Magnetic Disk Kya Hai? - मैग्नेटिक डिस्क किसकी बनी होती है, जाने इसके फीचर्स!
Avatar Tech
दोस्तों आपके पास कंप्यूटर लैपटॉप तो होगा ही और आप उसमे अपने डाटा को सेव भी ज़रूर करते होंगे लेकिन क्या आपको पता है की यह डाटा कहाँ और किस तरह सेव होता है। शायद आपका जवाब नहीं होगा। लेकिन आज हम आपके साथ कुछ इसी तरह की जानकारी शेयर करने वाले है। हम बात कर रहे है मैग्नेटिक डिस्क की, यह एक तरह की स्टोरेज डिवाइस है, जिसका उपयोग डाटा को लम्बे समय तक स्टोर करके रखने के लिए किया जाता है।
Magnetic Disk में डाटा स्टोर करने की तकनीकी बहुत ही बढ़िया है। इसमें आप ज्यादा मात्रा में डाटा स्टोर कर सकते है और आवश्यकता पड़ने पर उस डाटा को अपने हिसाब से इस्तेमाल भी कर सकते है। अगर आपको मैग्नेटिक डिस्क क्या है के बारे में अच्छे से समझना है तो इस पोस्ट को अंत तक ज़रूर पढ़े।

Magnetic Disk Kya Hai

Magnetic Disk को डाटा स्टोर करने का एक डिवाइस है जो डेटा को लिखने, पढ़ने और हम तक पहुँचाने के लिए Magnetization Process का इस्तेमाल करती है। इस Magnetic Disk को एक मैग्नेटिक कोटिंग से कवर किया जाता है। यह डिस्क अपने अंदर डाटा को ट्रैक्स, स्पॉट्स तथा सेक्टर्स के रूप में सेव करती है।
Magnetic Disk Examples:
डाटा स्टोर करने वाली डिस्क को हम मैग्नेटिक डिस्क के उदाहरण के रूप में देख सकते है जो इस तरह है।

  • Hard Disk
  • Zip Disk
  • Floppy Disk

Magnetic Disk In Computer Architecture

Computer Architecture में मैग्नेटिक डिस्क को एक स्टोरेज डिवाइस के रूप में इस्तेमाल किया जाता है, जिसका काम डाटा को स्टोर करना होता है। एक मैग्नेटिक डिस्क गोलाकार प्लेट के एक सेट से मिलकर बनती है। इन प्लेट को Non Magnetic मटेरियल से बनाया जाता है जैसे- एल्युमिनियम, एल्यूमीनियम एलॉय, शीशा, सिरेमिक से बनाया जाता है और फिर इन प्लेट्स पर मैग्नेटिक फिल्म चढाई जाती है जो डेटा को स्टोर करती है।
यह परत 10 से 20 नैनोमीटर की होती है उसके बाद इसे एक सामान्य धातु पर लगा दिया जाता है। फिर इन प्लेट्स को एक रोटरी ड्राइव के अंदर लगाया जाता है, जहाँ चुम्बकीय सतह मौजूद होती है और यह प्लेट्स फिर Read और Write के करीब घूमने लगती है। जिसके हर राउंड में चुम्बकीय कुंडल और चुम्बकीय योक शामिल होते है।

Features Of Magnetic Disk

मैग्नेटिक डिस्क की कई विशेषताएँ होती है जिनके बारे में हम आगे जानेंगे।

  • मैग्नेटिक डिस्क एक ऐसे खोल से बंद होती है जिसमे धूल के कण भी नहीं जा पाते है।
  • मैग्नेटिक डिस्क में से किसी खास डिस्क पार्ट से डाटा को प्राप्त करने के लिए उसे आगे पीछे किया जा सकता है।
  • इस डिस्क के केंद्र पर एक हब लगाया जाता है जिसकी मदद से स्टैपर मोटर डिस्क को घुमाती है।
  • मैग्नेटिक हार्ड डिस्क बहुत आसानी से CPU से कनेक्ट हो जाती है।

Magnetic Disk And Magnetic Tape

Magnetic Disk वह होती है जिसमे बड़ी आसानी से डाटा को स्टोर कर दिया जाता है और ज़रूरत पढ़ने पर वापस Use कर लिया जाता है। यह कुछ प्लेटों से मिलकर बनी होती है जिसके दोनों तरफ डाटा को स्टोर किया जाता है और यह डिस्क एक खोल से घिरी रहती है, जिसे कोई भी बाहरी उपकरण टच नहीं कर पता है।
Magnetic Tape एक पतली और लंबी प्लास्टिक की पट्टी से बनी होती है। जिस पर चुम्बकीय परत चढ़ाई जाती है और उस परत पर डाटा को सेव किया जाता है जिसे पढ़ने के लिए आपको उस टेप को एक कुंडली में भेजना होता है, जो एक प्रकिया से उस टेप पर उपस्थित डाटा को डिकोड कर देता है। इस टेप का उपयोग कंप्यूटर के डाटा को स्टोर करने में भी किया जाता था। हार्ड डिस्क ड्राइव के आविष्कार से पहले हार्ड डिस्क के आने के बाद इसका इस्तेमाल पूरी तरह बंद हो गया।

Conclusion:

तो दोस्तों आज हमने कंप्यूटर से जुड़ी एक तकनीकी जानकारी से आपको अवगत कराया। कंप्यूटर एक ऐसा डिवाइस है। जिस पर काम करना और उस काम को किसी फ़ॉर्मेट में सेव करके रखना बहुत ही आसान है तथा डाटा को जिस जगह पर सेव किया जाता है उसे हम Magnetic Disk Drive कहते है। तो अब आपको मैग्नेटिक डिस्क के बारे में सब कुछ अच्छे से समझ में आ गया होगा, अगर आपके दोस्त या परिवार में लोग इस तरह की जानकारी पढ़ना पसंद करते है तो उनके साथ भी हमारी आज की पोस्ट Magnetic Disk In Hindi को शेयर करें, धन्यवाद!

Leave a comment