Home » Technology » मैग्नेटिक डिस्क क्या है? (Magnetic Disk in Hindi) की पूरी जानकारी।

मैग्नेटिक डिस्क क्या है? (Magnetic Disk in Hindi) की पूरी जानकारी।

मैग्नेटिक डिस्क (Magnetic Disk) एक तरह की स्टोरेज डिवाइस है, जिसका उपयोग डाटा को लम्बे समय तक स्टोर करके रखने के लिए किया जाता है। आपके कंप्यूटर या लैपटॉप में डाटा को सेव करने के लिए मैग्नेटिक डिस्क का प्रयोग किया जाता है। लेकिन आज भी कई लोगों को Magnetic Disk Kya Hai इसके बारे में जानकारी नहीं होती, इसलिए आज इस पोस्ट में मैंने आपके साथ Magnetic Disk In Hindi से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी शेयर की है।

[toc]

Magnetic Disk में आप ज्यादा मात्रा में डाटा स्टोर कर सकते है और आवश्यकता पड़ने पर उस डाटा को अपने हिसाब से इस्तेमाल भी कर सकते है। अगर आप मैग्नेटिक डिस्क क्या है (What is Magnetic Disk in Hindi) इसके बारे में विस्तार से जानना चाहते हैं, कि यह कितने प्रकार की होती है, मैग्नेटिक डिस्क किसका उदाहरण है और इसके फायदे और नुकसान क्या होते हैं, तो ये पूरी जानकारी आज आपको इस लेख में प्राप्त हो जाएगी। इसके साथ ही आज आप इस पोस्ट में Explain Storage Process Of Magnetic Disk And CD ROM In Hindi के बारे में भी जानेंगे।

Magnetic Disk Kya Hai

मैग्नेटिक डिस्क क्या है? (Magnetic Disk In Hindi)

Magnetic Disk एक कंप्यूटर स्टोरेज डिवाइस है जो डेटा को लिखने, पढ़ने और हम तक पहुँचाने के लिए Magnetization Process का इस्तेमाल करती है। इस Magnetic Disk को एक मैग्नेटिक कोटिंग से कवर किया जाता है। यह डिस्क अपने अंदर डाटा को ट्रैक्स, स्पॉट्स तथा सेक्टर्स के रूप में सेव करती है।

मैग्नेटिक डिस्क को सेकेंडरी स्टोरेज मेमोरी भी कहा जाता है जिसका इस्तेमाल डिजिटल डाटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है। आमतौर पर डाटा को डायरेक्ट एक्सेस करने के लिए मैग्नेटिक डिस्क का ही अधिकतर प्रयोग किया जाता है। मैग्नेटिक डिस्क की ख़ास बात यह है कि ये एक पतली, गोलाकार मेटल प्लेट होती है जिसके दोनों तरफ मैग्नेटिक प्लेटिंग होती है, जिससे आप इसके दोनों तरफ डाटा को स्टोर कर सकते हैं। इसके साथ ही, मैग्नेटिक डिस्क RAM की तुलना में सस्ती होती है।

Magnetic Disk Examples:

डाटा स्टोर करने वाली डिस्क को हम मैग्नेटिक डिस्क के उदाहरण के रूप में देख सकते है जो इस तरह है।

मैग्नेटिक डिस्क कितने तरह की होती है?

मैग्नेटिक डिस्क मुख्य रूप से तीन प्रकार की होती है-

1. हार्ड डिस्क

एक Non-Volatile Memory Hardware Device है जिसका उपयोग कंप्यूटर या लैपटॉप में डाटा को लम्बे समय तक स्टोर करने के लिए किया जाता है। हार्ड डिस्क को Hard Drive के नाम से भी जाना जाता है जो कंप्यूटर और लैपटॉप में Secondary Memory की तरह काम करती है।

