दोस्तों एक मनुष्य का शरीर कई अंगों से मिलकर बना होता है कुछ को हम अपनी आँखों से देख सकते है तो कुछ हमारे शरीर के अंदरूनी भाग में होते है। अब जब हमारे शरीर में इतने अंग है तो उनमें कुछ समस्याएं भी होगी। इसी लिए आज हम आपके लिए एक अंदरूनी अंग से जोड़ी बीमारी की जानकारी लाए है जिसे हम हर्निया के नाम से जानते है।

हर्निया एक ऐसी बीमारी है जो हमारे शरीर के अंदरूनी अंग के किसी कारण वस बाहर आने की स्थति में होती है। यह एक ऐसी समस्या है जो जन्म लेते बच्चे से लगाकर बूढ़े व्यक्ति तक किसी को भी हो सकती है। तो अगर आप भी हर्निया क्या है और हर्निया से बचने के उपाय के बारे में जानना चाहते है तो आज हम आपको इसके बारे में पूरी जानकारी देंगे।

Hernia Kya Hai

हमारे शरीर में कई अंग होते है जिसमे से कुछ अंदरूनी अंग खोखले स्थानों में होते है इन स्थानों को Body Cavity कहते है और उन जगह के अंग बस एक चमड़ी की परत से घिरे रहते है। जब हमें ज़्यादा खांसी होती है या हम ज़्यादा भारी सामान को उठाते है तो उस कारण कभी-कभी यह चमड़ी फट जाती है। जिससे वह अंदरूनी अंग धीरे-धीरे बहार आने लगता है और इसी स्थिति को हम Harnia कहते है। ऐसे तो हर्निया आपके शरीर में कही भी हो सकता है। लेकिन यह सबसे ज़्यादा पेट में और उसके बाद जांघ के ऊपरी हिस्से में होता है। हर्निया होने की स्थिति में आपको साधारण काम करने में भी दर्द महसूस होता है।

क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी: Migraine Kya Hota Hai? Migraine Ke Karan क्या होते है? – जानिए Migraine Ka Gharelu Ilaj और इससे बचने के उपाय!

Hernia Ke Prakar (Hernia Types)

मानव शरीर में कई प्रकार के हर्निया पाए जाते है जिनके नाम हमने आपको आगे बताये है।

  • वंक्षण हर्निया (Inguinal Hernia)
  • मादा हर्निया (जघनास्थिक) (Femoral Hernia)
  • नाल हर्निया (नाभि) (Umbilical Hernia)
  • इंसिज़नल हर्निया (Incisional Hernia)
  • अधिजठर हर्निया (Epigastric Hernia)
  • हियातल हर्निया (Hiatal Hernia) 

Hernia Ke Lakshan (Hernia Symptoms)

हर्निया का पता लगाना बहुत ज़रूरी है नहीं तो आगे जाकर हमें इससे कई समस्या हो सकती है तो चलिए जानते है हर्निया के लक्षण के बारे में।

  • हर्निया होने पर शरीर की वह जगह शूज जाती है और उस जगह पर गिठान महसूस होती है।
  • शरीर की उस जगह के आस-पास बहुत दर्द होता है।
  • पेट और सीने में दर्द के साथ जलन महसूस होती है।
  • खांसी और छींक आने पर भी उस जगह पर दर्द होता है।

जरूर पढ़े: Kidney Stone Kaise Hota Hai? – किडनी स्टोन (पथरी) के लक्षण, कारण, इलाज और घरेलु उपचार! 

Hernia Ke Karan

हर्निया कई कारणों से हो सकता है उनमें से कुछ कारण के बारे में हम आपको आगे बता रहे है।

  • अगर गर्भ में बच्चे की पेट की दीवार ठीक से विकसित नहीं होती है तो उसे जन्म से ही हर्निया हो सकता है।
  • पेट पर अधिक दबाव पड़ने से उसके कमजोर हिस्से पर दबाव बढ़ जाता है जिससे हर्निया हो सकता है।
  • बढ़ती उम्र के साथ मासपेशियों में कमज़ोरी आती है और तनाव बढ़ता है जिससे भी हर्निया विकसित हो सकता है।
  • अगर आपको कोई घाव हुआ है या आपकी कोई सर्जरी हुई है तो उस जगह पर ज़्यादा तनाव से हर्निया हो सकता है।
  • कब्ज होने पर जब आप मल त्याग करते है तो आपके पेट पर बहुत तनाव पड़ता है और इस कारण भी हर्निया हो सकता है।
  • बहुत जल्दी वजन बढ़ने के कारण भी हर्निया हो सकता है।

Hernia Se Bachne Ke Upay

अगर आप हर्निया से बचना चाहते है तो आपको अपने शरीर पर विशेष ध्यान देना होगा नहीं तो आप इसके शिकार हो सकते है। हम आपको नीचे कुछ हर्निया से बचने के उपाय बता रहे है जो आपके लिए उपयोगी होंगे।

