन द्वारा दूसरों को परेशान न करें

यह बहुत ही सामान्य गलती है जिसे हम कई बार दोहरा चुके है, परन्तु हमे पता नहीं है। कई बार हमारा फोन मीटिंग, ऑफ़िस या अन्य ऐसी जगह पर बजने लगता है, जिससे आस-पास वालो का ध्यान भटक जाता है। यदि आप शोर और भीड़-भाड़ वाले माहौल में नहीं है तो आपको हमेशा अपने फोन को वाइब्रेशन मोड पर रखना चाहिए। मोबाइल पर वीडियो, गाने आदि देखने के लिए इयरफोन का इस्तेमाल करना चाहिए तथा फोन पर बात एकांत में कमरे के बाहर जाकर करना चाहिए।

बॉडी लैंग्वेज को सुधारें

बहुत बार आपने देखा होगा कुछ लोगों की बातें व उनका बात करने का ढंग ऐसा लगता है जैसे उनके मुँह से रस टपक रहा हो, तथा सभी उनकी तरफ आकर्षित होने लगते है। बात करते समय एक दम शुद्ध तथा सुनने योग्य धीमी गति से अपने चेहरे पर सम्बन्धित विषय से मिलते हुए भावो को लाना चाहिए। जिससे आपके द्वारा कह़ी गयी बात का सुनने वालों पर बहुत ही गहरा प्रभाव पड़ता है। बॉडी लैंग्वेज ठीक करने के लिए आप मोटिवेशनल स्पीकर की तरह बोलने की कोशिश करें।

हमेशा खुश तथा सकारात्मक रहे

हमेशा खुश रहने के लिए आवश्यकता होती है सकारात्मक सोच की, इसलिए हर चीज़ में सकारात्मक बातों को ढूंढने की कोशिश करें। हमेशा खुश रहने वाले व्यक्ति ही जीवन में सफल होते है क्योंकि अगर कोई व्यक्ति फेल होकर गिर भी गया है तो वापस उठने के लिए उसे एक नए सकारात्मक जोश और उत्साह की आवश्यकता होती है। हमेशा खुश रहना आपको किसी भी कठिन परिस्थिति में सबसे अलग बना देता है तथा आपके विरोधियों का आधा आत्मविश्वास आपकी ख़ुशी देखकर ही कम हो जाता है।

नए लोगों से मिले

नए लोगों से मिलने पर आपका सामाजिक मेल-जोल बढ़ता है तथा दूसरों के विचारों को जानने में आसानी होती है। दूसरों के विचारों को जानकर आप व्यक्तित्व को सबसे अच्छे रूप में ढाल सकते है क्योंकि आपको पता होता है कि दूसरे लोग किस तरह के व्यक्तित्व को पसंद करते है। नए लोगों से मिलने से जीवनशैली से जुड़े विषयों, संस्कृति आदि को सीखने का मौका मिलता है। जिससे जब आप पहली बार किसी से मिलते है तो उसको अपने अनुभव द्वारा फ़र्स्ट इम्प्रैशन में आकर्षित कर सकते है।

आत्मविश्वास

आत्मविश्वास सफलता की पहली सीढ़ी होती है इसलिए हमेशा किसी भी कार्य को करते समय उसे पूरी लगन और आत्मविश्वास के साथ करें। आपके आत्मविश्वासी होने से आपके साथ कार्य करने वाले लोगों में भी आत्मविश्वास आता है। आत्मविश्वास बढ़ाने के प्रेरणादायक चीजों के बारे में पढ़े। जैसा हमने आपको ऊपर सकारात्मक सोच तथा ख़ुशी के बारे में बताया है, ये दोनों आत्मविश्वास को बढ़ाने में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है।

इंग्लिश में बात करना सीखें

हम सभी इस बात को मानते है कि हिंदी हमारी मातृभाषा है परन्तु आजकल सभी कार्य अंग्रेजी में किये जाते है। अंग्रेजी अंतर्राष्ट्रीय भाषा है जिसका उपयोग कर दुनिया में किसी भी व्यक्ति से बात कर उसके विचारों, भावनाओं तथा संस्कृति को जान सकते है। इसके अलावा भी बहुत बार आपके पास ज्ञान तथा कौशल दोनों होते है परन्तु अंग्रेजी कमजोर होने के कारण आप अपने विचारों को नहीं रख पाते है और आपका आत्मविश्वास भी कम पड़ जाता है। इंग्लिश सीखने के लिए सबसे पहले हिचकिचाहट छोड़ दें।

सभी की बातों को सुने

बहुत से व्यक्ति सिर्फ अपनी बात बोलते है तथा दुसरो को नहीं सुनते है। अगर वो लोग किसी की सुनते भी है तो सिर्फ उनकी बातों का जवाब देने के लिए। एक अच्छे व्यक्तित्व वाला इंसान वही होता है जो दूसरों की बातों को भी ध्यान पूर्वक सुने और उनका सम्मान करें। सफल व्यक्ति हमेशा बोलते कम और सुनते ज्यादा है। आप किसी भी प्रोफेशन में हो अगर आप दूसरों को ध्यान से सुनकर उनकी मदद करते है तभी आप एक अच्छे व्यक्तित्व वाले इंसान बन सकते है।

Personality Development Kaise Sikhe

अभी हमने आपको ऊपर पर्सनालिटी डवलपमेंट के तरीके बताएं है, जिनकी सहायता से आप एक बेहतरीन तथा आकर्षक व्यक्तित्व वाले इंसान बन सकते है। पर्सनालिटी डवलपमेंट एक दिन में सीखने वाली चीज नहीं है यह धीरे-धीरे विकसित होती है। इसलिए हमेशा ऊपर दर्शायी गयी बातों का ध्यान रखे और उन्हें अपने जीवन में हमेशा के लिए एक आदत बनाने की कोशिश करें।

Personality Development For Students In Hindi

यदि आप एक विद्यार्थी और आप सोच रहें है कि Personality Development Kaise Ki Jati Hai तो आपको यह जानना ज़रुरी है कि पर्सनालिटी किसी एक निश्चित उम्र के व्यक्ति के लिए विकसित नहीं की जाती है। यह एक प्रकार के अच्छे संस्कार होते है जिन्हे आप कभी भी ग्रहण कर सकते है स्टूडेंट्स के लिए भी Personality Development Tips ऊपर दर्शाए गए बिन्दुओ के समान ही है।

Conclusion:

कुछ लोग अच्छी बॉडी बनाने, अच्छे कपड़े पहनने, नयी स्टाइल अपनाने आदि को बेस्ट पर्सनालिटी समझते है परन्तु किसी भी व्यक्ति की पहचान उसके चरित्र के आधार पर होती है न की फैशन के आधार पर। फैशन लोगों को आपकी तरफ आकर्षित करने में मदद करता है परन्तु आपका व्यक्तित्व आपके विचारों और आदतों के अनुसार ही निर्धारित होता है इसलिए Personality Development Classes में भी आपको ये दोनों चीज़े सीखायी जाती है।

दोस्तों आज हमने आपको हमारी इस पोस्ट के माध्यम से Personality Development Kya Hai और Personality Development Kaise Karte Hain इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान की है। यदि आपको Personality Development Ke Baare Mein Jankari पसंद आयी है तो इसे अपने दोस्तों से शेयर कर उन्हें भी Personality Development Kaise Kare Hindi Me बताए।

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here