आज हमारे दैनिक जीवन में एक चीज़ का बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है, इसके बिना हमारे बहुत से कार्य रूक जाते है। वैसे तो यह इतनी छोटी चीज़ है कि हमारी जेब में भी आसानी से आ जाती है परन्तु इसके द्वारा किये जाने वाले कार्य बहुत ही बड़े है। यह हमेशा एक सच्चे दोस्त की तरह हमारी मदद के लिए तैयार रहता है। अब आप सोच रहे होंगे कि ऐसा कौन है जो हमारे लिए इतना अहम है और हमेशा हमारी मदद भी करता है।

हम बात कर रहे है मोबाइल फोन की, आज के समय में कुछ लोगों की जिंदगी में तो मोबाइल का इतना महत्व हो गया है कि यदि यह उनसे एक पल के लिए भी दूर हो जाये तो वे बैचेनी महसूस करने लग जाते है। मोबाइल न सिर्फ हमे देश-दुनिया और परिवार वालो से जोड़कर रखता है बल्कि यह हमे हर सवालों के जवाब, मनोरंजन आदि भी उपलब्ध कराता है। आज हम आपको इसी Mobile Ka Arth और Mobile Ki Jankari Hindi Mein देने जा रहे है।

Mobile Kya Hai

सबसे पहले हम पढ़ेंगे कि मोबाइल फोन क्‍या है, मोबाइल फोन को Cell Phone, Cellular Phone, Wireless Phone जैसे बहुत से अलग-अलग नामो से भी जाना जाता है। यह एक ऐसा डिवाइस है, जिसके माध्यम से दो लोग एक-दूसरे से बहुत दूर होते हुए भी आसानी से बात कर सकते है। अन्य शब्दों में कहा जाए तो यह एक लंबी दूरी का इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है, जिसका उपयोग ध्वनि के संचार के लिए किया जाता है।

आज के आधुनिक समय में इसका उपयोग बहुत बढ़ गया है, अब मोबाइल का उपयोग न सिर्फ बात करने के लिए किया जाता है बल्कि Mobile Phone Ka Use संदेश भेजने के लिये, ईमेल, इंटरनेट आदि ऑनलाइन कार्यों के उपयोग के लिए और गेमिंग, ब्लूटूथ, वीडियो रिकॉर्ड, ऑडियो रिकॉर्ड के साथ तस्वीरे खींचने, Mp3 Player, रेडियो, GPS इत्यादि कार्यो में भी Mobile Phone Ka Use होता है।

मोबाइल का फुल फॉर्म क्या है:

Mobile Ka Full Form – Modify Operation Byte Integration Limited Energy (दूरभाष यंत्र)

Mobile Ka Aviskar Kisne Kiya / Mobile Kisne Banaya

पुराने समय में Mobile Phone बड़े साइज़ के होते थे और सिर्फ बात करने के लिए बनाए जाते थे, लेकिन आज के समय में ऐसा नहीं है, अब हम मोबाइल में इंटरनेट, टेक्स्ट मैसेज और वीडियो कालिंग भी कर सकते है। सबसे पहले जो मोबाइल फोन बनाया गया था वो आज की तरह काम नहीं करता था वह सिर्फ एक रेडियो की तरह संदेश भेजने के काम आया करता था।

दुनिया का सबसे पहला मोबाइल फोन 1973 में मोटोरोला कम्पनी के इंजीनियर John F. Mitchell और Martin Cooper द्वारा बनाया गया था। इसका वजन 2 Kg और कीमत 2 लाख रूपये थी। इसके पश्चात 1983 में मोटोरोला का ही Dynatac 8000x मॉडल आया जिसकी बैटरी को एक बार चार्ज कर करीब 35 मिनट तक बात की जा सकती थी।

विश्व में सर्वप्रथम Automated Cellular Network जापान में सन 1979 में शुरू किया गया था यह एक First Generation (1G) System था, जिसकी मदद से एक ही बार में कई लोग आपस में कॉल कर सकते थे। इसके बाद 1991 में 2G टेक्नोलॉजी की शुरुआत फ़िनलैंड में Radiolinja द्वारा शुरू की गयी और 1997 में सर्वप्रथम कैमरे वाले मोबाइल की शुरुआत हुई।

2G मोबाइल फोन आने के पूरे 10 वर्षों बाद सन 2001 में 3G मोबाइल फोन का आगमन हुआ जो जापान की कंपनी Ntt Docomo द्वारा शुरू किया गया। इन सभी के अलावा मोबाइल फोन के बारे में एक रोचक तथ्य यह भी है कि 1983 से 2014 तक दुनियाभर में लगभग 700 करोड़ मोबाइल फोन का उपयोग किया गया था तथा अब तक सबसे ज्यादा बिकने वाला फोन Nokia 1100 है।

Telephone Ki Khoj Kisne Ki

अभी हमने ऊपर Mobile Ka Aviskar Kab Hua इस बारे में जानकारी प्रदान की। अब हम आपको टेलीफोन के बारे में जानकारी देने जा रहे है, जिससे आपको मोबाइल के साथ-साथ टेलीफोन की भी जानकारी प्राप्त हो तथा आप इन दोनों में आसानी से अंतर भी कर सकें।

Telephone Ka Aviskar अलेक्जेंडर ग्राहम बेल ने किया था तथा Telephone Ka Hindi Naam दूरभाष है। दूरभाष का अर्थ होता है, दूर से होने वाली बातचीत या अलग-अलग जगह से किया जाने वाला संचार। इसमें एक तरफ ट्रांसमीटर होता है जिससे आप कोई भी नंबर डायल कर सकते है और दूसरी तरफ रिसीवर होता है जिससे आवाज सुनाई देती है।

