हैलो दोस्तों Hindi Sahayta में आपका स्वागत है। आज की पोस्ट में हम आपको बताने जा रहे है BAMS Kya Hai यदि आप भी BAMS करना चाहते है लेकिन आपको इसकी जानकारी नहीं है तो आप बिल्कुल सही पोस्ट पढ़ रहे है क्योंकि इसके साथ ही आप यह भी जानेंगे की BAMS Kaise Kare

Latest News: जो विद्यार्थी कर रहे है अपने 10वीं 12वीं के रिजल्ट का इंतजार उनका इंतजार हुआ खत्म, यहाँ करे चेक अपना BBSE West Bengal Board 10th 12th Result 2019!


BHMS kaise kare यह भी आज आप इस पोस्ट के माध्यम से जानेंगे। हम आपको यह बिल्कुल सरल भाषा में समझाएँगे। आशा करते है की आपको हमारी सभी पोस्ट पसंद आ रही होगी। इसी तरह आप आगे भी हमारे ब्लॉग पर आने वाली प्रत्येक पोस्ट को पसंद करते रहे।  

सभी लोगों के जीवन का कुछ ना कुछ उद्देश्य ज़रुर होता है। प्रत्येक छात्र अपनी लाइफ में आगे जाकर कुछ बनना चाहता है। कोई इंजीनियर बनना चाहता है तो कोई डॉक्टर बनना चाहता है। बहुत से छात्रों का सपना होता है की वो डॉक्टर बने। यह एक ऐसा क्षेत्र होता है जिसमें जाने का सपना बहुत से स्टूडेंट देखते है।


डॉक्टर बनना गर्व की बात है। कुछ छात्र होम्योपैथिक डॉक्टर बनना चाहते है तो कुछ छात्र आयुर्वेदिक डॉक्टर लेकिन यह इतना आसान नहीं होता है। इसके लिए आपको बहुत मेहनत करनी होती है और मेहनत के साथ ही आपको इसकी सही जानकारी भी होना ज़रुरी है। सही जानकारी और उचित मार्गदर्शन प्राप्त करके आप सफलता हासिल कर सकते है।

तो चलिए जानते है Homeopathic Doctor Kaise Bane होम्योपैथिक और आयुर्वेदिक डॉक्टर बनने की सही जानकारी के लिए यह पोस्ट BAMS Doctor Kaise Bane शुरू से अंत तक ज़रुर पढ़े तभी आपको इसकी पूरी जानकारी प्राप्त होगी।

BAMS Kya Hai

BAMS आयुर्वेद में प्रमाणित एक कोर्स है। BAMS आयुर्वेदिक मेडिकल कोर्स के लिए दी जाने वाली अंडरग्रेजुएट डिग्री है। देश में इस कोर्स को Central Council Of Indian Medicine के द्वारा मान्यता दी जाती है। बहुत से मेडिकल कॉलेज BAMS में एडमिशन देते है। यह साढ़े 5 साल की अवधि का कोर्स होता है। इस कोर्स में आयुर्वेद के साथ ही आधुनिक दवाओं की शिक्षा भी शामिल होती है। भारतीय शिक्षा प्रणाली में BAMS की डिग्री बहुत महत्वपूर्ण स्थान रखती है। इसमें छात्रों को नेचुरल हर्ब्स के द्वारा ट्रीटमेंट करना सिखाया जाता है।

क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी: Hybrid Sim Slot Kya Hai? Hybrid SIM Slot Extender Kaise Use Kare? जानिए Hybrid Sim Slot Or Dual Sim Slot Me Kya Difference Hai आसान भाषा में!

BAMS Full Form  

BAMS Ka Full Form

                 BACHELOR OF AYURVEDIC MEDICINE & SURGERY

BAMS Kaise Kare

यदि आप आयुर्वेदिक में डिग्री प्राप्त करना चाहते है और BAMS Course करना है तो आपको इसकी सभी योग्यताओं को पूरा करना होगा। आइये जानते है BAMS Course Kaise Kare

  • शैक्षिक योग्यता

12 वीं कक्षा मेडिकल साइंस के साथ पास करना ज़रुरी है 12वीं में आपके विषयों में रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, भौतिक विज्ञान विषय होना चाहिए और 50% या अधिक अंक के साथ पास होना ज़रुरी है

