Migraine Kya Hota Hai? Migraine Ke Karan क्या होते है? - जानिए Migraine Ka Gharelu Ilaj और इससे बचने के उपाय हिंदी में - Hindi Sahayta
Dharmendra Sher Health

हैलो दोस्तों Hindi Sahayta में आपका स्वागत है आज हम आपको Migraine Kya Hai के बारे में बताने जा रहे है अगर आप Migraine Kyu Hota Hai के बारे में जानना चाहते है तो आप बिलकुल सही पोस्ट पढ़ रहे इस पोस्ट में हम आपको इसके बारे में पूरी जानकारी देंगे हमे उम्मीद है की आपको हमारी पोस्ट ज़रूर पसंद आयेगी

आज की पोस्ट में आपको Migraine Ke Karan के बारे में भी जानने को मिलेगा जिसके बारे में हम आपको बिलकुल सरल भाषा में बतायेंगे आशा करते है की आपको हमारी पिछली सभी पोस्ट की तरह हमारी आज की पोस्ट Migraine In Hindi भी जरूर पसंद आएगी जिसके बारे में आप पूरी जानकारी प्राप्त करेंगे

Migraine के दौरान सिर में तेज़ दर्द होता है यह समस्या अक्सर महिलाओं में ज्यादा देखने को मिलती है। बरसात के मौसम में गर्मी और उमस के साथ कई बार मौसम ठंडा हो जाता है जिस कारण Migraine के Patient को बहुत ज्यादा Problem होती है इसलिए इस मौसम में Migraine के Patient को ज्यादा सावधानी रखनी चाहिये।

दरअसल यह समस्या सिरदर्द से संबंधित होती है जिसमें आधे सिर में दर्द होता है और यह दर्द आता-जाता रहता है लेकिन कई बार यह दर्द पूरे सिर में होता है। यह दर्द 2 घंटे से 72 तक हो सकता है कई बार सिरदर्द होने से पहले Patient को चेतावनी वाले संकेत मिलते है जिससे पता चल जाता है की सिरदर्द होने वाला है और इन संकेतों को ऑरा कहा जाता है।

तो अगर आप भी Migraine की समस्या से ग्रसित है और Migraine Ke Ilaj की जानकारी पाना चाहते है की तो इसके लिए आपको हमारी इस पोस्ट को शुरू से लेकर अंत तक पढना होगा तभी आप Migraine Se Hone Wale Nuksan के बारे में जान पाएंगे हमे उम्मीद है की हमारी यह पोस्ट आप सभी के लिए उपयोगी होगी जिसके बारे में आपको जरूर जानना चाहिये।

Migraine Kya Hota Hai

माइग्रेन कोई मामूली सिरदर्द नही होता है इसमें व्यक्ति की हालत ऐसी हो जाती है की उसमें किसी भी काम को करने की शक्ति नही रहती है उसके बाद उसे डॉक्टर के पास ले जाना ही पड़ता है माइग्रेन को “थ्रॉबिंग पेन इन हेडेक” भी कहा जाता है जिसमें ऐसा लगता है की जैसे सिर पर हथौड़े पड़ रहे है इसमें आँखों के सामने आड़ी-तिरछी लाइनें दिखाई देती है, जी घबराने लगता है और सिर में असहनीय दर्द होता है माइग्रेन से ग्रस्त व्यक्ति को अक्सर सिरदर्द की समस्या होती है यह दर्द आँख, कान, नाक और कनपटी के पीछे होता है वैसे यह दर्द सिर के किसी भी हिस्से में हो सकता है माइग्रेन से पीड़ित कुछ लोगों की देखने की क्षमता भी कम हो जाती है

क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी: BP Kaise Check Kare? Blood Pressure Napne Ke Tarike क्या होते है? – जानिए High BP Me Kya Khaye और क्या नही से संबंधित पूरी जानकारी!