Hard Disk 2 तरह की होती है-

  1. इंटरनल हार्ड डिस्क – Internal Hard Disk ज्यादातर सभी कंप्यूटर के अंदर की ओर लगाई जाती है इसलिए इसे Internal Hard Disk कहते है। Internal Hard Disk की मदद से हम अपने कंप्यूटर में Software या Operating System को इनस्टॉल करते है।
  2. एक्सटर्नल हार्ड डिस्क – External Hard Disk को कंप्यूटर के बाहर Pen Drive की तरह लगाया जाता है। External Hard Disk का साइज  Pen Drive से बड़ा होता है।

2. फ्लॉपी डिस्क

फ्लॉपी डिस्क एक डाटा स्टोरेज डिवाइस है जिसका उपयोग आमतौर पर कंप्यूटर में किसी भी तरह के डाटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है। Hard Disk के मुकाबले Floppy Disk Portable होती है इस वजह से इसे एक जगह से दूसरी जगह आसानी से ले जाया जा सकता है।

3. मैग्नेटिक टैप

Magnetic Tape एक पतली और लंबी प्लास्टिक की पट्टी से बनी होती है। जिस पर चुम्बकीय परत चढ़ाई जाती है और उस परत पर डाटा को सेव किया जाता है जिसे पढ़ने के लिए आपको उस टेप को एक कुंडली में भेजना होता है, जो एक प्रकिया से उस टेप पर उपस्थित डाटा को डिकोड कर देता है।

इस टेप का उपयोग कंप्यूटर के डाटा को स्टोर करने में भी किया जाता था। हार्ड डिस्क ड्राइव के आविष्कार से पहले हार्ड डिस्क के आने के बाद इसका इस्तेमाल पूरी तरह बंद हो गया।

अक्सर यूजर्स कमेंट सेक्शन में हमसे पूछते हैं, कि Magnetic Disc Ko Samjhaie या Magnetic Disk Ki Vyakhya Kijiye इसलिए आपके इन प्रश्नों के जवाब आज मैंने इस लेख में आपको बहुत ही आसान और सरल शब्दों में समझाए हैं, उम्मीद है कि आप समझ गये होंगे कि Magnetic Disk In Computer In Hindi क्या होता है।

चलिए आगे बढ़ते है और अब आपको आपके इस प्रश्न Magnetic Disk Or CD ROM Ki Sangrah Prakriya Ko Samjhaie के बारे में बताते है।

Magnetic Disk In Computer Architecture

Computer Architecture में मैग्नेटिक डिस्क को एक स्टोरेज डिवाइस Hard Disk के रूप में इस्तेमाल किया जाता है, जिसका काम डाटा को स्टोर करना होता है। एक मैग्नेटिक डिस्क गोलाकार प्लेट के एक सेट से मिलकर बनती है। इन प्लेट को Non Magnetic मटेरियल से बनाया जाता है जैसे- एल्युमिनियम, एल्युमिनियम एलॉय, शीशा, सिरेमिक, और फिर इन प्लेट्स पर मैग्नेटिक फिल्म चढाई जाती है जो डेटा को स्टोर करती है।

यह परत 10 से 20 नैनोमीटर की होती है उसके बाद इसे एक सामान्य धातु पर लगा दिया जाता है। फिर इन प्लेट्स को एक रोटरी ड्राइव के अंदर लगाया जाता है, जहाँ चुम्बकीय सतह मौजूद होती है और यह प्लेट्स फिर Read और Write के करीब घूमने लगती है। जिसके हर राउंड में चुम्बकीय कुंडल और चुम्बकीय योक शामिल होते है।

ये तो बात हुई Storage Process Of Magnetic Disk In Hindi के बारे में, अब आगे हमने आपको Magnetic Tape In Hindi के फायदे और नुकसान के बारे में बताया है।