जब टेलीफोन की रिंग बजती है तो रिसीवर द्वारा फोन उठाकर हेलो बोला जाता है जिससे आपका किसी भी दूरस्थ व्यक्ति से कम्युनिकेशन हो पाता है। यदि आपको किसी भी अन्य शहर, राज्य या विदेश में रह रहे व्यक्ति से बात करना हो तो उसके लिए आपको सामने वाले व्यक्ति का टेलीफोन नंबर डायल करने से पहले STD या ISD कोड भी डायल करना पड़ता है।

टेलीफोन पर बातचीत तार के माध्यम से होती है तथा मोबाइल फोन को इसका एक अपग्रेटेड रूप कहा जा सकता है। मोबाइल में तार कनेक्शन नही होते है इसलिए मोबाइल को अपनी जेब में रखकर आसानी से कही भी ले जाया जा सकता है। यही एक बहुत बड़ी वजह है कि आजकल सब लोग मोबाइल का अधिक उपयोग करने लगे है।

Mobile Ka Advantage Or Disadvantage

मोबाइल फोन आज के समय में एक लत बन गया है तो दूसरी ही तरफ इसके उपलब्ध नहीं होने पर हमारे बहुत से कार्य भी रूक जाते है। नीचे मोबाइल के लाभ और हानि दर्शाये गए है:

मोबाइल के फायदे

  • मोबाइल की सहायता से हम किसी भी व्यक्ति से कहीं भी तथा कभी भी बिना उसके सामने जाए किसी भी स्थान से बात कर सकते है। मोबाइल फोन कॉलिंग के साथ-साथ मैसेजिंग की सुविधा भी प्रदान करता है।
  • मोबाइल फोन के आने के बाद अलग से एक बड़ा कैमरा उपयोग करने और संभालने की आवश्यकता समाप्त हो गयी है। आज मोबाइल के रोज नए अपडेटेड वर्ज़न आ रहे है, जिनमे 32, 48 यहां तक कि 64 मेगापिक्सल की भी कैमरा फैसिलिटी आ गयी है। ये मोबाइल कैमरा एक बेहतरीन तथा उच्च क्वालिटी के फोटो तथा वीडियो की सुविधा प्रदान करते है।
  • मोबाइल में हम इंटरनेट की सहायता से सोशल मीडिया एप्प्स जैसे- Facebook, Instagram, WhatsApp, Telegram, Hike आदि का उपयोग भी कर अपने प्रियजनों से जुड़ सकते है।
  • मोबाइल फोन में कैलकुलेटर की सुविधा का भी उपयोग किया जा सकता है, तथा यह साइंटिफिक कैलकुलेटर होता है जो अत्यधिक जटिल समस्याओं को भी पल भर में हल कर देता है।
  • मोबाइल एक छोटा सा गैजेट होता है जिसे हम आसानी से अपनी जेब में रख कर कहीं भी ले जा सकते है तथा यह कंप्यूटर द्वारा किये जाने वाले सभी कार्यों को भी कर लेता है।
  • अब मोबाइल की सहायता से हम कभी भी पैसों का लेन-देन कर सकते है तथा हमे बैंक या ATM जाने की जरुरत भी नहीं पड़ती है। इसके साथ ही हम मोबाइल से ऑनलाइन शॉपिंग व खाना भी आर्डर कर सकते है।
  • मोबाइल से हम गूगल के सभी एप्प जैसे- Gmail, Google Map, Chrome आदि का उपयोग कर सकते है। मोबाइल हमारे कई घंटो के कार्य को पल-भर में पूरा कर देता है।

मोबाइल के दुष्परिणाम

  • अधिक देर तक मोबाइल का उपयोग करने से आंखें खराब होती है जिससे कम दिखाई देने की समस्या हो सकती है।
  • मोबाइल के अत्यधिक उपयोग से कार्य करने में मन नहीं लगता है और बार-बार ध्यान भटकता है।
  • मोबाइल के दुष्प्रभाव में एक याददाश्त का कमजोर होना भी है, क्योंकि हम कुछ भी याद करने की बजाय उसे मोबाइल में सेव कर लेते है।
  • मोबाइल नेटवर्क से निकलने वाला रेडिएशन न सिर्फ मनुष्य बल्कि पशु-पक्षियों के लिए भी बहुत हानिकारक है।
  • कई लोगों को मोबाइल की लत इतनी ज्यादा होती है कि वे सड़क पर चलते समय भी मोबाइल का उपयोग करते है जिससे एक्सीडेंट की सम्भावना बढ़ जाती है।
  • बहुत से युवा दिन भर तेज आवाज़ में इयरफोन्स पर गाने सुनते है जिससे कम सुनाई देने की समस्या होने लगती है।
  • मोबाइल के खतरे में सबसे टॉप पर गेम्स की लत है, आज के समय में न सिर्फ बच्चे और युवा बल्कि उम्रदराज व्यक्ति भी दिन-भर मोबाइल में गेम खेलते रहते है।

Conclusion:

एंड्राइड मोबाइल के आने के पश्चात् तो मानो दुनिया ही बदल गयी है। स्मार्टफोन ने आते ही पूरी टेक्नोलॉजी की दुनिया में चमत्कारी और क्रांतिकारी बदलाव कर दिए है। इसकी मदद से हम किसी भी ऑनलाइन कार्य को कहीं भी पल-भर में पूरा कर सकते है। मोबाइल के आने के बाद लैपटॉप जैसे बड़े गैजेट का भी उपयोग बहुत कम हो गया है। इसलिए आज हमने आपको हमारी इस पोस्ट के माध्यम से मोबाइल के बारे में Mobile Ka Aviskar और मोबाइल क्या होता है इसकी विस्तृत जानकारी प्रदान की है अगर आपको यह पोस्ट पसंद आयी है तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूले।

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here