विज्ञापन
विज्ञापन

B.Ed Kya Hai – बी एड फुल फॉर्म एवं B.Ed कोर्स की पूरी जानकारी।

विज्ञापन
विज्ञापन

B.Ed Ka Full Form ‘बैचलर ऑफ एजुकेशन’ होता है। यह दो वर्ष का स्नातक (ग्रेजुएशन) कोर्स है जिसे शिक्षक बनने के लिए किया जाता है। बी.एड एक प्रोफेशनल डिग्री कोर्स है जिसे पूरा करने के बाद, आप स्कूल स्तर पर नौकरी कर सकते है। अगर आपकी रूचि शिक्षक बनकर विद्यार्थियों को पढ़ने की है तो इसके लिए आपको बीएड करना होगा।

अगर आप प्राथमिक, माध्यमिक या उच्च शिक्षा स्तर के शिक्षक बनने के लिए इच्छुक है तो इसके लिए आपके पास पर्याप्त योग्यता होना अनिवार्य है। हालांकि, यदि आप सीनियर माध्यमिक (Secondary) कक्षाओं के स्कूल शिक्षक बनना चाहते है, तो उसके लिए आपको बी.एड करने से पहले स्नातकोत्तर (पोस्ट-ग्रेजुएशन) डिग्री की आवश्यकता होती है।

विज्ञापन
विज्ञापन

शिक्षक का काम इतना आसान नहीं होता जितना हमे लगता है क्योंकि एक शिक्षक के ऊपर बहुत बड़ी जिम्मेदारी होती है, क्योंकि वह देश के भविष्य यानी की बच्चों को शिक्षा प्रदान करते है। यही बच्चे आगे जाकर हमारे देश का नाम रोशन करते है। किसी भी क्षेत्र में करियर बनाने से पहले उसके बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर लेना चाहिए, ताकि आगे की आपकी राह क्लियर  हो।

आपकी शिक्षक बनने की इसी राह को आसान बनाते हुए आज मैं आपको बीएड कोर्स से जुड़ी पूरी जानकारी (B.ed Course Details In Hindi) जैसे- B.ed Kya Hai, Bed Ka Full Form एवं बी.एड. कोर्स कितने साल का है आदि देने जा रहा हूँ।

B.Ed Kya Hai_B.Ed Ka Full Form

B.ed Kya Hai

बी.एड (B.Ed) या बैचलर ऑफ एजुकेशन एक 2 साल का प्रोफेशनल कोर्स है जो ग्रेजुएशन के बाद स्कूलों में शिक्षक के रूप में काम करने के लिए किया जाता है। नेशनल कॉउन्सिल ऑफ टीचर एजुकेशन (NCTE) के अनुसार सभी शिक्षकों के लिए बी.एड पाठ्यक्रम होना अनिवार्य है।

B.Ed में एडमिशन एंट्रेंस एग्जाम (जैसे- DU BEd, MP PRE BEd, IGNOU BED, UP BED JEE) और मेरिट लिस्ट के आधार पर होता है। बी.एड कोर्स करने के लिए छात्रों का स्नातक (Graduation) होना आवश्यक है।

B ed pattern

B.Ed Full Form in Hindi

B.Ed Ka Full Form ‘’Bachelor of Education’’ है। जिसे हिंदी में (बी एड फुल फॉर्म) ‘शिक्षाशास्त्र में स्नातक’ होता है।

बीएड का अर्थ एवं B.Ed का फुल फॉर्म क्या होता है ये तो आपने जान लिया, आईये अब आगे आपको इस कोर्स से जुड़ी कुछ और महत्वपूर्ण बातों जैसे- B.Ed डिग्री है या डिप्लोमा (B.Ed Degree Hai Ya Diploma), यह कितने वर्ष का होता है, इसके लिए कौन सी एंट्रेंस एग्जाम होती है आदि के बारे में बताते है।

सरकारी टीचर बनने के लिए कौन सा कोर्स करना चाहिए यह जानने के लिए इस लेख को पढ़े:- सरकारी टीचर कैसे बनें? – Teacher Banne Ke Liye Kya Kare?

