हमारा शरीर कई रचनाओं से मिल कर बना है, जिसे पूरी तरह समझ पाना हमारे लिए बहुत मुश्किल है। हमारे द्वारा किसी भी कार्य को पूर्ण करने के पीछे, हमारे शरीर के सभी अंग कार्य कर रहे होते है। लेकिन आज की जीवन शैली जैसे- गलत खान-पान, शारीरिक मेहनत कम करना जैसे कई कारण हमारे शरीर के अंगों को बहुत नुकसान पहुँचा रहे है, जिसके चलते हमें आए दिन कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। जिनमें से एक समस्या के बारे में आज हम जानकारी प्राप्त करेंगे, जिसे हम Heart Attack (हार्ट अटैक) के नाम से जानते है।

हमारे शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में हमारे दिल का नाम सबसे ऊपर आता है। यह हमारे शरीर के अंदर बह रहे रक्त को अपने अंदर भरता है और वापस बाहर निकाल देता है। इस प्रक्रिया से रक्त का शुद्धिकरण होता है। हमारा दिल एक छोटे आकार के सेब जितना बड़ा होता है, जो अंदर से पूरा खोखला होता है। दिल में तीन धमनियों के माध्यम से रक्त जाता है और इनमें से किसी भी धमनी में किसी भी प्रकार की रूकावट हार्ट अटैक का कारण (Heart Attack Causes) बन सकती है। अगर आप Heart Attack Kya Hai, Heart Attack Ke Symptoms और Heart Attack Treatment की जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो हमारे साथ इस महत्वपूर्ण लेख के साथ अंत तक बने रहिए।

Heart Attack Hone Par Kya Kare

Heart Attack Kya Hota Hai

वैसे सभी हार्ट अटैक क्या है? यानि दिल की बीमारी से भलीभाँति परिचित है जो कोरोनरी धमनियों में रुकावट के कारण होती है। यह दिल तक रक्त पहुँचाने का काम करती है इन धमनियों में किसी भी प्रकार की रूकावट या अवरुद्ध दिल की बीमारी का मुख्य कारण है, जिसमे सबसे ऊपर हार्ट अटैक आता है। हमारे दिल को निरंतर काम करने के लिए ऑक्सीजन की ज़रूरत होती है और जब धमनियों में रूकावट के कारण दिल तक ऑक्सीजन पहुँचाने वाले रक्त का प्रवाह कम हो जाता है या एक दम बंद हो जाता है तो उस स्थिति में व्यक्ति को हार्ट अटैक आता है।

किसी भी धमनी में ब्लॉकेज के कारण जब दिल तक रक्त पर्याप्त मात्रा में नहीं पहुंच पता है तो उस स्थिति में वह धमनी धीरे-धीरे मरने लगती है तथा जिस वजह से उस धमनी से जुड़ा दिल का हिस्सा भी प्रभावित होता है। दिल को रक्त पहुँचाने का काम तीन धमनियां करती है और एक के नष्ट होने पर, बाकि की दो धमनियां दिल को चलाने में मदद करती है। धमनियों में ब्लॉकेज ही हार्ट अटैक आने की प्रक्रिया होती है। इसके चलते अगर व्यक्ति को कार्डियक अरेस्ट हो जाए तो उसे बचाना असंभव हो जाता है।

क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी: लीवर को स्वस्थ कैसे बनाये? – जरूर अपनाये लीवर को स्वस्थ रखने के इन घरेलू उपायों को!

Types of Heart Attack

मुख्यतः हार्ट अटैक के प्रकार तीन है जो लोगों की स्थिति के हिसाब से उन्हें प्रभावित करते है। इसीलिए हम आपकी जानकारी के लिए Heart Attack Ke Prakar लाए है, जो इस तरह है:

ST-segment Elevation Myocardial Infarction (STEMI)

एसटी सेगमेंट एलिवेशन मायोकार्डियल इन्फार्क्शन में व्यक्ति को सीने में हल्का दर्द, दबाव और जकड़न महसूस होती है। कुछ लोगों को इसमें हाथ-पैर, गले, कमर और जबड़े में भी दबाव और जकड़न महसूस होती है।