मैग्नेटिक डिस्क के फायदे

Magnetic Disk की कई विशेषताएँ होती है जिनके बारे में हम आगे जानेंगे।

  • मैग्नेटिक डिस्क एक ऐसे खोल से बंद होती है जिसमे धूल के कण भी नहीं जा पाते है।
  • Magnetic Disk में से किसी खास डिस्क पार्ट से डाटा को प्राप्त करने के लिए उसे आगे पीछे किया जा सकता है।
  • इस डिस्क के केंद्र पर एक हब लगाया जाता है जिसकी मदद से स्टैपर मोटर डिस्क को घुमाती है।
  • मैग्नेटिक हार्ड डिस्क बहुत आसानी से CPU से कनेक्ट हो जाती है।
  • Magnetic Disk में Store किये गए डाटा को यूज़र्स द्वारा किसी भी समय Read, Rewrite या Access किया जा सकता है।
  • मैग्नेटिक डिस्क के अंदर Online और Offline दोनों तरह के डाटा को स्टोर किया जा सकता है क्यूंकि ये डिस्क दोनों तरह के डाटा को स्टोर करने के लिए Suitable है।
  • Magnetic Device एक Portable Device है इसलिए आप इसे एक जगह से दूसरी जगह आसानी से ले जा सकते है।

मैग्नेटिक डिस्क के नुकसान

  • मैग्नेटिक डिस्क द्वारा डाटा को स्टोर करते समय यूजर्स को अधिकतर Security देने में काफी परेशानी होती है।
  • Magnetic Disk की Cost-Per-Bit मैग्नेटिक टेप से काफी ज्यादा होती है।
  • मैग्नेटिक डिस्क में डाटा को स्टोर कर पाना सुरक्षित नहीं है।
  • Magnetic Disk का आकर काफी बड़ा होता है।

मैग्नेटिक डिवाइस और ऑप्टीमल डिवाइस के बीच अंतर

Magnetic Device की तरह ही ऑप्टीमल डिवाइस का प्रयोग भी डाटा स्टोरेज के लिए किया जाता है। इसलिए इनके बीच में अंतर करना थोडा कठिन हो जाता है, तो आइये जानते हैं Optical Disk और Magnetic Disk में क्या अंतर होता है।

मैग्नेटिक डिस्कऑप्टीमल डिस्क
मैग्नेटिक डिस्क एक फिक्स्ड डिस्क होती है।ऑप्टीमल डिस्क रिमूवेबल डिस्क होती है।
जहाँ रैंडम एक्सेस की आवश्यकता होती है, वहां इसे लागू किया जाता है।इसको स्ट्रीमिंग फाइल्स में लागू किया जाता है।
एक बार में सिर्फ एक ही मैग्नेटिक डिस्क का प्रयोग संभव है।इसमें एक समय में बड़े पैमाने पर रेप्लिकेशन संभव है।
इसका सैंपल रेट कम होता है।इसका सैंपल रेट ज्यादा होता है।
मैग्नेटिक डिस्क ट्रैक मुख्य रूप से गोल आकार का होता है।ऑप्टिकल डिस्क ट्रैक स्पाइरल फॉर्म में होता है।
इसमें डाटा को रैंडमली एक्सेस कर सकते हैं।इसमें डाटा को एक क्रमिक रूप से एक्सेस किया जाता है।

Magnetic Disk और Magnetic Tape Kya Hai

मैग्नेटिक डिस्क (Magnetic Disk) वह होती है जिसमे बड़ी आसानी से डाटा को स्टोर कर दिया जाता है और ज़रूरत पढ़ने पर वापस Use कर लिया जाता है। यह कुछ प्लेटों से मिलकर बनी होती है जिसके दोनों तरफ डाटा को स्टोर किया जाता है और यह डिस्क एक खोल से घिरी रहती है, जिसे कोई भी बाहरी उपकरण टच नहीं कर पता है।

