दुनिया में ऐसी बहुत सी बीमारी है जो संक्रमण और परजीवी के कारण होती है जिसका मनुष्य जाती पर बहुत बुरा असर पड़ता है और यह बीमारी जानलेवा भी हो सकती है। इसी वजह से हम आपके लिए एक ऐसी ही बीमारी की जानकारी लाए है। जिसके बारे में आपको पता होना चाहिए नहीं तो आप भी इसके शिकार हो सकते है। हम बात कर रहे मलेरिया बीमारी की, तो अब ज़्यादा समय ना लेते हुए Malaria Ke Baare Main Jankari प्राप्त करते है।

मलेरिया एक ऐसी बीमारी है जिसके मरीज़ आपको पूरे विश्व में मिल जायेंगे है। यह बीमारी आम तौर पर मच्छर के काटने से होती है। इसका प्रभाव बारिश के मौसम में ज़्यादा होता है क्योंकि बारिश में मच्छर ज़्यादा पनपते है। इस बीमारी से हर साल लाखों लोग अपनी जान गवां देते है। इसी लिए हम आपकी सलामती के ख़ातिर आज आपको Malaria Ke Lakshan, Malaria Ke Karan, Malaria Ke Prakar, Malaria Se Kaise Bache और मलेरिया कैसे होता है आदि सभी की जानकारी प्रदान करने वाले है।

Malaria Ke Lakshan Aur Bachne Ke Upay

Malaria Kya Hai

मलेरिया एक संक्रमण से होने वाली बीमारी है जो एनोफ़िलीज़ जाती की मादा मच्छर के काटने से होती है। जिसमे एक परजीवी जीवाणु प्लास्मोडियम पाया जाता है जो मलेरिया का कारण होता है। मच्छर के काटने से यह जीवाणु हमारे शरीर में पहुँच जाता है, जिसके कारण हमें मलेरिया जैसी बीमारी का शिकार होना पड़ता है। मलेरिया से लोगों को जागरूक करने के लिए हर साल पूरे विश्व में 25 अप्रैल को Malaria Day के रूप मनाया जाता है।

Malaria Ki Khoj Kisne Ki:

मलेरिया का पता लगाने वाले पहले इंसान Ronald Ross थे। जिन्होंने सन 1894 के आस-पास मलेरिया जैसी बीमारी का पता लगाया था। इन्हे इस बीमारी का अध्ययन करने और इसकी खोज करने के लिए सन 1902 में नोबल पुरस्कार भी मिला था।

क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी: Kidney Stone Kaise Hota Hai? – किडनी स्टोन (पथरी) के लक्षण, कारण, इलाज और घरेलु उपचार!

मलेरिया के लक्षण

अगर आपको मलेरिया बुखार से बचे रहना है तो आपको Malaria Ke Lakshan In Hindi की जानकारी होना ही चाहिए, जो हमने आपको नीचे बताए है।

  • इसमें व्यक्ति को ठंड लग कर बुख़ार आता है।
  • सिर बहुत तेज़ दर्द करता है।
  • मरीज़ को एक दम पसीना आता है और फिर बुख़ार कम होने लगता है।
  • बहुत कमज़ोरी महसूस होती है और उल्टी भी आती है।
  • शरीर के जोड़ों में दर्द होने लगता है।
  • मरीज़ के आँखों की पुतलियाँ और हाथ की हथेली का रंग पीला हो जाता है।

मलेरिया के कारण

मलेरिया होने का मुख्य कारण तो एनोफ़िलीज़ मादा मच्छर ही है और जब यह मच्छर काटता है तो हमारे शरीर में प्लास्मोडियम जीवाणु पहुँचा देता है जो रक्त प्रवाह के माध्यम से यकृत में पहुँच जाता है और वहाँ पर अपनी संख्या बढ़ाता है जिससे हमें मलेरिया हो जाता है। इस स्थिति में किसी दूसरे व्यक्ति को खून देने से उस व्यक्ति को भी मलेरिया हो सकता है।