Non-ST Segment Elevation Myocardial Infarction (NSTEMI)

नोन-एसटी सेगमेंट एलिवेशन मायोकार्डियल इन्फार्क्शन में व्यक्ति के दिल तक रक्त पहुँचाने वाली कोरोनरी धमनियां आंशिक रूप से अवरुद्ध हो जाती है।

कोरोनरी ऐंठन

इस प्रकार के हार्ट अटैक में STEMI की तरह ही लक्षण दिखाई देते है, लेकिन अधिकतर लोग उन्हें नजर अंदाज कर देते है। इसमें कोरोनरी धमनी में ऐंठन आ जाती है, जिससे रक्त का प्रवाह कम हो जाता है या रूक जाता है। इस हार्ट अटैक से आपको ज़्यादा ख़तरा तो नहीं होता है, लेकिन इसके आने के बाद हार्ट अटैक वापस आने की संभावना बहुत बढ़ जाती है।

Heart Attack Symptoms Warning Signs (हार्ट अटैक के लक्षण)

हार्ट अटैक एक ऐसी समस्या है जो किसी भी व्यक्ति को अचानक प्रभावित कर सकती है। इस समस्या से बचना बहुत मुश्किल होता है, क्योंकि इसके अधिकतर केस में व्यक्ति को Heart Attack Ke Sanket नजर ही नहीं आते है। यदि आपको इस समस्या से बचे रहना है, तो आपको Heart Attack Ke Lakshan (हार्ट अटैक सिम्पटम्स) की जानकारी होना चाहिए, जो हम आपको नीचे बता रहे है:

  • अगर आपके दिल की धमनी में किसी भी प्रकार का ब्लॉकेज आता है तो उस स्थिति में आपको सीने में दर्द, दबाव और जलन महसूस हो सकती है। यदि आपको अपने अंदर इस तरह के लक्षण दिख रहे है तो सावधान हो जाए आगे चल कर यह हार्ट अटैक का रूप ले सकते है।
  • अगर आप बिना कोई मेहनत करे घर पर बैठे-बैठे ही थकान महसूस कर रहे है तो आप अपना चेकअप करवा ले क्योंकि यह Heart Attack Symptoms की लिस्ट में आता है।
  • सांस लेने में परेशानी और बेचैनी महसूस होना भी हार्ट अटैक का मुख्य लक्षण है।
  • चक्कर आना, उल्टी होना, सिर दर्द करना जैसी समस्या हो सकती है।
  • पैरों की एड़ियों में सूजन आना भी Mini Heart Attack Symptoms का संकेत है।

Heart Attack Ke Karan

आज हार्ट अटैक का नाम सुनकर ही लोग डर जाते हैं, यह समस्या किसी भी सामान्य व्यक्ति को पल भर में मौत की नींद सुला सकती है। हम आपकी जानकारी के लिए हार्ट अटैक होने के कारण (Heart Attack Causes And Prevention) लाए है, जो आपको भविष्य में इस बीमारी से बचने में मदद करेंगे:

  • दिल तक रक्त पहुँचाने वाली कोरोनरी धमनी में कोलेस्ट्रॉल और इसके जैसे अन्य पदार्थ के संचय से ब्लॉकेज हो जाती है, और जब एक या एक से अधिक धमनियां अवरुद्ध हो जाए तो व्यक्ति को हार्ट अटैक आता है। इसे कोरोनरी धमनी रोग भी कहा जाता है। इसी कारण से सबसे ज़्यादा हार्ट अटैक होते है।
  • हार्ट अटैक या दिल का दौरा आने पर आपके शरीर में उपस्थित Plaque (चिपचिपे पदार्थ का संग्रह) फट जाता है। जिसके कारण रक्त-धारा में कोलेस्ट्रॉल और अन्य पदार्थ फेल जाते है। जिस जगह पर Plaque फटा होता है, उस जगह पर Plaque के कारण रक्त का थक्का बन कर बड़ा होने लगता है तथा जिससे रक्त का प्रवाह अवरुद्ध होने लगता है जो आपके जीवन के लिए एक बड़ी समस्या का कारण है।
  • दिल का दौरा पड़ने का एक मुख्य कारण यह भी है कि, जब कोरोनरी धमनी में किसी भी कारण ऐंठन आ जाती है तो दिल तक रक्त नहीं पहुँच पाता है। तंबाकू, कोकेन जैसे कई नशीले पदार्थ इन ऐंठन को बनाने का मुख्य कारण है, जो किसी भी व्यक्ति के लिए जानलेवा हो सकती है।
  • अगर आपके दिल (हृदय) को रक्त पहुँचाने वाली कोई धमनी किसी भी कारण फट जाए, तो आपको हार्ट अटैक आ सकता है।