  • उम्र सीमा

BAMS में प्रवेश के लिए न्यूनतम आयु सीमा 17 साल है।

  • प्रवेश प्रक्रिया

BAMS में प्रवेश के लिए आपको इसकी कुछ प्रमुख परीक्षाओं में सफल होना पड़ता है। इसमें All India Entrance Exam के अलावा राज्य स्तर पर विभिन्न प्रकार की प्रवेश परीक्षाएं आयोजित की जाती है। इसकी प्रवेश परीक्षा का पाठ्यक्रम बारहवीं पर आधारित होती है। इसकी कुछ प्रमुख परीक्षाएं इस प्रकार है।

  1. नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ आयुर्वेद एंट्रेंस एग्जाम
  2. उत्तराखंड पीजी मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम
  3. केरल स्टेट एंट्रेंस एग्जाम
  4. कॉमन एंट्रेंस टेस्ट (सीईटी), कर्नाटक
  5. आयुष एंट्रेंस एग्जाम

BAMS Ki Fees

BAMS का कोर्स करने के लिए 3 से 5 लाख तक फ़ीस लगती है। इस कोर्स को करने के बाद आपके पास आयुर्वेद के क्षेत्र में जाने के लिए बहुत से विकल्प होते है।  

BAMS Syllabus In Hindi

साढ़े 5 साल के इस कोर्स में साढ़े 4 साल आपको अकादमिक शिक्षा प्राप्त करनी होती है और एक साल की आपकी internship होती है।

  • First Professional (अवधि: 12 महीने)

इसमें 5 विषय होते है।

  1. पदार्थ विज्ञान एवं आयुर्वेद का इतिहास
  2. क्रिया शरीर
  3. रचना शरीर
  4. संस्कृत
  5. मौलिक सिद्धांत एवं अष्टांग हृदयं
  • Second Professional (अवधि: 12 महीने)

इसमें 4 विषय होते है।

  1. द्रव्यगुण विजनन
  2. रसशास्त्र और भैषज्य कल्पना
  3. चरक संहिता (पूर्वार्ध खंड 1)
  4. अगद तंत्र, व्यवहार आयुर्वेद और विधि वैद्यक
  • Third Professional (अवधि: 12 महीने)

इसमें 5 विषय होते है।

  1. रोग निदान एवं विकृति विज्ञान
  2. चरक संहिता (पूर्वार्ध खंड 2)
  3. स्वस्थ वृत और योग
  4. कुमार भृत्य (बाल रोग)
  5. प्रसूति तंत्र एवं स्त्री रोग
  • Fourth Professional (अवधि: 12 महीने)

इसमें 5 विषय होते है।

  1. शल्य तंत्र
  2. शालाक्य तंत्र
  3. पंचकर्म
  4. कायाचिकित्सा (मानस रोग, रसायन और वाजीकरण सहित)
  5. रिसर्च मेथोडोलॉजि और मेडिकल स्टेटिस्टिक
  • Internship (अवधि: 12 महीने)

अकादमिक शिक्षा पूरी करने के बाद आपकी एक साल की internship होती है।

Department (विभाग)                   Duration (अवधि)

काया-चिकित्सा                                4 महीने

शल्य तंत्र                                       2 महीने

शालाक्य तंत्र                                   2 महीने

बाल चिकित्सा                                 1 महिना

प्रसूति तंत्र एवं स्त्री रोग                        2 महीने

पंचकर्म                                         1 महिना

BHMS Kya Hai

BHMS होम्योपैथी में दी जाने वाली अंडरग्रेजुएट डिग्री है। इस डिग्री में होम्योपैथीक प्रणाली के चिकित्सा ज्ञान को शामिल किया गया है BHMS की डिग्री को पूरा करने के बाद आप होम्योपैथीक चिकित्सा के क्षेत्र में डॉक्टर बनने के योग्य हो जाते है यह कोर्स भी 5 साल का होता है बहुत से मेडिकल कॉलेज इस कोर्स में डायरेक्ट एडमिशन देते है होम्योपैथीक एक Alternative Medical System है इस चिकित्सा में Natural Healing Power को बढ़ावा दिया जाता है इसमें ग्रेजुएशन के बाद स्टूडेंट पोस्ट ग्रेजुएशन भी कर सकते है

जरूर पढ़े: Cache Clear Kaise Kare? Mobile Me Cache Memory Clear Kaise Kare? जानिए Computer Me Cache Clear Kaise Kare सरल भाषा में!  