Magnetic Tape एक पतली और लंबी प्लास्टिक की पट्टी से बनी होती है। जिस पर चुम्बकीय परत चढ़ाई जाती है और उस परत पर डाटा को सेव किया जाता है जिसे पढ़ने के लिए आपको उस टेप को एक कुंडली में भेजना होता है, जो एक प्रकिया से उस टेप पर उपस्थित डाटा को डिकोड कर देता है। इस टेप का उपयोग कंप्यूटर के डाटा को स्टोर करने में भी किया जाता था। हार्ड डिस्क ड्राइव के आविष्कार से पहले हार्ड डिस्क के आने के बाद इसका इस्तेमाल पूरी तरह बंद हो गया।

मैग्नेटिक डिस्क के फीचर्स

Magnetic Disk की कई विशेषताएँ होती है जिनके बारे में हम आगे जानेंगे।

  • मैग्नेटिक डिस्क एक ऐसे खोल से बंद होती है जिसमे धूल के कण भी नहीं जा पाते है।
  • Magnetic Disk में से किसी खास डिस्क पार्ट से डाटा को प्राप्त करने के लिए उसे आगे पीछे किया जा सकता है।
  • इस डिस्क के केंद्र पर एक हब लगाया जाता है जिसकी मदद से स्टैपर मोटर डिस्क को घुमाती है।
  • मैग्नेटिक हार्ड डिस्क बहुत आसानी से CPU से कनेक्ट हो जाती है।

Conclusion

तो दोस्तों आज हमने कंप्यूटर से जुड़ी एक तकनीकी जानकारी ‘Magnetic Disk Drive’ से आपको अवगत कराया। जिससे आप अपने डाटा को बहुत ही आसानी से सेव करके रख सकते हैं। हम आशा करते हैं कि इस लेख में आपको अपने सवाल Magnetic Disk Or CD-ROM Ka Sangathan Prakriya Ko Samjhaie (Explain Storage Process Of Magnetic Disk And CD-ROM In Hindi) का जवाब मिल गया होगा। और आपको मैग्नेटिक डिस्क के बारे में सब कुछ अच्छे से समझ में आ गया होगा, अगर आपके दोस्त या परिवार में लोग इस तरह की जानकारी पढ़ना पसंद करते है तो उनके साथ भी हमारी आज की पोस्ट Magnetic Disk Hindi को शेयर करें, धन्यवाद!

FAQs

  • मैग्नेटिक डिस्क क्या होती है?

Magnetic Disk वह होती है जिसमे बड़ी आसानी से डाटा को स्टोर कर दिया जाता है और ज़रूरत पढ़ने पर वापस Use कर लिया जाता है। यह कुछ प्लेटों से मिलकर बनी होती है जिसके दोनों तरफ डाटा को स्टोर किया जाता है और यह डिस्क एक खोल से घिरी रहती है, जिसे कोई भी बाहरी उपकरण टच नहीं कर पता है।

  • मैग्नेटिक डिस्क के उदाहरण क्या हैं?

हार्ड डिस्क, फ्लॉपी डिस्क और जिप डिस्क मैग्नेटिक डिस्क के उदाहरण हैं।

  • मैग्नेटिक डिस्क का इस्तेमाल क्यों किया जाता है?

Magnetic Disk का इस्तेमाल कंप्यूटर डाटा, ऑडियो और विडियो सिग्नल को लंबे समय तक स्टोर करने के लिए किया जाता है।

  • क्या हार्ड डिस्क और मैग्नेटिक डिस्क एक समान हैं?

हार्ड डिस्क मैग्नेटिक डिस्क का ही एक प्रकार है। इसका प्रयोग मुख्य रूप से कंप्यूटर डाटा को स्टोर करके रखने के लिए किया जाता है।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ?

Average rating 4.7 / 5. Vote count: 189

अब तक कोई रेटिंग नहीं! इस लेख को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

एडिटोरियल टीम

एडिटोरियल टीम, हिंदी सहायता में कुछ व्यक्तियों का एक समूह है, जो विभिन्न विषयो पर लेख लिखते हैं। भारत के लाखों उपयोगकर्ताओं द्वारा भरोसा किया गया।Email के द्वारा संपर्क करें - [email protected]

Leave a Comment