Heart Attack Prevention In Hindi (हार्ट अटैक से कैसे बचें)

अगर आप हार्ट अटैक जैसी ख़तरनाक बीमारी के शिकार नहीं बनना चाहते है, तो आपको Heart Attack Se Bachne Ke Tarike और Heart Attack Se Bachne Ke Upay की जानकारी होना चाहिए जो हम आपको नीचे बताने वाले है। अब ज़्यादा समय ना लेते हुए सीधे Heart Attack Se Bache in hindi की जानकारी प्राप्त करते है:

  • अगर आपको हार्ट अटैक या दिल की किसी भी बीमारी से बचे रहना है तो आपको अपनी जीवनशैली में व्यायाम को लाना होगा। व्यायाम करने से आप मानसिक और शारीरिक तौर पर स्वस्थ रहते है, जिससे हार्ट अटैक जैसी समस्या आपके पास भी नहीं आएगी।
  • नींद आपके स्वास्थ के लिए बहुत ज़रूरी है। अगर आप हार्ट अटैक या दिल की किसी समस्या से पीड़ित है तो आपको अपनी नींद पर बहुत ध्यान देना चाहिए और हमेशा पूरी नींद लेना चाहिए।
  • मछली में कई लाभदायक तत्व होते है जो हमारी आँखों और दिल के लिए बहुत ज़्यादा फ़ायदेमंद है। यदि आप दिल का दौरा या दिल की समस्या से बचे रहना चाहते है तो आपको हफ्ते में 1-2 बार मछली का सेवन ज़रूर करना चाहिए।
  • हार्ट अटैक आने का सबसे बड़ा कारण तनाव (Tension) को माना गया है। जिसकी वजह से हर साल कई लोगों को हार्ट अटैक आता है। आपको इससे बचने के लिए सभी तरह की परिस्थिति में अपने आप को शांत रखकर तनाव मुक्त रहना होगा। तनाव आपके स्वास्थ को बिगाड़ने में एक अहम रोल अदा करता है और दिल के रोगी के लिए तो तनाव एक अभिशाप है जो आपके जीवन काल को खत्म कर सकता है।
  • हार्ट अटैक से बचने के लिए आपको एक पौष्टिक आहार का सेवन करना चाहिए, धूम्रपान जैसी नशीली चीजों का सेवन करना बंद कर देना चाहिए, मधुमेह जैसी समस्या होने की स्थिति में उस पर नियंत्रण करके रखना चाहिए। इन सभी चीजों का ध्यान रख कर आप हार्ट अटैक से बहुत हद तक बच सकते है।

जरूर पढ़े: Kidney Stone Kaise Hota Hai? – किडनी स्टोन (पथरी) के लक्षण, कारण, इलाज और घरेलु उपचार!

Heart Attack Ke Gharelu Upay

दिल का दौरा या हार्ट अटैक आपको कभी भी किसी भी समय आ सकता है, क्योंकि अधिकतर लोग हार्ट अटैक सिम्पटम्स को सही समय पर पहचान नहीं पाते है। इसीलिए हम आपकी जानकारी के लिए आपको हार्ट अटैक से बचने के उपाय बता रहे है, जो आपके लिए बहुत लाभदायक होंगे:

  • अर्जुन की छाल को सभी प्रकार के हृदय रोग का निवारण करने में उत्तम माना जाता है। इसके लिए आप इसे बारीक़ पीस कर चूर्ण बना ले और उस चूर्ण की सुबह शाम चाय बना कर पिए। ऐसा करने से आप हार्ट अटैक जैसी समस्याओं से दूर रहेंगे।
  • Heart Attack Ka Desi Ilaj करने के लिए आप गेंहू को कुछ समय पानी में रखने के बाद उन्हें वहाँ से निकाल कर किसी बर्तन या कपड़े में लपेट कर अंकुरित होने के लिए रख दे। जब वह अंकुरित होकर एक इंच बड़े हो जाए तो रोज़ाना थोड़ी-थोड़ी मात्रा में उनका सेवन करे। यह Heart Attack Treatment At Home का बहुत अच्छा तरीका है।
  • यदि आप Heart Attack, Heart Attack 2 और Heart Attack 3 से बचना चाहते है तो उसके लिए आपको पपीते के 8-10 पत्तों अच्छे से साफ करके थोड़े पानी में अच्छे से उबाल लेना है और फिर पीने योग्य ठंडे होने तक छोड़ देना है। ठंडे होने के बाद उसे किसी बर्तन में छान कर उसका सेवन करे। इसे नियमित रूप से सेवन करने पर आपको हार्ट ब्लॉकेज जैसी समस्या नहीं होगी। इससे आपके हार्ट अटैक आने के चांस भी बहुत कम हो जाएँगे।
  • Heart Attack Se Bachao के तरीके के लिए आप सूखे आंवले और मिश्री को एक निश्चित मात्रा में बराबर लेकर बारीक़ पीस ले और रोज़ाना सुबह शाम इस मिश्रण की एक चम्मच को पानी में अच्छे से मिलाकर सेवन करे। इस उपाय को नियमित करने से आपको हार्ट अटैक आने की संभावना बहुत कम हो जाएगी।
  • लौकी में कई गुणकारी तत्व और विटामिन पाए जाते है। अगर आप रोजाना लौकी की सब्जी या लौकी के जूस का सेवन करते है तो आप हार्ट अटैक की समस्या से दूर रहेंगे आप खाने में कच्ची लौकी का भी सेवन कर सकते है इससे आप कई समस्याओं से बचे रहते हैं।

Heart Attack Emergency Treatment At Home In Hindi (हार्ट अटैक का इलाज)

Heart Attack Ka Treatment उसके लक्षण और प्रकार को देख कर ही किया जा सकता है। हम आपकी जानकारी के लिए इसके बारे में बताने वाले है जो आपको हार्ट अटैक की स्थिति में खुद की या किसी अन्य व्यक्ति की मदद करने में उपयोगी होगी।

हार्ट अटैक इलाज का तरीका

  • अगर आपको अपने शरीर में Heart Attack Symptoms 12 घंटों से दिख रहे है तो आपका इलाज प्राइमरी परक्यूटीनियस कोरोनरी इंटरवेंशन (पीसीआइ) से किया जाएगा।
  • यदि 12 घंटों से हार्ट अटैक के लक्षण दिख रहे है परन्तु उस समय (पीसीआइ) देना संभव नहीं है तो उस स्थिति में आपको रक्त के थक्कों की जांच करने वाली दवाई दी जाएगी।
  • यदि आपको हार्ट अटैक के लक्षण 12 घंटों से ज़्यादा समय से दिख रहे है तो आपको सबसे पहले एंजियोग्राफी दी जाएगी। उसके बाद तय किया जाएगा की आपको पीसीआइ दी जाए या कोई और दवाई दी जाये या फिर आपकी बाय-पास सर्जरी की जाए।

हार्ट अटैक का इलाज करने की कुछ प्रक्रिया

Angioplasty (एंजियोप्लास्टी)

इसमें बैलून का इस्तेमाल करके अवरुद्ध पैदा करने वाले पदार्थ को हटा कर धमनी को खोल दिया जाता है।

Heart Valve Surgery (हार्ट वाल्व सर्जरी)

इसका उपयोग करके हार्ट के जिस वाल्व में रिसाव हो रहा होता है, उसे बदल दिया जाता है।

Heart Transplant (हृदय प्रत्यारोपण)

