Home » Career » BPO Full Form in Hindi – BPO क्या है और अन्य जानकारियां।

BPO Full Form in Hindi – BPO क्या है और अन्य जानकारियां।

BPO (बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग) व्यापार व्यवहार की एक ऐसी प्रक्रिया है जहाँ एक संगठन किसी अन्य कंपनी को अपने कार्य को पूरा करने के लिए Hire या काम पर रखती है। जैसे अगर कोई कंपनी है जिसे अपने मुख्य व्यवसाय के अलावा किसी अतिरिक्त काम को करवाना है। परन्तु वह उस व्यवसाय का हिस्सा नहीं है तो इस तरह के अतिरिक्त काम को करवाने के लिए वह उसे अन्य कंपनी को सौंप देती है इस पूरी प्रोसेस को ही BPO कहते है। यदि आप BPO Full Form in Hindi और बीपीओ (BPO) क्या है (What is BPO in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो इस लेख को पूरा पढ़े।

[toc]

पिछले 5 सालों में भारत की अर्थव्यवस्था की रफ़्तार भले ही तेज़ हुई हो, लेकिन रोज़गार के अवसर लगातार कम होते जा रहे है वहीं दूसरी ओर बेरोज़गारी के इस दौर में BPO ने युवाओं को रोज़गार देने में पूरी तरह से मदद की है। BPO कंपनी में युवा तेजी से रुख़ कर रहे है और अपना Career बना रहे है। जिसका कारण आसानी से जॉब मिलना और कम स्किल्स के साथ ही अच्छी सैलरी मिलना भी है। युवाओं के लिए यह शानदार करियर विकल्प होता है।

BPO के अलावा यदि आप यह भी जानना चाहते है कि BPO Telecaller Means और BPO Telecaller Means in Hindi में क्या होता है यह भी आपको इस पोस्ट में जानने को मिलेगा बस बने रहे पोस्ट में अंत तक।

BPO Full Form in Hindi

बीपीओ (BPO) का मतलब या BPO Ka Full Form “Business Process Outsourcing (बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग)” होता है।

BPO Full Form In Marathi “बिझनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग” होता है जिसका मराठी में मतलब (BPO Meaning In Marathi) भी यही होता है।

BPO Kya Hai

बीपीओ (BPO) ‘बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग’ जिसे एक अन्य नाम इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी इनेबल्ड सर्विसेज (ITES) के नाम से भी जाना जाता है। बीपीओ (BPO) एक ऐसी बिज़नेस आउटसोर्स प्रक्रिया है जिसमें एक संगठन अपने अन्य कार्य को संचालित करने के लिए किसी अन्य कंपनी को काम पर रखता है तथा उस कंपनी को संगठन के काम को सफलतापूर्वक पूरा करने के लिए अपने खुद के एक बिज़नेस की आवश्यकता होती है।

आसान शब्दों में समझे तो BPO यह एक ऐसी आउटसोर्स प्रक्रिया है जिसमें थर्ड-पार्टी प्रोवाइडर को कॉन्ट्रैक्ट के आधार पर मैनेजमेंट में शामिल किया जाता है। BPO आमतौर पर Back Office में क्लासिफाइड आउटसोर्स है जिसमे आंतरिक व्यापार संचालन जैसे- ह्यूमन रिसोर्स, फाइनेंस और अकाउंटिंग शामिल होते है और फ्रंट ऑफिस (Front Office) आउटसोर्सिंग में ग्राहक सेवा जैसे BPO Call Center शामिल होता है।

BPO में अगर किसी कंपनी को देश से बाहर कॉन्ट्रैक्ट किया जाता है तो उसे Offshore आउटसोर्सिंग कहते है और यदि किसी पड़ोसी देश की कंपनी से कॉन्ट्रैक्ट किया जाता है तो उसे Nearshore Outsourcing कहते है। BPO का मुख्य उद्देश्य कम वेतन में लोगों से काम निकलवाना होता है। बाहर की बहुत सी बड़ी-बड़ी कंपनियां अपनी सेवाएं दूसरे देशों में आउटसोर्स करती है जहां पर बड़ी संख्या में कम वेतन में कर्मचारी मिल जाते है।