Headache Kya Hota Hai

बदलती जीवनशैली और गलत खान-पान के कारण किसी भी व्यक्ति को सिरदर्द होना आम बात है सिरदर्द का अर्थ होता है की सिर के एक भाग या एक से अधिक हिस्सों के साथ गर्दन के पिछले हिस्से में हल्का या तेज़ दर्द होना सिरदर्द होने के कई कारण हो सकते है जैसे- नींद पूरी नही होना, थकान के कारण, गलत दवाओं के लेने से, चश्मे के नंबर बढने से और मौसम बदलने आदि से हो सकता है सिरदर्द किसी गंभीर बीमारी की वजह से नही होता है यह समस्या किसी भी व्यक्ति को हो सकती है कुछ-कुछ सिरदर्द ऐसे होते है जिसमें काम करने की भी नही बनती है

Types Of Headache In Hindi

आमतौर पर सिरदर्द होने के दो कारण होते है इसलिए डॉक्टर ने इसे दो श्रेणियों में बाँटा है प्राथमिक और द्वितीयक सिरदर्द प्राथमिक सिरदर्द व्यक्ति की आतंरिक समस्या से नही जुड़ा होता है जबकि द्वितीयक सिरदर्द संक्रमण, बुखार, सिर पर चोट लगने, ट्यूमर, दाँतों की समस्या, सिर पर लोड पड़ने और साइनस आदि के कारण होता है तो चलिए अब आगे बढ़ते है और जानते है Headache Types In Hindi

  • प्राथमिक सिरदर्द

प्राथमिक सिरदर्द होने का कारण रक्त के प्रवाह का ज्यादा होने से होता है अगर आप ज्यादा कैफीन का सेवन करते है तो इससे आपके मस्तिष्क का रक्त प्रवाह कम होता है लेकिन जैसे ही आप कैफीन का सेवन बंद करते है तो इससे रक्त प्रवाह बढ़ जाता है जिससे यह सिरदर्द होने का कारण बनता है प्राथमिक सिरदर्द के भी तीन मुख्य कारण है जैसे- क्लस्टर सिरदर्द, तनाव से सिरदर्द और माइग्रेन आदि

  • द्वितीयक सिरदर्द

इस तरह के सिरदर्द के होने का कारण आपके शरीर से जुड़ी समस्याओं से है उदाहरण के लिए मान लीजिये फ्लू की समस्या होने पर आपको सिरदर्द होता है और जैसे ही यह बीमारी ठीक होती है तो अपने आप ही यह सिरदर्द  ठीक हो जाता है लेकिन अधिकतर सिरदर्द अधिक दवाओं के सेवन से होता है जैसे- एस्पिरिन, एसिटामिनोफेन, इबुप्रोफेन आदि इसलिए जब भी आपको लगातार या बार-बार सिरदर्द हो आपको डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिये

Migraine Ke Karan

माइग्रेन के कई कारण हो सकते है यह ट्रिगेमिनल नर्व में न्यूरोकेमिकल के बदलाव और मस्तिष्क के रसायनों में असंतुलन, खासकर सेरोटोनिन के कारण आरंभ होता है क्योंकि जब माइग्रेन होता है तब इसके समय सेरोटोनिन का स्तर संभवतः कम हो जाता है, जो ट्राइजेमिनल सिस्टम को न्यूरोपेप्टाइड का स्त्राव करने के लिए प्रेरित करता है जिससे न्यूरोपेप्टाइड मस्तिष्क के बाहरी आवरण यानि (मेनिंन्जेज) तक पहुंचकर सिरदर्द पैदा करता है तो चलिए जानते है कुछ अन्य सामान्य Reason Of Headache In Hindi के बारे में

  • हार्मोन के कारण

यह प्राकृतिक बदलाव या हार्मोन के कारण जो खासकर महिलाओं में होता है के कारण होता है जहाँ एस्ट्रोजेन हार्मोन के स्तर में कमी होने पर सिरदर्द होता है महिलाओं को पीरियड्स के समय या उससे पहले सिरदर्द हो सकता है