Malaria Kitne Prakar Ka Hota Hai

मलेरिया मुख्यतः पांच प्रकारों से होता है जिसके बारे में आपको आगे बताया गया है तो चलिए जानते है उनके बारे में:

प्लास्मोडियम फैल्सीपैरम (Plasmodium Falciparum)

इस जीवाणु से होने वाले मलेरिया को बहुत ख़तरनाक माना जाता है और इसी के कारण सबसे ज़्यादा लोग मारे जाते है यह साउथ ईस्ट एशिया, साउथ अमेरिका और अफ्रीका में मुख्य रूप से पाया जाता है। इसमें मुख्यतः बुख़ार आना, उल्टी होना, सिर दर्द करना जैसे लक्षण शामिल है।

प्लास्मोडियम विवैक्स (Plasmodium Vivax)

इस प्रकार का मलेरिया पूरी दुनिया में पाया जाता है और यह मलेरिया लोगों में सबसे ज़्यादा देखा जाता है। भारत में लगभग 60% मलेरिया इसी के कारण होता है। इसमें प्लास्मोडियम फैल्सीपैरम के मुक़ाबले बहुत कम लोग मारे जाते है इसमें हाथ-पैर, सिर दर्द करता है और बुख़ार आता है।

प्लास्मोडियम ओवेल (Plasmodium Ovale)

यह मलेरिया ऐसे तो सभी जगह पाया जाता है लेकिन इसका सबसे ज़्यादा प्रभाव पश्चिम अफ्रीका में देखा जाता है। इस मलेरिया को बहुत कम पकड़ा जाता है क्योंकि इसके परजीवी बिना कोई लक्षण दिखाए आपके शरीर में वर्षों तक रहते है।

प्लास्मोडियम मलेरिया (Plasmodium Malariae)

यह मलेरिया पूरी दुनिया में पाया जाता है। लेकिन इस मलेरिया से मनुष्य को कोई ख़तरा नहीं होता है इसमें ठंड लगती है और तेज़ बुख़ार आता है।

प्लास्मोडियम नाउलेसी (Plasmodium Knowlesi)

इस प्रकार के मलेरिया को लोगों में बहुत कम देखा जाता है और यह ज़्यादा ख़तरनाक भी नहीं होता है। यह सबसे ज़्यादा दक्षिण पूर्व एशिया में पाया जाता है, इसमें तेज़ ठंड लग कर बुख़ार आता है और सिर दर्द करता है।

जरूर पढ़े: Tumor Kya Hai? Brain Tumor Ke Lakshan क्या होते है? – जानिए Brain Tumor Se Kaise Bache के बारे में पुरे विस्तार से!

Malaria Test

अगर आपको अपने अंदर Malaria Ke Symptoms दिख रहे है तो सबसे पहले Malaria Ke Upchar के लिए मलेरिया का टेस्ट करवा ले। मलेरिया का टेस्ट करने के दो तरीके है।

  • ब्लड टेस्ट के जरिए आपको मलेरिया का पता चल जायेगा जो आप हॉस्पिटल में जाकर आसानी से करा सकते है।
  • मलेरिया टेस्ट करने की कई रैपिड एंटीजन टेस्ट किट भी उपलब्ध है। जिसकी मदद से आप आसानी से मलेरिया की जांच कर सकते है। इसके लिए आपको उस किट में अपना एक बूंद खून डालना होगा और कुछ समय इंतजार करना होगा उसके बाद वह Negative और Positive के बारे बता देगा। अगर आप किसी किट का इस्तेमाल कर रहे है तो उस किट के बारे में पूरी जानकारी पढ़ ले।

Malaria Se Bachne Ke Upay

मलेरिया से बचाव के लिए हमें सबसे पहले अपने आस-पास स्वच्छता रखनी होगी और अपने आस-पास कही पर भी पानी इक्क्ठा नहीं होने देना है, क्योंकि उसमे मच्छर ज्यादा पनपते है जो मलेरिया का कारण बनाते है। पीने के पानी के बर्तन को ढक्कन से अच्छे से ढक कर रखे और उसे हर दूसरे दिन साफ करें। अपने घर के कूलर के पानी को समय-समय पर बदलते रहे और कूलर की आवश्यकता नहीं होने पर उसके पानी को निकाल कर साफ करके रखें। मच्छर के काटने से बचने के लिए कोई स्प्रे, कोइल या जेल का उपयोग करें।

यह पोस्ट भी पढ़े: Cancer Kya Hai? Cancer Kaise Hota Hai? – जानिए Cancer Ke Prakar और Cancer Se Bachne Ke Tarike की पूरी जानकारी हिंदी में!