तो यह थी बीपीओ (BPO) क्या है (BPO Meaning In Hindi) एवं BPO Ke Baare Mein Jankari, चलिए अब BPO Full Form क्या होता है यह आपको बताते है

क्या आपने इसे पढ़ा: BBA Kya Hai – BBA फुल फॉर्म व कोर्स से जुड़ी पूरी जानकारी।

Types Of BPO

वैसे तो दुनिया में बहुत सी कंपनियाँ है जो दूसरे संगठनों को BPO सर्विस प्रदान करती है, तो इन्हीं कुछ चीज़ो को ध्यान में रखके इसके प्रकारों को बाँटा जाता है।

Offshore Outsourcing

ऑफशोर आउटसोर्सिंग तब की जाती है जब आपकी कंपनी किसी काम के सम्बंधित जरुरत को पूरा करने के लिए विदेशी कंपनी को काम पर रख लेती है।

Onshore Outsourcing

ऑनशोर आउटसोर्सिंग तब की जाती है जब कोई कंपनी उसी देश में काम करने वाली कंपनी के साथ कॉन्ट्रैक्ट करती है।

Nearshore Outsourcing

जब कोई कंपनी पड़ोसी देशों में स्थित कंपनियों द्वारा दी जाने वाली सेवाओं के लिए कॉन्ट्रैक्ट करती है, वह नियरशोर आउटसोर्सिंग होती है।

Telecaller BPO Meaning In Hindi

क्या आपने कभी सोचा है की यह BPO टेलिकॉलर क्या है (What is BPO Telecaller) तो आपको बता दें कि, कॉल सेंटर को ही BPO भी कहा जाता है। यह दोनों एक ही होते है। कॉल सेंटर ग्राहक सेवा देने के लिए जाना जाता है। BPO Full Form In Call Center ‘बीपीओ कॉल सेंटर आउटसोर्स’ होता है यह एजेंटों की एक टीम है जो अन्य व्यवसायों के लिए इनकमिंग और आउटगोइंग ग्राहक कॉल को संभालती है।

आपको तो पता ही होगा कि SIM की सर्विस की जानकारी पाने के लिए कॉल सेंटर में कॉल किया जाता है जो आपने भी कई बार किया होगा। जिन्हें हम कस्टमर केयर एग्जीक्यूटिव कहते है, वही ग्राहक सेवा या बीपीओ सेवा प्रदाता (BPO सर्विस प्रोवाइडर) होते है। आमतौर पर BPO और कॉल सेंटर दोनों में बहुत से काम होते है।

Mobile Industry

   mobile

Travel Industries

travel

Technical Support

software

Hospitality Service

hospitality

Software Support

technical

इसे भी जरूर पढ़े: B Pharma Kya Hai – बी फार्मा कैसे करें, योग्यता, प्रवेश परीक्षा, फीस।

BPO Ke Labh

बिजनेस प्रोसेस को आउटसोर्सिंग करने से आपको बहुत से फ़ायदे भी मिलेंगे जिसमें से कुछ फ़ायदे आप आगे जान सकते है।

  • Cost Reduction – इसके द्वारा आउटसोर्सिंग ऑर्गनाइसिंग को लागत में कटौती करने और पैसे बचाने में मदद मिलती है, यह कम लागत में बेहतर Employees ले आता है। जिसके परिणामस्वरूप कंपनी को अच्छा Revenues मिलता है।
  • Experienced Professionals – नए कर्मचारियों की भर्ती करना और उन्हें ट्रेनिंग देने में बहुत दिक्कत आती है जिसमें कंपनी को अच्छा पैसा खर्च करना पड़ता है।

जब सारे संसाधनों के साथ स्थापित कंपनी को आउटसोर्स किया जाता है तब Hiring और बीपीओ प्रशिक्षण (BPO Training) की मुसीबत से बचा जा सकता है।