  • असंतुलित खाद्य पदार्थ

कुछ असंतुलित खाद्य पदार्थ जैसे- बीयर, रेड वाइन, चॉकलेट, पनीर, चीज, एस्पार्टेम, मोनोसोडियम ग्लूटामेट और अधिक कैफीन का इस्तेमाल करने से भी माइग्रेन होता है

  • तनाव के कारण

माइग्रेन की समस्या पूरी दुनिया में बढती जा रही है हमारा देश ही अकेला नही है जहाँ माइग्रेन की समस्या हो इसका सबसे बड़ा कारण भागदौड भरी जिंदगी को माना जाता है जहाँ पूरी जिंदगी तनाव से भरी है और लोग इससे पीछा भी छुड़ाना चाहते है लेकिन धीरे-धीरे कब ये माइग्रेन के रूप बदलने लगती है पता ही नही चलता है और बैचेनी के साथ यह दर्द धीरे-धीरे बढ़ता जाता है

  • प्राकृतिक वातावरण

प्राकृतिक वातावरण जैसे- तेज़ धुप, धुप के कारण आंखे चुंधियाना, तेज़ आवाज़, परफ्यूम, बदबू (पेंट, थिनर, धुएं) आदि के कारण तेज़ दर्द होना

  • सोने जागने पर

सोने जागने के पैटर्न में अवरोध के कारण जैसे- ठीक से सो नही पाना, ज्यादा सोना आदि

  • अत्यधिक परिश्रम के कारण

अत्यधिक परिश्रम या मेहनत करने के कारण शारीरिक थकावट भी माइग्रेन का कारण बनती है

  • मौसम में बदलाव से

मौसम में बदलाव से आशय है अधिक गर्म या ठंडा मौसम भी माइग्रेन की समस्या उत्पन्न करता है

Migraine Se Bachne Ke Upay

इस बीमारी से बचाव बहुत जरूरी होता है आप निचे बताये गये उपायों को Follow करके इससे बच सकते है

जरूर पढ़े: Cancer Kya Hai? Cancer Kaise Hota Hai? – जानिए Cancer Ke Prakar और Cancer Se Bachne Ke Tarike की पूरी जानकारी हिंदी में!

  • तापमान में बदलाव से हमेशा बचे जैसे अगर आप गर्मी में AC का इस्तेमाल करते है तो एक दम ठंडे से गर्म में न निकले और तेज़ गर्मी से आकार बहुत ज्यादा ठंडा पानी न पिये  
  • अगर आप गर्मी के मौसम में तेज़ धुप में बाहर निकल रहे है तो सूरज की सीधी रोशनी से बचे और सनग्लासेस या छाते का इस्तेमाल करे
  • गर्मी के मौसम में अधिक से अधिक ट्रेवल करने से बचे
  • रोजाना 8 से 10 ग्लास पानी जरूर पिये वरना आपको डिहाइड्रेशन हो सकता है क्योंकि डिहाइड्रेशन माइग्रेशन की समस्या का सबसे बड़ा कारण होता है इसलिए अधिक से अधिक पानी पिये
  • उमस वाले मौसम में ऐसी चीजें खाने से बचे जिससे ज्यादा पसीना निकलता है जैसे- चाय, कॉफ़ी आदि
  • ज्यादा मिर्ची ना खाए, ब्लड फ्रेशर मेंटन रखे और गर्भनिरोधक गोलियां न खाए अगर गर्भनिरोधक गोलियां लेना ही है तो कम डोज में ले
  • रोजाना सुबह टहलने जाये, नंगे पांव घांस पर चले क्योंकि इससे तनाव कम होता है और अगर तनाव कम रहेगा तो हार्मोंस भी बैलेंस में रहेगा जिससे माइग्रेन भी कम हो जाता है
  • रोजाना 30 मिनट तक योगासन या प्राणायाम जरूर करे इससे आपको काफी फायदा मिलेगा रोजाना 10 मिनट मेडिटेशन करना भी हमारे लिए काफी फ़ायदेमंद होता है  