मलेरिया से बचाव के घरेलू उपाय

मलेरिया एक ऐसी बीमारी है जिसके हो जाने की स्थिति में आपको सबसे पहले डॉक्टर की ही सलाह लेना चाहिए लेकिन बहुत सी जगह पर Malaria Ke Upchar के लिए मलेरिया की आयुर्वेदिक दवा या घरेलू दवा का भी इस्तेमाल किया जा सकता है जो हमने आपको नीचे बताए है।

  • मलेरिया की स्थिति पैदा होने पर व्यक्ति को बुख़ार, उल्टी, हाथ-पैर दर्द करना, भूख ना लगना जैसी समस्या आम हो जाती है इन सभी चीजों से राहत दिलाने के अदरक को बहुत अच्छा माना जाता है इसके लिए आप अदरक को काट कर पानी में उबाल ले और उस पानी का सेवन करे ऐसा करने से आपको मलेरिया की समस्या से बहुत राहत मिलेगी।
  • मलेरिया के बुखार से राहत पाने के लिए आप फिटकरी का भी उपयोग कर सकते है इसके लिए आपको थोड़ी सी फिटकरी लेना है और फिर उसे तवे पर भून कर चूर्ण बना लेना है उसके बाद आपको एक गिलाश पानी में आधा चम्मच चूर्ण मिला कर पीना है।
  • मलेरिया हो जाने की स्थिति में आप जामुन के पेड़ की छाल निकाल कर सूखा ले और फिर उसका चूर्ण बना कर गुड़ के साथ सुबह शाम सेवन करे यह नुस्खा आपको मलेरिया से बहुत आराम पहुँचाएगा।
  • तुलसी और काली मिर्च भी मलेरिया के लिए अच्छी मानी जाती है इसके सेवन के लिए आप 8-10 तुलसी की पत्ती और 6-7 काली मिर्च को पीस लेना है और इस मिश्रण को शहद के साथ दिन में दो बार सेवन करना है इससे आपको बहुत आराम मिलेगा।
  • अगर आप मेथी के बीज का मलेरिया के बुखार में सेवन करेंगे तो यह आपको मलेरिया से लड़ने में बहुत मदद करेंगे और मलेरिया से आयी कमज़ोरी ठीक कर देंगे।
  • अगर आपको मलेरिया हो गया है तो आप ज़्यादा से ज़्यादा संतरे के जूस का सेवन करना है ऐसा करने से आपकी समस्या जल्द ही ठीक जाएगी।

Malaria Ki Dawa

आज के समय में मलेरिया से लड़ने की कई दवाइयाँ बाज़ार में आ गई है लेकिन ऐसी किसी भी दवाई का सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह ज़रूर लेना चाहिए वार्ना यह आपके लिए हानिकारक हो सकती है।

Conclusion:

मलेरिया मच्छरों के द्वारा फैलाए जाने वाली एक बहुत ख़तरनाक बीमारी है इसकी वजह से हर साल लाखों लोग मारे जाते है। इसी लिए हमने आपको मलेरिया की पूरी जानकारी से अवगत कराया जिससे आप इस बीमारी बच सके और अपने परिवार को भी बचा सके। आज के इस लेख में हमने आपको Malaria Symptoms, Malaria Treatment और मलेरिया से बचाव के तरीके आदि की जानकारी प्रदान की। अगर आपको आज की यह महत्वपूर्ण जानकारी लाभदायक लगी हो तो हमारी पोस्ट Malaria Se Kya Hota Hai को अपने परिवार के सदस्यों के साथ ज़्यादा से ज़्यादा शेयर करें, ताकि वह भी इस जानकारी का लाभ से सके।

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here