  • Improved Human Resources – एक बेहतर मानव संसाधन, आउटसोर्सिंग व्यवसाय प्रक्रिया के लिए एक बड़े फ़ायदे की तरह है। कंपनियों को एक प्रोडक्टिव और कुशल मानव संसाधन (HR) की जरुरत होती है जो बड़े पैमाने पर अर्थव्यवस्थाएँ उत्पन्न कर सके।
  • Excellent Employment Opportunity – BPO इंडस्ट्री बहुत से देशों में उच्चतम नौकरियां करती है। कर्मचारियों को बीपीओ वेतन अच्छा प्रदान करता है यही कारण है कि युवा यहाँ नौकरी करना पसंद करते है।

BPO In Hindi (Career In BPO)

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि, BPO Call Center दो तरह के होते है। एक अंतराष्ट्रीय कॉल सेंटर और दूसरा घरेलू कॉल सेंटर होता है। अंतराष्ट्रीय कॉल सेंटर में नौकरी पाने के लिए आपको इंग्लिश अच्छे से बोलना आनी चाहिये।

जबकि घरेलु या डोमेस्टिक कॉल सेंटर में अगर आपकी इंग्लिश ज्यादा अच्छी नही है तब भी आपको जॉब आसानी से मिल जाएगी, क्योंकि घरेलू कॉल सेंटर में अधिकतर कस्टमर हिंदी में बात करने वाले ही मिलते है। इसके अलावा कंप्यूटर का बेसिक नॉलेज और टाइपिंग स्पीड भी अच्छी होना बहुत ही ज़रूरी है। अगर आपकी टाइपिंग स्पीड कम है इस आर्टिकल Typing Speed कैसे बढ़ाए को पढ़े

bpo jobs

BPO कम्पनीज में जॉब की यह सारी संभावनाएँ होती है आप इन सभी फील्ड में नौकरी कर सकते है।

  • ऑपरेशन्स मैनेजमेंट
  • कंटेंट मैनेजमेंट
  • रिसर्च एंड एनालिटिक्स
  • लीगल सर्विसेज
  • ट्रेनिंग एंड कंसल्टेंसी
  • डाटा एनालिटिक्स

BPO की सैलरी कितनी होती है?

जैसा कि आप जानते है की बपीएओ एक कॉर्पोरेट जॉब होती है, जो कि पार्ट टाइम और फुल टाइम दोनों की जा सकती है। अगर आप फ्रेशर है और फुल टाइम जॉब करते है तो BPO के रूप में आपकी शुरुआती सैलरी 10,000-12,000 रूपये मासिक होगी, जो कि अनुभव, स्किल्स के साथ-साथ बढ़ती जाती है।

एक नज़र इस पर भी: IBPS Kya Hai – योग्यता एवं सिलेबस, आवेदन प्रक्रिया, एग्जाम डेट 2022!

Conclusion

उम्मीद करते है कि आपको BPO क्या होता है (What Is BPO In Hindi) व इसमें क्या काम होता है? यह सब कुछ अच्छे से समझ में आ गया होगा। हमने हमारी तरफ से BPO Telecaller Meaning In Hindi से जुड़ी पूरी जानकारी के बारे में आपको बताया, फिर भी यदि आपके कोई सवाल या सुझाव हो तो आप हमे Comment करके पूछ सकते है। बीपीओ के बारे में दी गयी यह जानकारी आपको BPO Telecaller Kya Hota Hai के बारे में जानने से लेकर इसमें जॉब प्राप्त करने तक मदद करेगा।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ?

Average rating 4.7 / 5. Vote count: 161

अब तक कोई रेटिंग नहीं! इस लेख को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

एडिटोरियल टीम

एडिटोरियल टीम, हिंदी सहायता में कुछ व्यक्तियों का एक समूह है, जो विभिन्न विषयो पर लेख लिखते हैं। भारत के लाखों उपयोगकर्ताओं द्वारा भरोसा किया गया।Email के द्वारा संपर्क करें - [email protected]

1 thought on “BPO Full Form in Hindi – BPO क्या है और अन्य जानकारियां।”

Leave a Comment