BHMS Full Form

BHMS Ka Full Form –

                    BACHELOR OF HOMEOPATHY MEDICINE & SURGERY

BHMS Kaise Kare

यदि आप होम्योपैथी में डिग्री प्राप्त करना चाहते है तो आपको इसकी सभी आवश्यक योग्यताओं को पूरा करना ज़रुरी है।

  • शैक्षिक योग्यता

BHMS में एडमिशन लेने के लिए छात्रों को 12वीं कक्षा रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान और भौतिक विज्ञान विषय में 50 अंकों के साथ उत्तीर्ण होना आवश्यक है

  • आयु सीमा

इस कोर्स में एडमिशन के लिए उमीदवार की आयु 17 वर्ष होना चाहिए

  • प्रवेश प्रक्रिया

BHMS करने के लिए उम्मीदवार को राष्ट्रीय स्तर और राज्य स्तर पर आयोजित होने वाली विभिन्न प्रकार की प्रवेश परीक्षाओं में शामिल होना पड़ता है। इस प्रवेश परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर विद्यार्थियों को चुना जाता है। जिसके बाद उन्हे Group Discussion और Personal Interview देना होता है। इसी के आधार पर उनका चयन किया जाता है। फिर उन्हें Shortlist किया जाता है। जो उम्मीदवार प्रवेश परीक्षा परीक्षा पास कर लेते है वह Counseling के पहले Round में शामिल हो सकते है। उसके बाद दूसरा Round उन उम्मीदवारों के लिए आयोजित किया जाता है जिनके नाम Waiting List में है।

BHMS Ki Fees Kitni Hai

इस कोर्स को करने में 2 से 3 लाख तक फ़ीस लग सकती है। इस कोर्स को करने के बाद उम्मीदवारों के लिए बहुत से करियर ऑप्शन होते है।

Difference Between BAMS And BHMS In Hindi

BAMS और BHMS में मुख्य रूप से निम्न अंतर होते है। जो आपको आगे बताये गए है।

  1. आयुर्वेद एक प्राचीन विज्ञान है। BAMS में आपको वात, पित्त, कफ़ पर आधारित शिक्षा दी जाती है। BHMS में होम्योपैथी पद्धति से इलाज किया जाता है जिसमें रोगी का इलाज उसके लक्षणों के आधार पर किया जाता है
  2. होम्योपैथी पद्धति में औषधी को मिनरल्स, प्लांट्स के इस्तेमाल से बनाया जाता है आयुर्वेदिक पद्धति में औषधि को नेचुरल हर्ब्स, प्राकृतिक चीजों के इस्तेमाल से बनाई जाती है

Difference Between BAMS And MBBS In Hindi

BAMS और MBBS में मुख्यतः कुछ अंतर पाये जाते है जो नीचे दिए गए है।

  1. MBBS एक मेडिकल डिग्री है एलोपैथी में, BAMS आयुर्वेद में एक मेडिकल डिग्री है।
  2.  एलोपैथी में बीमारी को कुछ हद तक कम किया जा सकता है लेकिन जड़ से खत्म नहीं किया जा सकता है आयुर्वेदिक में बीमारी को जड़ से खत्म तो किया जा सकता है लेकिन उसमें समय काफी लगता है

Conclusion

आज की पोस्ट में आपने जाना BAMS Kaise Bane और इसके साथ ही आपने Homeopathic Doctor Kaise Bane यह भी जाना। आशा करते है की हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपके लिए उपयोगी होगी।

BAMS Ki Puri Jankari के लिए हमारी इस पोस्ट की मदद ज़रुर ले। BAMS Full Form In Hindi आप इस पोस्ट के द्वारा अच्छे से जान गये होंगे। आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट करके बताये।

 यह भी जरूर पोस्ट पढ़े: Android One Kya Hai? Stock Android Kya Hai? – जानिए Difference Between Android And Android One In Hindi!

इस पोस्ट की जानकारी आप अपने फ्रेंड्स को भी दे। तथा सोशल मीडिया पर भी यह पोस्ट BHMS Full Details In Hindi ज़रुर शेयर करे। जिससे ज्यादा लोगों के पास यह जानकारी पहुँच सके। हमारी पोस्ट BAMS Course Details In Hindi में आपको कोई परेशानी है या आपका कोई सवाल है इस पोस्ट से सम्बन्धित तो आप कमेंट करके हमसे पूछ सकते है। हमारी टीम आपकी मदद ज़रुर करेगी।

अगर आप हमारी वेबसाइट के Latest Update पाना चाहते है, तो आपको हमारी Hindi Sahayta की वेबसाइट को सब्सक्राइब करना होगा। फिर मिलेंगे आपसे ऐसे ही आवश्यक जानकारी लेकर तब तक के लिए अलविदा दोस्तों हमारी पोस्ट पढ़ने के लिए धन्यवाद, आपका दिन शुभ हो।

BAMS Kya Hai? BAMS Kaise Kare? – जानिए Difference Between BAMS And BHMS In Hindi!
3.1 (62.5%) 8 votes