Bed Diploma Hai Ya Degree

बैचलर ऑफ एजुकेशन (B.Ed) एक स्नातक (Graduate) प्रोफेशनल डिग्री कोर्स है जो छात्रों को स्कूलों में शिक्षक के रूप में काम करने के लिए तैयार करती है। हालांकि इस कोर्स को करने के लिए आपका ग्रेजुएशन होना आवश्यक है।

B.ed Kitne Saal Ka Hota Hai

बीएड (B.Ed) या बैचलर ऑफ एजुकेशन 2 साल का Full-Time डिग्री कोर्स है जो उन छात्रों को दिया जाता है जो शिक्षण या इससे संबंधित क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते है।

B.Ed कैसे करें (Bed Course Details In Hindi)

B.Ed. Course एडमिशन प्रोसेस प्रवेश परीक्षा (Entrance Exam) एवं मेरिट लिस्ट दोनों के आधार पर की जाती है। कुछ कॉलेज एवं इंस्टिट्यूट योग्य उम्मीदवारों के लिए एक प्रवेश परीक्षा (जैसे- RIE CEE, CUCET, TSEdCET, APEdCET, BEET Exam, IGNOU B.Ed आदि) आयोजित करते है और कुछ उम्मीदवारों की ग्रेजुएशन डिग्री में प्राप्त अंकों पर विचार करते है।

विज्ञापन
विज्ञापन

टॉप रैंक हासिल करने वाले छात्रों को पहले Counselling का मौका मिलता है, जिससे वे अपनी पसंद के अनुसार कॉलेज का चुनाव कर सकते है। अधिकतर छात्र गवर्नमेंट कॉलेज के लिए प्रयासरत रहते है, इनमें कम फ़ीस में उत्तम शिक्षण व्यवस्था होती है।

बी.एड. कोर्स नियमित (Regular) के साथ-साथ डिस्टेंस लर्निंग (Distance Learning) यानि IGNOU से भी किया जा सकता है। हालाँकि प्रवेश परीक्षा देने के लिए आपको कुछ निर्धारित मानकों को पूरा करना होगा जैसे- शैक्षणिक योग्यता, आयुसीमा आदि।

बीएड कोर्स (B.Ed Course) के लिए Qualification

बी.एड कोर्स में आवेदन करने से पहले, उम्मीदवारों को बी.एड में प्रवेश के लिए सभी आवश्यक पात्रता मानदंड के बारे में पता होना चाहिए। बी.एड कोर्स के लिए मांगी जाने वाली कुछ महत्वपूर्ण पात्रता मानदंड (eligibility criteria) आपको नीचे दिए गए है:

  • उम्मीदवारों को किसी भी मान्यताप्राप्त यूनिवर्सिटी या इंस्टिट्यूट से किसी भी स्ट्रीम (Arts, Science या Commerce) से अपना ग्रेजुएशन पूरा करना होगा।
  • अधिकांश लोकप्रिय बी.एड कॉलेजेस में उम्मीदवारों को बी.एड कोर्स के लिए प्रवेश प्रक्रिया से गुजरना होगा।
  • उम्मीदवार के ग्रेजुएशन में कम से कम 50% अंक होना अनिवार्य है। ये प्रत्येक कॉलेजेस के अनुसार 50 या 55% भी हो सकते है।

यह पोस्ट भी जरूर पढ़े: पीएचडी (PhD) कैसे करे? – PhD Kitne Saal Ka Hota Hai!

बीएड की फीस कितनी होती है

बी एड कोर्स दो साल का डिग्री कोर्स है जिसकी Fees उस सरकारी एवं प्राइवेट कॉलेज या इंस्टिट्यूट की लोकप्रियता पर निर्भर करती है जहाँ से आप इसे कर रहे है। आमतौर पर बीएड की फीस 20,000 रूपये से 50,000 रूपये तक हो सकती है।

बी.एड. के विषय

जैविक विज्ञानप्राकृतिक विज्ञान
व्यापारशारीरिक शिक्षा
कंप्यूटर विज्ञानभौतिक विज्ञान
अर्थशास्त्रविशेष शिक्षा
अंग्रेज़ीतमिल
भूगोलगणित

एक अच्छा शिक्षक बनने के लिए आपको कई विषयों का ज्ञान होना चाहिए। बी.एड. सब्जेक्ट्स लिस्ट और बी.एड. की फ़ीस, स्थान तथा यूनिवर्सिटी मानकों के अनुसार होती है। बी.एड. में पढ़ाए जाने वाले मुख्य विषय निम्नलिखित है –

  • शिक्षा दर्शन ( Educational Philosophy)
  • शैक्षिक समाजशास्त्र (Educational Sociology)
  • शिक्षा मनोविज्ञान एवं बाल विकास (Educational Psychology and Child Development)
  • निर्देशन एवं परामर्श (Guidance and Counselling)
  • विद्यालय प्रबंधन एवं नेतृत्व (Educational Leadership and Management)
  • भारत में शिक्षा व्यवस्था का विकास एवं चुनौतियाँ (Development of Education System in India and Its Challenges)
  • पाठ्यक्रम विकास और आकलन (Curriculum Development and Evaluation)
  • समग्र शिक्षा (Inclusive Education)
  • सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी का शिक्षा में प्रयोग (Information and Communication Technology, ICTE)

