विज्ञापन
विज्ञापन
in

TRP Kaise Check Karte Hai? – टीआरपी रेटिंग कैसे तय की जाती है व इसके कम/ज्यादा होने पर क्या प्रभाव पड़ता है!

विज्ञापन
विज्ञापन
कई बार आपने सुना होगा या टेलीविज़न, न्यूज़पेपर में देखा होगा की इस महीने या इस हफ्ते इस सीरियल को इतनी TRP मिली है। किसी भी चीज को मापने का एक Parameter होता है। इसी तरह टीआरपी को भी एक टूल के द्वारा मापा जाता है। यदि आप भी टीआरपी का मतलब जानना चाहते है तो आज की यह पोस्ट आपके बहुत काम आएगी, जिसमें आपको यह बताया जाएगा की किसी भी सीरियल या चैनल को TRP Kaise Milti Hai

विज्ञापन
विज्ञापन

टीआरपी रेटिंग कम या ज्यादा होती रहती है। जिसके बारे में आपने कई बार सुना होगा TRP एक टूल होता है जिसके द्वारा यह Calculate किया जाता है की कौन सा सीरियल ज्यादा देखा जा रहा है। चलिए इसके बारे में विस्तार से जानते है की टीआरपी का मतलब क्या होता है।

TRP Kaise Check Kare

TRP Kya Hai

टीआरपी का अर्थ होता है की कौन से सीरियल्स ज्यादा बार देखे जाते है तथा उन्हें कितनी लोग देख रहे है और कितने समय तक देख रहे है। इसके लिए TRP Calculator का इस्तेमाल किया जाता है। टीआरपी चैनल और टीआरपी शो के बारे में भी बताता है की यह कितना Popular है। टीआरपी का यदि एक और अर्थ देखे तो यह भी होता है की कौन सा चैनल और कौन सा प्रोग्राम Audience ज्यादा पसंद कर रही है। टीआरपी का नाटक हर हफ्ते या हर महीने चलता ही रहता है।

TRP Full Form:

TRP Ka Full Form होता है – Television Rating Point

TRP Kaise Dekhe

टीवी सीरियल्स और टीवी चैनल की TRP चेक करने के लिए People Meter का इस्तेमाल किया जाता है। किन्हीं विशेष जगहों पर इस मीटर को लगाया जाता है। जो एक Specific Frequency के माध्यम से यह पता लगाता है की कहाँ पर कौन सा सीरियल और चैनल देखा जा रहा है साथ ही यह कितनी बार देखा जा रहा है।

People’s Meter प्रत्येक मिनट की जानकारी को Monitoring Team “इंडियन टेलीविज़न ऑडियंस मेज़रमेंट” तक भेजती है। जिसके बाद यह एजेंसी यह तय करती है की कौन से चैनल और सीरियल की TRP कितनी है इसके कैलकुलेशन के लिए एक दर्शक द्वारा कौन सा सीरियल प्रतिदिन कितने समय तक देखा जा रहा है उस प्रोग्राम और समय को रिकॉर्ड किया जाता है।

विज्ञापन
विज्ञापन

टीआरपी कम/ज्यादा होने का क्या प्रभाव होता है

TRP कम या फिर ज्यादा होने पर उसका सीधा असर चैनल की इनकम पर होता है। जैसे अगर कोई सा चैनल है तो वह विज्ञापन के माध्यम से पैसे कमाते है क्योंकि 80% इनकम टीवी चैनल के इन विज्ञापनों द्वारा ही होती है। जो हर सीरियल के ब्रेक में एक-दो मिनट के लिए आते है। TRP का विज्ञापन से सीधा सम्बन्ध यह है की जिस प्रोग्राम या चैनल की TRP कम है तो उस चैनल को विज्ञापन के कम पैसे दिए जाएँगे और यदि किसी चैनल या प्रोग्राम की TRP ज्यादा है तो उसे विज्ञापन के द्वारा ज्यादा पैसे दिए जाएँगे।

TRP Of Indian Serials This Week

किसी चैनल या प्रोग्राम की TRP उस चैनल पर दिखाए जाने वाले शोज पर भी निर्भर करती है। यदि किसी हफ्ते किसी चैनल या प्रोग्राम की TRP अचानक से बढ़ जाती है तो इसका मतलब यह भी होता है की जब कोई फिल्म स्टार अपनी मूवी को प्रमोट करने के लिए किसी प्रोग्राम में आता है तो इस वजह से भी उस प्रोग्राम की TRP बढ़ती है। जिसके बाद उस चैनल का टीआरपी चार्ट बताया जाता है की इस चैनल की इस हफ्ते का टीआरपी चार्ट इतना है।

Conclusion:

दोस्तों उम्मीद है इस पोस्ट की मदद से अब आपको TRP Ka Meaning अच्छे से समझ आ गया होगा। तो आपको यह पोस्ट कैसी लगी हमें कमेंट में बताए। साथ ही पोस्ट पसंद आयी हो तो लाइक करे और टीआरपी क्या है इसके बारे में सोशल मीडिया पर भी शेयर करे। अगर आपके पास TRP को लेकर किसी तरह के सुझाव है तो हमें ज़रुर बताए। तो मिलते है दोस्तों Next पोस्ट में नयी जानकारी के साथ हिंदी सहायता पर, धन्यवाद!

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ?

Average rating 3.4 / 5. Vote count: 8

अब तक कोई रेटिंग नहीं! इस लेख को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

हिंदी सहायता एप्प को डाउनलोड करें।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा?

आपको क्या जानकारी नहीं मिली हमें ज़रूर बताएं

हम सभी जानकारियां आपको जल्द उपलब्ध कराएँगे

एडिटोरियल टीम

Written by एडिटोरियल टीम

एडिटोरियल टीम, हिंदी सहायता में कुछ व्यक्तियों का एक समूह है, जो विभिन्न विषयो पर लेख लिखते हैं। भारत के लाखों उपयोगकर्ताओं द्वारा भरोसा किया गया।

Email के द्वारा संपर्क करें - [email protected]

Leave a Reply

Avatar

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Cover Letter Kaise Banaye

Cover Letter Kaise Banaye? – कवर लेटर बनने का तरीका, फॉर्मेट और टेम्पलेट्स!

Mind Tez Kaise Kare

Mind Tez Kaise Kare? – ये है दिमाग तेज करने के बेहतरीन उपाय, योगा व तरीके!