इसका इस्तेमाल बहुत कम और बहुत ही ज़्यादा गंभीर स्थिति में किया जाता है। जब हार्ट अटैक की वजह से हृदय की सभी ऊतकें नष्ट हो जाती है, तब उस स्थिति में इसका इस्तेमाल किया जाता है।

Bypass Surgery (बाईपास सर्जरी)

दिल में उपस्थित अवरुद्ध भाग में रक्त के प्रवाह को ठीक करने के लिए इस सर्जरी का उपयोग किया जाता है।

Pacemaker Surgery (पेसमेकर सर्जरी)

जब हृदय की हार्ट बिट एक समान ना होकर अलग-अलग हो जाती है तो उन्हें नियंत्रण करने के लिए पेसमेकर सर्जरी की जाती है।

स्टेंट ट्यूब डालना

जब एंजियोप्लास्टी प्रकिया से धमनी को खोल दिया जाता है तो उसे खुला रखने के लिए स्टेंट ट्यूब डाली जाती है, जो उसे खोले रहने में मदद करती है।

Heart Attack Ki Goli

हम आपको नीचे कुछ हार्ट अटैक की दवाई के नाम बता रहे है जो हार्ट अटैक में इस्तेमाल जाती है। परन्तु आप इनका सेवन तभी करे जब डॉक्टर आपको इनकी सलाह दे, नहीं तो यह आपके लिए नुकसानदायक भी हो सकती है।

  • Aspirin (एस्पिरिन) या Antiplatelet (एंटीप्लेटलेट) – यह रक्त के थक्के की जांच करने की दवाई है।
  • Anticoagulants (एंटीकोएगुलांट्स) – रक्त को पतला करने वाले पदार्थ के लिए इसका उपयोग किया जाता है।
  • Nitroglycerin (नाइट्रोग्लिसरीन) – हार्ट अटैक में इसके जैसी कई दवाई को दर्द निवारण के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

यह पोस्ट भी पढ़े: Hernia Kaise Hota Hai? – हर्निया होने के कारण, लक्षण और बचने के घरेलु उपाय!

हार्ट अटैक से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी

  • हार्ट अटैक की उम्र पुरुषों में 45 साल और महिलाओं में 55 साल है। इस उम्र के बाद आसानी से किसी को हार्ट अटैक का दौरा पड़ सकता है।
  • तनाव में रहने वाले लोगों को आसानी से दिल का दौरा पड़ सकता है।
  • शरीर में कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड का उच्च होना हार्ट अटैक आने की संभावना बहुत बढ़ा देता है।
  • उच्च रक्तचाप हमारी धमनियों को नुकसान पहुँचाता है। जिसकी वजह से हमें हार्ट अटैक आ सकता है। रक्तचाप बढ़ने के कारण कोलेस्ट्रॉल, धूम्रपान, शुगर, मोटापा जैसे कई है।
  • हार्ट अटैक आपको अनुवांशिक तौर पर भी आ सकता है। अगर आपके परिवार में पहले किसी को हार्ट अटैक आ चुका है, तो आपको भी हार्ट अटैक आने की संभावना है।
  • मधुमेह का अनियंत्रित होना भी एक समय हार्ट अटैक का कारण बन सकता है।
  • जो लोग HIV पॉजिटिव होते है, उन्हें 50% अधिक हार्ट अटैक आने का ख़तरा रहता है।

Conclusion:

दोस्तों हमारा शरीर हमे सभी समस्याओं से बचाने के लिए परिपूर्ण है, लेकिन हम अपने शरीर को खुद से ही समस्याओं का घर बनाने में लगे हुए है। मतलब की गलत खान-पान, किसी भी प्रकार की शारीरिक मेहनत नहीं करना जैसी कई चीजें, जिनके चलते हम आए दिन किसी ना किसी बीमारी से घिरे रहते है। और इन्ही आदतों से उत्पन्न होने वाली एक गंभीर समस्या Heart Attack In Hindi की जानकारी हमने आपको ऊपर प्रदान की। अगर आपको हमारी आज की पोस्ट पसंद आयी हो तो इसे अपने परिवार के सदस्यों और अपने दोस्तों के साथ शेयर करके उन्हें भी इससे से अवगत करवाए, धन्यवाद!

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here