जरूर पढ़े: D.Ed Kya Hai? – जानिए डीएड कोर्स की पूरी जानकारी।

बीएड कोर्स (B.Ed Course) के लाभ

  • अगर आप टीचर बनना है, तो B.ed कोर्स आपके लिए सबसे बढ़िया कोर्स है।
  • किसी भी GOVT या Private स्कूल में टीचर बन विद्यार्थियों को प्रशिक्षित कर सकते है।
  • अपने ज्ञान को दूसरों के साथ बाँट सकते है और उन्हें शिक्षित कर एक बेहतर भविष्य प्रदान कर सकते है।
  • B.ed डिग्री की मदद से आप टीचर या प्रोफेसर बनकर अपना भविष्य सवाँर सकते है।
  • आप चाहे तो बीएड करके खुद का निजी स्कूल भी खोल सकते है।
  • B.ed करने के बाद आप अपना कोचिंग इंस्टिट्यूट भी खोल सकते है।

Conclusion

बी.एड. करने से बहुत सारे फायदे होते है, बी.एड. के बाद आप किसी भी सरकारी, सहायता प्राप्त या निजी स्कूल में पढ़ाने के योग्य हो जाते है। उच्च शिक्षा स्तर पर प्रशिक्षण (एम.एड) पाने के लिए करने के लिए आपकी बी.एड. होना ज़रूरी है।

शिक्षा का निजीकरण होने से देश भर में अप्रशिक्षित शिक्षक बढ़ते गए। जिन्हें शिक्षा का ज्यादा नॉलेज नही था, हमारे समाज को अच्छे शिक्षकों की बहुत आवश्यकता है जो सिर्फ प्रोफेशनल शिक्षक बनकर न रह जाए, बल्कि निस्वार्थ भाव से बच्चों के सर्वांगीण विकास की ज़िम्मेदारी ले सके।

वर्ष 2011 के बाद से भारत सरकार ने शिक्षकों के स्तर और गुणवत्तापरक शिक्षा के प्रसार के लिए बी.एड. के साथ TET टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट (शिक्षक पात्रता परीक्षा) को उत्तीर्ण करना भी अनिवार्य किया है। सरकारी टीचर की नौकरी पाने के लिए यह परीक्षा उत्तीर्ण करना अनिवार्य है।

दोस्तों, उम्मीद है आपको हमारा लेख B.Ed Kya Hai in Hindi पसंद आया होगा और इससे आपको Bed Kaise Kare ये स्पष्ट हो गया होगा। इस पोस्ट को आप अपने परिवार तथा मित्रों को जरुर शेयर करे। आप हमे कमेंट कर अपने सुझाव दे सकते है या लेख से संबंधित प्रश्न पूछ सकते है। हमारे लेख को अंत तक पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद।

बीएड कोर्स से जुड़े अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

  • B.Ed कितने वर्ष का कोर्स है?

बीएड एक प्रोफेशनल ग्रेजुएशन डिग्री कोर्स है जिसकी अवधि 2 वर्ष है।

  • B.Ed टीचर की सैलरी कितनी होती है?

एक अनुभवी बी.एड. टीचर का औसत वेतन अनुमानित तौर पर 3 लाख रूपये प्रति वर्ष तक हो सकता है।

  • क्या Private कॉलेज से बी.एड किया जा सकता है?

जी हाँ, छात्र प्राइवेट या सरकारी कॉलेज से बीएड बैचलर डिग्री कर सकता है।

  • B.Ed करने के लिए आयु सीमा क्या है?

आप 21 से 35 वर्ष की आयु सीमा के भीतर बी.एड कर सकते है।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ?

Average rating 4.6 / 5. Vote count: 120

अब तक कोई रेटिंग नहीं! इस लेख को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

Default image
Neeraj Jivnani
Articles: 916

7 Comments

  1. Madam agr graduation m 50 persant na ho thode km ho jase 49 persant to kya b.ed nhi kr skte. .plz reply

    • जी नहीं, आपके ग्रेजुएशन में कम से कम 50% Marks होने चाहिए!

    • जी हाँ बिलकुल कर सकते है लेकिन B.Ed करने के लिए आपको सबसे पहले एक प्रवेश परीक्षा देनी होती है। उसके बाद काउंसलिंग की जाती है। काउंसलिंग में उम्मीदवार को रैंक के अनुसार कॉलेज मिलते है।

  2. प्रवेश परीक्षा में पास नहीं हुए तो फिर एडमिश नहीं मिलता क्या।

Leave a Reply