  • हर्निया से बचने के लिए आपको अपने शरीर पर विशेष ध्यान देना होगा जैसे- मोटापे और वजन बढ़ने की समस्या से बचे,
  • उन कामों से बचे जिनसे आपके पेट पर ज़्यादा तनाव उत्पन्न होता है।
  • अगर आपको कब्ज है तो उसका इलाज कराए या उसके लिए व्यायाम करें।
  • अगर आपको ज़्यादा ख़ासी आती है तो उसका इलाज कराए, संतुलित भोजन का सेवन करें और भी कई ऐसी जरूरी चीजों का ध्यान रखकर आप हर्निया जैसी बीमारी से बच सकते है।

Hernia Ke Gharelu Upay

तो चलिए जानते है हर्निया से बचने के घरेलू उपायों के बारे में जिससे हर्निया की समस्या में राहत पाया जा सकता है।

  • बर्फ हर्निया का पुराना और कारगर इलाज है। इसे हर्निया वाले स्थान पर लगाने से दर्द और सूजन दोनों से ही बहुत राहत मिलती है।
  • अदरक हर्निया के लिए बहुत अच्छी औषधि है, क्योंकि इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते है इसका रस बनाकर या ऐसे ही खाया जाये तो इससे हर्निया के दर्द से राहत मिलता है।
  • अजवाइन और पोदीने का रस बराबर मात्रा में निकाले और पानी में मिलाकर पिए इससे हर्निया की समस्या से राहत मिलेगी।
  • वच और सरसों को पानी के साथ पीस कर एक लेप बना ले और हर्निया की जगह पर लगाए इससे वह जल्द ही ठीक होने लगेगा।

Hernia Ka Ilaj In Hindi

यदि हर्निया के इलाज की बात करें तो इसका सफल और सही इलाज तो ऑपरेशन ही है लेकिन कुछ दवाओं से इसे रोका जा सकता है। यदि किसी को हर्निया हो गया है तो सबसे पहले डॉक्टर के पास जाकर उसकी जांच करवा ले, जिससे आपको हर्निया के प्रकार का पता चल जाएगा और फिर आप डॉक्टर की सलाह से उन दवाइयों का सेवन करके या ऑपरेशन करवाकर हर्निया की समस्या से छुटकारा प्राप्त कर सकते है।

यह पोस्ट भी जरूर पढ़े: Zika Virus Kya Hai? Zika Virus Kiske Dwara Failta Hai? – जानिए Zika Virus Ke Lakshan और इससे बचने के उपाय हिंदी में!

Hernia Ka Operation Kaise Hota Hai

डॉक्टर हर्निया के सही और सटीक इलाज के लिए हमेशा ऑपरेशन की सलाह देते है हर्निया के लिए दो तरह के ऑपरेशन या सर्जरी की जाती है।

Laparoscopy Surgery

यह सर्जरी बहुत छोटे उपकरण और छोटे कैमरे की मदद से की जाती है। इस सर्जरी में बस आपके शरीर पर एक छोटा सा चीरा लगाया जाता है। इस सर्जरी के बाद आप बहुत जल्दी ठीक हो जाते है। लेकिन इस सर्जरी के बाद हर्निया वापस होने की संभावना अधिक होती है और यह सर्जरी हर प्रकार के हर्निया के लिए सही नहीं मानी जाती है।

Open Surgery

यह नार्मल ऑपरेशन की तरह ही होता है इसमें मरीज़ को सही होने में काफी समय लगता है इसमें मरीज़ 4-6 महीने तक दौड़ भाग के काम नहीं कर पता है लेकिन यह सर्जरी हर्निया के लिए एक दम सही मानी जाती है।

Hernia Ki Dawai

बाजार में हर्निया के लिए कई दवाई उपलब्ध है जिनके नाम हम आपको निचे बता रहे है लेकिन इन्हे लेने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह ज़रूर ले।

  • Ace Proxyvon
  • Ace Xeroflor
  • Acera Fast
  • Acidom
  • Entazel D
  • Lafumac Plus
  • Normaxin Rt

Conclusion

तो दोस्तों आज हमने आपको एक बहुत महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में बताया जिससे आप भविष्य में समय रहते हर्निया से होने वाली तकलीफ से बच सकते है। इस पोस्ट में हमने आपको हर्निया के शुरुआती लक्षण से लगाकर हर्निया से बचने के उपाय और हर्निया ऑपरेशन तक की जानकारी प्रदान की है। अगर आपको हमारी बताई गयी जानकारी पसंद आयी हो तो इसे Like और शेयर जरूर करे, साथ ही दूसरों को भी Hernia Ke Baare Mein Bataye ताकि वे भी हर्निया के लक्षण के बारे में जान सके, आपका दिन शुभ रहे।

नोट:- हमारे इस आर्टिकल में दी गयी जानकारी से हम यह दावा नहीं करते है की यह पूर्णतः सटीक है इसलिए इन उपायों को अपनाने से पहले संबंधित चिकित्सक से एक बार सलाह जरूर ले।

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here