Migraine Ka Ilaj

माइग्रेन यानि Sir Dard Ka Ilaj का कोई परमानेंट इलाज नही है लेकिन यह भी सच है की न यह जानलेवा और ना ही एक दूसरे से फैलने वाला अगर सिरदर्द पैदा करने वाले कारकों की पहचान कर ली जाये और उनसे बचा जाये तो माइग्रेन को कंट्रोल किया जा सकता है तेज़ दर्द होने पर अलग-अलग ब्रांड नेम से मार्केट में जेनरिक दवाएं मिलती है लेकिन बिना डॉक्टर की सलाह के इन दवाइयों का सेवन न करे

आईये अब जानते है Migraine Ka Gharelu Ilaj क्या होते है के बारे में

  • लैवेंडर का तेल

यह सामान्य सिरदर्द और माइग्रेन के दर्द के लिए एक घरेलू उपचार है लोगों का मानना है की इसकी खुशबु माइग्रेन के लिए काफी प्रभावशाली होती है गर्म पानी में लैवेंडर तेल की कुछ बूंद डालकर सूंघने से बेहद आराम मिलता है

  • तुलसी का तेल

सभी तुलसी के प्राकृतिक गुणों से परिचित है लेकिन हम आपको बता देते है की तुलसी का तेल माइग्रेन के दर्द में भी काफी प्रभावशाली है तुलसी के तेल का इस्तेमाल करने से माइग्रेन के दर्द में काफी आराम मिलता है तुलसी का तेल मांसपेसियों को आराम देता है जिससे तनाव कम होता है और दर्द में राहत मिलती है

  • फिक्स आहार

सिर के दर्द को कम करने और माइग्रेन के दर्द को कम करने के लिए आपको अपने दैनिक आहार में कुछ परिवर्तन करने होंगे माइग्रेन से पीड़ित व्यक्ति को साधारण मख्खन की जगह पीनट बटर यानि मूंगफली से बने मख्खन का इस्तेमाल करना चाहिये साथ ही एवोकाडो, केला और खट्टे फल आदि का इस्तेमाल करना भी लाभदायी होता है

  • सिर की मालिश

कहते है की तनाव को दूर करने के लिए सिर की मालिश बहुत कारगर उपाय है माइग्रेन के दर्द को कम करने के लिए सिर के पीछे के हिस्से की मालिश करने से माइग्रेन के दर्द में राहत मिलती है इसके साथ ही हाथ पैरों की मालिश भी करनी चाहिये इससे शरीर में रक्त संचार बढ़ता है

  • अदरक

अदरक में एंटी फ्लेमेबल गुण परेशानी पैदा करने वाले लक्षणों को कम करता है यह सिरदर्द के दौरान जी मचलाने या उल्टी होने जैसे लक्षणों से राहत देता है इसके अलावा इससे सूजन और दर्द भी कम होता है अदरक को छीलकर टुकड़े करके पानी में उबालकर ठंडा कर ले और इस पानी में शहद और नींबू की कुछ बूंद डालकर पीने से काफी लाभ मिलता है  

  • कॉफी

कई लोग ऐसे होते है जिन्हें माइग्रेन के तेज़ दर्द में कॉफी पीने से तुरंत राहत मिलती है कॉफी में मौजूद कैफीन माइग्रेन में एडेनोसाइन के प्रभाव को कम कर देता है हालांकि ज्यादा कैफीनयुक्त पदार्थ हमारे स्वास्थ के लिए ठीक नही होते है लेकिन एक कप कॉफी आपके स्वास्थ को लाभ पहुंचाती है

  • धनिया

आज लगभग हर घर में धनिया इस्तेमाल किया जाता है जो खाने में स्वाद को बढ़ाने के साथ-साथ खाने को पचाने में भी मदद करता है यह स्वादिष्ट खाना बनाने वाले मसालों में से बेहतरीन माना जाता है साथ धनिये का उपयोग प्राचीन काल से ही सिरदर्द और माइग्रेन की दवा के रूप में किया जाता है धनिये के बीजों से तैयार चाय माइग्रेन में काफी लाभकारी होती है   

Conclusion

तो दोस्तों ये थी हमारी आज की पोस्ट What Is Migraine In Hindi? आशा करते है की आपको Reason Of Migraine In Hindi के बारे में सब कुछ अच्छे से समझ में आया होगा अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी हो तो Comment Box में Comment करके जरूर बताएं

Symptoms Of Migraine In Hindi में आपको कोई भी परेशानी हो तो आप हमे जरूर बताएं हमारी Team आपकी Problem को हल करने की पूरी कोशिश करेगी अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे ताकि वे भी Home Remedies Of Headache In Hindi के बारे में जाने

यह पोस्ट भी जरूर पढ़े: Appendix Kya Hai? Appendix Kyu Hota Hai? Appendix Se Bachne Ke Upay क्या है? – जानिए Appendix Me Kya Khana Chahiye और क्या नही खाना चाहिये!

अगर आप चाहते है की आपको Migraine Ko Kaise Dur Kare इस तरह की और महत्वपूर्ण पोस्ट के बारे में जानने मिले तो आप हमे बता सकते है हम कोशिश करेंगे की आपको इस तरह की और पोस्ट Migraine Treatment In Hindi के बारे में पढने को मिले इसके साथ ही हमारी पोस्ट को Like और Share जरूर करे।

दोस्तों अगर आप हमारी Website के Latest Update पाना चाहते है तो हमारी Hindi Sahayta के Notification को ज़रूर Subscribe करे इससे आपको हमारी आने वाली New पोस्ट के बारे में Latest Update मिलते रहेंगे तो Friends आज के लिए बस इतना ही फिर मिलेंगे आपसे तब तक के लिए अलविदा आपका दिन मंगलमय रहे

Leave a comment

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

हिंदी सहायता क्या है?







हिंदी सहायता एक वेबसाइट है जिस पर अनेक प्रकार की जानकारियों को लेखों के माध्यम से पाठकों तक पहुँचाया जाता है। जिन्हें हिंदी भाषा में लिखकर सरल रूप में समझाया जाता है।

हिंदी सहायता की शुरुआत किसने की?







हिंदी सहायता 15 अगस्त 2017 को नीरज जीवनानी के द्वारा शुरू की गई थी।

हिंदी सहायता का उद्देश्य क्या है?







हमारी वेबसाइट हिंदी सहायता का सबसे मुख्य उद्देश्य लोगों तक इंटरनेट और आधुनिक तकनीकों से जुड़ी सभी प्रकार की जानकारियों को प्रदान करना है। इसके साथ ही देश की मातृभाषा हिंदी के महत्व को बनाये रखना भी है। जो भारत देश की सबसे प्रिय भाषा है।

हिंदी सहायता पर किस प्रकार के लेख मौजूद है ?







हिंदी सहायता पर कई तरह के लेख है जिनके बारे में जानना आपके जीवन के लिए आवश्यक है जैसे – शिक्षा संबंधी लेख, तकनीकी संबंधी लेख, स्वास्थ्य संबंधी लेख, ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए तथा और भी विभिन्न प्रकार के लेख मौजूद है। जिनसे आपको बहुत कुछ सीखने को भी मिलता है और आपका काम भी आसान हो जाता है।

हिंदी सहायता अन्य वेबसाइट से क्यों बेहतर है ?







इस वेबसाइट पर आपको बहुत ही सरल भाषा में जानकारी दी जाती है लेख इस प्रकार से लिखे गए होते है जो आसानी से समझ में आ सके शब्दों को बिल्कुल सामान्य रूप में अभिव्यक्त किया जाता है

क्या हिंदी सहायता पर मेरे सवालों का उत्तर दिया जाएगा ?







हाँ आपके सभी सवालों के जवाब दिए जाएँगे आपको किसी लेख में कोई परेशानी आती है तो आप हमसे जरुर पूछे लेखों से जुड़ी परेशानी को दूर करने में हम आपकी मदद करेंगे

अपना बहुमूल्य सुझाव दे |